Categories
भारत

आईएसआई का तीसरा एजेंट मुंबई से गिरफ्तार

पाकिस्तान से पैसा जमा करने का निर्देश मिलता था


 

यूपी और महाराष्ट्र एटीएस के संयुक्त कारवाई से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एक ओर जासूस पकड़ा गया है। जासूस मुंबई के अग्री पाड़ा से पकड़ा गया है।

पाक उच्चाधिकारी के संपर्क में थे

आपको बता दें इससे पहले एटीएस ने फैजाबाद और मुंबई से दो पाकिस्तानी जासूस जावेद और अल्ताफ कुरैशी को गिरफ्तार किया था। जावेद को पाकिस्तान से पैसा जमा करने का निर्देश मिलता था।

इन दोनों से मिली जानकारी के बाद ही मुंबई के अग्री पाड़ा पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान जावेद के पुत्र इकबाल का गिरफ्तार किया गया। उसके पास से पुख्ता प्रमाण मिले हैं कि उसने एक पाक एजेंट के निर्देश पर आफताब के खाते में पैसा जमा किया था।

 

पकड़े गए आईएसआई जासूस


 

आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि यह दोनों जासूस पाकिस्तान उच्चायोग के एक आधिकारी से संपर्क में थे। अल्ताफ और जावेद को मुंबई के कोर्ट में इंस्पेक्टर अविनाश मिश्र द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा। वहां से ट्रांजिट रिमांड का आदेश लेकर लखलऊ लाया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार भारत द्वारा अक्टूबर में किए गए सार्जिकल स्ट्राइक के बाद से सेना के कामकाज पर नजर रखने के लिए पाकिस्तान ने हायर किया था।

पहली गिरफ्तारी फैजाबाद से हुई थी

गौरतलब है कि यूपी एटीएस और सेना की संयुक्त कारवाई से ही आफताब अली को फैजाबाद से पकड़ा जा सका था।

अफताब के पास से संदिग्ध कागजात,कैंट एरिया का नक्शा, आतंकी लिटरेचर और कई चिट्ठियां भी बरामद हुई है।

आफताब की गिरफ्तारी के बाद से ही इस नेटवर्क में काम करने वालों पर एटीएस की नजर थी। इसी दौरान यूपी एटीएस की टीम ने मुंबई में महाराष्ट्र की टीम के साथ मिलकर रुम नंबर 201, युसूफ मंजिल,डॉ आनंद राव मेन रोड, मुंबई पर छापा मारा और वहां से अल्ताफ कुरैशी को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी अल्ताफ कुरैशी पुत्र हनीफ मूलरुप से दोरजी, गुजरात का रहने वाला है। एटीएस के मुताबिक अल्ताफ हवाला का अवैध कारोबार करता है। वह आईएसआई के कहने पर फैजाबाद से पकड़े गए एजेंट आफताब के खाते में पैसा जमा करता था। अल्ताफ के पास से लगभग 70 लाख रुपये भी बरामद किए गए है।

Categories
भारत

भारतीय संसद पर हमले की आशंका

भारतीय संसद पर हमले की आशंका


भारतीय संसद पर हमले की आशंका:- सार्जिकल ऑपरेशन के बाद से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई बौखलाई हुई है। सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी भारत में आतंकी हमला करवा सकती हैं।

मसूद अजहर संसद पर करवा सकता है हमला

एक अंग्रेजी अखबार की खबर के अनुसार आईएसआई ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से कहा है कि कैसे भी करके भारत मे हमलाकर सर्जिकल ऑपरेशन का बदला लिया जाए।

अबतक मिली जानकारी के अनुसार जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर फिर से भारतीय संसद पर हमला करने की तैयारी कर रहा है।

इससे पहले साल 2001 में जैश-ए-मोहम्मद ने अफजल गुरु की मदद से संसद पर हमला किया था।

भारतीय खुफियां एजेंसी और जम्मू कश्मीर की सीआईडी को जानकारी मिली है कि पाक अधिकृत कश्मीर पर किए गए सर्जिकल ऑपरेशन का बदला लेने की तैयारी कर रहा है जिसके दिखते हुए सुरक्षाबलों को सतर्क कर दिया गया है

भारतीय संसद

दिल्ली सचिवायल भी निशाने पर

भारतीय खुफियां एजेसियों को मिली जानकारी के मुताबिक जैश-ए- फिदायीन अगर संसद पर हमला करने में नाकाम होते है तो वो दिल्ली सचिवालय. लोटस टैंपल और अक्षरधाम पर हमला कर सकते है।

अबतक मिली जानकारी के अनुसार जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी अगर किसी प्रमुख स्थान  पर हमला नही कर पाए तो वो भीड़ भाड़ वाली जगहों पर भी हमला कर सकते हैं।

वैसे तो उरी हमले के बाद से ही भारतीय संसद की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। लेकिन अब दोबारा  ऐसे हालात को देखते हुए संसद की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

कड़ी हुई संसद की सुरक्षा

कुछ दिनों पहले ही आम आदमी पार्टी के सांसद भगवत मान द्वारा संसद की वीडियो बनाए जाने के बाद ही संसद की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की गई थी। यह वीडियो सोशल साइट पर बहुत वायरल भी हुई थी।

एक फिर भी किसी गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए संसद की सुरक्षा को एक बार फिर बढ़ा दिया गया है। खुफिया एजेंसियों द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर संसद में लगातार सुरक्षा का जायजा लिया जा रहा है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

जल्द ही बैन होगा सैन्य कार्यालयों में सोशल साइट्स का इस्तेमाल!

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को खुफिया जानकारी देने पर पकड़े गये एजेंट रंजीत के बाद रक्षा मंत्रालय ने सैन्य कार्यालयों में एक अहम फैसला लेने की योजना बना रही है।

यह फैसला है सैन्य कार्यालयों में सोशल साइट्स के इस्तेमाल को बैन करने का। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, यह मामला सामने आने के बाद मंत्रालय की ओर से यह कदम उठाया जा सकता है।

कुछ दिनों में रक्षा मंत्रालय सेना के उच्चाधिकारियों को इस बारे में लिखित आदेश जारी करेंगे।

गौरतलब है कि गिरफ्तार किये रंजीत को सोशल साइट फेसबुक पर ही पाकिस्तान की खुफिया एंजेसी आईएसआई ने दामिनी नाम की फेसबुक आईडी से संपर्क बनाया था, जिसमें दामिनी ने खुद को अमेरिकी मैगजीन की रिपोर्टर बताया था। दामिनी ने रंजीत से वायुसेना से जुड़ी कई अहम और खुफिया जानकारियां हासिल कि थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at

info@oneworldnews.com