Categories
मनोरंजन

Death anniversary- इरफान की शानदार फिल्में जो देती है सामाजिक संदेश

आज भी लोगों को जहन में बसे है इरफान साहब


फिल्म में रुहेदार का वह शब्द कई सदियों तक लोगों के जहन में बसा रहेगा। इरफान खान बॉलीवुड का वह नयाब सितारा जिसने पिछले साल अपने फैन्स का साथ छोड़ दिया। पिछले साल 29 अप्रैल की वह सुबह 11 बजे टेलीविजन की स्क्रीन पर बनती ब्रेकिंग न्यूज “नहीं रहे एक्टर इरफान खान” ने लोगों को पूरी तरह से सन्न कर दिया था। इरफान साहब के फैन्स इस बात को मानने को तैयार ही नहीं थे कि उनके चाहते उनके बीच नहीं रहे। अब एक्टर को गुजरे हुए पूरा एक साल हो गया है। इस दौरान वह अपने फैन्स के दिलों में आज भी जिंदा है। जिसका नतीजा यह है कि आज भी लोग उनके फिल्मों को चाव से देखते हैं। इतना ही नहीं कई फैन्स उनकी आवाज के भी दीवाने हैं। फिल्म के डायलॉग में उनकी बोलती आंखें आज भी उनके फैन्स का ध्यान अपनी ओर खींचती हैं। मीडिल क्लास फैमिली में जन्म लेने वाले एक्टर इरफान खान ने बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपनी एक्टिंग का लोहा मनवा था। तो चलिए आज आपको उनकी कुछ ऐसी फिल्मों के बारे में बताएंगे जो समाज को कुछ संदेश देती हैं।

हिंदी मीडियम

साल 2017 में साकेत चौधरी के निर्देशन में बनी फिल्म हिंदी मीडियम ने समाज के उस पहलू को दिखाने की कोशिश गई है जहां सिर्फ अंग्रेजी माध्यम के बच्चों को ही अच्छा माना जाता है। अंग्रेजी मीडियम के बच्चों और उनके पैरेंट्स का एक क्लास  होता है। लेकिन इन मुद्दों को नकारते हुए यहां बताया गया है कि ज्ञान के लिए माध्यम की कोई जरुरत नहीं है। माता पिता को अपनी हालात के हिसाब से शिक्षा दें। बच्चों को लिए शिक्षा के जरुर है माध्यम नहीं।

और पढ़ें: जाने ऋषि कपूर के उन यादगार किरदारों के बारे में, जिनसे वो सभी लोगों के दिलों में सदा रहेंगे जिन्दा

अंग्रेजी मीडियम

एक्टर के इंतकाल से कुछ समय पहले ही यह फिल्म ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई थी। इस फिल्म के रिलीज होने से पहले इरफान खान ने एक भावुक मैसेज दिया था। जिसने लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा था। इस फिल्म को भले ही कॉमेडी के रुप दिखाया गया है। लेकिन इस कॉमेडी के पीछे एक बहुत बड़ा मैसेज है। जिसे लोगों को समझने की जरुरत है। फिल्म की कहानी एक पिता और बेटी की है। जहां एक कम पढ़ा पिता और विदेश में बेटी को पढ़ाने की जिद्द किसी भी हद तक उसको गुजरने के लिए मजबूर कर देती है। जहां यह बताया जा रहा है कि बेटियों को पढ़ाना बहुत जरुरी है। भले ही आपकी स्थिति कैसी भी हो। लेकिन बच्चों को विदेश में ही पढ़ने की जिद्द नहीं करनी चाहिए।

करीब-करीब सिन्गल

यह फिल्म एक रिश्ते पर आधारित है। जहां यह बताने की कोशिश की गई है कि शादी के लिए जरुरी है कि आप किसी इंसान को अच्छे से जान लें। अगर उसके साथ अपने आपको कम्फर्टेबल महसूस करते हैं तभी अपने रिश्ते को आगे बढ़ाए। घर वालों को मर्जी से जरुर शादी करें लेकिन उससे पहले जिससे आपकी शादी होने वाली है उसे अच्छी तरह से जान लें।

हासिल

साल 2003 में तिग्मांशु धूलिया के निर्देशन में बनी यह फिल्म इलाहाबाद युनिर्वसिटी के छाक्षों के जीवन पर आधारित है। यह फिल्म इरफान खान के करियर के शुरुआती दौर में बनाई थी। जहां उन्होंने एक विलैन का रोल प्ले किया है। जिसमें छात्र जीवन के उसे हिस्से को दिखाया गया है जहां किसी की एक गलती उसके पूरे जीवन क बर्बाद कर देती है। इस फिल्म को स्टूडेंट्स को जरुर देखनी चाहिए।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मनोरंजन

बॉलीवुड एक्टर इरफान खान के 10 ऐसे डायलॉग जो सिखाते है खुल कर ज़िन्दगी जीना

Irrfan Khan best dialogues: बॉलीवुड एक्टर इरफान खान का 53 साल की उम्र में निधन


Irrfan Khan best dialogues: आज एक बार फिर पुरे बॉलीवुड में शोक की लहर दौड़ गई है। आज बॉलीवुड के मशहूर एक्टर इरफान खान का निधन हो गया। बीते कुछ दिनों से उनकी  स्वास्थ्य खराब होने के कारण उनको मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी तबीयत अचानक बिगड़ी थी, जिसके बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती करना पड़ा था। इरफान खान की इस खबर के बाद पूरा बॉलीवुड शोक में डूब गया। 2018 में इरफान खान को पता चला था कि उनको न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर है। वह इसके इलाज के लिए लंदन भी गए थे। करीब एक साल इलाज कराने के बाद वह भारत वापस लौटे थे। आज जब बॉलीवुड के मशहूर एक्टर इरफान खान हमारे बीच नहीं रहे। तो ऐसे में रह गयी है तो बस उनकी यादें । चलिए आज हम आपको इरफान खान के 10 दिलचस्प डायलॉग्स के बारे में बताते है।

इरफान खान के 10 दिलचस्प डायलॉग्स

1. तुमको याद रखेंगे गुरु हम आई लाइक आर्टिस्ट: ये डायलॉग्स “हासिल” फिल्म का है। हासिल इरफ़ान खान की शुरुआती फिल्मों में से एक है। जो छात्र राजनीति पर आधारित थी। इस फिल्म ने आलोचकों में काफी सराहना बटोरी थी।

2. शराफत के दुनिया का किस्सा ही खत्म. अब जैसी दुनिया वैसे हम: ये डायलॉग्स “जज्बा” फिल्म का है जो आज भी काफी मशहूर है।

3. पिस्टल की ठंडी नाली जब कनपटी पर लगती है ना, तब जिंदगी और मौत का फर्क समझ में आता: साल 2006 में आई फिल्म “द किलर” का ये डायलॉग जितना बेहतरीन है उससे कहीं ज्यादा इसे कहने का अंदाज रहा।

4. कहो हां: साल 2012 में आई फिल्म “पान सिंह तोमर” आज भी सबके जुबान पर चलती रहती है। इस फिल्म के लिए इरफ़ान खान को 2013 में बेस्ट एक्टर के अवॉर्ड से नवाज़ा गया था।

और पढ़ें: इंटरनेशनल डांस डे के मौके पर जानिए B- Town के 5 ब्रिलियंट डांसर के बारे

5. इश्क़ का एक प्रोब्लम है, अगर एक की लगी तो दुसरे की भी लगनी है कभी न कभी: ये डायलॉग्स इरफान खान की फिल्म “ये साली ज़िन्दगी” का है। जो आज भी काफी मशहूर है।

6. ये शहर हमें जितना देता है बदले में उससे ज्यादा ले लेता है: ये डायलॉग्स इरफान खान की फिल्म “लाइफ इन ए मेट्रो” का है ये फिल्म 2007 में आयी थी। और इसका ये डायलॉग्स काफी मशहूर हुआ था।

7. सिर्फ इन्सान गलत नहीं होते, वक़्त भी गलत हो सकता है: ये डायलॉग्स इरफान खान की फिल्म “डी-डे” का है जो 2013 में आयी थी।

8. पिस्टल की गोली और लोंडिया की बोली जब चलती है…तो जान दोनों में ही खतरे में होती है: इरफान खान की फिल्म “गुंडे” जो 2014 में आयी थी इसका ये डायलॉग्स काफी मशहूर हुआ था।

9. बाज़ चूज़े पर झपटा, उठा ले गया ,कहानी सच्ची पर अच्छी नहीं लगती…बाज़ पर पलटवार हुआ, कहानी सच्ची नहीं पर अच्छी लगती है: ये डायलॉग्स इरफान खान की फिल्म “मदारी ” का है इस फिल्म ने साबित कर दिया था की इरफान खान से अच्छा कोई नहीं।

10. शैतान की सबसे बड़ी चाल है कि वो सामने नहीं आता: ये डायलॉग्स इरफान खान की फिल्म “कसूर” का है। इस फिल्म का ये डायलॉग आज भी लोगों की जुबान पर रटा हुआ है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com