Categories
सामाजिक

इस्लाम धर्म में यह सब करना है जरुरी , जाने क्या ?

जाने इस्लाम धर्म से जुड़ी कुछ खास बातें 


 इस्लाम में रमजान का महीना काफी पवित्र माना जाता है. अब 6  मई से रमजान शुरू होने वाले है जब सभी मुस्लिम रोज़ा रखते है खुदा की इबादत करते है और सभी बुरी आदतों को खुद से दूर रखते  है. लेकिन कुछ बाते ऐसी है जो आप इस्लाम  के बारे में नहीं जानते है तो चलिए आज हम आपको बताते  है इस्लाम से जुड़ी  यह कुछ ख़ास बातें:  

इस्लाम में यह सब करना है जरुरी :

1. इस्लाम में कलमा पढ़ना जरुरी है जो आपको यह एहसास दिलाता है कि अल्लाह एक है और मुहम्मद साहब उनके रसूल हैं

2.हर रोज पाँचो वक़्त  की नमाज़ भी पढ़नी फ़र्ज़ यानि जरुरी है.

3. रमज़ान इस्लाम धर्म का पवित्र महीना माना जाता है.  इसमें महीने भर केवल सूर्यास्त के बाद 1 बार खाना खाने का नियम होता है. 

4 मक्का और मदीना  इस्लाम धर्म के पवित्र तीर्थ स्थानों में से है

अब जानते है की आखिर इस्लाम धर्म  है क्या और  इसके  प्रवर्तक कौन थे?

इस्लाम जो है वो एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ है शान्ति को अपनाना साथ ही इस्लाम धर्म का मूल स्वरूप  है एक ऐसा धर्म, जिसके जरिए एक इंसान दूसरे इंसान के साथ प्रेम और अहिंसा से भरा व्यवहार कर ईश्वर की पनाह लेता है.आपको बता दे इस्लाम धर्म के जो प्रवर्तक थे वो हजरत  मोहम्मद  साहब थे. ऐसा बताया जाता है कि जब भारत में हर्षवर्धन और पुलकेशियन का शासन था तब हजरत मुहम्मद अरब देशों में इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार कर रहे थे इस तरह से इस्लाम धर्म का उदय  हुआ.

साथ ही जिस तरह से हिन्दुओ की ग्रन्थ “गीता” है  उसी तरह से इस्लाम की ग्रन्थ कुरान है . कुरान वह पवित्र ग्रंथ है, जिसमें हजरत मुहम्मद के पास ईश्वर के जरिए भेजे संदेश शामिल हैं

Categories
विदेश

फ्रांस की अदालत ने बुर्कीनी पर लगे बैन को हटाया

फ्रांस की उच्चतम अदालत ने वीलनव लूबे शहर में मुस्लिम महिलाओं के पूरे शरीर को ढकने वाले स्विमसूट यानी बुर्कीनी पहनने पर लगे बैन को खारिज कर हटा दिया है। इससे बाकि शहरों में लगा बैन भी हट जाएगा।

एक तरफ बिकनी पहनी महिला और दूसरी तरफ बुर्कीनी पहनी महिला

काउंसिल ऑफ स्टेट ने लीग ऑफ ह्यूमन राइट्स की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा, विलनव लूबे में बुर्कीनी पर लगा बैन व्यक्तिगत आजादी, विचारों की आजादी और बेरोकटोक आने और जाने के अधिकार का गंभीर और साफ़ तौर पर उल्लंघन है।

वहीं, कोर्ट के इस फैसले के बाद फ्रांस के प्रधानमंत्री मैनुएल वाल्स ने कहा है कि इस पर बहस अभी खत्म नहीं हुई है। यह पहनावा इस्लामवाद और पिछड़ापन का प्रतीक है। फ्रांस को एक एक अधुनिक और धर्मनिरपेक्ष इस्लाम की जरूरत है न कि विचारों के साथ टकराव करने वाली बुर्कीनी ड्रेस की।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
धार्मिक

अब हाजी अली में महिलाओं को मिलेगी एंट्री

आज मुंबई हाईकोर्ट में सुनवाई के बाद आज हाजी अली दरगाह के अंदरूनी हिस्से तक महिलाओं को जाने की अनुमति मिल गई है। पहले महिलाएं सिर्फ बाहर तक ही जा पाती थीं, अंदर मजार तक उन्हें अनुमति नही थी।

जस्टिस वीएस कनाडे और जस्टिस रेवती मोहित-डेरे की खंडपीठ मामले की सुनवाई कर रही है।

हाजी अली

अगस्त 2014 में नूरजहां साफिया नियाज ने इस मामले की याचिका दायर की थी। और सूफी संत हाजी अली के मकबरे तक महिलाओं के प्रेवश की इजाजत मांगी थी।

वहीं इस मामले पर दरगाह के ट्रस्ट का कहना है कि यह प्रतिबंध इस्लाम का अभिन्न अंग है और महिलाओं को पुरुष संतों की कब्रों को छूने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। अगर ऐसा होता है और महिलाएं दरगाह के भीतर प्रवेश करती हैं तो यह ‘पाप’ होगा।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

प्यार के लिए पहली मुस्लिम मिस यूएसए बनी क्रिश्चियन!

पहली मुस्लिम मिस यूएसए बनने वाली रीमा फकीह ने अपना इस्लाम धर्म छोड़ दिया है। उनके इस फैसले के पीछे वजह हैं उनकी शादी..! जी हां, 30 वर्षिय रीमा फकीह ने ट्विटर पर इस बात की घोषणा की।

रीमा ने म्यूजिक प्रोड्यूसर वासिम सालिबि के साथ शादी करने जा रही हैं। वासिम मैरोनाइट क्रिश्चियन हैं। शादी के लिए रीमा ने अप्रैल में क्रिश्चियन धर्म अपना लिया है। अब दोनों ही लेबनान जाएंगे, और वहां जाकर शादी के बंधन में बंध जाएंगे।

रीमा फकीह

रीमा शिया मुस्लिम परिवार से हैं उनके अनुसार धर्म को लेकर उन लोगों की सोच काफी लिबरल है और सभी धर्मा की सराहना करता है। उनके मुताबिक धर्म से उनके और उनके परिवार की जिंदगी तय नही होती।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in