Categories
पॉलिटिक्स

जम्मू-कश्मीर के नौजवान भटके हैं, हुर्रियत नेता भी इस देश के नागरिक है- दिनेश्वर शर्मा

दिनेश्वर शर्मा जम्मू और कश्मीर का प्रतिनिधित्व करेंगे


जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को सुलभाने के लिए केंद्र सरकार ने आईबी के पूर्व डॉयरेकटर दिनेश्वर शर्मा को भारत का प्रतिनिधित्व के तौर पर नियुक्त किया है। दिनेश्वर शर्मा भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर में लोगों के साथ बातचीत करेंगे।

राजनाथ सिंह और दिनेश्वर शर्मा

महबूबा मुफ्ती ने इस फैसले का स्वागत किया है

इसे पहले पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले के प्राचीर से जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को सुलझाने के बात कही थी। मात्र दो महीने में ही पीएम ने इसे सुचारू रुप से काम लेने की प्रक्रिया भी शुरु कर दिया है।

पीएम ने कहा कि था कि जम्मू-कश्मीर का मुद्दा ‘गाली और गोली’ से नहीं सुलझाया जा सकता है। ब्लकि यह तो ‘गले मिलने’ से दूर हो सकता है।

केंद्र सरकार द्वारा लिए गए इसे फैसले का जम्मू-कश्मीर की सीएम ने स्वागत किया है। सीएम महबूबा मुफ्ती ने ट्विटर पर लिखा है यह जम्मू और कश्मीर के लिए एक सकरात्मक कदम है।

वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम और नेशनल कांफ्रेस पार्टी के अध्यक्ष उमर अब्दुला ने कहा कि इस तरह की पहल उन लोगों की हार जो हमेशा से यही कहते आएं है कि यहां बंदूक के दम पर ही सबकुछ किया जा सकता है।

वही दूसरी ओर एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए दिनेश्वर शर्मा ने कहा है कि हुर्रियत के नेता भी इस देश के नागरिक हैं। जम्मू कश्मीर के नागरिक हैं इसलिए वह सभी स्टेकहोल्डर से बात करेंगे।

नौजवान पाकिस्तान की फंडिंग को न लें

जम्मू-कश्मीर क नौजवानो के बारे में बातचीत करते हुए नौजवान भटके हुए हैं। पाकिस्तान की जो फंडिग आती है। उनको समझाया जाएगा कि वह फंडिंग से उनका कोई भला होने वाला नहीं है। उससे कोई विकास होने वाला नहीं है। भटके युवाओं को समझाया जाएगा और जो वहां की समस्या है वहां की प्रॉब्लम चल रही है सालो से उसको कैसे निपट जाए। इस पर काम किया जाएगा।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

Categories
भारत

जम्‍मू-कश्‍मीर में एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारी बर्खास्‍त दिए

जम्‍मू-कश्‍मीर में एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारी बर्खास्‍त दिए


एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारी बर्खास्‍त

जम्‍मू-कश्‍मीर में एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारी बर्खास्‍त दिए :- जम्‍मू में 12 से ज्‍यादा कर्मचारियों को बर्खास्‍त कर दिया गया है। जम्‍मू-कश्‍मीर के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी है, कि राज्‍य सरकार ने एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारियों को राष्‍ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप की वजह से बर्खास्‍त कर दिया है। वरिष्‍ठ आधिकारी ने यह भी बताया है, कि राज्‍य की पुलिस ने इन सभी कर्मचारियों की राष्‍ट्रविरोधी गतिविधियों से संबंध रिपोर्ट मुख्‍य सचिव को सौंप दी थी, जिसके बाद उन्‍होने सभी के जुड़े विभागों के प्रमुखों को कर्मचारियों को बर्खास्‍त करने को कहा।साथ ही बताया, कि कुछ लोग अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए फरार हो गए है।

आप को बता दें, बर्खास्‍त किए गए कर्मचारियों में कुछ कश्मीर यूनिवर्सिटी के सहायक रजिस्ट्रार शामिल है, साथ ही शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, इंजीनियरिंग और आदि विभाग के लोग शामिल है। अधिकारी ने यह जानकारी भी साझा की, कि राज्‍य सरकार ने इस कार्रवाई को अंजाम सविंधान के आर्टिकल 126 के तहत दिया है।

यहाँ पढ़ें :अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने भारत को हर मदद का ऑफर दिया है- अमेरिकी राजदूत

प्रदर्शन के दौरान तैनात सुरक्षाकर्मी

बुरहान वानी की मौत के

दरअसल, 22 साल के हिज्‍बुल के बुरहान वानी नाम के आतंकवादी के इस साल नौ जुलाई में मारे जाने के बाद से बीते तीन महीने से कश्‍मीर घाटी में अशांति का मोहल्‍ल बना हुआ है । एनकाउंटर में हुई मौत के बाद प्रदर्शन हुए जिस में अब तक लगभग 91 लोग मार गए है। साथ ही 12000 से भी ज्‍यादा लोग घायल हो गए है। बता दें, ये प्रदर्शन 104 दिनों से जारी है।

जम्‍मू में चीन के झ़डे

आप को बता दे, बीते दिनों में सुरक्षाबलों के द्वारा 10 जगहों पर छापे मारे गए, ज‍हां कथित रूप से आतंकवादियों के द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ों जैसे, कि पेट्रोल बम, भारत के विरोधी में प्रचार करने वाली सामग्री, अनधिकृत सेलफोन और जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा आतंकी संगठनों से जुड़े दस्तावेजों के साथ अब चीन के झंडे भी बरामद किए गए हैं।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

कश्‍मीर घाटी में छापों के दौरन मिले चीन के झड़े

कश्‍मीर घाटी में छापों के दौरन मिले चीन के झड़े


कश्‍मीर में चीन के झंडे

कश्‍मीर घाटी में छापों के दौरन मिले चीन के झड़े :- जम्‍मू कश्मीर में तनाव की स्थिति होना कोई नई बात नहीं है। मगर अब इस तनाव के बीच अब एक चिंता की नई वजह इस में जुड़ गई है। हाल ही के दिनों में सुरक्षाबलों  के द्वारा मारे गए छापों में कथित रूप से आतंकवादियों द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली चीज़ों  जैसे, कि  पेट्रोल बम, भारत के विरोधी में प्रचार करने वाली  सामग्री, अनधिकृत सेलफोन और जैश-ए-मोहम्मद तथा लश्कर-ए-तैयबा जैसे आदि आतंकी संगठनों से जुड़े दस्तावेज़ के साथ अब चीन के झंडे भी बरामद हुए हैं। जो चिंता का नया विषय बना गया है।

पाकिस्‍तान और चीन का झ़डा

दरअसल, 100 दिन तक शांति बनाए रखने के बाद सुरक्षाबलों ने बारामूला में व्यापक तलाशी अभियान चलाया था।  22 साल के बुरहान वानी  आतंकवादी के इस साल जुलाई में मारे जाने के बाद से बीते तीन महीने से कश्‍मीर घाटी में अशांति का मोहल्‍ल बना हुआ और इस दौरन  बारामूला ही सबसे ज़्यादा प्रभावित वाला इलाका रहा है। जम्‍मू की राजधानी श्रीनगर से करीबन 55 किलोमीटर की दूरी पर बसा बारामूला में प्रदर्शनकारियों का खासा नियंत्रण रहा है। साथ ही वहां  कर्फ्यू लगा हुआ है लेकिन बार-बार कर्फ्यू तोड़कर सुरक्षाबलों और उनके वाहनों, कार्यालयों पर हमले करते रहे है। इस प्रदर्शनकारियों के द्वारा पाकिस्तान देश के झंडे लहराया और देखना कोई नई बात नहीं है, क्‍योंकि ऐसा आगे दिन घाटी में होता रहता है। मगर अब खुफिया एजेंसियों को हाल ही के दिनों में बड़े-बड़े प्रदर्शनों के दौरान चीन देश के झंडे देखे  जाना चिंता का विषय बन गया  है।

यहाँ पढ़ें : आइए जाने किताबों को पढ़ने के फायदे

कश्‍मीर में चीन के झड़े

सेना के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी साझा की है, कि बारामूला की पुरानी बस्ती में व्यापक तलाशी अभियान के तहत 17 अक्टूबर यानि सोमवार को 12 घंटे के भीतर 700 से भी ज़्यादा घरों की तलाशी ली गई। साथ ही दस जगहों पर छापे मारे गए, जहां पथराव करने वालों तथा संदिग्ध आतंकियों की मदद करने वालों के रहने की संभावना थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

तीन दिन से जारी है पंपोर में सेना और आंतकियों के बीच मुठभेड़

तीन दिन से जारी है पंपोर में सेना और आंतकियों के बीच मुठभेड़


पंपोर में एक इमारत  में आंतकवादी

तीन दिन से जारी है पंपोर में सेना और आंतकियों के बीच मुठभेड़ :- जम्‍मू-कश्‍मीर में श्रीनगर के पंपोर में एक इमारत में तीन दिन से यानि करीबन 50 घंटे से छि‍पे आंतकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच चल रही मुठभेड़ में दो आंतकवादी मारे जा चुके है। साथ ही सुरक्षाबलों में इमारत की सातवीं मंजिल पर प्रवेश कर दिया है। मुठभेड़ अब भी जारी है कुछ और आंतकवादियों के छिपे  रहने की ख़बर है। साथ ही पूरे इलाके में सेना ने तलाशी अभियान चलाया हुआ है।

सेना का तलाशी अभियान जारी

हाईवे तक पहुचंने में कामयाब

दरअसल, एक आतंकवादी मंगलवार को ही मार दिया था। तो वहीं दूसरा आतंकवादी बुधवार यानि आज मार गिराया है। बता दें, सोमवार सुबह कुछ आंतकी जम्‍मू-कश्‍मीर हाईवे की एक इमारत तक पहूचं गए। इमारत हाईवे पर स्थित थी इसलिए हाईवे बंद कर दिया गया । इमारत में दो  से तीन  आंतकवादियों के छिपने की ख़बर मिली थी। सेना और पुलिस ने उस इमारत को चारों तरफ़ से घेर लिया। आंतकवादियों ने जो फायरिंग शुरू की थी, वो पूरी रात चलती रही। मंगलवार यानि कल सुबह भी सेना और आतंकिवादियों  के बीच गोलीबारी होती रही। उस इमारत से आतंकवादियों  को बाहर निकालने के लिए सेना ने इमारत में विस्फोटक लगाकर कई धमाके किये लेकिन आतंकी अभी भी फायरिंग कर रहे हैं। वही दूसरी तरफ  मंगलवार यानि कल  जम्‍मू के शोपियां में आतंकियों ने सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला कर दिया, जिसमें एक जवान और सात अन्य लोग घायल हो गए ।

आतंकियों के पास काफी मात्रा में हथियार है

पुलिस अधिकारियों ने यह जानकारी दी है, कि  सेना और आंतकवादियों के बीच मुठभेड़ इतने लंबे समय तक इसलिए खिंच गई है, क्योंकि इस इमारत में आतंकवादियों को छिपने के लिए ‘बंकर’ जैसी सुरक्षा मिल रही है। साथ ही यह भी लग रहा है, कि उनके पास काफी मात्रा में हथियार और  गोला-बारूद है। आतंकवादियों के इरादे यहीं टिके रहने और लंबे समय तक मुठभेड़ करने के है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

आंत‍की हमला होने की आशंका के चलते एयरपोर्ट हाई अलर्ट पर

आंत‍की हमला होने की आशंका के चलते एयरपोर्ट हाई अलर्ट पर


एयरपोर्ट हाई अलर्ट पर

आंत‍की हमला होने की आशंका के चलते एयरपोर्ट हाई अलर्ट पर :-खुफिया एजेंसियों ने राजधानी दिल्‍ली समेत देश के चार राज्‍यों के 22 एयरपोर्ट पर संभावित हमले होने की चेतावनी जारी की है। साथ ही ने जगहों पर उच्‍च सुरक्षा उपाय की  व्‍यवस्‍था सुनिश्चित की जा रही है। खास कर सीमावर्ती राज्‍यों में जैसे जम्‍मू-कश्‍मीर, पंजाब, राजस्‍थान, गुजरात के साथ राजधानी दिल्‍ली में भी सुरक्षा के खास इंतजाम और सतर्कता बरती जा र‍ही है। नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्‍यूरो ने सभी राज्‍यों के पुलिस आधिकारियों को, एयरपोर्ट की सुरक्षा करने वाले सीआईएसएफ के साथ- साथ सरकारी और निजी एयरलांइस कंपनी को  सुरक्षा खतरों के संबंध में आगाह किया है।

हवाई अड्डों पर साजोसामान, पार्किंग की जगह में, लोडिंग क्षेत्र में इस्‍तेमाल होने वाली गाडियों की पूरी  जांच की जा रही है। हर साल त्‍योहार के सीजन में दिल्‍ली समेत कई बड़े शहर  हाई अलर्ट पर होते है। मगर हाल ही में हुई पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद से भारत और पाकिस्‍तान के बीच तनाव बना हुआ है, इसी को देखते हुए, खुफिया एजेंसियां को बदले की कार्रवाई के चलते आंत‍की हमला होने की आशंका है।

एयरपोर्ट हाई अलर्ट पर

यहाँ पढ़ें : दिव्यांग बच्चों के पढ़ने के लिए स्पेशल ट्रेनिंग प्रोग्राम

युद्धविराम उल्‍लंघन

भारत और पाकिस्‍तान की सीमा पर भारी तनाव के बीच लगातार युद्धविराम का उल्‍लंघन और गोलीबारी हो रही है। गुरूवार यानि कल सुबह ही कश्‍मीर के कुपवाड़ा में एक अर्मी बेस पर आतंकियों हमला हुआ, जिसमें तीन आतंकी मारे गए।

भारत पर उरी हमला

18 सितंबर की देर रात भारत के सैनिकों पर उरी में आंतकी हमला हुआ था। जिसमें भारत ने अपने 19 जवान खो दिए। इस हमले के पीछे पाकिस्‍तान का हाथ होने की आशंका  है।

आंतकी हमले होने की आशंका

भारत के द्वारा की गई सर्जिकल स्‍ट्राइक

28 और 29 सितंबर की देर रात भारतीय सैनिकों ने पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में सर्जिकल स्‍ट्राइक की। जिसमें 38 से ज्‍यादा आंतकवादी मारे गए है।

बारामूला में हमला

दो अक्‍टूबर की  रात लगभग  साढे़ दस बजे जम्‍मू – कश्‍मीर के बारामूला में आंतकी हमला हुआ, जिसमें करीबन दो घंटे सेना और आतंकी के बीच भारी फायरिंग हुई।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in