Categories
सामाजिक

जानें लड़कियां कैसे प्यार में लड़कों को टॉर्चर करती है

रोना लड़कियां का सबसे बड़ा हथियार है


प्यार दुनिया का लगभग हर इंसान अपनी जिंदगीं में एक बार जरुर करता है। जैसे-जैसे समय बदल रहा है या यूं कहा जाए जैसे हमारी पीढ़ी आगे की ओर बढ़ रही है, लोगों के प्यार करने का तरीके भी बदलता जा रहा है। प्रेमी-प्रेमिका रुठने और मनाने का तरीका भी बदलता जा रहा है।

आजकल के रिलेशन में रहने वाले युवाओं का प्यार तो ब्लॉक करने तक ही सीमित है। पहले लड़के लड़कियों से अपनी बात मनवाते थे, या फिर यूं कहा जाएं के कि टॉर्चर करते थे। लेकिन बदलते जमाने के साथ लड़कियों के तेवर भी बदल रहे हैं। अब लड़के नहीं लड़कियां उन्हें टॉर्चर करती हैं। तो चलिए आज आपको बताते है कैसे लड़किया लड़कों को टॉर्चर करती हैं।

ब्यॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड

ब्लॉक करके- ब्यॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड में अक्सर लड़ाई होती है। इस लड़ाई में मिर्ची का काम करता है आज की तकनीकी सुविधा। फ्रेंड रिक्वेस्ट से शुरु हुई बात ब्लॉक तक कब पहुंच जाती है पता ही नही चलती। लड़कियां इसे अपने ब्यॉयफ्रेंड को सबक सिखाने के लिए सबसे ज्यादा प्रयोग करती हैं।

कमियां निकालती है- लड़कियां हमेशा आप में अपने अनुसार बदलाव पसंद करती है। इसके लिए लड़कियां अपने पार्टनर को अपनी इच्छा अनुसार ही बनाना चाहती है। वो आपके कलर और ड्रेसिंस सेस में गलतियां निकालने लगती है। इससे आप टॉर्चर होते है और अपने आप पर ध्यान देने लगते हैं।

रोना-धोना करके- लड़कियां का सबसे बड़ा हथियार है रोना। हर छोटी बात पर रोना और फिर अपने ब्यॉयफ्रेंड से अपनी बात मनवाना एक बहुत बड़ा टॉर्चर है।

पास्ट की बात करके- गर्लफ्रेंड के पास सबसे बड़ा हथियार है पास्ट की बात करना। वह हमेशा अपनी पास्ट की बात करके हमेशा लड़के को जलाने के कोशिश करती है। आपके साथ पास्ट का तुलना करती है। जिससे आपको परेशानी हो।

बात करना बंद कर देती है- जब लड़कियों को ये पता चल जाता है कि आप उससे काफी प्यार करते हैं और आप उसके बिना रह नहीं पाते हैं तो वे अपनी बातें मनवाने के लिए आपसे बात करना बंद देती है। इससे आप टॉर्चर होते है और उनकी बाते मान जाते हैं।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

Categories
सेहत

क्यों आवश्यक हैं विटामिन

विटामिन


वैसे तो हम आज ऐसे युग में जी रहे हैं जहाँ सभी अपनी सेहत के प्रति जागरूक है हैं लेकिन व्यस्त जीवन शैली के कारण शायद हम पता होते हुए भी ख़ुद का ध्यान रखने में असमर्थ हैं। महिला और पुरुष चाहे वे किसी भी उम्र के हों उनके लिए सभी प्राकार के विटामिन का सेवन करना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यह भिन्न प्राकार की बीमारियों से रक्षा कर हमें स्वस्थ बनाते हैं।

विटामिन वे ऑर्गैनिक कम्पाउंड होते हैं जो शरीर के भिन्न अंगों की बहत्तर कार्य करने में सहायता करते हैं। जितने भी प्रकार के विटामिन है उन सभी के कार्य अलग होते हैं। इस की कमी से कई प्रकार की बीमारियाँ होती हैं। हमारे शरीर को प्रतिदिन इस की आवश्यकता होती है ताकि वह स्वस्थ रह सके। यदि यह ज़रूरत पूरी नही होती तो इसका परिणाम गम्भीर बीमारियों के रूप में सामने आता है।

उदाहरण के तौर पर जो लोग खाने में A, B1 और B2  नहीं लेते हैं उन्हें लगातार थकान महसूस होती है, उन्हें भूख नही लगती और उन्हें मानसिक बीमारियों का भी सामना करना पड़ता है।

जैसे की हमने शुरू में बताया हर इस की कमी से अलग बीमारी होती है इसे ऐसे समझना ज़्यादा आसान होगा:-

यहाँ पढ़ें : नारियल पानी पीने के फ़ायदे

  • विटामिन A की कमी से दृष्टि कमज़ोर हो जाती है। उम्र से होने वाली बीमारियाँ जल्दी होने लगती हैं।
  • विटामिन B2 की कमी के कारण आँख और जीभ पीले पड़ने पड़ने लाते है, मुँह में छालें, शुष्क बाल, झुर्रियाँ, होनेलगती है। इसका प्रभाव राज प्रतिरोधक शक्ति पर भी पड़ता है।
  •  विटामिन D की कमी से रिकेट्स जैसी ख़तरनाक बीमारी हो जाती है। यह बीमारी छोटे बच्चों को अधिक होती है।
  •  विटामिन K की कमी से यह होता है कि यदि खो चोट लग जाए तो वहाँ से ख़ून बहना बन्द भी हो पाता।

इसी प्रकार कंजंक्टिवायटिस, अनीमीआ, बेरी-बेरी, पेलैग्रा, फ़ोटोफ़ोबीया, स्कर्वी जैसी बीमारी भी इसी की कमी से ही होती हैं।

अपने शरीर की और जागरूक होने का अर्थ है अपने शरीर की ज़रूरतों को समझना और समय रहते उन्हें पूरा करना। अधिकतर इस की वजह से होने वाली बीमारियों के लक्षण तब दिखते हैं जब उनका इलाज करना मुश्किल हो जाता है इसलिए आवश्यक यह है कि हम पहले ही अपने भोजन को इस से भर लें।

भोजन वह खाएँ जो विटामिन से भरपूर हो। हरी सब्ज़ी, फल में यह प्रचूर मात्रा में होते हैं। यदि आप नशे करते हैं तो छोड़ दें क्योंकि इससे शरीर विटामिन को सोख नही पाता। यदि भोजन आपको विटामिन पूरी मात्रा में नही दे रहा तो आप इसके सप्लीमेंट भी ले सकते हैं परंतु इंगा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह ज़रूर ले लें।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in