Categories
मनोरंजन

एक बार फिर आपस में भिड़े सीनियर्स, तीन ग्रुप्स में बंटा बिग बॉस का घर

जाने क्यों तीन ग्रुप्स में बंटा बिग बॉस का घर


टीवी जगत के सबसे बड़े रियलिटी शो बिग बॉस 14 की शुरुआत बड़े ही धमाकेदार तरीके से हुई है. बिग बॉस के घर पर लड़ाई झगड़ा होना एक आम बात है. लेकिन अभी बिग बॉस ने कल रात यानि की सोमवार के एपिसोड में सलमान खान ने बिग बॉस के घर को तीन भागों में बांट दिया. तीनों टीमों को घर के सीनियर्स यानि की हिना खान, गौहर खान और सिद्धार्थ शुक्ला लीड करेंगे. पहले तो सलमान खान ने तीनों सीनियर्स से कहा कि वो घर के उन सदस्यों को चुने जिन्हें वो घर में आगे बढ़ता हुआ देखना चाहते हैं. उसके बाद सीनियर्स ने रुबीना दिलैक, पवित्रा पुनिया, अभिनव शुक्ला और जान कुमार सानू को चुना.

जाने क्यों घर के अंदर बने तीन ग्रुप्स

सोमवार के एपिसोड में सलमान खान ने एक टास्क के दौरान बिग बॉस के घर को तीन भागों में बांट दिया. इस बार बिग बॉस के घर पर आये फ्रेशर्स को अपना एक सीनियर्स चुना था इस टास्क के दौरान रुबीना दिलैक, अभिनव शुक्ला, जैस्मिन भसीन और निशांत मलकानी ने हिना खान को चुना. जबकि रुबीना दिलैक, अभिनव शुक्ला, जैस्मिन भसीन और निशांत मलकानी ने हिना खान को चुना. राहुल वैद्य और जान कुमार सानु ने गौहर खान को चुना और बाकि पवित्रा पुनिया, निक्की तंबोली और एजाज खान ने सिद्धार्थ शुक्ला को अपने सीनियर्स के रूप में चुना.

और पढ़ें: BIGG BOSS 14: ये 5 चीजें बनाती है ‘बिग बॉस 14’ को बाकी सीजन से बेहद खास

जाने क्या होगा आज के एपिसोड में

सोमवार के एपिसोड में यानि की कल रात के एपिसोड में बिग बॉस ने घर को तीन भागों में बात दिया था. जिसके बाद सभी सीनियर्स ने अपनी टीम को समझाया की किसी को भी टास्क के दौरान न तो रोना है, न ही हारना और न ही डरना है. आज रात के एपिसोड में तीनों टीम्स से एक टास्क कराया जाएगा. प्रोमो में आप देख सकते है कि इस तरह टास्क के दौरान तीनों सीनियर्स के बीच खींचतान हो रही है. सिर्फ सीनियर्स के बीच ही नहीं बल्कि फ्रेशर्स के बीच भी लड़ाई झगड़ा होते हुए दिखा. टास्क के दौरान हिना खान और गौहर खान दोनों बहुत ज्यादा गुस्से में नजर आईं. गौहर खान बिग बॉस से गुस्से में कहती हैं कि क्या बिग बॉस इस घर में रूल्स की कोई अहमियत है, तो दिखाइए. उसके बाद हिना खान और गौहर खान बिग बॉस के सामने कहते हैं कि खड़े रहने में और अटैक करने में फर्क है. आज रात यानि कि मंगलवार का एपिसोड काफी ज्यादा हंगामे से भरा होने वाला है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

World Post Office Day: जाने कब और कैसे शुरुआत हुई वर्ल्ड पोस्ट ऑफिस डे 

 जाने वर्ल्ड पोस्ट ऑफिस डे का इतिहास


हर साल 9 अक्टूबर को पूरी दुनिया में वर्ल्ड पोस्ट ऑफिस डे मनाया जाता है. पोस्ट ऑफिस डे पूरी दुनिया भर में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है. वर्ल्ड पोस्ट ऑफिस डे को स्विट्जरलैंड के बर्न में 1874 ईस्वी में यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन की स्थापना की याद में मनाया जाता है. 1 जुलाई, 1876 को भारत यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन का सदस्य बना था. यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन की सदस्यता को लेने वाला भारत एशिया का पहला देश है. पोस्ट विभाग सभी लोगों की  सूचना को सिर्फ एक देश में नहीं बल्कि एक देश से दूसरे देश तक पहुंचाने का कार्य करता है. पोस्ट सूचना को पहुंचाने का सर्वाधिक विश्वसनीय, सुगम और सस्ता साधन रहा है. वर्ल्ड पोस्ट ऑफिस डे मनाने का मुख्य उद्देश्य आम आदमी और कारोबारियों के रोजमर्रा के जीवन समेत देश के सामाजिक और आर्थिक विकास में पोस्ट के योगदान बारे में जागरूकता पैदा करना है.

और पढ़ें: जाने मोदी सरकार द्वारा चलाया गया ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत कितना साफ़ हुआ

जाने नई तकनीक से कैसे जुड़ रही है डाक सेवाएं 

आज बदलते हुए समय के साथ दुनियाभर की डाक व्यवस्थाओं ने मौजूदा सेवाओं में सुधार करते हुए खुद को नई तकनीकी सेवाओं के साथ जोड़ा है. आज के समय में लोगों की लाइफ बहुत फ़ास्ट हो गयी है. इसलिए आज के समय में पोस्ट ने भी डाक, पार्सल, पत्रों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए एक्सप्रेस सेवाएं शुरू की है. आज डाकघरों ने भी अपनी मुहैया कराई जाने वाली वित्तीय सेवाओं को भी आधुनिक तकनीक से जोड़ा है. नई तकनीक आधारित सेवाओं की शुरुआत पोस्ट ऑफिस ने तकरीबन 20 वर्ष पहले की थी. उसके बाद से इन सेवाओं का और तकनीकी विकास किया जा रहा है.

142 देशों में है पोस्टल कोड

आज के समय में 142 देशों में पोस्टल कोड उपलब्ध है. पोस्ट के इलेक्ट्रॉनिक प्रबंधन और निगरानी के लिए 160 देशों की पोस्ट सेवाएं यूपीयू की अंतरराष्ट्रीय पोस्टल सिस्टम सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करती हैं. इस तरह से पोस्ट ने 141 देशों ने अपनी यूनिवर्सल पोस्टल सेवा को परिभाषित किया है. भारतीय पोस्ट विभाग पिनकोड नंबर के आधार पर देश में पोस्ट वितरण का कार्य करता है. पिनकोड नंबर के आधार पर देश में पोस्ट वितरण का कार्य 15 अगस्त, 1972 को शुरू किया गया था.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

भारत में कोरोना का कहर, एक लाख पार हुआ मरने वालों का आंकड़ा

भारत में कोरोना का कहर जारी


पिछले कुछ महीनों से भारत समेत पूरी दुनिया कोरोना वायरस से परेशान है. अगर हम बात करें भारत कि तो अब तक भारत में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 64 लाख से अधिक हो गई है. वहीं, 64 लाख 73 हजार 544 लोग संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार भारत में एक दिन में संक्रमण के 81,484 मामले सामने आये. जिसके साथ ही कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 64,73, 544 हो गई. इन सबके बीच एक राहत भरी खबर भी सामने रही है, जिसके तहत भारत में ऑक्सफोर्डएस्ट्राजेनेका वैक्सीन का ट्रायल सही दिशा में जा रहा है.

क्या कहना है कोविड-19 पर जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय का 

जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के अनुसार, कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक होने वालों के मामले में अभी भारत पहले स्थान पर है. भारत के बाद दूसरे स्थान पर ब्राजील और अमेरिका है. जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के मुताबिक कोरोना वायरस मामलों के परिप्रेक्ष्य में हमारा देश अमेरिका के बाद दूसरा सर्वाधिक प्रभावित देश है. जबकि अगर हम मृतकों की संख्या के आधार पर देखे तो ये बिलकुल उल्टा है. यानि कि मृतकों की संख्या के आधार पर भारत अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरे स्थान पर है.

और पढ़ें: जाने क्यों कोविड-19 की रिकवरी के बेहद फायदेमंद है प्रोटीन डाइट

क्या कहती है केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कल यानि की शुक्रवार को बताया कि अब तक हमारे देश में कुल 53,52,078 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं. जिससे ठीक होने की राष्ट्रीय दर 83.70 फीसदी हो गई है. जबकि अगर हम बात करें कोरोना वायरस से मृत्यु दर की तो वो अभी 1.56 प्रतिशत है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, भारत में अभी 9,42,217 मरीजों का कोरोना वायरस का इलाज जारी है, जो कुल मामलों का 14.74 प्रतिशत है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

अब लोगों के दिलों से खत्म हो रहा है कोरोना का डर, भूल रहे है अपनी जिम्मेदारी

जाने क्यों खत्म हो रहा है लोगों के दिलों से कोरोना का डर


अभी कोरोना वायरस के कारण भारत सहित पूरी दुनिया परेशान है कोरोना वायरस के कारण 22 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ है जो अभी तक पूरी तरफ हटा नहीं है. कोरोना वायरस को रोकने के लिए सरकार लगातार कोशिश कर रही है. इतने लम्बे समय से चल रहे कोरोना वायरस का अब लोगों के दिलों से डर खत्म  होता हुआ दिख रहा है. जहां  एक तरफ देश की राजधानी में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते केस सामने आ रहे हैं. वही दूसरी तरफ सड़कों, बाजारों और कॉलोनियों की हालत देख कर विशेषज्ञों की चिंता बढ़ गई है विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से बचने के लिए लोग अब खुद अपनी जिम्मेदारियों को भूल रहे हैं. अभी कोई मास्क लगाने में एतराज करता है तो कोई सोशल डिस्टैसिंग को समझने की कोशिश नहीं करता. इस समय सभी लोग सरकार से उम्मीद कर रहे है कि सरकार कोरोना की वैक्सीन जल्दी से जल्दी लॉन्च करें. दूसरी तरफ लोग अपनी खुद की जिम्मेदारियों पर ध्यान देने को तक तैयार नहीं है.

और पढ़ें: ग्रामीणों तक स्वास्थ्य सुविधा पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन लॉन्च किया गया

क्या कहना है इस पर दिल्ली के डॉक्टर्स का

सोशल मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर्स का कहना है कि एक बार फिर दिल्ली में कोरोना वायरस के केस बढ़ने लगे है. दूसरी तरफ जांच भी दोगुनी रफ्तार से हो रही है. उनका कहना है कि सरकार के यह प्रयास तब तक सफल नहीं होंगे जब तक आम व्यक्ति भी इसमें अपना सहयोग नहीं देगा. उन्होंने कहा अभी लोगों में धीरे धीरे कोरोना के प्रति डर खत्म हो रहा है. अभी लोग घरों से बाहर और बाजारों में जाने से पहले मास्क लगाना जरूरी नहीं समझते. कुछ लोगों के फेस पर मास्क है तो किसी की गर्दन पर, तो कुछ लोगों के हाथ पर. सरकार और दिल्ली पुलिस का कहना है कि ऐसे लोगों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी और इनकी पहचान हर महीने उजागर भी की जाएगी. इससे फायदा यह होगा कि लोग अपनी जिम्मेदारियों को बेहतर तरीके से समझ सकें.

दिल्ली में कोरोना केस बढ़ने के कई कारण

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली में केस बढ़ने के पीछे कई सारे कारण हैं  दिल्ली की झुग्गी-बस्ती में छोटे-छोटे घरों में बड़ी संख्या में लोग रहते हैं. अगर इनमें से किसी भी एक व्यक्ति को ये वायरस होता है तो बहुत बड़ी परेशानी खड़ी हो जाएगी. दूसरी तरफ अभी दिल्ली से बाहर गए लोग अपने काम पर वापस लौट रहे हैं. यह भी केस बढ़ने का एक कारण है. साथ ही अभी राजधानी दिल्ली के लोग कोरोना वायरस की जांच नहीं करवा रहे हैं. जिन भी लोगों में थोड़े बहुत कोरोना वायरस के लक्षण आ रहे है वो भी अब अपनी जांच कराने को तैयार नहीं है. वह बिना जांच करवाएं ही अपने नजदीकी डॉक्टर से बुखार की दवाएं लेकर खा रहे हैं.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

जानें वो 10 सवालों जिनका जवाब रिया चक्रवर्ती को  आज सीबीआई को देने होंगे

आज सीबीआई कर सकती है रिया चक्रवर्ती पूछताछ


सुशांत सिंह राजपूत की मौत को दो महीने से ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन उसकी मौत पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस केस में  मुंबई पुलिस से लेकर बिहार पुलिस तक ने काम किया है. अब इस केस की जांच सीबीआई कर रही है. सुशांत सिंह राजपूत केस में सीबीआई लगातार सबूत जुटाने की कोशिश में जुटी है. इस मामले में आज सीबीआई सुशांत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी समेत एक्टर के स्टाफ कुक नीरज सिंह और हेल्पर दीपेश सावंत से पूछताछ करेगी. रविवार से ही इन तीनों से पूछताछ का सिलसिला जारी है. तीनों के बयान में विरोधाभास होने के बाद अब सीबीआई की टीम उन्हें ले कर सुशांत के बांद्रा स्थित घर जाएगी. साथ ही आज सीबीआई रिया चक्रवर्ती से भी पूछताछ कर सकती है.

और पढ़ें: वरुण धवन के बाद अब महेश शेट्टी ने जोड़े हाथ, मांगा सुशांत सिंह राजपूत के लिए इंसाफ

रिया चक्रवर्ती से इन सवालों का जवाब मांगेगी सीबीआई

  1. यूरोप ट्रिप पर क्या हुआ था?
  2. सुशांत का घर क्यों छोड़कर गई थीं?
  3. क्या सुशांत से झगड़ा हुआ था?
  4. सुशांत के साथ आपका रिश्ते कैसे थे?
  5. क्या सुशांत डिप्रेशन में थे?
  6. क्या दोनों शादी करने वाले थे?
  7. सुशांत के खाते से निकले पैसे कहां गए?
  8. सुशांत के परिवार से आपके कैसे रिश्ते थे?
  9. आखिरी बार सुशांत से फोन पर बात कब हुई थी?
  10. क्या घर से जाने के बाद सुशांत से बातचीत की थी?

सुशांत के पिता ने रिया चक्रवर्ती पर लगाए गंभीर आरोप

सुशांत के पिता केके सिंह ने पटना में रिया चक्रवर्ती को इस केस में मुख्य आरोपी बनाते हुए उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया था. उन्होंने रिया चक्रवर्ती को सुशांत को ब्लैकमेलिंग से लेकर धोखा देने तक के आरोप लगाए थे. साथ ही उन्होंने रिया चक्रवर्ती पर 15 करोड़ रुपये के हेरफेरी का भी आरोप लगाया. ईडी पहले ही रिया से इस मामले में पूछताछ कर चुकी है लेकिन ईडी से पूछताछ के दौरान ये बात भी सामने आई कि रिया केस में अपना सहयोग नहीं दे रही है. पूछताछ के दौरान जब रिया से कुछ भी पूछा जाता है वो आधी जानकारी देने के बाद कहती है उन्हें याद नहीं है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com