Categories
लाइफस्टाइल

कैसे सुधारें अपना व्यक्तित्व

क्या आपको अपने व्यक्तित्व में कमी लगती हैं, उसे सुधारें ऐसे


हमारा व्यक्तित्व जीवनभर नयी परिस्थितियों और तजुरबे के साथ बदलता रहता है। पर ज़रूरी नही की सभी बदलाव हमारे व्यक्तित्व के लिए उचित हो। कई परिस्थित्याँ हमारे व्यक्तित्व को उठाने की जगह और नीचे गिरा देती हैं इसलिए यह ज़रूरी है की हम इस पर ध्यान रखें की किस प्रकार का व्यक्तित्व हमारे लिए अच्छा होगा।

एक अच्छी शख़्सियत उसे माना जाता है जो बदलाव के साथ अच्छे गुण लाए। किसी के लिए भी शख़्सियत में बदलाव वही उचित है जिसमें नकारात्मक लक्षण कम हो और सकारात्मक गुणों की बढ़ोतरी हो। हम जिस व्यक्तिव की बात कर रहे हैं वो असल में है क्या? यह मनुष्य की सोच, उसका बरताव है जो उसे बाक़ी सब लोगों से अलग बनाता है।

हर व्यक्ति यह चाहता है की बाक़ी लोग उससे आकर्षित हों। तो क्या अपने व्यक्तित्व को अपने अनुसार बदला जा सकता है? आइए जाने हम कैसे बदल सकते हैं अपने व्यक्तित्व को:-

यहां पढ़ें : जानिए क्या फर्क होता है एक अंतर्मुखी और बहिर्मुखी लोगो में

  1. सबसे पहले अपने सभी गुण अवगुण एक काग़ज़ पर लिख लें। जो आप अपने अंदर नही रखना चाहते उन्हें पेन्सल से काट दीजिए और जिन्हें आप मजबूत करना चाहते हैं उनपर सही का निशान लगा लें और फिर उनके काम करना शुरू करें। उदाहरण के तौर पर यदि आप शर्मीले हैं तो अपनी शर्म को कम करने पर काम करें।
  2. सबकी बातें ध्यान से सुने। आप बात करते हुए अपनी शख़्सियत का एक आइना लोगों के सामने रखते है। जब कभी सामने कोई बोल रहा हो तब यह बहुत ज़रूरी है की आप उसकी बात ध्यान से सुने वो भी दिलचस्पी से। यदि आप रुचि भी लेंगे तो आपका व्यक्तित्व ख़राब होगा।
  3. ज़्यादा से ज़्यादा किताबें पढ़ें और अपनी रुचि के क्षेत्र बढ़ायें। इससे आपकी एक आकर्षक छवि लोगों के सामने प्रस्तुत होगी और साथ ही साथ आपका शब्दों का ज्ञान बढ़ेगा जो लोगों से बात करती बार सहायक होता है।
  4. बात करने की कला को सीखें। आप जितने ज़्यादा आत्मविश्वास के साथ बात करेंगे उतने ही ज़्यादा आकर्षक प्रतीत होंगे। लोग ऐसे व्यक्ति  बात करना पसंद नही करते जो ठीक से जवाब ना दे पायें और अपनी बातों को उत्साह से भरिए।
  5. अपना मत रखने की आदत बनाइए। जो लोग केवल दूसरे लोगों की हाँ में हाँ मिलाते हैं वे लोगों को पसंद नही आते। अपनी एक बहतेरीन छवि बनाने के लिए ख़ुद का मत रखना सीखें।
  6. आप अपने जैसे ही रहें। यदि आप किसी का स्टाइल चुरा कर अच्छे बनना चाहते हैं तो यह बहुत ग़लत है क्योंकि हर किसी की अलग विशेषताएँ होती हैं। आप अपनी विशेषताएँ अपने ही अंदर ढूँढने की कोशिश करिए वे अवश्य मिलेंगी।
Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
सेहत

फ़ायदे हल्दी की चाय के

क्या आपने कभी हल्दी की चाय का स्वाद लिया है?


हल्दी ऐसे मसालों में से एक है जो हमारे देश के लगभग सभी घरों में प्रयोग में लाया जाता है। कोई भी सब्ज़ी हल्दी के बिना अधूरी होती है।यह हमारे देश में हज़ारों सालों से भी पहले से मसाले और औषधीय जड़ी बूटी के रूप में प्रयोग की  जाती रही है। यह एक अत्यंत गुनकारी औषधि है। इसमें करक्यूमिन नामक तत्व होता है जो एक ऐंटीआक्सिडंट होता है और यह शरीर को स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाते है।

कैसे बनाए हल्दी की चाय? हल्दी की चाय बनाना बहुत ही सरल है। आपको इसके लिए आवश्यकता होगी ताज़ा हल्दी, काली मिर्च, नींबू, शहद, अदरक,पानी। अब एक बर्तन में पानी गरम कर लें और ताज़ा हल्दी और अदरक को इसमें कस कर डाल दे। उबालने के बाद इसे ठंडा कर इसमें शहद,नींबू और काली मिर्च डाल लें और इसके बाद इसे छान लें। आपकी हल्दी की चाय तैयार है।

आइए अब जाने फ़ायदे इस हल्दी की चाय के:-

  • इसमें  ऐंटीआक्सिडंट भरपूर मात्रा में होते है। ये हमारे शरीर और कोशिकाओं को ख़राब होने से बचाते हैं।ऑक्सिडेशन एक ऐसी क्रिया है जो फ़्री रैडिकल बनाती है जो हमारी कोशिकाओं को ख़राब करते हैं। ऐंटीआक्सिडंट ऐसी समस्या से शरीर का बचाव करते हैं।
  • इसमें anti-inflammatory कमपाउंड होते हैं जो अत्यंत आवश्यक होते है। ये शरीर की बैक्टीरीआ से रक्षा करते हैं और शरीर में हुए नुक़सान की भी देख रेख करते है।शरीर में आयी सुजन को भी ये कम करते हैं और साथ ही साथ शरीर में हो थे दर्द को भी कम करते हैं।
  • हल्दी की चाय
  • यह दिमाग़ से सम्बंधित बीमारियों की सम्भावना को कम करती है।दिमाग़ से सम्बंधित बीमारियाँ जैसे Alzheimer, depression  इत्यादि की सम्भावना yeh कम करती है और साथ ही साथ याद करने की क्षमता को बढ़ाकर यह आपको होशियार भी बनाती है।
  • आजकल हृदय से सम्बंधित बीमारियाँ भी बहुत बढ़ गयी है और इससे बहुत से लोगों की मृत्यु हो चुकी है। यह देखा गया है की जो लोग हल्दी का इस्तेमाल भोजन में करते हैं उनके हार्ट अटैक की सम्भावना 65% तक कम हो जाती हा
  • यह कैंसर जैसे रोग से भी हमारे शरीर की रक्षा के सकती है। कैन्सर जो कोशिकाओं के अनियमित विकास के कारण होता है यह उसे काफ़ी हद तक रोक सकता है।
  • यह उन लोगों के लिए बहुत ही लाभदायी है जो मधुमेह के रोग से ग्रस्त हैं। और इसके प्रतिदिन सेवन से डाइअबीटीज़ की आशंका कम होती है।
  • यह आर्थ्राइटिस(arthritis) जैसी बीमारी के दर्द को भी ठीक करने में उपयुक्त है।
  • यह रक्तचाप की बीमारी को भी सही  करने में काम में आती है।

हल्दी के विषय में सबसे अच्छी बात यह है की इसके कोई दुष्प्रभाव नही होते।यह चाय आपको हल्दी के साथ साथ शहद और नींबू के भी गुण प्रदान करेगी। यह बनाने में जितनी साधारण है उतने ही ज़्यादा इसके गुण भी है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in