Categories
लाइफस्टाइल

Lockdown: क्या है वो 5 चीजें जो आप लॉकडाउन हटते ही करना चाहते है?

वो चीजें जो आप लॉकडाउन के कारण नहीं कर पा रहे है?


कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया परेशान है और लगातार कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस वायरस को रोकने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन लगा हुआ है। सभी लोग अपने घरो में ही है। वो चाह कर भी घर से बाहर नहीं जा पा रहे है। कुछ लोग जो वर्क फ्रॉम होंमे कर रहे है। उनको तो टाइम का कुछ खास पता नहीं चल रहा लेकिन वो लोग जो घर पर ही है और कुछ नहीं कर पा रहे है।  वो पूरी तरह फरस्टेट हो चुके है। वो लोग सब लॉकडाउन हटने का इंतजार कर रहे है ताकि उसके बाद वो लोग वो सारे काम कर पाए जो वो अभी नहीं कर पा रहे।

वो चीजें जो आप लॉकडाउन के बाद सबसे पहले करना चाहते है

जंक फ़ूड: लॉकडाउन के बाद से सभी लोग अपने अपने घरो में बंद है कोई कही नहीं जा पा रहा। हम जैसे लोग जो जंक फ़ूड लवर होते है। खास कर मोमोस लवर। उनकी तो जैसे बिना मोमोस के ज़िन्दगी ही अधूरी हो गयी हो। वो तो अब बस लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार  कर  रहे है जैसी एक बार लॉकडाउन खत्म हो और वो जा कर मोमोस खा पाए।
ब्यूटी पलार: हमारी ब्यूटीफूल लड़ेस जो आज कल लॉकडाउन के कारण पलार नहीं जा पा रही है। वो भी लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार कर रही है। जैसी एक बार लॉकडाउन  खत्म होता है उनका पहला काम होगा पलार जाना।
शॉपिंग: कुछ लोग बहुत ज्यादा शॉपिंग होलिक होते है उनकी ज़िन्दगी शॉपिंग से शुरू होती है, और शॉपिंग पर ही खत्म होती है। अभी लॉकडाउन के कारण वो लोग बाहर नहीं जा पा रहे है। जैसा की अभी मोसम बदला है और सबको गर्मियों का नया क्लासेन चाहिए। जिसके लिए वो लोग बहार मार्किट नहीं जा पा रहे।  इस लिए शॉपिंग होलिक लोग भी लॉकडाउन खत्म होने और उसके बाद शॉपिंग करने का इंतजार कर रहे है।

और पढ़ें: Lockdown के कारण स्कूल बंद हो गए ऐसे में कैसे बनाये बच्चों का शेड्यूल?

क्रिकेट लवर: स्पेसली हमारे बॉयज इनको क्रिकेट खेलना और देखना बहुत पसंद होता है। ये लोग आज कल लॉकडाउन के कारण घर पर है जिसमे न तो ये बहार क्रिकेट खेलने जा पा रहे है और न कुछ क्रिकेट में नया देख पा रहे है। इस लिए ये लोग भी लॉकडाउन  खत्म होने का इंतजार  कर रहे है।
घूमना – घूमना: घूमना एक ऐसा काम है, जो किसे नहीं पसंद। सबको घूमना फिरना बहुत पंसद होता है आज कल लोगो के पास बहुत टाइम है पर लॉकडाउन  के कारण वो कही बहार नहीं जा पा रहे। खास कर वो लोग जिनको घूमना बहुत पसंद होता है वो लोग तो बेसबरी से लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार कर रहे है। जैसी ही लॉकडाउन  खत्म होगा ये लोग अपने ग्रुप के साथ कही न कही घूमने का प्लेन बना ही लगे।
ये वो 5 चीजे है जो हमे लगता है की हर कोई लॉकडाउन के बाद करेगा। और अगर आपके कुछ और प्लेन है तो वो आप हमे कमेंट कर के बता सकते है।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
सेहत

अगर आप भी हाई ब्लड प्रेशर है, तो ये कुछ खास जूस आपके लिए जो बढ़ाएंगे आपका इम्यूनिटी सिस्टम

हाई ब्लड प्रेशर क्या है और ये क्यों होता है?


हाई ब्लड प्रेशर एक बेहद ही खतरनाक बीमारी है। अगर इस बीमारी में जरा भी लापरवाही की गई तो इंसान को हार्ट अटैक से लेकर स्ट्रोक तक कई घातक बीमारियां हो सकती हैं। हाई ब्लड प्रेशर होने का मुख्य कारण है, हमारी अनियमित जीवनशैली और तनाव भरे वर्क स्ट्रेस में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या आम हो गई है। ऐसे में अगर आप चाहते हैं कि आपका हाई ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहे तो आपको ऐसे खाद्य पदार्थों से बचे जिनमें सोडियम की मात्रा ज्यादा होती है। हाई ब्लड प्रेशर की समस्या तब होती है, जब हमारी रक्त धमनियों पर ज्यादा बल लगाता है, जिसकी वजह से रक्तचाप का स्तर बढ़ जाता है। अगर वक्त पर इस बीमारी का इलाज नहीं कराया गया तो मरीज को हार्ट अटैक भी आ सकता है। इस लिए जरूरी है आप अपने लाइफस्टाइल तथा डाइट में कुछ परिवर्तन। कुछ ऐसी चीजे खाये और पिए जिससे आपका हाई ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहे।

हाई ब्लड प्रेशर के रोगी इन जूस का करें सेवन:

चुकंदर का जूस: चुकंदर में एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं जो शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में बीटरूट का जूस बहुत फायदेमंद होता है। साथ ही ये डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसके सेवन से न केवल मीठा खाने की तलब को शांत किया जा सकता है बल्कि इसके सेवन से आप चुस्त और दुरुस्त भी होते हैं।
टमाटर का जूस: टमाटर सब्जी के स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ सलाद के रुप में भी काफी पसंद किया जाता है। साथ ही टमाटर पाचन शक्ति को  बढ़ाता है और पेट से जुड़ी समस्या जैसे अपच, कब्ज़, दस, जैसी समस्याओ को कम करता है। और शरीर में खून की कमी को भी दूर करता है। इसके सेवन से भूख लगने वाले हार्मोंस भी कंट्रोल में रहते हैं, जिससे आप आसानी से वजन कम कर सकती है। और साथ ही ये हाई ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल करता है।

और पढ़ें: जाने किन- किन चीजों को खाने से मिलता है विटामिन सी और क्या है इसके फायदे?

 
अनार का जूस: अनार एक ऐसा फल है। जिसके नियमित सेवन से हमें अच्छा स्वास्थ्य मिलता है। अनार खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही पाचक और हमारे शरीर में रक्त वृद्धि करने वाला भी होता है। और साथ ही अनार में विटामिन और पोटेशियम भी भरपूर होता है, जो रक्त संचार को सुचारू बनाने में मदद करता है।
 
खट्टी फलों का जूस: खट्टी फलों में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है इन फलो के ताज़े रस में पोटेशियम, फोलेट और प्राकृतिक साइट्रस बायोफ्लेवोनॉइड्स से भरपूर होता है। जो रक्तचाप के स्तर को कम रखने में मदद करते हैं, चयापचय में सुधार करते हैं और हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करते हैं।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
सेहत

Healthy Sleep Habits: क्या आपको भी नहीं आती रात को नींद? तो जाने इसके कराण और उपाय

Healthy Sleep Habits: आखिर क्यों नहीं आती लोगो को रात में अच्छी नींद?


Healthy Sleep Habits: आज कल लोगो जा जीवन इतना भागदौड़ भरा हुआ है जिसमे नींद ना आना एक आम बात हो गए है। अगर आप भी चाहते है। अच्छी सेहत तो इसके जरूरी है की आप एक अच्छी और सुकून-भरी नींद ले। कम नींद लेने से सेहत को कई तरह से नुकसान होते है। नींद की कमी के कारण डायबिटीज, स्ट्रोक और मोटापे का शिकार होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। इस लिए जरूरी है की आप रोज 7-9 घटे की नींद ले। ये आपकी सेहत के लिए बहुत जरूरी है।

रात को नींद न आने के कारण

चिंता और मानसिक अवसाद: आज के समय में चिंता और मानसिक तनाव के कारण लोगो को नींद न आने का सबसे बड़ा कारण है। आज कल लोगो की ज़िन्दगी इतनी भागदौड़ भरी है की पूरा दिन निकल जाता है लेकिन उनकी टेंशन खत्म नहीं होती। कई लोग तो रात को सोते समय भी यही सोचते है की अभी ये काम करना तो बाकी रह गया।
 
चाय-कॉफी: अपने देखा होगा कुछ लोग चाय और कॉफ़ी के बहुत सौकीन होते है। और जैसा की आपको ये भी पता होगा की चाय और कॉफ़ी में कैफीन होता है और कैफीन को नींद का दुश्मन माना जाता है। बहुत ज्यादा मात्रा में चाय और कॉफी पीने से भी नींद कम आती है।
 
टीवी और इंटरनेट: अपने देखा होगा की आज कल लोग रात को बहुत देर तक ऑनलाइन रहते है। फिर उनको नींद नहीं आती और जब नींद आती है जब तक उठने का टाइम हो जाता है। जिसके कारण उनका दिनचर्या बिगड़ने जाता है। इसके लिए जरूरी है सोने से एक घटे पहले फ़ोन को खुद से दूर कर दे।
 
शराब और सिगरेट: शराब और सिगरेट पीने वालों में अक्सर नींद की समस्या पाई जाती है। अत्यधिक नशा करने और नशा न मिलने की वजह से भी नींद नहीं आती है। इसलिए जितना हो सके इन चीजों से दूर रहे।

और पढ़ें: क्या आपको भी वैक्सिंग कराने से लगता है डर? तो ये खास टिप्स है आपके लिए

अच्छी नींद के लिए क्या करे?

समय तय करें: भले ही आपका रुटीन कितना भी व्यस्त क्यों न हो लेकिन अच्छी नींद आए इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने सोने का एक समय निर्धारित करना चाहिए। शुरुआत में भले ही आपको थोड़ी दिक्कत होगी लेकिन नियमित रूप से एक निर्धारित समय पर अगर आप सोने की कोशिश करेंगे तो यह आपकी दिनचर्या में शामिल हो जाएगा।
डाइट: सोने से पहले एक ग्लास गर्म दूध पीने से अच्छी नींद आती है। जिनको नींद नहीं आती उनके लिए यह नुस्खा बहुत कारगर है। इसके अलावा आप सोने  पहले चेरी, मेवे आदि का भी सेवन कर सकते हैं।
किताब पढ़ना: लेटने के बाद अगर 15 min तक आपको नींद नहीं आती है तो उठ जाएँ और कुछ ऐसा करें जिससे आप रिलैक्स महसूस करें, जैसे आप किताब पढ़ सकते है और अपने बचपन में ये कहावत तो सुनी ही होगी की किताब खोलते ही अपने आप नींद आने लगती है। आप अपनी पढते रहिए थोड़ी देर में नींद अपने आप आ जायेगी।
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
सेहत

COVID 19 outbreak के दौरान क्यो ज़रूरी हैं Emotional Health को चेक मे रखना ?

कैसे रखे अपनी emotional health को चेक मे ?


कोरोना का कहर तो पूरा विशव देख रहा हैं. जहां देखो वही कोरोना की बात. लोगो से लेकर सोशल मीडिया तक. ऐसे मे लोगो मे डर इतना ज़्यादा हैं कि ज़रा सी खांसी  को भी लोग कोरोना समझ रहे हैं. भारत मे  ये खतरनाक virus अभी दूसरे चरम पर हैं और अब भी देश के पास 30 दिन हैं इसे महामारी बनने से रोकने के लिए. ताजा आकडो की बात करे तो अब तक 153 मामले सामने आये हैं.
लोगो मे डर हैं ऐसे मे ज़रूरी हैं कि हम अपनी emotional health का भी ख्याल रखे. यहां हैं पांच तरीके जिस से आप रख सकते हैं अपना मुड लाइट:
1. अपने खास लोगों से बात करे:  फ़ोन करे और बात करे. पुरानी यादे ताजा करे और अच्छी बाते करे. जितना हो सके कोरोना की बात न ही करे.
2. अच्छा  खाना बनायें और फैमिली के साथ करे enjoy:  घर का खाना भी अच्छा लगता हैं अगर सब साथ हो. अभी मौका भी हैं सब घर पर हैं तो अच्छा खाना बनायें  और खाये. साथ मे फिल्म देखे और games खेले.

और पढ़ें: कोरोना का दुनिया भर में कहर: Self Quarantine के दौरान कैसे करें समय utilise?

3. सोशल मीडिया को कहे न: ज़्यादा फेक खबरे देखने से negativity ही होती हैं ऐसे मे थोड़ा ब्रेक ले और सोशल मीडिया से दूरी बना ले.
4. Gardening करे: plants का रखे ख्याल ये आपको अच्छा फील  कारवाने मे मदद करेगा.
5. Meditation करे: थोड़ा ध्यान लगाये. ये आपके दिमाग को शांत रखेगा और आपको positve फील करने मे करेगा मदद.
आखिर मे एक चीज याद रखे “बुरे दिन के बाद अच्छे दिन आते हैं” ये ग्लोबल आपदा हैं इस भी डरना नही हैं बल्की लड़ना हैं.
अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
लाइफस्टाइल

Single Mother problems – 5 समस्याएं जिनका सिंगल मदर को करना पड़ता है सामना

5 बातें जो कभी भी एक सिंगल मदर से नहीं कहनी चाहिए


Single Mother problems: पहले ज़माने में कहा जाता था कि बच्चा करना बहुत मुश्किल होता है और उससे भी मुश्किल होता है उस बच्चे का लालन – पालन करना। हालाँकि पहले जॉइंट फॅमिली हुआ करती थी इसलिए बच्चे आराम से पल जाते थे। आज के समय में जहाँ माता-पिता के लिए एक से अधिक बच्चे का लालन पालन करना मुश्किल होता है वही अगर बात करें अगर एक सिंगल मदर की तो यह एवेरेस्ट चढ़ने से कम नहीं लगता। उसके ऊपर समाज हमेशा उन महिलाओं को अलग नजर से देखता है जो अकेले अपने बच्चों की परवरिश करती हैं। एकल माताओं को अक्सर कठोर बातों से गुजरना पड़ता है। वह अपने बच्चे की कितनी परवाह करती हो, इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है, क्योंकि उन्हें समाज में एक अलग नजरिये से देखा जाता है।

लेकिन अगर हम एक सिंगल मदर की एक बच्चे के लिए भूमिका को देखें तो वो इसे अच्छे और ईमानदारी से निभा सकती हैं। वो एक माँ के रूप में एक अच्छी माँ और एक अच्छे पिता की भूमिका और कर्तव्यों को पूरा कर सकती है, और ऐसी कई महिलाएं हैं जो इस बात को साबित कर रही हैं। फिर भी दुःखद बात यह है कि अभी भी समाज में हमारे चारों ओर सिंगल-मॉम-शेमिंग के बारें में बातचीत होती है।

ऐसी बातें एक सिंगल माँ के विश्वास को गहराई से प्रभावित करती है इसलिए हमें इसे रोकने की जरूरत है। इसी तरफ पहल करते हुए आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताएँगे जिन्हें किसी को भी किसी सिंगल मदर से नहीं बोलनी चाहिए।

तुम्हारी ज़िंदगी एक आदमी के बिना अधूरी है…

क्या आपको लगता कि एक महिला के जीवन मे एक आदमी का होना ही आदर्श होता है? क्या आपको लगता है कि एक आदमी के बिना महिला का जीवन अधूरा होता है। हमारे आस-पास के बहुत से लोग इस कथन पर विश्वास करते हैं, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। एक सिंगल मदर बिना किसी पुरुष के अपने आपको और अपने बच्चे को पाल सकती है। वो उसके बिना भी अपने बच्चे को वो सब कुछ दे सकती है जो उसकी हैसियत में होता है। अगर महिला को लगता है कि एक गलत आदमी घर की शांति में बाधा डाल सकता है तो उस माँ के लिए अपने बच्चे की देखभाल अकेले करना ही बेहतर होता है। अगर वह अपने बच्चे को खुद से बड़ा करने के लिए आश्वस्त है तो उसे एक आदमी को अपने जीवन में लाने के बारे में परेशान नहीं होना चाहिए। इसलिए हमें एक एकल माँ के जीवन में विपरीत लिंग के दूसरे व्यक्ति की अनुपस्थिति पर सवाल उठाना बंद कर देना चाहिए।

आप दोबारा शादी कर लो, जीवन सुधर जाएगा।

यदि एक माँ ने अपने बच्चों और खुद की देखभाल करने के लिए एकल रेहान चुना है तो क्या आपको नहीं लगता कि उसने बहुत सोच-विचार के बाद ऐसा निर्णय लिया है? हमें उसके फैसले का समर्थन करने की जरूरत है न कि उसकी विश्वसनीयता पर सवाल उठाने की। हमें उससे दुबारा शादी करने का सुझाव नहीं देना चाहिए। एक महिला जीवन भर अविवाहित रह सकती है और फिर भी खुश रह सकती है। एक महिला अपनी इच्छा से अपने बच्चे और खुद को खुश रख सकती है। कौन जानता है शादी के बाद वो व्यक्ति उन्हें खुश रखेगा या नहीं। आंकड़े बताते हैं कि संयुक्त राज्य में लगभग एक तिहाई बच्चे सिंगल मदर्स द्वारा पाले जाते हैं।

परिवार को पूरा करने के लिए एक पति की आवश्यकता है।

परिवार को पूरा करने के लिए एक पति की आवश्यकता है, बेशक, ये सटीक शब्द है और आज भी हमारा समाज इस बात को मानता है कि एक महिला और उसके बच्चे के जीवन में उसके पति और बच्चे के पिता का बहुत बड़ा रोल होता है। लेकिन इसका मतलब यह है कि यह बात सुनिश्चित है। इस कथन में एक अंतर्निहित मुखरता है कि परिवार को पूरा करने के लिए एक पति की आवश्यकता है। हर कोई अलग है और जरूरी नहीं है कि हम हमेशा अपने जीवन में सही निर्णय ले सकें। संभावना है कि हम उन लोगों के साथ खुश रहें जिन्हें हम प्यार करते हैं, लेकिन कुछ वर्षों के बाद प्यार खत्म हो सकता है। यह स्वाभाविक है। महिला के एकल माँ होने का कारण कुछ भी हो सकता है – जैसे पति के साथ खुश ना रह पाना, तलाक, दुर्भाग्यपूर्ण परिस्थितियां या कुछ अन्य। इसलिए एक सिंगल मदर अपने बच्चों के साथ और एक आदमी के बिना अपना जीवन ख़ुशी से जी सकती है।

और पढ़ें: क्या आपके सभी Financial Matter आपका पति हैंडल करता हैं?

तुम एक अकेली माँ हो? मुझे यह जानकर दुःख है।

अगर कोई महिला एक सिंगल मॉम हैं तो आपको इस बारें में उनके सामने कोई दुःख या खेद जाहिर करने की जरुरत नहीं हैं। आप खेद क्यों महसूस कर रहे हैं? और किस लिए? सिर्फ इसलिए कि वह एक सिंगल मॉम है, आपको इस बारे में खेद नहीं होना चाहिए। आप इसके बदले उनकी प्रशंसा करें या उनके रुख की सराहना करें। इन बातों से उनका चेहरा मुस्कुराहट के साथ खुश हो सकता है। आप उनकी सराहना करें, यह उन्हें और अधिक मजबूत बनाएगा।

अकेली माँ किसी अन्य महिला के पति पर नज़र रखती है।

अगर एक महिला सिंगल मॉम है और स्वतंत्र मजबूत महिला है तो किसी अन्य महिला के पति पर नज़र रखती है। यह एक ऐसी धारणा है जो हमारे समाज में व्याप्त है। एक अकेली माँ किसी अन्य महिला के पति पर नज़र क्यों रखेगी? यह उन सभी भ्रांतियों का सबसे बड़ा कारण है जो समाज में फैला हुआ है और यह बात सिंगल मदर के लिए परेशान करने वाला होती है। अगर वह सिंगल है और वह अविवाहित है तो वो इसलिए क्योंकि उसे किसी आदमी की जरूरत नहीं है। हमें इस तरह की असंवेदनशील और आधारहीन धारणा बनाने से बचना चाहिए!

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

हेल्थी ब्रेकफास्ट के लिए खाने में क्या चुनें

सुबह ब्रेकफास्ट खाना कितना जरूरी


जब हमारा शरीर रात भर सोने के बाद उठता है तो रात भर में सोकर हमारी एनर्जी डाउन हो जाती है और हमारे शरीर को एनर्जी की जरूरत होती हैं। अगर हमें दिन भर काम करना होता है तो इसके लिए हमें ऊर्जा चाहिए होती और ऊर्जा का स्रोत्र होता हैं – भरपूर पोषण। भरपूर पपोषण पाने के लिए जरूरी होता हैं सुबह का ब्रेकफास्ट। खाली पेट रहने और सुबह का ब्रेकफास्ट समय पर ना खाने से हमारे शरीर में सुस्ती रहती है और हमें थकान महसूस होती हैं। आइये जानते है शरीर को ऊर्जावान बनाये रखने के लिए सुबह के ब्रेकफ़ास्ट में क्या खाएं –

सुबह के ब्रेकफ़ास्ट में क्या खाएं

• पोषक से भरपूर हल्का नाश्ता – पराठे, पोहे या उपमा जैसी चीजों को खाने से कम एनर्जी मिलती है और पेट भरा -भरा लगता हैं। आपको पराठों की जगह उपमा, नमकीन दलिया, कॉर्न फलैक्स आदि शामिल करना चाहिए।

• ब्रेड या बेकरी प्रोडक्ट्स – बेकरी की बनी चीजें जैसे पाव, कप केक की जगह होलग्रेन ब्रेड यानि आटे की ब्रेड खाने से आपको ज्यादा ऊर्जा महसूस होगी और साथ ये आपकी सेहत भी बनाये रखेगा।

•  ड्रिंक्स – कुछ लोग सुबह दूध पीना ज्यादा पौष्टिक मानते है लेकिन ऐसा नहीं हैं। अगर आप छाछ या जूस भी लेते हैं तो इससे आप सारा दिन ऊर्जावान महसूस करेंगे।

•  फल और सब्जिया – सुबह के समय नाश्ते में फल और सब्जियों की सलाद खाने से हमें सभी जरूरी पौष्टिक तत्व हमारे शरीर को मिलते हैं। लेकिन आपको फलों का चयन बहुत जरुरी हैं। आपको सुबह ब्रेकफास्ट में खट्टे फल जैसे संतरा, मौसंबी, नींबू, कीवी जैसे खट्टे फल खाने से बचना चाहिए। ये फल खाली पेट नुकसान करते हैं।

•  कार्बोनेटेड ड्रिंक्स – अगर आपको कार्बोनेटेड ड्रिंक्स पसंद है तो ध्यान रहें आप खाली पेट इन ड्रिंक्स का सेवन ना करें। आप इसके बदले फलों और सब्जियों का ताज़ा जूस पियें।

•  नॉन वेजीटेरियन – अगर आप ब्रेकफास्ट में नॉन वेज खाना पसंद करते है तो सिर्फ नाश्ते में अंडे ही खाएं। मसालेदार मांस लेने के बजाए सफेद अंडे कहीं अधि‍क फायदेमंद होंगे। अंडों में सोडियम की मात्रा कम होती है सेहत के लिए फायदेमंद हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

क्या आप अपनी उम्र से अधिक बड़े दिखाई देते हैं, जानिये इसका कारण

क्या आप अपनी उम्र से अधिक के दिखाई देते हैं


आजकल की जनरेशन फ़ास्ट पेस मोड में रहती हैं जिसके चलते वो समय से पहले बूढी होने लगी हैं। पुराने ज़माने में लोग फुर्सत से रहा करते थे और फुर्सत में सब कुछ करते थे लेकिन आज के समय में हर काम में जल्दबाज़ी और टेंशन रहती हैं वो चाहे घर का काम हो या ऑफिस की भागदौड़। इसी कारणवश आज की जनरेशन के लोग कुछ ना कुछ बीमारी के शिकार रहते है और उन्हें स्वास्थ्य समस्या लगी रहती हैं जैसे मानसिक बीमारी, शरीर में थकान, डिप्रेशन,माइग्रेन आदि। इन सबमें सबसे बड़ी टेंशन हैं – डिप्रेशन की बीमारी जिसके चलते एक से अधिक समस्याएं होने लगती है और व्यक्ति समय से पहले बूढ़ा हो जाता हैं।  आज के समय में  40 साल की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते लोगों में डिप्रेशन पहले के मुकाबले डबल होने लगा है और आंकड़ों के हिसाब से डिप्रेशन पुरुषों के मुकाबले महिलाओ में ज्यादा रहता हैं।

आइये जानते है समय से पहले बूढ़ा होने के कारण –

शादीशुदा महिलायें – हाल ही में एक अध्ययन से यह पता चला है कि  महिलायें शादीशुदा महिलाओ के मुकाबले ज्यादा खुश रहती हैं। इसका कारण शादीशुदा महिलाओ को घर की जिम्मवारियों और सामाजिक जिम्मवारियों के चलते डिप्रेशन की समस्या हो जाती हैं। वो समय से पहले बड़ी उम्र की दिखने लगती हैं। आपके लिए जरूरी नहीं कि आप हर जगह खुद को परफेक्ट साबित करें और जरूरत से अधिक उम्मीदें पूरी करें। उम्मीदें पूरी ना कर पाने पर डिप्रेशन होता है। डिप्रेशन के कारण हार्मोनल इंबैलेंस होना और मूड स्विंग की समस्या भी हो जाती हैं। इसी के साथ अगर हम पुरुषों की बात करें तो ऑफिस के काम के प्रेशर और घर की जीवीका कमाने के चक्कर वो कभी-कभी इतना अधिक भाग-दौड करने लगते है कि उन्हें डिप्रेशन होने लगता हैं। इसी डिप्रेशन के चलते वो समय से पहले बुढ़ापे के शिकार हो जाते हैं।

Read more: Being single and happy: क्या आपकी Single Friend हमेशा रहती है ख़ुश? आइये आपको बताते है राज़

आइये जानते है डिप्रेशन से बचें और समय से पहले बुढ़ापे से बचने के टिप्स –

  • बैलेंस कैसे बनाये – आज के लाइफ स्टाइल के चलते मे प्रॉब्लम होना स्वाभविक है लेकिन इसका मतलब यह नहीं की आप डिप्रेशन में आ जाएँ। अपने मन को शांत रख तनाव से दूर रहें। पुरुषों और महिलाओं को अपनी सेहत के साथ-साथ कुछ अन्य बातों का भी ध्यान रखना चाहिए। अपनी लाइफ बैलेंस करें और खुद के लिए भी समय निकालें। दूसरों की उम्मीदों का बोझ अपने सर पर ना डालें और अपना सोशल सर्किल बनाकर रखें।
  • डिप्रेशन को दूर करने के कारणों को तलाश करें – अगर आप डिप्रेशन के दौर से गुजर रहे है तो आपको इसको इग्नोर करने के बजाय इसके कारणों को तलाश करना चाहिए। ऐसा करने से आप स्वस्थ रहेंगे और आप पर बुढ़ापा भी हावी नहीं होगा। अपने लिए समय निकालकर योग और व्यायाम करें. मन को शांत रखें। अपनी समस्यायों को घरवालों से और किसी दोस्त के साथ शेयर करें।
  • नयी आदतें अपनाएँ – खुद को डिप्रेशन से दूर रखने और हमेशा जवान दिखने के लिए कोई अच्ची आदत अपनाएँ। आप चाहे तो डांस क्लास ज्वाइन करें, पेंटिंग करें, सिंगिंग करें, नई जगहों पर जाकर कुदरती नजारों का आनंद लें या फिर घर पर रहते हुए कुकिंग को एंजॉय करें। यह सब बातों को अपनाकर आप  डिप्रेशन से दूर रह सकते हैं और खुद को समय से पहले बूढ़ा होने से बचा सकता हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

Being single and happy: क्या आपकी Single Friend हमेशा रहती है ख़ुश? आइये आपको बताते है राज़

Being single and happy: एक सर्वे कहता है सिंगल महिलाएं रहती है Always ख़ुश


क्या कहता है सर्वे?

Being single and happy: हाल ही में हुए एक सर्वे में यह पाया गया कि 61% सिंगल महिलाएं बिना किसी पार्टनर के काफी खुश रहती हैं जबकि पुरुषों में यह केवल 49 % ही है जो सिंगल रहते हुए खुश और संतुष्ट रहते हैं।  दूसरी तरफ अगर सिंगल रहते हुए पार्टनर न ढूंढ़ने की बात की जाएँ तो 75% सिंगल महिलाओं ने  सिंगल रहते हुए कोई साथी ढूंढने का प्रयास नहीं किया लेकिन यहाँ पर भी पुरुषों में यह केवल 65 % पुरुषों के साथ था कि सिंगल रहते हुए उन्होंने कोई पार्टनर नहीं ढूंढा

और पढ़ें: क्या आपका बच्चा भी करता है बुरा व्यवहार? कैसे समझाए उसे इसके नुक्सान

आइये जानते है सिंगल महिलायें ज्यादा खुश क्यों रहती हैं –

जब सिंगल महिलाओं से इस बारें में पूछा गया और बातचीत की गई कि क्यों वो सिंगल रहना चाहती है तो उन्होंने ने दिया कुछ  ऐसा जवाब ।

• उन्होंने कहा वो इसलिए सिंगल रहना चाहती है क्योंकि शादी करने या लव रिलेशनशिप में रहने के बाद वो बंधा हुआ महसूस करती हैं। उन्हें हर पड़ाव समस्यायों का सामना करना पड़ता हैं। शादी करके  उनकी जिम्मेदारियां  बढ़ जाती हैं जैसे  घर संभालना, बच्चों को जन्म देना, परिवार से जुड़ी अन्य जिम्मेदारियों से संबंधित समस्यायों का सामना करना  आदि।

• महिलाओ को सिंगल रहने में इसलिए ख़ुशी मिलती है क्यूंकि वो अपनी ज़िम्मेवारियों को अच्छे से निभा पाती है।

• महिलाओ को सिंगल रहने में इसलिए ख़ुशी मिलती है क्यूंकि वो अपने पैरों पर खड़े होकर अपने सपने पुरे कर पाती है और किसी पर भी निर्भर नहीं रहना पड़ता।
• अपने आप के लिए और अपने सामाजिक कार्य करने के लिए वो उपयुक्त समय निकाल पाती हैं। इससे उन्हें संतुष्टि मिलती है।

• सिंगल रहकर वो समाज में अपनी एक अलग पहचान बनाने में सफल हो पाती हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

Miss teen India 2020 में 10 राज्य की 13 सुंदरियों ने बिखेरा जलवा

Miss teen India 2020:  मिस टीन इंडिया 2020: ख़ास  शाम की कुछ झलकियां


Miss teen India 2020: शनिवार शाम नोएडा के लॉजिक्स मॉल में मिस टीन इंडिया फ़ैशन शो 2020 का आयोजन किया गया। देश के दस राज्यों से आईं सुंदरियों ने इसमें हिस्सा लिया। मिस टीन इंडिया देश का एक जाना माना फ़ैशन शो है जो हर साल आयोजित किया जाता है।

मिस टीन इंडिया की डायरेक्टर और शो की आयोजक जसमीत कौर फैशन की दुनिया में एक प्रतिष्ठित नाम है। उन्होंने बताया, “मुझे ये कहते हुए बेहद ख़ुशी हो रही है कि हमने एक ऐसा प्लेटफॉर्म बनाया है जहाँ सपने पूरे हो रहे हैं। भारत के कोने-कोने से आयी लड़कियों को हम प्रशिक्षित कर करके उन्हें फ़ैशन की जगमगाती दुनिया से रूबरू करवाते हैं और उन्हें एक सफल महिला के रूप में सफल करते हैं।”

2019 की मिस टीन इंडिया विजेता अपूर्वा ठाकुर इस शो में आकर सभी युवतियों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने कहा, “मिस टीन इंडिया 2020 में भाग लेने वाली सभी को मैं बधाई देती हूँ। आपमें बहुत बल है कि आप अपनी खूबियों को निखार कर ये ताज पा सकती हैं। बस कड़ी मेहनत करते रहिये।”

और पढ़ें: 2020 में रिलीज होने वाली वो बॉलीवुड फ़िल्में जो महिलाओ के ऊपर बनी हैं

2017 की मिस टीन यूनिवर्स की विजेता सृष्टि कौर ने भी सभी प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाते हुए कहा, “यहाँ पर आए सभी प्रतिभागियों में विलक्षण प्रतिभा है। फ़ैशन की दुनिया में आत्मबल का बहुत सम्मान होता है। आपमें अगर चाहत है तो दुनिया आपकी क़दमों में है।”

संजना जॉन, डॉ. रीता गंगवानी, शरद कोहली और अस्मां गुलज़ार जैसे कई जानी-मानी शख्सियतों ने इसमें हिस्सा लिया। पनामा, अर्जेंटीना और पैराग्वे से आये प्रतिनिधियों ने इसमें हिस्सा लिया और युवतियों का हौसला अफ़जाई किया।

मिस टीन इंडिया 2020 की विजेता को पनामा में 13 से 20 जनवरी तक हो रहे फ़ैशन वीक में भाग लेने का मौक़ा मिलेगा।

ये मिस टीन इंडिया का तीसरा संस्करण था। इसमें कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन हुआ जो देश की विविध परंपराओं पर आधारित थे। बारह प्रतिभागियों को पछाड़ मन्नत कौर ने मिस टीन  इंडिया 2020 का ख़िताब जीता। ऋषिता सरकार चौथी रनर अप रहीं। साथ-साथ एना तीसरी, सोमिता बोराह दूसरी और अंजलि शर्मा पहली रनर अप चुनीं गयीं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

सर्दियों मे छोटे बच्चों का ख्याल रखने के लिए फॉलो करे कुछ ख़ास टिप्स

सर्दियों मे छोटे बच्चों का ख्याल कैसे रखें ?


सर्दियों के आते ही सर्दी, कोल्ड, फ्लू, वायरल आदि बीमारियां  घेर लेती हैं। इससे बड़ों के साथ-साथ बच्चे भी ठंड के मौसम में बहुत सी बीमारियों से झूंझते हैं। बड़े  लोगों के लिए तो अपने आप को ठण्ड से बचाकर रखना आसान होता है लेकिन जहाँ बात छोटे बच्चों की आती है तो माँ-बाप की परेशानी बढ़ जाती हैं। एक तरफ उन्हें जहाँ बच्चों को को बीमारियोंसे बचाना होता है वही दूसरी और उन्हें ठंड से भी दूर रखने क लिए कई बातों का ध्यान रखना होता हैं। आइये जानते है सर्दियों में छोटे बच्चों का ध्यान कैसे रखें?

Read more: भारतीय सिनेमा का सबसे बड़ा सम्मान ‘दादा साहब फाल्के’ – अमिताभ बच्चन को मिलेगा

सर्दियों में छोटे बच्चों का ध्यान रखने के लिए जरूरी बातें –

•ठंड का  मौसम आने से पहले एक दस्तक देता है और इसी को ठंड के आने का इशारा समझकर छोटे बच्चों को गर्म कपड़े और वार्मर पहनाना शुरू कर दें।

•बच्चें को हमेशा ठंड सर या पैरों से चढ़ती हैं।  ध्यान रहें कि बच्चें हमेशा सर व पैर ढक कर रखे। उन्हें पैरों में सॉक्स और सर पर स्कार्फ़ या टोपा पहना कर रखें।

•छोटे बच्चें की मालिश करने के लिए गर्म तेल का उपयोग करें और साथ ही बंद कमरें या तेज धुप में बिठाकर मालिश करें। ध्यान रहें मालिश करने के एकदम बाद बच्चें को ना नहलाएं।

•बच्चे को थोड़ी देर के लिए धूप में जरूर लेकर जाएँ, उससे शरीर को ताजी हवा और विटामिन डी दोनों मिलता हैं।

•अगर बच्चें को आप स्वेटर पहना रहें तो ध्यान रहें स्वेटर के नीचे एक कॉटन का कपडा या वार्मर पहनाये, वूलेन से कभी-कभी बच्चें की त्वचा पर कब ही-रशेस या एलर्जी हो जाती है।

छोटे बच्चों को सर्दियों में संक्रमण से बचाने के लिए उनके हाथों की सफाई का विशेष ध्यान रखें। साथ ही बच्चों को दोदूध में लौंग, इलाइची, केसर आदि डालकर पिलायें। इससे वो ठंड और बिमारियों से बचें रहेंगे।

•अगर आपके बच्चें को सर्दी,जुखाम, बुखार 3 दिन से ज्यादा से हो रहा है तो ये ये नीमोनिया या वायरल हो सकता है, इसीलिए बच्चे के साथ लापरवाही न दिखाएं और सही समय पर डॉक्टर से सलाह करें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com