Categories
सेहत

जाने योग कोरोना के माइल्ड इंफेक्शन को दूर करने में कैसे है बेहद फायदेमंद

कोरोना के माइल्ड इंफेक्शन को दूर करने के लिए ये 3 योगासन है बेहद फायदेमंद


हर साल हमारे देश में 21 जून को अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर हर कोई सुबह उठकर योग करता है। योग को और उसके महत्व को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए साल 2015 में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत की गई थी। इस साल सातवां अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। आज के समय में हम में से ज्यादातर लोगों की जिंदगी में योग एक अहम हिस्सा बन चुका है। जैसा की हम सभी लोग जानते है कि आज के समय में हमारा लाइफस्टाइल काफी ज्यादा भागदौड़ भरा हो गया है। इस भागदौड़ भरी जिंदगी में हमे खुद को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हम सभी लोगों को योग की आवश्कता पड़ती है। अभी चल रहे कोरोना काल में तो योग का महत्व पहले से और भी ज्यादा बढ़ गया है। कोरोना से ठीक होने के बाद भी योग ने लोगों को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ बनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

कोरोना के माइल्ड इंफेक्शन को दूर करने में योग है बेहद फायदेमंद

क्या आपको पता है कोरोना के माइल्ड इंफेक्शन को दूर करने में योग बेहद फायदेमंद है सिर्फ हमने ही नहीं बल्कि मेडिकल एक्सपर्ट्स ने भी इस बात को माना है कि योग के द्वारा माइल्ड इनफेक्शन कॉम्प्लिकेशंस और पोस्ट इनफेक्शन कॉम्पेक्सिटी को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। इतना ही नहीं इसके साथ ही साथ नार्मल डे में भी योग इम्युनिटी बढ़ाने के साथ ही कोरोना से बचाव में भी हमारी मदद करता है। इसलिए उन योग व एक्सरसाइज टेक्नीक्स के बारे में जाने जो इंफेक्शन फेज, पोस्ट इंफेक्शन कॉम्प्लीकेशन फेज में शरीर को क्योर करने में हमारी मदद करते है।

अनुलोम-विलोम: आपको बता दे कि अनुलोम विलोम करते हुए नाक के एक नथुने से सांस छोड़ते हैं और फिर जिससे सांस छोड़ी है उसी से वापस सांस लेते है। अगर आप अनुलोम विलोम करना चाहते है तो इसके लिए सबसे पहले आपको अपनी सुविधानुसार पद्मासन, सिद्धासन, स्वस्तिकासन अथवा सुखासन में बैठना होगा। उसके बाद आपको अपने हाथ के अंगूठे से नासिका के दाएं छिद्र को बंद करना होगा। उसके बाद नासिका के बाएं छिद्र से 4 तक की गिनती में सांस भरें और उसके बाद दूसरे नासिका के छिद्र से छोड़ दे। आपको लगातार कुछ समय तक यह करते रहना है।

Read more: जाने क्या होता है गुड टच और बैड टच, क्यों जरूरी होता है इसके बारे में बच्चों को बताना

कपालभाति: अगर आप रोजाना कपालभाति करते है तो इससे आपके फेफड़ों की क्षमता में सुधार आएगा। साथ ही साथ यह आपके सांस लेने के रास्ते से बलगम को साफ करता है और आपको राहत देता है। इसके लिए आपको सबसे पहले आराम से बैठना होगा उसके बाद अपनी कमर को सीधा और आँखे बंद करनी होगा। उसके बाद आपको अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर रखना होगा और नाक के द्वारा तेजी से सांस लेनी और छोड़नी होगी।

साई से आपको मिलती है राहत: आपको बता दे कि यह प्राणायाम का ही हिस्सा है। इसलिए यह ब्रीदिंग टेक्नीक कई मामलों में कारगर है। यह आपके शरीर में ऑक्सीजन के फ्लो को बढ़ाता है साथ ही साथ आपके शरीर को हल्का महसूस करने में मदद करता है। इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले आपको नाक के अंदर सांस भरनी है। उसके बाद आपको ज्यादा से ज्यादा सांस को अंदर लेने के बाद सांस छोड़ते हुए पाउट बनाना होगा। उसके बाद आपको अपने लिप्स को सिकोड़ कर एक चोंच जैसा बनाना होगा। उसके बाद आपको थोड़ी सी हा की आवाज के साथ सांस को बाहर छोड़ना होगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.comगुड टच और बैड टच

Categories
सेहत

जाने क्या होता है गुड टच और बैड टच, क्यों जरूरी होता है इसके बारे में बच्चों को बताना

जाने बच्चों को क्यों समझना जरूरी है गुड टच और बैड टच के बारे में


जैसा की हम सभी लोग जानते हैं कि हमारा समाज धीरे धीरे विकसित हो रहा है समाज के विकास के साथ-साथ मनुष्य की आपराधिक भावना का भी विकास हो रहा है। अगर हम पहले और अभी के समय को देखें तो हमें इसमें काफी ज्यादा अंतर दिखता है। पहले के समय पर आपराधिक दिमाग वाले लोग समाज की वस्तुओं को अपना निशाना बनाते थे लेकिन आज के समय पर ऐसे लोग समाज की वस्तुओं को नहीं बल्कि छोटे बच्चों और शिशुओं को अपना निशाना बनाते है। आज के समय पर ऐसे लोगों को देख कर लगता है कि मानवता पशुता में ढ़लती जा रही है। ऐसे लोग छोटे बच्चों को अपना निशाना बनाते है और अपनी यौन आकर्षण के लिए इनका गलत इस्तेमाल करते हैं क्योंकि ऐसे लोग जानते है कि छोटे बच्चे कमजोर व नासमझ होते है। और किसी से भी जल्दी घुल मिल जाते हैं। और जल्दी विश्वास कर लेते है। इस तरह के ज्यादातर अपराधी घर के लोग या फिर आस पड़ोस के लोग होते है। तो चलिए आज जानते है बच्चों को क्यों समझना जरूरी है गुड टच और बैड टच के बारे में।

जाने बच्चों के प्रति बढ़ते अपराध का मुख्य कारण

आज के समय पर बच्चों के प्रति बढ़ रहे अपराध का मुख्य कारण बच्चों में जागरूकता की कमी होती है। आज के समय पर हम सभी लोगों का लाइफस्टाइल इतना ज्यादा भाग दौड भरा हुआ है कि आज हमारे पास खुद के लिए समय नहीं होता है। आज के समय पर माता पिता अपना कर्तव्य केवल अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा देना, खाना पीना देना, कपड़े पहनना, अच्छे संस्कार और बड़ों का सम्मान करने तक ही समझते है। लेकिन आज समय बदल चुका है आज के समय पर माता पिता के कर्तव्य भी बढ़ चुके है। आज के समय पर माता पिता को अपने बच्चे को यौन शिक्षा देने के साथ उन्हें गुड टच और बैड टच के बारे में भी बताना चाहिए। कुछ माता पिता अपने बच्चों को संकोच के कारण चीजे नहीं बता पाते। जिसके कारण उनके बच्चे यौन शोषण के शिकार हो जाते है।

बच्चों को अपने साथ सब-कुछ शेयर करना सिखाएं

एक बार जब आप माता पिता बन जाते है तो अपने कर्तव्य और ज्यादा बढ़ जाते हैं ऐसे में आपको अपने बच्चे के बदलते व्यवहार के बारे में जानकारी रखनी चाहिए। अपने छोटे बच्चे के साथ आपको विश्वास का रिश्ता कायम करना चाहिए। बच्चों का अपने माता पिता पर विश्वास होना बेहद जरूरी होता है। जिसे वो बिना डरे आपको अपनी सारी बारे बता पाए। अपने बच्चों के साथ ऐसा रिश्ता रखें की वो आपके साथ सब कुछ शेयर करें।

Read more: अगर आप एसिडिटी से पाना चाहते है छुटकारा, तो ये योगासन करेंगे आपकी मदद

अपने बच्चों को उनकी शारीरिक संरचना के बारे में बताएं

आपको अपने बच्चों को समय रहते सीखना चाहिए कि हमारे शरीर में कुछ पार्ट्स ऐसे होते हैं जो सब को दिखते हैं लेकिन वही कुछ पार्ट्स ऐसे होते हैं जिन्हें सिर्फ और सिर्फ हम देख या छू सकते हैं। जिन्हे हम प्राइवेट पार्ट्स कहते हैं। बच्चों को समझाना चाहिए उनके प्राइवेट पार्ट्स कौन से है। बच्चों को समझाएं शरीर के इन पार्ट्स को किसी को न छूने दें।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.comगुड टच और बैड टच

Categories
मनोरंजन

जाने कौन है मनीष पॉल की वाइफ संयुक्ता, जाने उनकी फिल्मी लव स्टोरी के बारे में

जाने मनीष पॉल और संयुक्ता की खूबसूरत लव स्टोरी


मनीष पॉल को आज के समय पर किसी इंट्रोडक्शन की जरूरत नहीं है। वह बॉलीवुड की एक बेस्ट एक्टर, एंकर और कॉमेडियन है। मनीष पॉल की फैन फ्लोइंग भी काफी ज्यादा हैं लोग उन्हें काफी ज्यादा प्यार भी करते है इन सभी चीजों को देखते हुए हाल ही में मनीष पॉल ने एक ‘Humans of Bombay’ नाम का इंस्टाग्राम पेज बनाया। जिसमे उन्होंने अपने फैंस के साथ अपनी लाइफ से जुडी काफी ज्यादा खुलासे किए। इस पेज पर उन्होंने अपनी लव लाइफ को लेकर और अपने संघर्ष को लेकर काफी चीजे शेयर की है। उन्होंने इस पेज के द्वारा अपने फैंस को बताया कि उनकी पत्नी संयुक्ता बचपन से ही उनके साथ है। दोनों ने मिल कर कई मुसीबतों का सामना किया है। तो चलिए जानते है मनीष पॉल और उनकी वाइफ संयुक्ता की लव स्टोरी के बारे में।

जाने कैसे शुरू हुई थी मनीष पॉल और संयुक्ता की लव स्टोरी

अगर हम मनीष पॉल और संयुक्ता की खूबसूरत लव स्टोरी की बात करें, तो मनीष पॉल ने बताया कि संयुक्ता पर उनका दिल तीसरी क्लास में आया था। उन्होंने बताया कि मेरा ध्यान तीसरी क्लास के फैंसी ड्रेस कॉम्पिटिशन के दौरान संयुक्ता पर पहली बार गया था, उस समय वो मदर टेरेसा बनी हुई थी। और मैं एक राज कपूर। आगे मनीष पॉल कहते है कि मैं और संयुक्ता एक दूसरे को नर्सरी क्लास से जानते थे, लेकिन हमने कभी बात नहीं की थी। मनीष के अनुसार संयुक्ता एक पढ़ाकू बच्ची थी और मेरा पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगता था। आगे वो बताते है कि जब मैंने संयुक्ता की मम्मी से ट्यूशन लेना शुरू किया तो हमारी दोस्ती की शुरुआत हुई थी। मैं रोज संयुक्ता को अपना होमवर्क करने के लिए मना लेता था।

और पढ़ें:  बॉलीवुड के वो सितारे जो अपने ही पार्टनर से दो बार कर चुके हैं शादी

मनीष पॉल ने बताया कि संयुक्ता उनकी लाइफ की पहली इंसान है जिसको उनके ब्रेकअप्स के बारे में पता चलता था। आगे मनीष पॉल कहते है कि मैं 11वीं क्लास में था जब मैं और वो फिल्म देखने गए थे तभी मेरे पास एक कॉल आया ये पूछने के लिए कि क्या मैं एक इवेंट होस्ट कर पाऊंगा क्योंकि उस समय में पार्ट टाइम एंकरिंग करता था। उस कॉल के बाद मैं उसे वहीं छोड़ कर काम पर भाग गया।

मनीष पॉल के स्ट्रगल के दिन में संयुक्ता और उनकी लव स्टोरी

आपको बता दे कि साल 2008 में मनीष पॉल की लाइफ और करियर काफी ज्यादा उतार-चढ़ाव के बीच फसी हुआ था। मनीष पॉल और संयुक्ता की लाइफ में ऐसे दिन भी आए की उनके पास घर का किराया देने के भी पैसे नहीं थेI मनीष बताते है कि साल 2008 में एक साल के लिए उनके पास कोई काम नहीं था और उसके पास किराय देने तक के भी पैसे नहीं थे। लेकिन उस समय पर संयुक्ता ने सब संभाल लिया था। वो मनीष को हमेशा बोलती थी सब्र रखो, तुम्हें जल्दी ही बहुत अच्छा मौका मिलेगा। आगे मनीष कहते है कि कुछ समय बाद चीजे बिलकुल वैसी ही हुई जैसी संयुक्ता ने बताई थी। मुझे एक टीवी शो मिल गया। जिसके बाद हमारे हालात धीरे धीरे सही होने लगे।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
काम की बात करोना

अगर आप भी बनवाना चाहते है लर्निंग लाइसेंस, तो अगले हफ्ते से ऑनलाइन करें अप्लाई,

अगले हफ्ते से ऑनलाइन  मिलेगा लाइसेंस


आपको बता दें कि जल्द ही दिल्ली के लोगों को एक बड़ी खुशी मिलने वाली है। दिल्ली सरकार जनता को बड़ी राहत देने जा रही है। अब दिल्ली के लोगों को वाहन से जुड़े कार्यों के लिए दिल्ली परिवहन विभाग के दफ्तर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दिल्ली सरकार द्वारा लर्निंग लाइसेंस तो अगले हफ्ते से ही घर बैठे मिलने लगेगा। इतना ही नहीं इसके साथ दिल्ली परिवहन विभाग द्वारा अगले 15 दिन में लोगों को घर पर ही ऑनलाइन तरीके से बाकी 60 सेवाएं भी ऑनलाइन मिलनी शुरू हो जाएगी।

60 से ज्यादा सेवाओं का ऑनलाइन चल रहा है ट्रायल

आपको बता दे कि दिल्ली के लोगों की सहूलियत के लिए दिल्ली सरकार के द्वारा परिवहन विभाग की सेवाओं को ऑनलाइन कर दिया है। दिल्ली के परिवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा बताया गया है कि अभी परिवहन विभाग के 60 से ज्यादा सेवाओं का ऑनलाइन ट्रायल चल रहा है जो की अपने अंतिम चरण में है। और अगले 15 दिन के भीतर यह सुविधाएं ऑनलाइन शुरू कर दी जाएंगी। चरणबद्ध तरीके से इसमें करीब 70 सेवाओं को जोड़ा जाएगा।

और पढ़ें: राम मंदिर ट्रस्ट की डील का क्या है पूरा घोटाला?

दिल्ली परिवहन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस तेज भागती जिंदगी में आम लोगों का बहुत ज्यादा समय परिवहन विभाग के दफ्तर के चक्र लगाने में निकल जाता है। इसलिए उन्होंने लोगों को परिवहन विभाग के दफ्तर आने से छुटकारा देने के लिए सभी सेवाओं को ऑनलाइन करने का फैसला किया है। अब आप ड्राइविंग लाइसेंस, लाइसेंस रिन्यूअल, अनापत्ति प्रमाण पत्र, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट समेत कई चीजों के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

आपको बता दें कि हर महीने दिल्ली के 13 क्षेत्रीय कार्यालयों में ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों के रजिस्ट्रेेशन से जुड़े लाखों आवेदन आते है। जिसके कारण सभी दफ्तरों में हमेशा भीड़ रहती है। इन सभी परेशानियों को देखते हुए ही दिल्ली परिवहन विभाग ने अपनी सेवाएं ऑनलाइन करने का फैसला किया है। अभी दिल्ली में 60 से ज्यादा सेवाओं को ऑनलाइन करने की तैयारियां आखिरी चरण में हैं। सबसे पहले परिवहन विभाग द्वारा लर्निंग लाइसेंस की सेवा ऑनलाइन होगी। उसके बाद धीरे धीरे सभी सेवाएं ऑनलाइन हो जाएगी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

अगर आप भी कर रहे है घर शिफ्ट करने का प्लान, तो शिफ्टिंग के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

नए घर में शिफ्ट होने के दौरान आपको इन बातों का रखना चाहिए खास ध्यान


किराए के घर से अपने घर में जाने की खुशी क्या होती है ये बात सिर्फ वाली लोग समझ सकते है जो किराए पर रहते है या फिर कभी किराए पर रहे हो। किराए के घर से अपने घर में शिफ्ट होने की खुशी ही कुछ और ही होती है यह खुशी अन्य खुशी से बढ़कर होती है। जब आप किराए के घर से पहली बार अपने घर पर कदम रखते है तो जो सुकून मिलता है, वह और कहीं नहीं मिलता।

लेकिन जब आप अपने घर के मालिक हो जाते है तो आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना चाहिए। क्योकि कई बार खुशी में हम काफी कुछ भूल जाते है। इसलिए आपको अपना घर होने पर कुछ जरूरी सेफ्टी मेज़र्स होते हैं उन्हें भूलना नहीं चाहिए। तो चलिए आज हम आपको बताएंगे अगर आप घर शिफ्ट करने का प्लान, तो शिफ्टिंग के दौरान आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

और पढ़ें:  अगर फिट रहने के लिए आप घर पर कर रहे है ट्रेडमिल वर्कआउट, तो इन बातों का रखें ध्यान

सुरक्षा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण: ये बात तो हम सभी लोग जानते है कि इस कोरोना महामारी में कोई भी व्यक्ति कही पर भी सुरक्षित नहीं है। ऐसे में आपको अपना ध्यान खुद रखना चाहिए। अपने हाथों को धोना, साफ रखना, मास्क पहना इस समय पर सबसे ज्यादा जरूरी है। इस लिए इस समय पर आपको अपने घर में कॉन्टैक्ट फ्री हैंड सैनिटाइज़र रखना चाहिए। इसके साथ ही आपको एक फुलप्रूफ सेफ्टी सिस्टम में इंवेस्ट करना चाहिए। जिसमे सीसीटीवी कैमरा या फिर फिंगरप्रिंट ऑटोमेटेड लॉक शामिल करना चाहिए। अगर ये चीजे आपके बजट से बाहर है तो एक अच्छा पैडलॉक आपके लिए सही विकल्प है।

मरम्मत का ध्यान रखें: नए घर में शिफ्ट होने के बाद जिसे पहले आप अपने घर के फर्नीचर को अरेंज करें उससे पहले आपको अपने घर के फर्नीचर को एक बार अच्छे से चेक कर लेना चाहिए कि सब कुछ सही है या नहीं। अगर आपको लगता है कि कही पर भी किसी भी चीज की मरम्मत करने की आवश्यकता है तो आपको सबसे पहले वही करनी चाहिए। क्योकि अगर शुरू में आप वो नहीं करते तो बाद में वो आपको बहुत मेहगा पड़ सकता है।

बजट बनाएं: ये बात तो हम सभी लोग जानते है कि कुछ भी करने से पहले बजट बनाना बेहद जरूरी होता है। इस लिए आपको अपने नए घर में शिफ्ट होने से पहले अपने खर्चों के लिए सही बजट बनाने की आवश्यकता है। इस लिए आपको अपना बजट ऐसे बनाना चाहिए कि लिमिट से अधिक खर्चा न हों और आपकी दैनिक जरूरतें भी पूरी हो जाएं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

जाने कोरोना की तीसरी लहर से कैसे निपटने के लिए तैयार है सरकार

कोरोना की तीसरी लहर से कुछ इस तरह निपटेगी सरकार


पिछले साल से फैला कोरोना अभी भी रुकने का नाम नहीं ले रहा है अभी हमारे देश में कोरोना की दूसरी लहर की तबाही थमी भी नहीं है कि वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर के आने का ऐलान कर दियाऔर सभी लोगों को एक नए संकट की चेतावनी दे डाली है। ऐसे में सभी लोगों के मन में ये सवाल उठने लगा है कि एक तरफ तो कोरोना की पहली और दूसरी लहर ने हमारे पूरे स्वास्थ्य सिस्टम की पोल खोलकर रख दी है ऐसे में अगर कोरोना की तीसरी लहर आती है तो हमारी सरकार इससे कैसे निपटेंगी। जहां वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर के आने का ऐलान कर रखा है तो वही सभी लोग डर भी रही है कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार ने कोई ठोस तैयारी अभी से की है या नहीं। तो चलिए विस्तार से जानते है कि कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार ने क्या तैयारियां की है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की मुलाकात

आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। उनकी यह मुलाकात लगभग दो घंटे की थी। इस मुलाकात में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की तीसरी लहर के बारे में बात की। साथ ही साथ उन्होंने राज्य सरकार के एक साल के कार्यकाल समेत तमाम मुद्दों पर चर्चा की। इस बैठक की जानकारी खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर दी। शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर बताया कि आज नई दिल्ली में उनकी भेट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हुई। इस बैठक में उन्होंने मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया। इसके साथ ही साथ उन्होंने कोरोना नियंत्रण को लेकर राज्य के द्वारा अब तक किए गए प्रयासों की जानकारी दी। इतना ही नहीं उन्होंने तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयारियों पर भी बात की।

और पढ़ें:  जानें नुसरत जहां की प्रेग्नेंसी में किसके साथ जुडा रहा है नाम

कोरोना की अगली लहर की तैयारी’

कोरोना की तीसरी लहर के लिए देश कितना तैयार है ये तो समय के साथ ही पता चलेगा। अगर हम दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की बात करें तो दिल्ली में कोरोना मरीजों की देखभाल करने के लिए 5000 युवाओं को उनके द्वारा 2-2 हफ़्ते की ट्रेनिंग दी जाएगी। कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिए युवाओं को ये ट्रेनिंग आईपी यूनिवर्सिटी दिलवाएगी। सभी युवाओं को दिल्ली के 9 बड़े मेडिकल इंस्टीट्यूट में बेसिक ट्रेनिंग की सुविधा मिलेगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के अनुसार युवाओं की ट्रेनिंग होने के बाद स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ेंगी। उनके अनुसार इन लोगों को कोरोना मरीजों को मास्क लगवाने, उन्हें ऑक्सीजन लगवाने और सैनेटाइज करने जैसे बेसिक कामों की ट्रेनिंग दी जाएगी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
काम की बात करोना

कोरोना महामारी के बाद भी भारतीय शादियों में आ सकते है ये बदलाव

महामारी के कारण भारतीय शादियों में आए ये बदलाव


पिछले साल से फैला हुआ कोरोना वायरस आज भी रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इसके कारण हम सभी लोगों  के जीवन में काफी ज्यादा बदलाव देखने को मिले है। इस कठिन समय ने हमें बहुत कुछ सिखाया है। इस पैनडेमिक में हम सभी लोगों ने छोटी छोटी चीजों में खुशियों के साथ रहना और ताम-झाम और भीड़-भाड़ से दूर रहना सीख लिया है।

इस पैनडेमिक में जिन भी लोगों ने शादी हुई है सभी लोगों ने अपने सारे बड़े-बडे़ अरमानों को भूलकर, जो उनसे संभव हुआ उसी में शादी की या फिर ये कहें बस शादी निपटाई। पिछले एक साल से हम सभी लोग कोरोना वायरस के साथ जी रहे है और आगे भी अभी इससे पूरी तरह निजात की गुंजाइश नज़र नहीं आ रही है, महामारी के कारण हमारे देश में शादियों में काफी ज्यादा बदलाव आए है। जिन्हें देखकर ऐसा लगता है कि इनमें से कुछ अब हमेशा रहेगा। तो चलिए जानते है कैसे महामारी के कारण भारतीय शादियों में बदलाव आए है।

बहुत कम लोगों के बीच शादी: ये बात तो हम सभी लोग जानते है कि महामारी के कारण अभी आम लोग हो या बॉलीवुड सितारे, सभी लोग बहुत कम लोगों के बीच शादी कर रहे है। अभी कुछ समय पहले ही बॉलीवुड अभिनेत्री यामी गौतम ने अपने परिवार वालों और करीबी रिस्तेदारों के बीच शादी की थी। वही अगर हम टीवी एक्टर अंकित गेरा की बात करें तो उनकी शादी में भी सिर्फ दस लोग  ही मौजूद थे।

और पढ़ें: कोरोना से जंग के लिए इन देशों ने शुरू किया बच्चों का टीकाकरण, जाने भारत में कब से शुरू होगा

मास्क और सैनिटाइजर: शादियों में बहुत मुश्किल होता है कि पहले गेस्ट से मिलने से पहले उन्हें हैंड सैनिटाइज दिया जाए उसके बाद ही उन्हें आगे बढ़ने दिया जाए। पहले लोग अपने गेस्ट का मुस्कुराते चेहरे के साथ स्वागत करते थे लेकिन अब मास्क के कारण मुस्कुराते चेहरे के साथ लोगों के स्वागत वाली बात भी नहीं रहेगी।

लोगों को ग्रीट करने का तरीका: अब समय पहले जैसा नहीं रहा। पहले लोग दूल्हे के परिवार वालों को गले लगाकर उनका स्वागत करते थे लेकिन अब चीजे बदल गई है। अब आपको दूल्हे के परिवार वालों को नमस्ते, खम्मा घणी, आदाब के साथ उनका स्वागत करना होगा। हमारे देश में पहले कई जगहों पर संबंधी मिलन का चलन था जिसमे दरवाजे पर बारात लगने के बाद दूल्हा और दुल्हन दोनों के पिता, ताऊ, मामा, मौसा आपस में गले मिलते थे। लेकिन अब इस महामारी के कारण ये सब नहीं हो पायेगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
सेहत

अगर आप एसिडिटी से पाना चाहते है छुटकारा, तो ये योगासन करेंगे आपकी मदद

एसिडिटी के लिए बेहद फायदेमंद है ये योगासन


ऐसे तो हम सभी लोगों के पास खाने के बहुत सारे विकल्प होते है जैसे हेल्दी फूड, फास्ट फूड आदि। लेकिन अक्सर हमारे खाने में स्वादिष्ट भोजन ही शामिल होता हैं। जो हमारे सिस्टम में पोषण मूल्य नहीं जोड़ने देते। इन्हें खाने से हमें कई बार पेट और पाचन संबंधी समस्याएं हो जाती है। जिनमें से एसिडिटी होना एक आम बात है। एसिडिटी एक ऐसी समस्या है जिसका हम में से ज्यादातर लोग नियमित रूप से सामना करते रहते है।

आपने देखा होगा कि जिन लोगों को अक्सर एसिडिटी की समस्या होती है उनके पेट में अक्सर दर्द या फिर जलन होती रहती है। एसिडिटी भोजन को ठीक से न चबाने, अच्छी मात्रा में पानी न पीने, गलत खान पान और धूम्रपान के कारण हो सकती है। अगर आप उन लोगों में से है जो एसिडिटी से राहत पाने के उपाय तलाश रहे हैं तो चलिए आज हम आपको कुछ योगासन के बारे में बतायेगे जो आपको एसिडिटी से राहत पाने में आपकी मदद करेंगे।

प्रपादासन: प्रपादासन एक ऐसा योगासन है जो आपको एसिडिटी से छुटकारा पाने में बेहद फायदेमंद होता है। इस योगासन में आपको अपने दोनों पैरों को समानांतर रखना है उसके बाद धीरे धीरे अपनी एड़ी को फर्श से ऊपर उठाना होगा है। उसके बाद आपको अपने शरीर को अपने पैर की उंगलियों पर संतुलित करना होगा। उसके बाद आपको अपनी पीठ को सीधा करना होगा। और अपनी बाहों को घुटनों पर फैलाना होगा। उसके बाद आपको अपने दिमाग को अपनी भौहों के बीच केंद्रित करना होगा। यह आपको रोजाना 3 सेट के लिए दोहराना होगा।

और पढ़ें: अगर फिट रहने के लिए आप घर पर कर रहे है ट्रेडमिल वर्कआउट, तो इन बातों का रखें ध्यान

पश्चिमोत्तानासन: पश्चिमोत्तानासन योगासन भी एसिडिटी की समस्या में बेहद फायदेमंद मानी जाती है। इस योगासन में आपको अपने पैरों को अपने सामने और हाथों को बगल में फैलाकर फर्श पर बैठकर शुरु करना चाहिए। इस योगासन को करते हुए ध्यान रखें आपका कोर लगा हुआ हो और आपकी रीढ़ सीधी हो। उसके बाद आपको अपने हाथ को आगे बढ़ाना होगा और अपने पैर की उंगलियों को छूने की कोशिश करनी चाहिए। आपको लगभग 5 मिनट तक इस स्थिति में रहना होगा उसके बाद आपको अपनी मूल स्थिति में लौटना होगा।

भेकासना: यह योगासन भी एसिडिटी की समस्या में बेहद फायदेमंद होता है। इस योगासन को करने के लिए आपको अपनी हथेलियों और घुटनों को टेबलटॉप स्थिति में लाना होगा। उसके बाद आपको अपने घुटनों को फैलाना होगा और अपनी एड़ी को अपने घुटनों के पीछे संरेखित करना होगा। उसके बाद आपको अपने पैरों को मोड़कर अपने पैर की उंगलियों को बाहर की ओर इंगित करना होगा। उसके बाद आपको अपने हाथों को आगे बढ़ाना होगा और अपने अग्रभागों को जमीन पर टिकाना होगा। उसके बाद आपको अपने पेट को जमीन से दूर उठाने की कोशिश करनी चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

जाने उन बॉलीवुड सेलेब्स के बारे में जिन पर लग चुके है यौन शोषण, छेड़छाड़ और रेप के आरोप

इन सेलेब्स पर लग चुके है यौन शोषण और रेप के आरोप


अगर हम महिलाओं की सुरक्षा की बात करें तो हमारे देश में महिलाएं कितनी सुरक्षित है ये बात हम सभी लोग जानते है। फिर चाहे वो एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री की महिलाएं हो या फिर आम महिलाएं। सभी महिलाओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ज़्यादातर मामलों में पीड़ित महिलाएं समाज में अपनी इज्ज़त और अपने परिवार के लिए चुप रह जाती हैं। लेकिन अगर हम एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री की बात करें, तो यहाँ किसी भी बात को छुपाना थोड़ा मुश्किल होता है।

इसका एक नमूना हमें साल 2017-2018 में देखने को मिला था जब हमारे देश में ‘मी टू’ आंदोलन चला था इस आंदोलन ने कितनी तेजी से आग पकड़ी ये शायद हमें आपको बताने की जरूरत नहीं है। इस मी टू आंदोलन ने कई बड़े नाम शामिल हुए थे। आज के समय में मी टू आंदोलन भला ठंडा पड़ गया हो लेकिन सेक्शुअल हैरसमेंट की घटनाएं आज भी रुकने का नाम नहीं लेती। तो चलिए आज हम बात करेंगे उन बॉलीवुड सेलेब्स के बारे में जिन पर लग चुके है यौन शोषण, छेड़छाड़ और रेप के आरोप।

नाना पाटेकर: बॉलीवुड एक्टर नाना पाटेकर को भला कौन नहीं जानता। आपको बता दें कि नाना पाटेकर पर भी यौन शोषण के आरोप लगाए गए थे। नाना पाटेकर पर बॉलीवुड एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता ने आरोप लगाए थे। एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता के अनुसार बॉलीवुड फिल्म ‘हॉर्न ओके प्लीज़’ के एक गाने की शूटिंग के दौरान उनका यौन शोषण किया था। उनके अनुसार नाना पाटेकर ने फिल्म के गाने में जानबुझ कर ऐसे स्टेप्स डलवाए थे जिन्हे करने में वो बिल्कुल भी कंफर्टेबल नहीं थी।

आदित्य पंचोली: आपको बता दे कि आदित्य पंचोली का नाम भी यौन शोषण की लिस्ट में शामिल हुआ था। आदित्य पंचोली पर यौन शोषण का आरोप बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने लगाया था। कंगना रनौत ने कहा कि उनके स्ट्रगल के दिनों में उनका यौन शोषण किया था। जबकि आदित्य पंचोली ने इस तरह के सभी  आरोपों से इंकार कर दिया था। आपको बता दे कि आदित्य पंचोली पर सिर्फ कंगना रनौत ने ही नहीं बल्कि उनकी एक्स-गर्लफ्रेंड पूजा बेदी की 15 साल की नौकरानी ने बलात्कार का भी आरोप लगाया था।

और पढ़ें: बंगाली एक्ट्रेस जिन्होंने एक्टिंग के साथ राजनीति को चुना अपना प्रोफेशन

विकास बहल: आपको बता दे कि बॉलीवुड फिल्म क्वीन के डायरेक्टर विकास बहल का नाम भी यौन शोषण की लिस्ट में शामिल हो चुका है। विकास बहल पर उनकी कंपनी फैंटम फिल्म्स की एक महिला कर्मचारी ने रेप का आरोप लगाया था। आपको बता दे कि फैंटम फिल्म्स में कई महीनों की चुप्पी साधे रहने के बाद विकास को कंपनी से बर्खास्त कर दिया। उसके बाद विकास बहल पर पीड़ित महिला ने मामला दर्ज कराने से इंकार कर दिया।

ओम पुरी: ओम पुरी भला आज हमारे बीच नहीं है लेकिन आपको बता दे कि उनकी पत्नी ने उन पर न सिर्फ घरेलू हिंसा का बल्कि एक्स्ट्रा-मैरिटल अफेयर का भी आरोप लगाया था। इतना ही नहीं उनकी पत्नी के अनुसार उन पर घर की नौकरानी पर गलत नज़र रखने के भी आरोप भी लगाया था।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल सेहत

अगर फिट रहने के लिए आप घर पर कर रहे है ट्रेडमिल वर्कआउट, तो इन बातों का रखें ध्यान

ट्रेडमिल वर्कआउट के दौरान इन बातों का ध्यान रखें


 

पिछले साल से फैला हुआ कोरोना वायरस आज भी रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है इस कोरोना वायरस ने लाखों लोगों की जान ले ली है। अभी इस कोरोना महामारी की दूसरी लहर चल रही है जो की पहली वाली से भी ज्यादा खतरनाक है। इस कोरोना महामारी के कारण ही लम्बे समय से जिम, स्कूल, कॉलेज सभी चीजे बंद हैं। जिसके कारण सभी लोगों को काफी ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लंबे समय से जिम बंद होने के कारण कई लोगों ने अपने घरों पर ही वर्कआउट करना शुरू कर दिया है। कई लोग तो ऐसे भी है जिन्होंने इस कोरोना काल में अपने घर पर ही एक छोटा जिम तैयार कर लिया है ताकि उनके वर्कआउट सेशन्स में कोई दिक्कत न आए। जो भी लोगों ने अपने घर पर नया नया जिम तैयार करते है वो अपने घर पर ही कसरत करना शुरू करते है। वो लोग अक्सर ट्रेडमिल वर्कआउट को ज्यादा तवज्जो देते हैं क्योंकि उसके अपने अलग फायदे भी हैं। तो चलिए आज जानते है अगर आप ट्रेडमिल वर्कआउट शुरू करने जा रहे है तो आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. घर पर जिम तैयार करने के लिए जरूरी नहीं है कि हर व्यक्ति नया ही ट्रेडमिल खरीदे। कई लोग सेकंड हैंड यानी की पुराना ट्रेडमिल भी खरीदते हैं। ऐसे लोगों के लिए बहुत जरूरी है कि वो ये सेकंड हैंड ट्रेडमिल खरीदने से पहले इसके मोटर और शॉकर को अच्छे से एक बार देख लें। ताकि आगे चलकर उनको कोई परेशानी न हो।

और पढ़ें: कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय के नाम बदलने की प्रक्रिया: बीज तो पिछले 15 साल से ही बोया जा रहा था

Image source – Canva

2. जो भी लोग घर पर नया जिम तैयार करते है उन्हें कभी भी कसरत करने के लिए सीधा ट्रेडमिल पर नहीं चढ़ना चाहिए। क्योंकि ये आपको परेशानी में डाल सकता है। कसरत के दौरान हमारे घुटनों पर जोर पड़ता है। इसलिए अगर आप ट्रेडमील एक्सरसाइज करने जा रहे हैं तो कोशिश करें कम से कम 10 मिनट का वर्कआउट सेशन तो पहले ही कर ही लें

3. आपको एक्सरसाइज करते हुए ट्रेडमिल से डरना नहीं चाहिए। ऐसा करने से आपका पोश्चर प्रभावित होगा साथ ही साथ आपके घुटने, पैरों या शरीर के किसी भी अन्य अंग पर चोट लग सकती है। इसलिए आपको सेफ्टी बार को पूरी तरह और पूरे समय पकड़ कर कसरत नहीं करना चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com