Categories
लाइफस्टाइल

जानें 5 ब्रेन एक्सरसाइज के बारे में, जो बनाते है आपके दिमाग को हेल्दी और एक्टिव

जानें दिमाग को हेल्दी और एक्टिव रखने वाले 5 ब्रेन एक्सरसाइज के बारे में


 

एक्सरसाइज हमारे लिए कितना जरूरी है ये शायद हमें आपको बताने की जरूरत नहीं है एक्सरसाइज हमारे स्वास्थ्य के लिए के बेहद जरूरी एक्टिविटी में से एक है.  भले ही आज के समय पर लोग इस पर ध्यान नहीं देते हैं.  लेकिन इस पर जितना जोर दिया जाए उतना ही कम है. शरीर को लंबे समय तक हेल्दी रखने के लिए एक्सरसाइज बेहद फायदेमंद होता है. एक्सरसाइज न सिर्फ आपको आज एक्टिव और स्वस्थ रखेगा बल्कि ये आपको आने वाले समय में भी आपकी हड्डियों और मसल्स को एक्टिव रखेगा. आज हम आपको ब्रेन एक्सरसाइज के बारे में बतायेगे. ब्रेन हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है. इसे स्वस्थ रहने और बेहतर रूप से काम करने के लिए आपके शरीर के बाकी हिस्सों की तरह ही एक्सरसाइज, अटेंशन और सिमुलेशन की आवश्यकता होती है.  तो चलिए आज हम आपको उन एक्सरसाइज के बारे में बताएंगे जो आपके दिमाग को हेल्दी और एक्टिव रखते हैं.

 

नई लैंग्वेज सीखें: नई लैंग्वेज सीखना ना केवल आपकी पर्सनैलिटी के लिए अच्छा है बल्कि ये आपके ब्रेन के लिए भी बेहद  फायदेमंद होता है.इससे आपकी मेमोरी बेहतर होती है और आपकी क्रिएटिविटी बढ़ती है इतना ही नहीं विजुअल स्पेशियल स्किल्स जैसे कॉग्निटिव फंक्शन में सुधार होता है. इसलिए अपने ब्रेन एक्सरसाइज के लिए आपको नई-नई लैंग्वेज सीखनी चाहिए.

 

और पढ़ें: ठंड में घर की रसोई में पाएं जाने वाले सामान से करें अपनी इम्यूनिटी स्ट्रॉग

संगीत सुनें: जब भी आप फ्री हो या गाड़ी चला रहे हों, तो आप अच्छा संगीत सुन सकते हैं. एक रिसर्च के अनुसार हैप्पी सॉन्ग्स  सुनने से रचनात्मक सोच में सुधार हो सकता है.  इतना ही नहीं हैप्पी सॉन्ग्स सुनने से दिमाग के फंक्शन करने की क्षमता बेहतर हो सकती है साथ ही साथ नए सॉल्यूशन निकालने में मदद मिल सकती है.

 

दुसरो को सिखाएं: ये बात तो आप बचपन से ही सुनते आ रहे होंगे कि अपनी लर्निंग को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप किसी दूसरे व्यक्ति को कोई नई स्किल सिखाएं.. जो फिर जो भी चीजे आपको आती है वो दूसरे व्यक्ति को भी सिखाएं. क्योंकि कुछ भी नया सिखने के बाद आपको उसका अभ्यास करने की जरूरत होती है. जब आप अपनी सीखी हुई चीज को किसी और को सिखाते है तो आप पूरे कॉन्सेप्ट को रिपीट करते हैं जिससे आप इसे और बेहतर तरीके से सीख पाते हैं.

नए नए रास्तों से गुजरे: जब भी आपके सामने डेली टास्क करने की बात आती है तो आपको चीजें रिपीट करने के बजाय, अलग तरीकों से करना चाहिए. अगर आप ऑफिस जाते है तो आपको हर सप्ताह ऑफिस जाने के लिए एक अलग रास्ता चुना चाहिए. इससे आपके दिमाग को काफी फायदा मिलता है.

मेडिटेशन करें: मेडिटेशन हमारे लिए बेहद जरूरी होती है. हर रोज मेडिटेशन करने से हमारा दिमाग शांत रहता है
और ब्रीदिंग स्लो होती है इतना ही नहीं ये  तनाव व चिंता को कम करने में हमारी मदद करता है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

क्या इस बार दिल्ली में नाइट कर्फ्यू के कारण फीका पड़ जायेगा नए साल के जश्न, जानिए क्या है टाइमिंग

आज रात नए साल के जश्न पर दिल्ली में रहेगा नाइट कर्फ्यू


आज शाम से साल 2020 का अंत होने के साथ ही नया साल शुरू हो जायेगा. नए साल के जश्न के मद्देनजर इस बार दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगाने का ऐलान किया गया है.  इस बार दिल्ली में 31 दिसंबर और 1 जनवरी को नाइट कर्फ्यू रहेगा. नाइट कर्फ्यू 31 दिसंबर रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक रहेगा.  दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगाने का कारण कोरोना वायरस है. DDMA ने कोरोना वायरस को देखते हुए नए साल में होने वाले जश्न को लेकर होने वाली भीड़भाड़ के कारण नाइट कर्फ्यू का आर्डर जारी किया है.  इस नाइट कर्फ्यू के दौरान दिल्ली में कही पर भी पब्लिक प्लेस पर 5 लोगों से ज्यादा भीड़ इकठ्ठी नहीं हो सकती है. नए साल पर किसी को भी किसी भी जश्न और सेलिब्रेशन या प्रोग्राम की पब्लिक प्लेस पर इजाजत नहीं होगी. जबकि लाइसेंसी प्लेस, पब्लिक प्लेस के दायरे में नही आएंगे.

 

और पढ़ें: साल 2020 की महत्वपूर्ण घटनाएं जो आने वाले कल का इतिहास है

सरकार ने की लोगों से घर पर रह कर नया साल बनाने की अपील

साल 2020 सभी लोगो के लिए कुछ खास नहीं रहा.  यह पूरा साल कोरोना वायरस के बीच ही निकल गया. आज साल 2020 का आखरी दिन है और कल से नया साल यानि कि साल 2021 शुरू हो जायेगा. ऐसे में दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस न फैले और सभी लोग अपने घरों पर ही सेफ रहे. इसके लिए दिल्ली में नाइट कर्फ्यू का एलान किया है. दिल्ली ही नहीं बल्कि कई और राज्यों में भी नए साल के जश्न पर पाबंदी लगाई गई है. इसके अलावा कई ऐसे राज्य भी हैं, जहां कोरोना के मामले कम हैं वहां पर जिला प्रशासन को सरकार ने यह फैसला लेने का अधिकार दिया गया है.  अभी फिलहाल सभी राज्य कोरोना के मद्देनजर सतर्कता बरत रहे है. ऐसे में सरकार ने भी सभी से अपील की हुई है कि वह नए साल का जश्न अपने घर पर ही मनाएं.

 

जाने कोरोना वायरस पर दिल्ली की लाइव अपडेट

अगर हम अभी दिल्ली की कोरोना की रिपोर्ट देखे तो इसमें अभी लगातार गिरावट देखने को मिल रही है.  दिल्ली में 26 मई के बाद सबसे कम नए  केस बीते दिन दर्ज किए गए हैं. 26 मई को दिल्ली में कोरोना वायरस के 412 केस सामने आए थे. जबकि पिछले 24 घंटे में 677 केस सामने आए है. अभी दिल्ली में कोरोना वायरस की संक्रमण दर एक फीसदी कम हो गयी है. जो अब तक का सबसे निचला स्तर है। अभी दिल्ली में कोरोना वायरस से सक्रिय मरीज 0.93 फीसदी रह गए हैं.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
वीमेन टॉक

जानें कौन है पंडित नंदिनी भौमिक, जिन्होंने तोड़ी समाज की रूढ़िवादी सोच

जानें नंदिनी भौमिक ने कैसे सदियों से चली आ रही परंपरा में सेंध लगा


आपने अपने घरों की शदियों और पूजाओं में पंडितों को देखा होगा. अगर हम हिंदू रीति-रिवाजों की बात करे तो हर शादी, हर पूजा में पंडित होते हैं बिना पंडितों की कोई पूजा की कल्पना ही नहीं कर सकता. ये आपके साथ भी होता होगा, कि एक पंडित का नाम आते ही आपके ख्याल में एक आदमी की छवि घूमती होगी. क्योंकि हमने बचपन से पुरुष को ही आपके घरों में पूजा-पाठ और धार्मिक अनुष्ठान कराते देखा है. लेकिन अब समय बदल गया है आज के समय में महिलाएं वो सभी काम करती है जो एक समय पर सिर्फ पुरषों द्वारा किये जाते थे. आज हम आपको ऐसी ही एक महिला नंदिनी भौमिक के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने सदियों से चली आ रही इस परंपरा में सेंध लगा कर पूजा-पाठ का अनुष्ठान कराया.

 

जाने कौन है नंदिनी भौमिक

नंदिनी भौमिक कोलकाता की रहने वाली है.. वह पेशे से संस्कृत की प्रोफेसर और नाटक कलाकार हैं. इतना ही नहीं नंदिनी भौमिक विवाह में मंत्रोच्चारण के साथ विवाह संपन्ना कराती हैं. नंदिनी ने ये काम कोई नया शुरू नहीं किया है वो पिछले दस सालों से लगातार शादियों को संपन्न कराने का काम करती आ रही हैं.  नंदिनी भौमिक अभी तक चालीस से ज्यादा शादियां करा चुकीं. नंदिनी को संस्कृत के श्लोकों का काफी ज्यादा ज्ञान है. इतना ही नहीं नंदिनी भौमिक शादियों में संस्कृत के
श्लोकों को अनुवाद करके भी कहती हैं.

 

और पढ़ें: जाने भारत की उन महिला वैज्ञानिकों के बारे में, जिन्होंने बढ़ाया देश का मान, नहीं मानी विपरीत परिस्थितियों में भी हार

शादियों में नंदिनी भौमिक किन किन भाषाओं में श्लोक पढ़ती हैं

नंदिनी भौमिक को न सिर्फ संस्कृत और हिंदी भाषा का ज्ञान है बल्कि उनको कई ओर भी भाषाओं का ज्ञान है दरअसल, जिन शादियों में दूल्हा दुल्हन को संस्कृत में श्लोक नहीं समझ आते, उन शादी में नंदिनी उस जोड़े के लिए अंग्रेजी और बंगला में श्लोकों का अनुवाद करती हैं.. जिसे की दूल्हा दुल्हन को श्लोकों का सही अर्थ समझ आ सके. इतना ही नहीं, नंदिनी शादियों में पीछे से रवींद्र नाथ टैगोर का संगीत भी बजवाती है..नंदिनी शादी में होने वाले कन्या दान की रस्म का घोर विरोध करती है. नंदिनी का मानना है कि लड़की कोई वस्तु नहीं, जिसका दान किया जाए. वो शादियों में कन्यादान नहीं करतीं. नंदिनी के इस कार्य को अब बहुत सारे लोगों की सराहना भी मिल रही है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन में एक नन्हे बच्चे ने सभली बड़ी जिम्मेदारी

जानें सात साल की नीशू पिता के साथ किसान आंदोलन में कैसे हाथ बंटाती है


 

नए कृषि कानूनों के खिलाफ अभी किसानों का आंदोलन काफी तेज होता जा रहा है. किसानों को आंदोलन करते हुए एक महीने से ज्यादा हो गया है. किसान लम्बे समय से नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे है इसके लिए किसानों ने दिल्ली एनसीआर के सारे बॉर्डर ब्लॉक किये हुए है. इस आंदोलन में बड़े, बूढ़े, बच्चे और महिलाएं सभी शामिल है लेकिन आज हम आपको एक सात साल के बच्चे की कहानी बता रहे है जो रोज अपने पिता के साथ किसान आंदोलन में जाता है और वहां पर अपने पिता के साथ एक बड़ी जिम्मेदारी को संभालता है.

 

जानें सात साल की नीशू गाजीपुर बॉर्डर पर अपने पिता का हाथ कैसे बंटाती है

गाजीपुर बॉर्डर पर भी किसान आंदोलन चल रहा है. वहां पर अजय नाम का एक व्यक्ति पिछले तीन दिन से रोज जा रहा है. अजय वहां किसानों की हेयर कटिंग, शेविंग और मसाज करता है और इसके लिए वह किसानों से कोई पैसे भी नहीं लेता है. अजय के साथ वहां उनकी एलकेजी कक्षा में पढ़ने वाली सात साल की बेटी नीशू भी जाती है और किसान आंदोलन का हिस्सा बनती है इतना ही नहीं वहां जाकर नीशू अपने पिता का हाथ भी बंटाती है. नीशू सुबह ही अपने पिता के साथ कॉपी-पेन लेकर बैठ जाती है और हेयर कटिंग, शेविंग और मसाज करने वाले किसानों को क्रमबद्घ करने के लिए उनकी एंट्री करती है. वह अपनी कॉपी में किसानों के नाम और मोबाइल नंबर लिखती है. उसके बाद पिता कॉपी में दर्ज नाम के हिसाब से ही हेयर कटिंग, शेविंग और मसाज करते हैं.

 

और पढ़ें: किसान आंदोलन में स्लोगन और बॉयकॉट का नारा बना रहा है इसे और मजबूत

 

रोज कितने किसानों की होती है एंट्री

अजय बताते है कि वो रोज करीब 60 से 70 किसानों की कटिंग, शेविंग और मसाज करते है वह सुबह 9 बजे से शाम को 7 बजे तक किसानों के लिए अपनी सर्विस देते है. उनके साथ उनकी बेटी निशु भी सुबह 9 बजे से शुरू हुआ एंट्री के काम को शाम को 7 बजे तक करती है. इतना ही नहीं निशु की एंट्री के अनुसार जिन लोगों की सेवा 7 बजे तक नहीं हो पाती उन्हें अगले दिन कॉपी में से नाम और मोबाइल नंबर देखकर फोन कर के बुलाया जाता है. अजय के अनुसार वो पिछले तीन दिनों में 150 से ज्यादा किसानों की निःशुल्क कटिंग, शेविंग और मसाज की सेवा दे चुके है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

मेट्रो के मुसाफिर को झेलनी पड़ रही है बड़ी मुसीबते, न टोकन मिल रहा, न कैश लिया जा रहा है

जानें मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है


साल 2020 पूरी तरह से कोरोना की भेंट चढ़ गया. कोरोना वायरस के कारण डीएमआरसी ने करीब साढ़े 5 महीने तक मेट्रो  बंद रखने के बाद अभी मेट्रो का ऑपरेशन दोबारा शुरू किया है.  मेट्रो को दोबारा शुरू हुए साढ़े 3 महीने से ज्यादा समय बीत चुका है. अभी मेट्रो में सफर करने वाले यात्रियों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है. दूसरी तरफ अभी देश में चल रहे किसान आंदोलन के कारण बॉर्डर्स बंद होने से सभी लोग पूरी तरफ से मेट्रो पर निर्भर हो है.  लेकिन कोरोना लॉकडाउन के बाद से मेट्रो को चलाने के लिए तय किए गए नियम कायदों में अभी तक कोई बदलाव नहीं किया गया है. जिसके कारण अभी मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. तो चलिए जानते है मेट्रो में सफर करने वाले लोगों को अभी किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है

 

किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है यात्रियों को

कोरोना और लॉकडाउन के बाद से मेट्रो को चलाने के लिए तय किए गए नियमों के कारण अभी लोगों को काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. खासतौर पर अभी टोकन सिस्टम और कैश से स्मार्ट कार्ड रिचार्ज कराने का सिस्टम पूरी तरह बंद होने से लोगों को खासी दिक्कते हो रही हैं.अभी आप कस्टमर केयर सेंटर पर केवल अपने डेबिट और क्रेडिट कार्ड से ही स्मार्ट कार्ड रिचार्ज करवा सकते है.वो भी आप 200 रुपए से कम का रिचार्ज नहीं कर सकते. वहीं दूसरी ओर स्टेशनों पर लगी टिकट वेंडिंग मशीनों में 100 रुपए का भी रिचार्ज कर सकते है. लेकिन वह भी आप कैश नहीं, बल्कि डेबिट या क्रेडिट कार्ड से करा सकते है. जबकि कई सारे मेट्रो स्टेशनों पर वेंडिंग मशीनें खराब पड़ी हुई हैं जिसके कारण लोग उनसे रिचार्ज नहीं करा पाते.

 

और पढ़ें: किसान आंदोलन में स्लोगन और बॉयकॉट का नारा बना रहा है इसे और मजबूत

 

क्या सभी मेट्रो स्टेशनों पर वेंडिंग मशीनें काम करती है

डीएमआरसी के नए नियमों के अनुसार आप अपना स्मार्ट कार्ड रिचार्ज सिर्फ डेबिट या क्रेडिट कार्ड से ही करा सकते हैं. लेकिन कई बार मेट्रो स्टेशनों पर लगी वेंडिंग मशीनें खराब  होती हैं जिसके कारण लोग उनसे रिचार्ज नहीं करा पाते. कुछ मेट्रो स्टेशनों पर अगर वेंडिंग मशीनें चल भी रही है लेकिन लोग  मशीन के द्वारा कार्ड रिचार्ज कराने की बजाय कस्टमर केयर सेंटर की विंडो पर खड़े नजर आते है क्योंकि वेंडिंग मशीन से डेबिट या क्रेडिट कार्ड के द्वारा स्मार्ट कार्ड रिचार्ज कराने का सिस्टम है जो कई सारे लोग को समझ नहीं आता. कुछ मेट्रो स्टेशनों पर तो मदद करने के लिए कोई गार्ड या मेट्रो का कोई कर्मचारी मौजूद होता है लेकिन कुछ पर तो न को गार्ड होता है न ही कोई मेट्रो कर्मचारी.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

COVID-19 के नए स्ट्रेन को लेकर भारत अलर्ट, कोरोना का नया रूप 70 प्रतिशत अधिक खतरनाक

सरकार ने ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट्स पर लगाया रोक


हाल ही में ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री ने चेतावनी दी कि लंदन और दक्षिण-पूर्वी इंग्लैंड में लगा लॉकडाउन अभी महीनों तक खींच सकता है क्योंकि कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन जो मिला रहा है वो 70 प्रतिशत से अधिक खतरनाक है.  ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने का कि इस बार नागरिकों को क्रिसमस के प्लान कैंसल करने होंगे और इस बार सभी लोगों को घरों पर रहकर ही क्रिसमस पार्टी करनी होगी क्योंकि इस इस बार नए टाइप का कोरोना वायरस ज्यादा तेजी से फैल रहा है साथ ही साथ ये ज्यादा खतरनाक भी है.

जानें कोरोना वायरस पर लेटेस्ट अपडेट

अभी तक देश में कोरोना वायरस फैला हुआ है उसके लिए भारत सरकार ने विदेश यात्रा कर भारत लौटे लोगों को जिम्मेदार बताया था. लेकिन इस बार भारत सरकार ने दूसरे देशों से आने वाली फ्लाइट्स पर समय रहते ही रोक लगा दी है. इस बार सरकार ने पिछली बार की तरह देर नहीं की और 31 दिसंबर तक ब्रिटेन से आने जाने वाली सभी उड़ानें रद्द कर दी है.  दरअसल, ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया रूप सामने आया है जिसके बाद भारत सरकार ने आपात बैठक बुलाकर ब्रिटेन से आने वाली सभी उड़ानों को 31 दिसंबर तक रोकने का फैसला किया है. हमारे देश में अभी भी कोरोना की दहशत कायम है, अगर हम बात करें कोरोना संक्रमित मामलों की तो अभी  देश में पिछले 24 घंटे में 24 हजार से ज्यादा नए कोरोना संक्रमित के मामले मिले है.  जबकि 333 लोगों ने कोरोना संक्रमण के कारण अपनी जान गंवा दी है.

और पढ़ें: जाने क्यों मनाया जाता है क्रिसमस डे, साथ ही जाने क्रिसमस ट्री और सीक्रेट सांता क्लॉज के बारे में

दिल्ली में धीमी पड़ी कोरोना वायरस की रफ्तार

अगर हम दिल्ली में मिल रहे कोरोना वायरस मामलों की बात करें तो अभी दिल्ली में कोरोना वायरस की रफ्तार धीमी हो गयी है. दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 803 कोरोना संक्रमित लोग पाए गए हैं, अगर हम आंकड़ों के अनुसार देखे तो एक दिन में कोरोना संक्रमितों का ये आंकड़ा 17 अगस्त के बाद से सबसे कम है. 17 अगस्त को दिल्ली में 787 लोग कोरोना संक्रमित हुए थे और अगर हम दिल्ली के कुल कोरोना संक्रमित मामलों की बात करे तो अभी तक दिल्ली में 6 लाख 17 हजार से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित के मामले सामने आ चुके हैं.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

उत्तराखंड बना देश का पहला राज्य, जो बनाएगा दूध से पेट फूड, इससे बनेगी कुत्तो की सेहत

दूध से तैयार किया जा रहा है पालतू कुत्तों का पेट फूड ‘छुरपी’


उत्तराखंड बना देश का पहला राज्य, जो पालतू कुत्तों की सेहत बनाए रखने के लिए दूध से तैयार करेगा पेट फूड. इस पेट फूड का नाम है ‘छुरपी’. दूध से तैयार किया जा रहा छुरपी पालतू कुत्तों की सेहत बनाएगा. उत्तराखंड में दूध से तैयार की जाने वाली छुरपी की कीमत बाजारों में 750 रुपये प्रति किलो तक होगी. इससे उत्तराखंड के हजारों दुग्ध उत्पादकों की आमदनी भी बढ़ेगी.

जाने सबसे पहले छुरपी की शुरुआत किस देश से हुई थी

छुरपी बनाने की शुरूआत सबसे पहले पड़ोसी देश नेपाल में हुई थी. जिसके बाद दार्जिलिंग में कुछ लोगों ने छुरपी बनानी शुरू कर दी थी. उत्तराखंड  में दुग्ध विकास विभाग ने सबसे पहले सहकारी क्षेत्र में पेट फूड के रूप में छुरपी का उत्पादन शुरू कर दिया है.

लाखामंडल, सुमाड़ी, जखोला और कमेडी के ग्रोथ सेंटरों में छुरपी बनाने की शुरूआत की गई है. ग्रोथ सेंटरों में छुरपी को तैयार करके बंगलूरू की एक कंपनी को बेचा जा रहा है. इतना ही नहीं, विभाग की माने तो छुरपी बनाने से दुग्ध समितियों से जुड़े पांच हजार से अधिक दुग्ध उत्पादकों को इसका फायदा मिलेगा.

और पढ़ें: जानें संविधान लागू होने से पहले किन अनुच्छेदों में बदलाव किया गया

जाने  कैसे बनाई जाती है ‘छुरपी’

क्या आपको पता है छुरपी कैसे बनाई जाती है. अगर नहीं तो कोई बात नहीं। आज हम आपको बतायेगे, कि छुरपी कैसे बनाई जाती है. जिस तरीके से दूध से पनीर बनाया जाता है, ठीक उसी तरह छुरपी भी तैयार की जाती है. लेकिन हमें पनीर में नमी की मात्रा दिखती है जबकि छुरपी में नमी की मात्रा को पूरी तरीके से निकाल कर उससे सख्त बनाया जाता है. उसके बाद इससे छोटे-छोटे टुकड़ों में बांटने के बाद इसे महीने भर तक सुखाने के बाद छुरपी तैयार की जाती है. छुरपी में प्रोटीन की मात्रा 60 प्रतिशत है.

हमारे देश में अभी तक किसी भी राज्य में सहकारी क्षेत्र में छुरपी का उत्पादन नहीं किया जाता है. उत्तराखंड देश का पहला ऐसा राज्य है जो पेट फूड के रूप में दूध से छुरपी बना रहा है. क्या आपको पता है यह योजना खासकर पर्वतीय क्षेत्रों के दूरस्थ गांवों के उन दुग्ध उत्पादकों की आर्थिकी को मजबूत करेगी, जो अपने दूध को बाजार तक नहीं पहुंचा पाते हैं.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

प्रेग्नेंसी के दौरान विराट रखते है अनुष्‍का का खूब ख्‍याल, जानें क्या है खास

प्रेग्नेंसीके दौरान ऐसे करें पत्नी को सपोर्ट


भारतीय क्रिकेट टीम के वर्तमान कप्तान विराट कोहली बहुत जल्द पापा बने वाले है. इस बात की जानकारी विराट कोहली और उनकी पत्‍नी अनुष्‍का शर्मा ने सोशल मीडिया के द्वारा अपने फैंस को दी. साल 2021 के शुरुआती महीने में विराट कोहली और अनुष्‍का शर्मा के घर पर एक नन्‍हा मेहमान आने वाला है. अनुष्‍का शर्मा की प्रेग्नेंसी के दौरान विराट उनका खूब ख्‍याल रखते है. हाल ही में अभी अनुष्‍का शर्मा अपने पति विराट कोहली के साथ दुबई में हैं और अपनी प्रेगनेंसी को इंजॉय कर रही हैं. तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी चीजें बतायेगे जो आप विराट कोहली से सीख सकते हैं कि अपनी पत्नी की प्रेग्नेंसी के दौरान उनका कैसे रखें उनका ध्यान.

रोमांटिक फोटो: अगर आप सोशल मीडिया पर लगता अपडेटेड रहते है तो आपने देखा होगा कि कुछ समय पहले अनुष्‍का शर्मा और विराट कोहली की स्विमिंग करते हुए एक तस्‍वीर सामने आई थी. इस फोटो में दोनों रोमांटिक अंदाज में दिख रहे हैं. अनुष्‍का शर्मा और विराट कोहली की इस तस्‍वीर को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि विराट कोहली किस तरह प्रेग्नेंसी के दौरान अपनी पत्नी को खुश रखते है.

और पढ़ें: Kajal Agarwal से Kamya Punjabi तक सबने शेयर की करवा चौथ की तस्वीरे, पर ये 5 divas नही रखती व्रत

धैर्य से काम लेना चाहिए: प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं कई तरह के शारीरिक, मानसिक और भावनात्‍मक बदलावों से गुजर रही होती है. शरीर में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण भी उनका मूड थोड़ा चिड़चिड़ा सा बना रहता है. कभी कभी वो बहुत ज्यादा खुश महसूस करती है, तो कभी एकदम से रोने का मन करने लगता है. ऐसे में पति को धैर्य से काम लेना चाहिए और अपनी पत्‍नी के इन मूड स्विंग्‍स को समझना चाहिए.

हॉली-डे पर जाएं: आप चाहो तो प्रेगनेंसी के पहली तिमाही में आप अपनी वाइफ को कहीं घुमाने लेकर जा सकते हैं. क्योकि प्रेग्नेंसी में विटामिन डी बहुत जरूरी होता है, इसलिए आप आपके साथ कुछ देर धूप में बैठ सकते है और उनके साथ खूब बातें कर सकते है. ये सब चीजें शुरुआती तीन महीनों में ही कर लें तो अच्‍छा होगा, क्‍योंकि आगे के छह महीने थोड़े मुश्किल होते हैं.

रोज तारीफ करें: शायद अपने प्रेगनेंसी ग्‍लो के बारे में तो आपने सुना ही होगा. ये ग्‍लो हार्मोंस की वजह से ही आता है. अगर इस ग्‍लो में पति का प्‍यार और तारीफ मिल जाए तो यह ग्‍लो दोगुना हो जाता है. प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में आए बदलाव परेशान करने लगते हैं. ऐसे में आप अपनी पत्नी की तारीफ करें और उनके आत्‍मविश्‍वास को बढ़ाने की कोशिश करें.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
लाइफस्टाइल

karwa chauth 2020: नेहा कक्कड़ और काम्या पंजाबी के अलावा ये सेलिब्रिटीज रखेंगी अपना पहला करवाचौथ

ये सितारे रखने जा रहे है अपना पहला करवाचौथ का व्रत


ज्यादातर लोगों का कहना है कि साल 2020 सभी लोगों के लिए अच्छा नहीं है. इसमें बहुत सारी चीजें थोड़ी अजीब हुई है. लेकिन कुछ लोगों के लिए यह साल बहुत अच्छा भी आया है. बहुत सारे लोगों ने साल 2020 से अपने जीवन की नयी शुरुआत की है. अगर हम बॉलीवुड या फिर टीवी सितारों की बात करें तो बहुत से ऐसे सितारे है. जो साल 2020 में शादी के बंधन में बंधे. कुछ सितारों ने तो लॉकडाउन से पहले धूमधाम से शादी की, तो वही कुछ सितारों ने कोरोना की वजह से कुछ करीबी रिश्तेदार और दोस्तों के बीच ही शादी के बंधन में बंधे. लेकिन इन सभी सितारों की शादी की तस्वीरे आपको सोशल मीडिया पर आसानी से मिल जाएगी. अब 4 नवंबर यानि की कल करवाचौथ है और सभी नए जोड़े करवाचौथ का व्रत रखेंगे. तो चलिए आज हम आपको उन सेलिब्रिटीज के बारे में बताएंगे जो इस बार अपना पहला करवाचौथ का व्रत रखने जा रहे है.
नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत: अगर हम नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत की शादी की बात करें तो दोनों ने 24 अक्टूबर को दिल्ली के गुरुद्वारे में शादी की थी. आज दोनों की शादी की चर्चा हर तरफ है. इस बार शादी के बाद नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत का ये पहला करवाचौथ होने के साथ साथ शादी के बाद ये दोनों का पहला त्यौहार भी है. नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत की शादी कोरोना काल की वजह से प्राइवेट अफेयर थी. जिसमे दोनों के कुछ करीबी रिश्तेदार और दोस्त शामिल हुए थे. नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत ने अपनी शादी का एलान सोशल मीडिया पर ही किया था.
काम्या पंजाबी और शलभ डांग: टीवी दुनिया की मशहूर एक्ट्रेस काम्या पंजाबी को भला कौन नहीं जानता. काम्या पंजाबी ने इस साल के शुरुआत में ही 12 फरवरी को शलभ डांग से शादी की थी. हालांकि, ये काम्या पंजाबी की दूसरी शादी है. लेकिन शलभ डांग से शादी करने के बाद ये काम्या पंजाबी का पहला करवाचौथ है.
संगीता चौहान और मनीष रायसिंघन: टीवी की मशहूर एक्ट्रेस संगीता चौहान ने 30 जून को टीवी एक्टर मनीष रायसिंघन से शादी की थी. शादी के बाद इस बार संगीता चौहान और मनीष रायसिंघन अपना पहला करवाचौथ का व्रत रखेंगे. संगीता चौहान और मनीष रायसिंघन की शादी की खास बात यह है कि दोनों सितारों ने कोरोना काल की वजह से मास्क पहनकर सात फेरे लिए थे.
काजल अग्रवाल और गौतम किचलू: सिंघम एक्ट्रेस काजल अग्रवाल ने 30 अक्टूबर को बॉयफ्रेंड गौतम किचलू के साथ शादी के बंधन में बंधी थी. शादी के बाद ये काजल अग्रवाल और गौतम किचलू का साथ में पहला करवाचौथ होने के साथ साथ शादी के बाद ये दोनों का पहला त्यौहार भी है. काजल अग्रवाल और गौतम किचलू की शादी में भी कोरोना की वजह से कुछ खास रिश्तेदार और करीबी दोस्त शामिल हुए थे. अगर हम दोनों के शादी के जोड़े की बात करें तो काजल अग्रवाल ने पिंक कलर का लहंगा पहना और वहीं गौतम किचलू ने क्रीम कलर की शेरवानी पहनी हुई थी.
नीति टेलर और मंगेतर परीक्षित बावा: टीवी शो ‘इश्कबाज’ की फेम अभिनेत्री नीति टेलर ने अभी हाल ही में मंगेतर परीक्षित बावा के साथ शादी के बंधन में बंध गयी। नीति टेलर ने अपनी शादी से पहले ब्राइडल शावर और बैचलर पार्टी का आयोजन किया थी। नीति टेलर और मंगेतर परीक्षित बावा 13 अगस्त को एक पारिवारिक समारोह ने बीच शादी के बंधन में बंध गए थे। मंगेतर परीक्षित एक आर्मी ऑफिसर हैं। और इस बार नीति टेलर और मंगेतर परीक्षित बावा का भी ये पहला करवाचौथ है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

 
Categories
मनोरंजन

बिग बॉस के घर मे हुई तीन नए फ्रेशर्स की एंट्री : नए कैप्टन बनाने पर होगा धमाका

बिग बॉस के घर में हुए वाइल्ड कार्ड एंट्री – अब मसाला होगा double !


टीवी दुनिया के सबसे बड़े रियलिटी शो बिग बॉस 14 ने अभी पूरे  देश में धमाल मचाया हुआ है. सभी लोगों के पसंदीदा रियलिटी शो बिग बॉस 14 के घर में अभी एक बड़ा ट्विस्ट देखने को मिलने वाला है. अभी हाल ही में बिग बॉस सीजन 14 के कुछ कैंडिडेट को घर से बेघर कर दिया गया है. जिसके बाद बिग बॉस होस्ट सलमान खान ने बिग बॉस के घर में तीन कैंडिडेट को वाइल्ड कार्ड एंट्री दी है. वाइल्ड कार्ड एंट्री के जरिए बिग बॉस के घर में ‘एफआईआर’ फेम एक्टर कविता कौशिक, ‘कुमकुम भाग्य’ से फेमस हुईं नैना सिंह और शार्दुल पंडित ने वाइल्ड कार्ड से घर में एंट्री की है. इतना ही नहीं खबरों के मुताबिक, घर में एंट्री के साथ ही कविता कौशिक घर की कैप्टन बन जाएंगी.

जाने क्यों बिग बॉस मेकर्स ने शो में कराई वाइल्ड कार्ड एंट्री?

एक  रिपोर्ट के अनुसार बिग बॉस मेकर्स ने शो में एक नया ट्विस्ट लाने का फैसला कर लिया है. इस लिए बिग बॉस मेकर्स वाइल्ड कार्ड एंट्री के जरिए आयी कविता कौशिक को घर के कप्तान के रूप में पेश करने वाले है. लेकिन अगर ऐसा होता है तो यकीन मानिए बिग बॉस के घर में एक बार फिर से धमाल मच जायेगा है. क्योंकि घर में आये नए कैंडिडेट को अगर आते के साथ कैप्टन का पद मिल जायेगा तो इससे घर में रह रहे पुराने कैंडिडेट के मन में इस बात की काफी ज्यादा निराशा हो जाएगी. ऐसा भी हो सकता है कि इसके बाद पुराने कैंडिडेट अपनी स्ट्रैटेजी बदल दे. अगर ऐसा होता है तो ये शो और भी ज्यादा मजेदार हो जायेगा.

Read more: अगर आप भी हैं खस्ता ठेकुआ के दीवाने, तो इन तीन तरीकों से बना सकती हैं खस्ता ठेकुआ

जाने कौन है कविता कौशिक?

टीवी शो ‘एफआईआर’ की फेम एक्टर है कविता कौशिक। कविता कौशिक एफआईआर से लोगों को जमकर मनोरंजन कर चुकी हैं. वही से उन्होंने लोगों के दिलों में अपने लिए एक अलग जगह बना ली थी. कविता कौशिक के तेवर अगर एफआईआर की तरह ही रहे तो फिर घर में एक बार फिर से कंटेस्टेंट्स के बीच घमासान देखने को मिलेगा. अभी हाल ही में बिग बॉस के घर से सारा गुरपाल और शहजाद देओल को बेघर कर दिया गया है. वही 2 और कंटेस्टेंट्स एजाज खान और पवित्रा पूनिया रेड जोन में है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com