Categories
मनोरंजन

क्राइम पेट्रोल एक्टर शफीक अंसारी ने दुनिया को कहा अलविदा, कैंसर से हारी जंग

10 मई को कैंसर से जंग हारे शफीक अंसारी


Crime Patrol Actor Shafiq Ansari Passes Away At 52

2020 बॉलीवुड वालों के लिए अच्छा समय नही है। अभी कुछ समय पहले ही फिल्म इंडस्ट्री ने अपने दो दिग्गज अभिनेता इरफ़ान खान, ऋषि कपूर को खोया था। उसके बाद प्रोड्यूसर गिल्ड ऑफ़ सीईओ कुलमित मक्कड़ के निधन की खबर आयी। अभी हाल ही में 10 मई को क्राइम पेट्रोल फेम एक्टर शफीक अंसारी का भी मुंबई में निधन हो गया। इरफ़ान खान और ऋषि कपूर की तरह शफीक अंसारी का निधन भी कैंसर की वजह से हुआ। आपको बता दें की  शफीक अंसारी कई सालों से कैंसर से जूझ रहे थे लेकिन अंत में वो कैंसर से हार बैठे और 10 मई को दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया।

शफीक अंसारी कई सालों से कैंसर से पीड़ित थे वह लम्बे समय से कैंसर का इलाज करवा रहे थे। 52 साल के शफीक अंसारी ने मुंबई में अंतिम सांस ली। यह उनके परिवारवालों और फैंस के लिए दुखद खबर है। सोशल मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार, एक्टर शफीक अंसारी मदनपुरा, मुंबई में रहते थे और कैंसर से जूझने के बाद उनका निधन हो गया।

और पढ़ें: ऋषि कपूर फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी: ऋषि कपूर की अधूरी फिल्म ‘शर्माजी नमकीन’ अब होगी पूरी

सिंटा ने भी शफीक अंसारी के निधन पर जताया दुख

सिंटा (सिने एंड टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन) ने शफीक अंसारी के निधन पर दुख जताया और ट्वीट कर सिंटा ने लिखा ‘हम मिस्टर शफीक अंसारी के निधन पर संवेदना व्यक्त करते है, शफीक अंसारी जून 2008 से सिंटा के मेंबर थे’। शफीक अंसारी के निधन से टीवी इंडस्ट्री में भी शोक की लहर है। साथ ही उनके फैंस सोशल मीडिया पर उनके निधन का दुख जता रहे है।

कैसा था शफीक अंसारी का फ़िल्मी करियर

शफीक अंसारी के फ़िल्मी करियर की बात करें तो बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर और राइटर के रूप में शुरुआत की थी। फिर उन्होंने अभिनय की दुनिया में कदम रखा। शफीक अंसारी ने साल 2003 में अमिताभ बच्चन और हेमा मालिनी स्टारर फिल्म ‘बागबान’ में स्क्रीनराइटर के रूप में काम किया था। लेकिन उन्हें ‘क्राइम पेट्रोल’ के लिए ही मुख्य रूप से जाना जाता था।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
हॉट टॉपिक्स

Coronavirus death in india: भारत में पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा मौतें, कोरोना वायरस से संक्रमितों का आंकड़ा हुआ 29,000 के पार

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में हुई सबसे ज़्यादा मौतें


Coronavirus death in india: पूरी दुनिया ही कोरोना वायरस के कारण परेशान है। दुनिया के ज्यादातर देशों में लॉकडाउन चल रहा है लेकिन लॉकडाउन के बाद भी Covid-19 का कहर रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है। भारत में भी कोरोना वायरस तेजी से पैर फैला रहा है। यहाँ पर भी Covid-19 से संक्रमित लोगों को आंकड़ा 29,000 के पार चला गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से आज जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोना वायरस से अब तक 934 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमित लोगो की संख्या बढ़कर 29,435 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में Covid-19 के 1,543 नए मामले सामने आए है। साथ ही 62 लोगों की मौत हुई है। आंकड़ा के हिसाब से देखे तो पिछले 24 घंटे में सबसे ज़्यादा मौतें हुई है। इस बीच थोड़ी राहत की बात यह है कि Covid-19 से अब तक 6869 मरीज ठीक को चुके है।
और पढ़ें: लॉकडाउन को हटाने से पहले हॉटस्पॉट इलाकों को ग्रीन जोन या येलो जोन में लाना है आवश्यक

महाराष्ट्र में Covid-19 से संक्रमितों का आंकड़ा पंहुचा सबसे ऊपर

कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा संक्रमित होने वाला राज्य महाराष्ट्र है यहाँ कोरोना से संक्रमितों की संख्या 8000 से पार हो चुकी है जब कि अब तक महाराष्ट्र  में कोरोना वायरस के कारण 369 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले 24 घंटे में महाराष्ट्र में 395 नए मामले सामने आये। मुंबई देश का पहला ऐसा शहर है जहां कोरोना संक्रमितों की संख्या 5500 पार कर गया है। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्रशासन ने म्यूनिसिपल स्कूलों को क्वारेंटाइन सेंटर में तब्दील करने का फैसला लिया है। जहां कोरोना के मरीजों को रखा जाएगा।

किन इलाको में लॉकडाउन में मिल सकती है ढील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में संकेत दिए कि ग्रीन जोन इलाकों में लॉकडाउन में कुछ ढील दी जा सकती है। परन्तु अभी साफ़-साफ़ कुछ नहीं कहा जा सकता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लॉकडाउन खोलने को लेकर एक नीति तैयार करनी होगी कि राज्यों को किस तरह रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन को खोलना है। इसी नीति के अनुसार पता चलेगा की किन इलाकों में लॉकडाउन जारी रहेगा और किन इलाकों को रियायत दी जाएगी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बॉलीवुड

बॉलीवुड कोरियोग्राफर पर लगा पोर्न दिखाने का आरोप: जानिए कौन है वो ?

बॉलीवुड कोरियोग्राफर पर लगा पोर्न दिखाने का आरोप, राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) को मिला पत्र


बॉलीवुड कोरियोग्राफर पर लगा पोर्न दिखाने का आरोप आये दिन बॉलीवुड की हस्तियां सुर्ख़ियों में छाई रहती हैं वो बात चाहे उनकी रील लाइफ की हो या रियल लाइफ की। हाल ही में मिली ख़बरों के अनुसार, बॉलीवुड फिल्मों में कोरियोग्राफी करने वाले मशहूर नृत्य निर्देशक गणेश आचार्य पर 33 वर्षीय महिला को जबरन पोर्न वीडियो दिखाने का आरोप लगा है।
इस संबंध में इस सम्बन्ध में इस महिला ने राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) को पत्र लिखा है। आइये जानते है क्या है पूरा मामला।

क्या है आरोप?

गणेश आचार्य पर उनकी महिला सहायक कोरियोग्राफर ने यह आरोप लगाया हैं कि वो उस महिला को जबरदस्ती पोर्न देखने पर मज़बूर करते थे। महिला ने बताया कि जब भी वो गणेश आचार्य के मुंबई वाले ऑफिस जाती थी तब गणेश उसे पोर्न वीडियो देखने को कहते और मना करने पर मजबूर करते थे। सूत्रों ने बताया कि गणेश के साथ काम करने वाले महिला उनके ऑफिस में सहायक कोरियोग्राफर के तौर पर काम करती हैं।

राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) को मिला पत्र

इस बात की जानकारी राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) को मिले एक पत्र से हुई जो उस महिला ने लिखा था। महिला आयोग को लिखे पत्र में कोटियां ने दावा कि किया कि वह जब भी आचार्य के दफ्तर जाती थी, वह उसे आपत्तिजनक वीडियो देखने को मजबूर करते थे। अंबोली थाने में दर्ज शिकायत में उसने कहा कि आचार्य फिल्म उद्योग में काम करने के लिए उससे कमीशन मांगते थे। पुलिस में एक शिकायत भी दर्ज करवाई है जिसमे महिला ने आरोप लगाया है कि आचार्य और दो महिलाओं ने रविवार को अंधेरी में आयोजित इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन कोरियोग्राफर्स एसोसिएशन (आईएफटीसीए) के कार्यक्रम के दौरान उसका उत्पीड़न किया।
पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि शिकायतकर्ता दिव्या कोटियां ने आचार्य के अलावा जयश्री केलकर और प्रीति लाड पर उत्पीडऩ का आरोप लगाया है। हालाँकि, इस मामले में अभी तक आचार्य ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी हैं।

पुलिस की जांच

दिव्या कोटियां आईएफटीसीए की सदस्य भी हैं और आईएफटीसीए के महासचिव पद पर गणेश आचार्य हैं। शिकायत में यह भी बताया गया कि अंधेरी के दफ्तर में दिव्या को अक्सर गणेश के फोन आया करते थे। उन्होंने कहा कि जब 26 जनवरी को कोटियां आईएफटीसीए के दफ्तर पहुंची, आचार्य उन पर चिल्लाए और कहा कि उन्हें निलंबित’’ किया जा रहा है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि आचार्य को यह जान कर गुस्सा आया कि कोटियां भी आईएफटीसीए की सदस्य हैं और उन्होंने अपनी टीम की सदस्य जयश्री केलकर से उन्हें कथित तौर पर थप्पड़ मारने को कहा। शिकायत में कहा गया,’केलकर और प्रीति लाड ने सरेआम मुझे मारा जो सीसीटीवी में कैद है।’ अधिकारी ने बताया कि पुलिस गैर संज्ञेय अपराध दर्ज कर इसकी जांच कर रही है।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बॉलीवुड

Deepika Padukone sting operation: ‘तेजाब’ पर छपाक टीम का स्टिंग ऑपरेशन, दीपिका ने बताये हैरान करने वाले तथ्य

Deepika Padukone sting operation: सुप्रीम कोर्ट के सख्त आदेश के बाद भी खुले आम बिकता है तेज़ाब


Deepika Padukone sting operation: बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण छपाक के बाद सुर्ख़ियों में छाई हुई हैं। हाल ही में उन्होंने फिर से सुर्खियां बटोरी जब वो अपनी टीम के साथ मिलकर एक स्टिंग ऑपरेशन पर निकली और इसमें उन्हों यह बात पता लगाने की कोशिश की है कि देश में तेजाब खरीदने की क्या प्रक्रिया है? दुकानदार से तेजाब लेते समय किन-किन सवालों से गुजरना पड़ता है। उन्होंने एक वीडियो जारी करते हुए इस ऑपरेशन की जानकारी दी।

‘तेजाब’ पर स्टिंग ऑपरेशन

‘तेजाब’ की बिक्री पर किये स्टिंग ऑपरेशन पर दीपिका वीडियो की शुरुआत में बताती हैं,”अगर कोई आपको प्रपोज करता है और आप कहते हैं कि नहीं, जब कोई परेशान करता है और आप उसका विरोध करते हैं। तो आप पर तेजाब से हमला हो जाता है। अगर आप अपने अधिकारों के लिए लड़ते हैं तो अपनी आवाज उठाएं। “

एसिड अटैक का मुख्य  कारण तेज़ाब की बिक्री

दीपिका पादुकोण का मानना है कि लोगों पर तेजाब फेंके जाने का सबसे बड़ा कारण खुद तेजाब है। उनके हिसाब से अगर ये बिकता नहीं तो फिर एसिड अटैक होते ही नहीं। वीडियो में दीपिका  और छपाक की टीम के साथ दो कैमरामैन दिखाई दे रहे है। स्टिंग ऑपरेशन के दौरान उनकी टीम के कुछ लोग एक्टर्स बनकर एसिड खरीदने के लिए मुंबई की कई दुकानों पर पहुंचे। वो लोग प्लम्बर, व्यवसायी, छात्र, शराबी, गृहणी और अन्य कई रूपों में बनकर गए। दीपिका अपनी कार से मॉनिटरिंग करती हुई नजर आ रही हैं।

और पढ़ें:  निर्भया के दोषी मुकेश ने लगाई राष्ट्रपति से गुहार, भेजी मर्सी पेटिशन

क्या दुकानदार करते है पूछताछ?

जब इस ऑपरेशन के दौरान नकली बने एक्टर्स ने दुकानदारों के पास जाकर एसिड माँगा और बोला कीं उन्हें सबसे स्ट्रांग एसिड चाहिए जो किसी की त्वचा को जला सके। इसके जवाब में कई दुकानदारों ने खरीददार के इरादे के बारे में ज्यादा पूछताछ नहीं की, केवल एक व्यक्ति ने एसिड बेचने से पहले खरीददार का आईडी प्रूफ मांगा। एक छात्र की भूमिका निभाने वाले एक्टर ने उसे बिना आईडी के देने के लिए कहा, लेकिन दुकानदार नहीं माना। कुछ दुकानदारों ने यह भी पूछा कि क्या वह इसे किसी के चेहरे पर फेंकने का इरादा रखते हैं। लेकिन फिर वो बेचने की लालच में पीछे नहीं हटे।

दीपिका पादुकोण की टीम ने एक दिन में 24 बोतलें खरीदीं। यह सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) द्वारा एसिड की बिक्री पर सख्त नियमों का आदेश देने के बाद थी।

दीपिका ने कहा, मुझे लगता है कि न केवल दुकानदार, बल्कि यह हमारी जिम्मेदारी भी है कि यदि हम कभी किसी को अवैध रुप से एसिड खरीदते या बेचते हुए देखें तो हमें तुरंत पुलिस को सूचित करना चाहिए।”

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लेटेस्ट

14 साल की उम्र में इस बच्चे ने जीता “विश्व युवा शतरंज चैंपियनशिप”

कौन है आर.प्रागनानंदा?


उम्र तो अब सिर्फ बताने के लिए ही रह गयी है। बड़े तो देश का नाम रोशन कर ही रहे थे लेकिन अब बच्चे भी अपनी काबिलयत से देश का नाम रोशन कर रहे है। जी हाँ, एक बच्चा ऐसा है जिसने अपने तेज़ दिमाग और काबिलयत से पूरे देश को गर्व महसूस कराया और नाम रोशन किया है।

14 साल के आर. प्रागनानंदा ने विश्व युवा शतरंज चैंपियनशिप में अंडर-18 ओपन वर्ग का गोल्ड मेडल जीत कर बड़ी उपलब्धि हासिल की है। इसके साथ ही उसने सभी देशवासियों का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है। ग्रैंडमास्टर प्रागनानंदा ने 11वां और अंतिम राउंड जर्मनी के वालेंटिन बकल्स के खिलाफ़ खेला, जिसे जीत कर वो 9 अंक के साथ शीर्ष पर पहुंच गया।

Read more: चंद्रयान- 2 मिशन को सफल बनाने में इन महिलाओ ने दिया बढ़ा योगदान

जाने आर.प्रागनानंदा के जीवन से जुड़ी कुछ उपलब्धियां

आर.प्रागनानंदा चेन्नई के रहने वाले है। आर.प्रागनानंदा को छोटे से ही चैस खेलना का शौक रहा यही वजह है की उन्होंने इसकी कोचिंग ली और इसे खेलना सीखा। आज 14 की उम्र में आर. प्रागनानंदा चैस खेल में ग्रैंड मास्टर बन गए । प्रागनानंदा दस साल की उम्र में 2016 में अंतरराष्ट्रीय मास्टर बने थे। आपको बता दें की चैस चैंपियनशिप प्रतियोगिता मुंबई में हुई थी, जो कि हिंदुस्तान के लिए काफ़ी अच्छी रही. इस प्रतियोगिता में भारतीय खिलाड़ियों ने कुल 7 मेडल जीत कर देश का नाम रौशन किया जिनमे एक आर.प्रागनानंदा भी है।

आर.प्रागनानंदा ने इस प्रतियोगिता में गोल्ड मैडल के इलावा भारत के लिए 6 मैडल और भी जीते है जिनमे 3 मैडल सिल्वर है और 3 मैडल ब्रोंज है। गोल्ड मैडल जीतने के बाद आर.प्रागनानंदा भावुक हुए और एक इंटरव्यू में कहा की मैंने अंडर-18 वर्ग में खेलने का विकल्प चुना, ख़िताब जीतना अच्छा महसूस कराता है। वही इस जीत से आर.प्रागनानंदा के माता पिता और उनके कोच बेहद खुश है। उनके कोच ने कहा की ‘यह शानदार उपलब्धि है । मुझे गर्व है कि मेरा एक शिष्य इस उपलब्धि को हासिल करने में सफल रहा।’

आर.प्रागनानंदा जीत चुके है कई चैंपियनशिप

आपको बता दें की 2013 में आर.प्रागनानंदा ने अंडर 18 चैंपियन और 2015 में अंडर-10 के विजेता भी रह चुके हैं। प्रागनानंदा विश्व के दूसरे सबसे युवा ग्रैंडमास्टर हैं.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

अगर आप किराये के घर में  रहते है तो इन बातो पर दे ख़ास ध्यान 

किराये पर घर लेने से पहले इन बातो पर  जरूर ध्यान दे 


भारत के दो ऐसे राज्य- दिल्ली और मुंबई  जहां रहने के लिए घर ढूंढ़ना थोड़ा कठिन है. आपको यहाँ घूमने के लिए जगहें बहुत सारी  मिलेंगी ,खाने में अलग- अलग जाइका मिलेगा लेकिन रहने के लिए घर मिलना थोड़ा मुश्किल है.अगर आपको किराये पर रहने के लिए घर मिलता भी है तो किराये के मकान में रहना आसान बात नहीं है. अगर आप रहने के लिए किराये  का मकान ढूंढ रहे है तो इन बात को हमेशा ध्यान में रखे.

(  किराये  का मकान  )

जाने किराये का मकान लेने से पहले किन बातो का ख़ास ध्यान रखना चाहिए:

1. रेंट  अग्रीमेंट 
अगर आप किराये का मकान  खरीद रहे है या फिर दे रहे है तो रेंट  अग्रीमेंट ज़रूर ले. क्योंकि अगर मकानमालिक के पास रेंट अग्रीमेंट नहीं है, तो वो आपको किराये पर मकान नहीं देगा.

2. बिना सूचना के मकानमालिक घर के अंदर नहीं आ सकता

बता दे कि अगर आप किराये के घर में  रहते  हैं, तो  आपका ओनर आपको बिना सूचित किये घर के अंदर नहीं आ सकता.आने से पहले  24 घंटे पहले  उसे सूचना देनी होगी.


3. घर को खाली करते समय  होती है सिक्योरिटी डिपॉजिट 

यदि आप किराये का घर खाली कर रहे है तो खाली करने के समय पर मकान मालिक आपसे सिक्योरिटी डिपॉजिट कराता है.  कभी – कभी वो  किराये में भी एडजस्ट हो जाता है.

4. घर की मरम्मत  

किराये का मकान लेने के समय पर घर की मरम्मत  यानी किराएदार  और मकानमालिक दोनों की   ज़िम्मेदारी है

5. स्ट्रक्चरल डैमेज 
अगर आपको मकान  में कही भी स्ट्रक्चरल डैमेज नज़र आता  है तो उसके ज़िम्मेदार आप नहीं बल्कि मकानमालिक है.

Read More:- #अजबगज़ब: अब फ्री  Foreign Trip करना होगा आसान: जाने कैसे?

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन लेटेस्ट

सलमान खान पर फिर एक बार FIR दर्ज़, पत्रकार ने लगाए संगीन आरोप

पहली शिकायत में नहीं हुई कोई कार्यवाही, मुंबई के लोवर कोर्ट में आपराधिक याचिका दर्ज


बॉलीवुड में आये दिन स्टार्स किसी न किसी पचड़े को लेकर विवादों में आ ही जाते हैं.यदि बात करें विवादों की तो शायद सलमान खान का नाम इस सूची में सबसे ऊपर रखा जायेगा. जी हाँ, सलमान खान पर अब तक कई आपराधिक मामले दर्ज़ हो चुके हैं. आपको जानकार हैरानी होगी की हालही में एक पत्रकार द्वारा सलमान खान के खिलाफ मारपीट,धमकी और गलौज के आरोप लगाए गए हैं जिसकी सुनवाई 12 जुलाई को होने वाली है.

जानिये क्या था पूरा मामला

मामला 25 अप्रैल का है जब सलमान अपने गार्ड और साथ वालो के साथ रात को साईकिल की सैर पर निकले थे.  उसी वक़्त पत्रकार अशोक पांडे भी अपने कैमरा मेन के साथ उस जगह मौजूद थे. आपको बताते  चलें की अशोक पांडे JK24x7न्यूज़ चैनल के मुंबई हेड हैं. सलमान को देखकर उन्होंने अपना कैमरा शुरू कर दिया और ये देख कर सलमान गुस्से से आग बबूला हो गए. सलमान के एक इशारे में गार्ड ने पत्रकार के साथ मार पिटाई शुरू कर दी और ये मामला अब कोर्ट तक आ गया.

यहाँ भी पढ़ें: ऋतिक की बहन सुनैना के बॉयफ्रेंड ने तोड़ी चुप्पी, बताया क्या था मामला

जल्द होगी मामले की सुनवाई

पत्रकार के वकील नीरज गुप्ता ने इस बात की पुष्टि की है. उन्होंने मुंबई के अंधेरी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट (Metropolitan Magistrate Court) में सलमान खान के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323, 392, 426 और 506 के तहत शिकायत दर्ज करवाई है. अब इस मामले की सुनवाई 12 जुलाई को होगी.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com
Categories
बिना श्रेणी

1993 मुंबई बम धमाके मामले में टाडा कोर्ट ने छह लोगों को दोषी करार दिया

अबू सलेम के को भी दोषी करार दिया गया


12 मार्च 1993 का वह काला दिन जिस दिन मुंबई पर सिलसिलेवार बम धमाके हुए थे। उसी बम धमाकों पर आज स्पेशल कोर्ट के टाडा कोर्ट ने फैसला सुनाया है। सुनाए गए फैसले पर सोमवार से सुनवाई की जाएगी। आज इस मामले में अबू सलेम समेत छह लोगों को दोषी करार दिया है। जस्टिस जी.एस.सानप की बेंच ने इन्हें दोषी करार दिया है।

1993 बम धमाका

एक अभियुक्त को बरी कर दिया

इस हमले में 257 लोग मारे गए थे। जबकि 713 लोग घायल हो गए थे।

टाडा कोर्ट ने अबू सलेम को साजिश के मामले मे दोषी पाया है। उन्हें आतंकवाद संबंधित गतिविधियों का भी दोषी पाया गया है।

कोर्ट सात अभियुक्तों पर सुनवाई कर रही थी। जिसमें से एक अब्दुल कय्यूम को बरी कर दिया गया है। अब्दुल क्य्यूम दुबई में दाउद के ऑफिस का मैनेजर था।

मामले में अबू सलेम के अलावा मुस्तफा, मोहम्मद दोसा, फिरोज राशिद खान, करीमुल्ला शेख,ताहिर मर्चेंट को दोषी करार दिया गया है।

मामले का पहले चरण 2007 में पूरा हुआ

इस मामले के मुकद्दमे का पहला चरण 2007 में पूरा किया। इसमें कोर्ट ने 100 लोगों को दोषी ठहराया था। जिसमें से 23 लोगों को बरी कर दिया गया था। सात आरोपियों का मुकद्दमा मुख्य मुकद्दमे से अलग कर दिया था। क्योंकि इन सबकी गिरफ्तारी मुख्य मुकद्दमा पूरा होने के बाद हुई थी।

इस मामले में सलेम पर गुजरात से हथियार मुंबई ले जाने का आरोप है। मुस्तफा दोसा भारत में आरडीएक्स समेत विस्फोटकों को लाने का आरोपी है।

फिलहाल इस मामले मे सलेम को सिर्फ दोषी करार दिया गया है। उस पर सजा नहीं तय हुई है। वैसे खबरों की मानें तो सलेम के फांसी की सजा नहीं होगी। क्योंकि उस पुर्तगाल सरकार के संज्ञान पर देश लाया गया है। इसलिए उन्हें फांसी की सजा नहीं हो सकती है।

वहीं दूसरी ओर इसी मामले में आरोपी याकूब मेनन की फांसी की सजा बरकरार है।

संजय दत्त इस मामले में सजा काट चुके हैं

आपको बता दें इस मामले में अभिनेता संजय दत्त भी पूणे की यरवड़ा जेल में सजा काट चुके है। उन पर 1993 के बम धमाके में हथियार रखने का आरोप है।

संजय को सलेम को एके 56 रायफलें, 250 बुलेट और कुछ हैंड ग्रेनेड अभिनेता संजय दत्त को उनके आवास पर 16 जनवरी 1993 को सौंपे थे। दो दिन बाद सलेम और दो अन्य लोग दत्त के घर से दो राइफल और कुछ गोलियां ले गए थे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Categories
भारत

आईएसआई का तीसरा एजेंट मुंबई से गिरफ्तार

पाकिस्तान से पैसा जमा करने का निर्देश मिलता था


 

यूपी और महाराष्ट्र एटीएस के संयुक्त कारवाई से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एक ओर जासूस पकड़ा गया है। जासूस मुंबई के अग्री पाड़ा से पकड़ा गया है।

पाक उच्चाधिकारी के संपर्क में थे

आपको बता दें इससे पहले एटीएस ने फैजाबाद और मुंबई से दो पाकिस्तानी जासूस जावेद और अल्ताफ कुरैशी को गिरफ्तार किया था। जावेद को पाकिस्तान से पैसा जमा करने का निर्देश मिलता था।

इन दोनों से मिली जानकारी के बाद ही मुंबई के अग्री पाड़ा पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान जावेद के पुत्र इकबाल का गिरफ्तार किया गया। उसके पास से पुख्ता प्रमाण मिले हैं कि उसने एक पाक एजेंट के निर्देश पर आफताब के खाते में पैसा जमा किया था।

 

पकड़े गए आईएसआई जासूस


 

आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि यह दोनों जासूस पाकिस्तान उच्चायोग के एक आधिकारी से संपर्क में थे। अल्ताफ और जावेद को मुंबई के कोर्ट में इंस्पेक्टर अविनाश मिश्र द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा। वहां से ट्रांजिट रिमांड का आदेश लेकर लखलऊ लाया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार भारत द्वारा अक्टूबर में किए गए सार्जिकल स्ट्राइक के बाद से सेना के कामकाज पर नजर रखने के लिए पाकिस्तान ने हायर किया था।

पहली गिरफ्तारी फैजाबाद से हुई थी

गौरतलब है कि यूपी एटीएस और सेना की संयुक्त कारवाई से ही आफताब अली को फैजाबाद से पकड़ा जा सका था।

अफताब के पास से संदिग्ध कागजात,कैंट एरिया का नक्शा, आतंकी लिटरेचर और कई चिट्ठियां भी बरामद हुई है।

आफताब की गिरफ्तारी के बाद से ही इस नेटवर्क में काम करने वालों पर एटीएस की नजर थी। इसी दौरान यूपी एटीएस की टीम ने मुंबई में महाराष्ट्र की टीम के साथ मिलकर रुम नंबर 201, युसूफ मंजिल,डॉ आनंद राव मेन रोड, मुंबई पर छापा मारा और वहां से अल्ताफ कुरैशी को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी अल्ताफ कुरैशी पुत्र हनीफ मूलरुप से दोरजी, गुजरात का रहने वाला है। एटीएस के मुताबिक अल्ताफ हवाला का अवैध कारोबार करता है। वह आईएसआई के कहने पर फैजाबाद से पकड़े गए एजेंट आफताब के खाते में पैसा जमा करता था। अल्ताफ के पास से लगभग 70 लाख रुपये भी बरामद किए गए है।

Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

मेयर के पद के लिए क्या शिवसेना और कांग्रेस आएगी एक साथ

क्या शिवसेना और कांग्रेस आएगी एक साथ


पहले भी कांग्रेस और शिवसेना एक दूसरे का साथ दे चुके हैं

मुंबई में बीएमसी की राजगद्दी पर किसकी पार्टी काबिज होगी यह अब बहुत बड़ा सवाल बन गया है। इस बारे हुए बीएमसी के चुनाव में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया है। जिसके कारण यह तय नहीं हो पा रहा है कि बीएमसी की गद्दी पर कौन राज करेगा। इससे पहले तक बीएमसी पर शिवसेना का ही राज था। लेकिन इस बार वह भी साख बचाने में लगी है। तो क्या शिवसेना और कांग्रेस और आएगी एक साथ?


मेयर किस पार्टी का होगा

21 को हुए बीएमसी चुनाव में शिवसेना को 84 और बीजेपी को 82 सीटें मिली है। अब बात इस बात पर आकर अड़ गई है कि बीएमसी में मेयर किसका होगा। मुंबई में तो शिवसेना ने 84 सीटों पर जीत हासिल की है। लेकिन महाराष्ट्र की अन्य जगहों पर बीजेपी ने हाथ मार लिया है। जिसके कारण बहुमत न मिल पाऩे कारण यह संभव नहीं हो पा रह है कि मेयर किस पार्टी का होगा।

शिवसेना चाहती है कि मेयर उनकी पार्टी का हो। अभी तक शिवसेना के पास 87 सीटे है। 84 उनकी खुद की है और 3 निर्दलय उम्मीदवारों ने उन्हें समर्थन दिया है। अब बात यह है कि इतनी सीटों से शिवसेना का मेयर नही बना पाता है। ऐसे माहौल में क्या शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी का समर्थन लेगी। अगर यह इन दोनों पार्टियां का समर्थन लेते है तो देवेंद्र फरणवीस की कुर्सी खतरे में आ जाएंगे। क्योंकि अगर शिवसेना कांग्रेस का समर्थन लेती है तो वह राज्य में दिए अपने समर्थन को वापस ले सकती है जिसके कारण महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार गिर सकती है। या ऐसा भी हो सकता है कि शिवसेना कांग्रेस के साथ मिलकर बहुमत साबित कर देता है वह अपना मुख्यमंत्री बना सकते हैं।

इससे पहले भी शिवसेना और कांग्रेस एक साथ आई है। शिवसेना का कुछ नेताओं का कहना है कि राष्ट्रपति के लिए प्रतिभा पाटिल और प्रणव मुखर्जी के चुनाव के वक्त भी कांग्रेस और शिवसेना साथ आ चुके है। लिहाजा इस बार भी गठबंधन में कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए।

गठजोड़ पर आखिरी फैसला आने के बाद ही देगें समर्थन

खबरों की मानें तो कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पार्टी शिवसेना को बाहर से समर्थन देने का विकल्प तलाश रही है। पार्टी की महाराष्ट्र इकाई के अध्क्ष अशोक चव्हाण ने कहा कि बीजेपी और शिवसेना के बीच गठजोड़ पर आखिरी फैसला आने के बाद ही वो किसी नतीजे तक पहुंचेगे। उनके करीबी विधायक अब्दुल सत्तार के मुताबिक पार्टी की राज्य इकाई शिवसेना को समर्थन पर हाईकमान को प्रस्ताव भेजेगी।
वहीं दूसरी ओर कल ही बीजेपी के नेता नितिन गड़करी ने शुक्रवार क कहा था कि हालात को देखते हुए दोनों पार्टियों को एक साथ आना चाहिए।
इससे पहले शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में भी बीजेपी का विरोध किया है। क्योंकि इसबार के बीएमसी चुनाव से पहले दोनों पार्टियां अलग हो चुकी थी।