Categories
मनोरंजन

सिर्फ करीना कपूर ही नहीं, उनसे पहले ये बॉलीवुड अभिनेत्रियां पब्लिश करा चुकी हैं अपनी किताब

4 बॉलीवुड अभिनेत्रियां जो करीना कपूर से पहले पब्लिश कर चुकी हैं अपनी किताब


बॉलीवुड की  वेबो यानि की करीना कपूर खान ने हाल ही में अपने प्रेग्नेंसी जर्नी पर आधारित एक किताब ‘प्रेग्नेंसी बाइबल’ का विमोचन किया है। इस किताब में करीना कपूर खान ने अपने बड़े बेटे तैमूर और छोटे बेटे जेह के दौरान अपनी प्रेग्नेंसी इमोशनल और फिजिकल अनुभवों के बारे में इस किताब में लिखा है। आपको बता दें कि इस किताब को करीना कपूर अपना तीसरा बच्चा मानती है। अपनी इस किताब के द्वारा करीना लोगों को बताने ने कोशिश की है कि बॉलीवुड के ग्लैमर दुनिया से जुड़ी औरतें कैसी होती हैं। करीना ने इस किताब में अपने ऐसे अनुभव शेयर किए हैं जैसे एक बार वो सेट पर बेहोश हो गई थी।

शिल्पा शेट्टी: बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी को भला कौन नहीं जनता। उन्हें बॉलीवुड की फिटनेस क्वीन कहा जाता है। वह लंबे समय से कुकिंग और फिटनेस दोनों से जुड़ी हुई हैं।  साल 2020 में शिल्पा शेट्टी ने प्रसिद्ध न्यूट्रिशनिस्ट ल्यूक कौटिन्हो के साथ मिलकर भावनात्मक सेहत पर ‘द मैजिक इम्युनिटी पिल लाइफस्टाइल’ लिखी थी। सिर्फ ये ही नहीं इससे पहले शेट्टी ने ल्यूक के साथ मिलकर साल 2015 में द ग्रेट इंडियन डाइट लिखी थी।

और पढ़ें: ओटीटी प्लेटफार्म की ये बेहतरीन सस्पेंस फिल्में, आपका भी दिमाग घुमा देंगी

ट्विंकल खन्ना: बॉलीवुड अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना को भला कौन नहीं जानता। ट्विंकल खन्ना ने बॉलीवुड में बतौर हीरोइन बरसात, मेला जैसी फिल्मों में काम किया है। इतना ही नहीं ट्विंकल खन्ना ने अभी तक तीन किताबें लिखी है। उनकी ये तीन किताबे है मिसेज फनीबोंस, द लिजेंड ऑफ लक्ष्मी प्रसाद और पायजामाज आर फॉरगिविंग बेस्टसेलर। इसके अलावा भी ट्विंकल खन्ना अक्सर बॉल्ग खिलती हैं। उनके लिखने की चर्चा बहुत ज्यादा होती है। कई लोग उनकी लेखनी को बहुत पसंद करते हैं।

करिश्मा कपूर:  बॉलीवुड अभिनेत्री करिश्मा कपूर ने भी माई यम्मी मम्मी गाइड लिखी है। उन्होंने यह किताब साल 2013 में लिखी थी। करिश्मा ने अपनी इस किताब में प्रेगनेंसी के बाद नई मॉम को जो जानकारियां चाहिए होती है वो सभी जानकारी उन्होंने अपनी इस किताब में दी है साथ ही साथ उन्होंने इस किताब में प्रेग्नेंसी के बाद वेट लॉस करने जैसे सभी जानकारियां भी अपने पाठकों को दी थी।

सोनाली बेंद्रे:  साल 2015 में सोनाली बेंद्रे ने अपनी किताब द मॉडर्न गुरुकुल लिखी थी। उन्होंने अपनी इस किताब में पेरेंटिंग से जुड़े अपने सभी अनुभवों के बारे में लिखा था। आपको बता दे कि इस किताब में सोनाली ने डिजिटल युग में बच्चों की परवरिश करने के लिए जरूरी टिप्स दिए हैं। आपके अलावा सोनाली को कैंसर भी हुआ था। इस लड़ाई  से उन्होंने बखूबी फतह पाई है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

समर प्रेग्नेंसी के दौरान आपको अपनी बॉडी को हाइड्रेट रखने के लिए इन चीजों को करना चाहिए अपनी डाइट में शामिल

गर्मी में प्रेग्नेंट महिला को अपनी डाइट में  ये चीजे करनी चाहिए शामिल


ये बात तो हम सभी लोग जानते है प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को खास केयर की जरूरत होती है उन्हें खुद भी इस दौरान अपनी खास केयर करनी चाहिए। वैसे तो हर महिला की प्रेग्नेंसी अलग होती है लेकिन कुछ लक्षण होते हैं जो सभी महिलाओं में प्रेग्नेंसी में एक जैसे होते हैं। आपको बता दे कि प्रेग्नेंसी के दौरान माँ और बच्चे की अच्छी सेहत के लिए उनका संतुलित प्रेग्नेंसी डाइट लेना बेहद जरूरी है। वैसे तो हमेशा ही प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को अपनी खास केयर करनी चाहिए लेकिन अगर आप गर्मी में प्रेग्नेंट है तो आपको अपनी खास देखभाल करनी चाहिए। आपको बता दे कि गर्मी के मौसम में प्रेग्नेंट महिलाओं को पानी से भरपूर फलों का सेवन करना चाहिए ताकि आपकी बॉडी हाइड्रेट रहे। इन फलों का सेवन करने से पेट नहीं भरता और साथ ही साथ फाइबर पाचन को दुरुस्त रखता है। तो चलिए आज जानते है गर्मी में प्रेग्नेंट महिला को अपनी डाइट में क्या चीजे शामिल करनी चाहिए क्या नहीं।

खुबानी: आपको बता दे कि खुबानी हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन, कैल्शियम,  पोटेशियम, फोलिक एसिड और प्रोटीन जैसे पोषक तत्व पाए जाते है। अगर कोई महिला प्रेग्नेंसी के दौरान खुबानी का सेवन करती है तो इससे उसके बच्चे की आंखों की रोशनी तेज होगी, साथ ही साथ माँ की इम्युनिटी भी स्ट्रांग रहेगी।

और पढ़ें: अगर आपको भी मानसून में होती है हेयर फॉल की समस्या, तो कुछ इस तरह करें समस्या का समाधान

विटामिन सी: कुछ फल जैसे आड़ू, आलूबुखारा, कीवी और नींबू आदि विटामिन सी से भरपूर होते है। इन्हे विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत माना जाता है। इनसे प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं की इम्यूनिटी भी स्ट्रांग होती है साथ ही साथ बॉडी में ऑयरन की कमी को पूरा करता है। इनके अलावा संतरा, अमरूद, मौसमी आदि में विटामिन सी पाया जाता है जो हमारी त्वचा को चमकदार बनता है और हमे हेल्दी भी रखता है।

खरबूज़ा और तरबूज: ये बात तो हमे आपको बताने की जरूरत नहीं है कि खरबूज़ा और तरबूज हमारी सेहत के लिए कितने फायदेमंद होते है। ये हमारे शरीर में पानी की कमी को पूरा करते है। इस लिए गर्मी में प्रेग्नेंट महिला को इनका सेवन जरूर करना चाहिए। ताकि बॉडी में पानी की कमी से बचा जा सके।

प्रेग्नेंसी में आपको इन चीज़ों से करना चाहिए परहेज़

ये बात तो शायद अपनी भी कभी न कभी अपने घर पर अपनी माँ या दादी से सुनी होगी कि पपीता और अनानास से प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को परहेज़ करना चाहिए। क्योकि इनके सेवन से गर्भपात का खतरा हो सकता है। और अगर आपको शुगर है तो आपको सभी फलों का सेवन अपने डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही करना चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

जानें ब्रेस्टफीडिंग और प्रेगनेंसी के दौरान कैसे बदलती है महिलाओं के खाने की जरूरतें

जाने प्रेगनेंसी के दौरान और बच्चे को जन्म देने के बाद महिलाओं को किस तरह के पोषण की ज़रूरत होती है


माँ बनना हर महिला के लिए एक बहुत ही खूबसूरत और खास पड़ाव होता है। ये पड़ाव महिलाओं के लिए जितना खास होता है उतना ही मुश्किल भी होता है। क्योकि ये वो बदलाव होता है जिसके बाद किसी भी महिला की ज़िंदगी पूरी तरह बदल जाती है। प्रेगनेंसी और बच्चे को जन्म देना किसी भी महिला को शारीरिक और मानसिक दोनों तरीको से काफी ज्यादा थका देता है। इसलिए कहा जाता है कि जितना ध्यान आपको अपने पेट में पल रहे बच्चे को देना जरूरी होता है, उतनी ही जरूरत आपको अपनी खुद की सेहत का भी रखना चाहिए है। प्रेगनेंसी और ब्रेस्टफीडिंग ये दोनों फेज़ किसी भी महिला के लिए काफी ज्यादा डिमांडिंग फेज़ होते है। अगर इस समय पर महिलाओं को सही से पोषण ना मिले तो उन्हें स्वास्थ्य-संबंधी परेशानियां हो सकती है इतना ही नहीं यहाँ तक की आपका बच्चा कुपोषण का शिकार भी हो सकता है। तो चलिए आज हम आपको बतायेगे प्रेगनेंसी के दौरान और बच्चे को जन्म देने के बाद महिलाओं को किस तरह के पोषण की ज़रूरत होती है।

Pic Credit- Pixabay

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान: क्या आपको पता है जब एक बच्चे का जन्म हो जाता है और उसके लिए जब उनकी माँ के स्तन में दूध बनने की शुरुआत होती है तो ऐसे में महिलाओं को प्रेगनेंसी के मुकाबले कहीं ज़्यादा पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। शायद आपने देखा भी होगा कि बच्चे के जन्म के बाद पहले 5, 6 महीनों में महिलाओं का वजन दुगुना हो जाता है। और बच्चे को सारा पोषण माँ के दूध से ही मिलता है। इसीलिए ब्रेस्टफीडिंग कराते समय महिलाओं को काफी ज्यादा एनर्जी की जरूरत पड़ती है।

Pic Credit – pixabay

और पढ़ें: 

जाने आखिर किताबें पढ़ना क्यों है जरूरी, साथ ही जाने दिमाग को इससे मिलने वाले फायदों के बारे में

प्रेगनेंसी के दौरान: क्या आपको पता है प्रेगनेंसी के दौरान माँ और बच्चे के बेहतर मेटाबॉलिज़्म के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकताएं बढ़ जाती हैं। महिलाओं में प्लेसेंटा और भ्रूण की ग्रोथ, एमनियोटिक फ्लुइड की मात्रा बढ़ाने के लिए और मैटर्नल टिशूज़ की अच्छी ग्रोथ के लिए बहुत ज्यादा पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है।  आपने देखा होगा कि प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं का 10, 12 किलो वजन बढ़ जाता है। अगर महिलाओं का ये वजन न बढ़ें तो बच्चे को भरपूर मात्रा में पोषक तत्वों नहीं मिल पाएगा जिसके कारण वो कुपोषण का शिकार हो जाएगा।

ब्रेस्टफीडिंग और प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं की जरूरतें

Pic Credit- Pixabay

ये बात तो शायद हमें आपको बताने की जरुरत नहीं है कि प्रेगनेंसी के दौरान और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को कामकाजी महिलाओं के मुकाबले कहीं गुना ज़्यादा पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। बच्चा होने के बाद जब महिला उससे 6 महीने तक फीड करती है तो उस दौरान महिलाओं को एनर्जी और पोषण की दोगुनी ज़रूरत होती है। ब्रेस्टफीडिंग और प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को संतुलित आहार, नियमित रूप से विटामिन और मिनरल सप्लिमेंट्स और नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करनी चाहिए ये उनके और बच्चे दोनों के लिए बेहद जरूरी है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

5 फल जिनका प्रेग्नेंसी के दौरान बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए सेवन

जाने प्रेग्नेंसी के दौरान किन फलों का सेवन हो सकता है नुकसानदायक


किसी भी महिला के लिए गर्भावस्था उसके जीवन का एक सबसे अच्छा और महत्वपूर्ण उपहार है. लेकिन ये बात भी है कि यह उपहार अपने साथ कई चुनौतियों और बदलावों को लेकर आता है. प्रेग्नेंसी के दौरान एक महिला का शरीर इस समय शारीरिक, भावनात्मक परिवर्तनों और उसके खानपान में आने वाले विभिन्न संक्रमणों से गुजरता है. आपने अपने आस-पास  अक्सर लोगों को पूछते हुए सुना होगा कि प्रेग्नेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं? आपने देखा होगा कि डॉक्टर्स की तरफ से भी प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को पोषक तत्वों से भरपूर डाइट फॉलो करने की सलाह दी जाती है. जिसे माँ और बच्चा दोनों स्वच्छ रहे.  एक हेल्दी प्रेग्नेंसी डाइट में बहुत तरफ के फल, सब्जियां और अनाज शामिल होते है लेकिन क्या आपको पता है
ऐसे बहुत से फल और सब्जियां होती है जिन्हें आपको प्रेग्नेंसी के दौरान नहीं खाना चाहिए. तो चलिए जानते है कुछ ऐसे फलों के बारे में.

 

अनानास: आपने सुना होगा की प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को अनानास का सेवन नहीं करना चाहिए. लेकिन क्या आपको पता है ऐसा क्यों कहा जाता है क्योंकि अनानास में एक उच्च ब्रोमेलैन सामग्री होती है जो एक एंजाइम है जो गर्भाशय ग्रीवा को नरम करती है और  गर्भाशय के संकुचन को भी ट्रिगर कर सकती है.  ये शुरुआती श्रम को प्रेरित कर सकता है इससे माँ और बच्चे दोनों को नुकसान हो सकता है.

 

और पढ़ें: अगर आप भी जाते है जिम, तो जाने से पहले और बाद में जरूर फॉलो करे ये हाइजीन रूल्स

 

Image source – cdnparenting

 

पपीता: प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को पपीता का सेवन नहीं करना चाहिए  क्योंकि कच्चे पपीते को गर्भपात के लिए जाना जाता है.  पपीता में लेटेक्स होता है जो गर्भाशय के संकुचन को ट्रिगर करता है. ये प्रेग्नेंसी के दौरान खतरनाक हो सकता है. वैसे तो नॉर्मल दिनों में कब्ज जैसी समस्याओं से राहत पाने के लिए इनका सेवन किया जाता है और ये पेट के लिए बेहद फायदेमंद भी होता है.

 

अंगूर: अंगूर को सबसे अधिक पौष्टिक फलों में से एक माना जाता है. लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं पर उनके प्रभाव पर सवाल उठाया है. अंगूर में बहुत सारे रेस्वेराट्रोल यौगिक होते हैं जो प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं की त्वचा में मौजूद होते हैं. यह यौगिक जहरीला और विषैला होता है यह महिलाओं की अपेक्षा के लिए हानिकारक हो सकता है.

 

आडू: आडू एक ऐसा फल है जिसे प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को खाने से बचना चाहिए क्योंकि आडू को एक गर्म फल माना जाता है. आड़ू का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में गर्मी पैदा हो सकती है जिससे आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है और गर्भपात होने की संभावना भी हो जाती है.

 

तरबूज: ये बात तो आपने सभी से सुनी होगी की तरबूज में पानी की बहुत ज्यादा मात्रा होती है. ये हमारे शरीर को हाइड्रेट रखता है और ये हमारे शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को भी बाहर निकालता है लेकिन क्या आपको पता है प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के लिए तरबूज का सेवन अच्छा नहीं होता है. साथ ही ये  प्रेग्नेंसी के दौरान डायबिटीज वाली महिलाओं में ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

जाने उन प्रोडक्ट्स के बारे में जो स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में करेंगे आपकी मदद।

जानें स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने वाले प्रोडक्ट्स के बारे में

स्ट्रेच मार्क्स ये एक ऐसी प्रॉब्लम है जो हम में से ज्यादातर लोगों को होती है. ज्यादातर स्ट्रेच मार्क्स की प्रॉब्लम तब ही होती है जब हमारे वजन में बदलाव होता है या फिर जब हमारी स्किन को पर्याप्त पोषण नहीं मिलता है.  जिसके परिणामस्वरूप हमारी त्वचा फट जाती है. इतना ही नहीं इसके अलावा भी स्ट्रेच मार्क्स के कई ओर फिजियोलॉजिकल और मेडिकल कारक भी होते हैं. जो हमारी बॉडी में स्ट्रेच मार्क्स का कारण बन सकते हैं जैसे कुछ दवाईयां, या फिर प्रेगनेंसी. हमारी बॉडी में स्ट्रेच मार्क्स होना एक नार्मल बात है लेकिन इससे पूरी तरह छुटकारा पाने का कोई तरीका नहीं है.  आप चाहे तो इन्हें हल्का कर सकते है लेकिन इन्हें पूरी तरह हटा नहीं सकते. आप अपनी बॉडी के उस पार्ट पर टॉपिकल क्रीम को अप्लाई करे जहाँ आपको स्ट्रेच मार्क्स दिख रहे है तो ये टॉपिकल क्रीम इसमें आपको काफी ज्यादा फायदा देगी.  तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे प्रोडक्ट्स के बारे में बताएंगे जो आपको स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में मदद करेंगे.

Bio Oil Skin Care: बायो ऑयल स्किन केयर की तारीफ तो प्रियंका चोपड़ा और किम कार्देशियन तक कर चुकी है. बायो  ऑयल स्किन केयर उन प्रोडक्ट में से एक है जो कम समय में स्ट्रेच मार्क्स को खत्म करने में हमारी मदद करता है और हमारी बॉडी को हाइड्रेटेड और मुलायम बनता हैं.

Read more: अगर आप भी बना रहे है उत्तराखंड घूमने का प्लान, तो ये हिल स्टेशन है लाजवाब

The Mom’s Co Stretch Oil: अगर आप अपनी प्रेगनेंसी के दौर से गुजर रही है और आप उन प्रोडक्ट्स को लेकर अधिक केयरफुल
रहती है जिन्हे अप्लाई कर के आपको या बच्चे को कोई नुकसान न हो तो ये The Mom’s Co एक क्लीन ब्यूटी ब्रांड है जो आपके और आपके बच्चे के लिए एकदम परफेक्ट है.

Bare Body Essentials Stretch Marks Cream: इस क्रीम में ग्लाइकोलिक एसिड होते है जो आपकी त्वचा को एक्सफोलिएट करता है और उससे स्मूथ, बेदाग और एंटी-स्कार बनाता है. इस क्रीम में शिया बटर होता है जो आपकी स्किन को रिपेयर करता है.

WOW Science Stretch Care Oil: क्या आपको पता है ये ऑयल छह तरह के ऑयल मिश्रण से बना है.  जिसमें लैवेंडर, गुलाब और कैलेंडुला शामिल हैं. यह ऑयल आपकी त्वचा के कसाव और लोच में सुधार करने में मदद करता है और स्ट्रेच मार्क्स को कम करता है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

जानें सर्दियों में अदरक का काढ़ा पीने के अद्भुत फायदे, एलर्जी से लेकर पाचन तक में है बेहद फायदेमंद

जानें अदरक के काढ़े के फायदे


अदरक का उपयोग आमतौर पर सभी घरों पर सबसे ज्यादा किया जाता है.  अदरक को हम सभी लोग एक भरोसेमंद घरेलू सामग्री के रूप में जानते है. अदरक से बहुत सारी स्वास्थ्य समस्याओं का उपचार किया जा सकता है. अदरक का एक ऐसा घोल जिसे काढ़ा के नाम से भी जाना जाता है. अदरक का काढ़ा बनाने के लिए घर के फ्रेश अदरक का रस निकालकर, उसे उबलते पानी में घोलकर तैयार किया जाता है। अदरक न सिर्फ अपने विशिष्ट स्वाद और मजबूत सुगंध के लिए जाना जाता है, बल्कि इसके कई और लाभ भी है. सर्दियों में अदरक का काढ़ा पीने से आपको बहुत फायदा मिलता है आपको इससे आम सर्दी, खांसी, जुकाम में फायदा मिलता है इतना ही नहीं इससे आपको और भी बहुत सारे फायदे मिलते हैं तो चलिए जानते है अदरक के अद्भुत फायदों के बारे में।

 

जानें अदरक के काढ़े के अद्भुत फायदे

दर्द में आरामदायक: जब भी हम योग या व्यायाम करते हैं तो हमारी मांसपेशियों में खिचाव और तनाव होने लगता है और धीरे धीरे ये तनाव बढ़ने लगता है और हमारे शरीर में दर्द और थकान का कारण बन जाता है. अगर आप इस  दर्द और थकान से छुटकारा पाना चाहते है तो आपको अदरक का काढ़ा जरूर पीना चाहिए क्योंकि अदरक दर्द को कम करता है इतना ही नहीं ये अपने गुणों की वजह से शरीर में किसी भी तरह का इंफेक्शन भी नहीं होने देता है.

 

और पढ़ें: ठंड में घर की रसोई में पाएं जाने वाले सामान से करें अपनी इम्यूनिटी स्ट्रॉग

 

एलर्जी से बचाता है: अदरक बहुत सारी प्राकृतिक गुणों से भरपूर होता है. अदरक अपने प्राकृतिक गुणों के कारण मांसपेशियों में सूजन को कम करने और इससे जुड़ी पुरानी समस्याओं को ठीक करने में बेहद फायदेमंद होता है. इतना ही नहीं अदरक में एंटी-एलर्जिक गुण भी होते हैं, जो अपनी जड़ों से काम करके तीव्र एलर्जी को ठीक कर देते हैं.

 

 

श्वसन प्रणाली में फायदेमंद: अगर आप फ्रेश अदरक का रस निकाल कर काढ़ा बनाते है तो ये आपके श्वसन कार्यों को ठीक करने के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इस काढ़े का उपयोग अक्सर अस्थमा और श्वसन वायरस सहित अन्य सांस संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है.

 

महिलाओं के लिए फायदेमंद: अदरक महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद मानी जाती है खासकर गर्भावस्था के दौरान  गर्भवती महिलाओं के लिए अदरक जादुई रूप से काम करता है. जब भी महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान मिचली
महसूस करती हैं या फिर मासिक धर्म में ऐंठन या पेट में दर्द होता है तो उस समय पर भी अदरक बहुत फ़ायदेमं होता है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

जाने बॉलीवुड की उन हसीनाओं के बारे में, जिन्होंने अपनी प्रेगनेंसी के दौरान भी नहीं छोड़ा योगासन करना

जाने प्रेगनेंसी के दौरान योग करने के फायदे


योगा हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना फायदेमंद होता है ये बात शायद हमे आपको बताने की जरूरत नहीं है. आपने देखा कि अक्सर हमारे बॉलीवुड सितारें भी योगा के जरिए अपनी फिटनेस और फ्लैक्सिबिलिटी बढ़ाते रहते हैं साथ ही साथ वो योग से अपना स्ट्रेस भी घटाते रहते हैं. अनुष्का शर्मा से लेकर करीना कपूर खान तक हर बॉलीवुड सेलिब्रिटी योगा को अपना बेस्ट फ्रेंड मानते हैं. आज हम आपको उन बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के बारे में बतायेगे, जिन्होंने अपनी प्रेगनेंसी के दौरान भी योगा करना नहीं छोड़ा क्योकि प्रेगनेंसी के दौरान भी योगा बेहद फायदेमंद माना जाता है. इन योगासन को प्रीनेटल योगा कहा जाता है. प्रेगनेंसी के दौरान योगा करने से आपका शरीर फ्लैक्सिबिलिटी होने के साथ साथ आपकी मसल्स को रिलैक्स भी करता है।

करीना कपूर खान: करीना कपूर ने अपनी पहली प्रेगनेंसी के दौरान योगा करना नहीं छोड़ा था. करीना कपूर ने अपनी प्रेगनेंसी के दौरान जिम की जगह योगा को चुना क्योंकि यह आपके पूरे शरीर के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है. अभी करीना कपूर दोबारा प्रेगनेंट है और इस बार भी वो योग के सहारे ही अपनी फिटनेस और फ्लैक्सिबिलिटी बनाए रखने में जुटी हैं.

और पढ़ें: जानें बॉलीवुड की कौन-कौन सी अदाकारा रखती है रॉयल परिवार से नाता

अनुष्का शर्मा: अभी अनुष्का शर्मा प्रेगनेंट हैं और इन दिनों भी उन्होंने योग करना नहीं छोड़ा। शायद आपने देखा भी होगा कि कुछ समय पहले अनुष्का शर्मा ने शीर्षासन करते हुए अपनी एक फोटो शेयर की थी. जिसमे वह अपने हाथों के बल जमीन पर हैं और उनके पैर आसमान की तरफ है. अनुष्का के डॉक्टर ने उन्हें आश्वासन दिया कि यह एक्सरसाइज उनके और उनके बच्चे दोनों के लिए सुरक्षित है.

एमी जैक्सन: एमी जैक्सन अभी प्रेगनेंट नहीं है लेकिन जब उनका पहला बेबी हुआ था तो उन्होंने भी अपने  शरीर और दिमाग को एक्टिव और शांत रखने के लिए योग का सहारा लिया था। अपनी प्रेगनेंसी के दौरान एमी जैक्सन ने इंस्टाग्राम पर अपनी एक फोटो शेयर करते हुए लिखा था कि वह अपने शरीर, दिमाग और आत्मा को योगा के जरिए एक्टिवेट कर रही हैं। इतना ही नहीं बच्चा होने के बाद भी एमी जैक्सन ने जिम के बजाए योग को ही चुना.

सोहा अली खान: सोहा अली खान हमेशा से ही योगा प्रैक्टिस करती रहती है सोहा अली खान अपनी प्रेगनेंसी से पहले भी अपने योगासनों की फोटो अपने सोशल एकाउंट्स पर शेयर करती रहती थी. सोहा अली खान ने प्रेगनेंसी के दौरान भी योग का साथ नहीं छोड़ा था.उनका कहना है कि योगा करने से उन्हें लेबर और हार्मोनल उतारचढ़ाव की समस्या में काफी  ज्यादा फायदा महसूस हुआ है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

प्रेग्नेंसी के दौरान विराट रखते है अनुष्‍का का खूब ख्‍याल, जानें क्या है खास

प्रेग्नेंसीके दौरान ऐसे करें पत्नी को सपोर्ट


भारतीय क्रिकेट टीम के वर्तमान कप्तान विराट कोहली बहुत जल्द पापा बने वाले है. इस बात की जानकारी विराट कोहली और उनकी पत्‍नी अनुष्‍का शर्मा ने सोशल मीडिया के द्वारा अपने फैंस को दी. साल 2021 के शुरुआती महीने में विराट कोहली और अनुष्‍का शर्मा के घर पर एक नन्‍हा मेहमान आने वाला है. अनुष्‍का शर्मा की प्रेग्नेंसी के दौरान विराट उनका खूब ख्‍याल रखते है. हाल ही में अभी अनुष्‍का शर्मा अपने पति विराट कोहली के साथ दुबई में हैं और अपनी प्रेगनेंसी को इंजॉय कर रही हैं. तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी चीजें बतायेगे जो आप विराट कोहली से सीख सकते हैं कि अपनी पत्नी की प्रेग्नेंसी के दौरान उनका कैसे रखें उनका ध्यान.

रोमांटिक फोटो: अगर आप सोशल मीडिया पर लगता अपडेटेड रहते है तो आपने देखा होगा कि कुछ समय पहले अनुष्‍का शर्मा और विराट कोहली की स्विमिंग करते हुए एक तस्‍वीर सामने आई थी. इस फोटो में दोनों रोमांटिक अंदाज में दिख रहे हैं. अनुष्‍का शर्मा और विराट कोहली की इस तस्‍वीर को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि विराट कोहली किस तरह प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी पत्नी को खुश रखते है.

और पढ़ें: Kajal Agarwal से Kamya Punjabi तक सबने शेयर की करवा चौथ की तस्वीरे, पर ये 5 divas नही रखती व्रत

धैर्य से काम लेना चाहिए: प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं कई तरह के शारीरिक, मानसिक और भावनात्‍मक बदलावों से गुजर रही होती है. शरीर में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण भी उनका मूड थोड़ा चिड़चिड़ा सा बना रहता है. कभी कभी वो बहुत ज्यादा खुश महसूस करती है, तो कभी एकदम से रोने का मन करने लगता है. ऐसे में पति को धैर्य से काम लेना चाहिए और अपनी पत्‍नी के इन मूड स्विंग्‍स को समझना चाहिए.

हॉली-डे पर जाएं: आप चाहो तो प्रेगनेंसी के पहली तिमाही में आप अपनी वाइफ को कहीं घुमाने लेकर जा सकते हैं. क्योकि प्रेग्नेंसी में विटामिन डी बहुत जरूरी होता है, इसलिए आप आपके साथ कुछ देर धूप में बैठ सकते है और उनके साथ खूब बातें कर सकते है. ये सब चीजें शुरुआती तीन महीनों में ही कर लें तो अच्‍छा होगा, क्‍योंकि आगे के छह महीने थोड़े मुश्किल होते हैं.

रोज तारीफ करें: शायद अपने प्रेगनेंसी ग्‍लो के बारे में तो आपने सुना ही होगा. ये ग्‍लो हार्मोंस की वजह से ही आता है. अगर इस ग्‍लो में पति का प्‍यार और तारीफ मिल जाए तो यह ग्‍लो दोगुना हो जाता है. प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में आए बदलाव परेशान करने लगते हैं. ऐसे में आप अपनी पत्नी की तारीफ करें और उनके आत्‍मविश्‍वास को बढ़ाने की कोशिश करें.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com