Categories
लेटेस्ट

Indira Gandhi Birth Anniversary : भारत की आयरन लेडी ‘इंदिरा गाँधी’ की है आज 102वी जयंती

Indira Gandhi Birth anniversary: क्यों लगानी पड़ी थी इंदिरा गाँधी को इमरजेंसी?


आज भारत की ‘आयरन लेडी’ और पहली  प्रधानमंत्री ‘इंदिरा गांधी’ का आज जन्मदिन है। जब भी देश को चांद पर ले जाने की बात कही जाएगी इंदिरा गांधी का नाम आएगा और जब भी देश को परमाणु शक्ति बनाए जाने की बात लिखी जाएगी तब भी इंदिरा का नाम लिया जाएगा। यही नहीं जब भी पाकिस्तान को धूल चटाने की बात कही जाएगी तब  इंदिरा गांधी का नाम सुनहरे शब्दों में लिखा जाएगा। वह इंदिरा गांधी ही थी जिसने पाकिस्तान में बांग्लादेशियों को मुक्त कराने के लिए लंबी लड़ाई लड़ी और आज है इंदिरा गांधी की 102वीं जयंती है। इंदिरा पहली नेता  थी जिन्होंने सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी अपने इरादों का डंका बजाया  था।

देश की पहली महिला प्रधानमंत्री थी इंदिरा गाँधी

जब भी अंतरिक्ष की बात होती है तो इंदिरा का नाम ज़रूर आता है। अंतरिक्ष में अपना झंडा स्क्वाड्रन लीडर राकेश शर्मा के रूप में फेहराया था। जब राकेश शर्मा से वो बात करते हुए पूछा कि अंतरिक्ष से भारत कैसा लग रहा है तो उन्होंने कहा था ‘सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा। इंदिरा ने ही सत्ता से बाहर फेंके जाने के डर के बाद भी पंजाब में फैले उग्रवाद को उखाड़ फेंकने के लिए कड़े फैसले लिए और ऑपरेशन ब्लू स्टार चलाया और स्वर्ण मंदिर तक सेना भेजी थी।

क्यों लगाई इमरजेंसी?

भारत में धीरे-धीरे असंतोष बढ़ता जा रहा था। तो इसकी वजह से इंदिरा को लगने लगा की उनकी प्रजा उनके विरोध में उतरने लगी है। तो उनके खिलाफ उठ रही आवाज को दबाने के लिए इमरजेंसी का सहारा लिया। आपातकाल के समय देवकांत बरुआ कांग्रेस के अध्यक्ष थे और उन्होंने एक नया नारा दिया था ‘इंडिया इज इंदिरा’ और ‘इंदिरा इज इंडिया।’

और पढ़ें: भारत के 47वें चीफ जस्टिस बने शरद अरविंद बोबडे

इंदिरा को आभास था मृत्यु का:

इंदिरा को पहले ही पता चल गया था की उनकी मृत्यु निकट है। 30 अक्टूबर को जब वो भाषण दे रही थी तो उन्होंने कहा था की ‘मैं आज यहां हूं, कल शायद यहां न रहूं। मुझे चिंता नहीं मैं रहूं या न रहूं। मेरा लंबा जीवन रहा है और मुझे इस बात का गर्व है कि मैंने अपना पूरा जीवन अपने लोगों की सेवा में बिताया है। मैं अपनी आखिरी सांस तक ऐसा करती रहूंगी और जब मैं मरूंगी तो मेरे खून का एक-एक कतरा भारत को मजबूत करने में लगेगा।’

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
मूवी-मस्ती

फिल्म ’31 अक्टूबर’ का असर होगा पंजाब चुनाव पर

फिल्म ’31 अक्टूबर’ का असर होगा पंजाब चुनाव पर


फिल्म ’31 अक्टूबर’ का असर होगा पंजाब चुनाव पर:- पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद से भड़के सिख दंगों पर आधारित फिल्म ’31 अक्टूबर’ में बॉलीवुड की अभिनेत्री सोहा अली खान एक सिख महिला का किरदार निभा रही हैं। सोहा अली खान इन दंगों में अपने परिवार की जिंदगी बचाने की जद्दोजहद करती नजर आएगीं।

सोहा अली खान ने फिल्म की वजह से पंजाब में आने वाले चुनावों पर पड़ने वाले असर और फिल्म पर हो रही राजनीति के बारे में बात करते हुए कहा, कि यह फिल्म सिख दंगों की हकीकत से लोगों को रू-ब-रू कराएगी। ऐसे लोग, जो इन दंगों की वास्तविकता के बारे में नही जानते, वे फिल्म देखकर उस दर्द को समझ पाएंगे, जिनसे पीड़ित गुजरे है।

फिल्म ’31 अक्टूबर’ पोस्टर

यहाँ पढ़ें : आखिरकार इंदिरा गांधी हत्याकांड पर बनी फिल्म को सेंसर बोर्ड से मिली मंजूरी

आने वाले पंजाब चुनाव पर फिल्‍म का असर

अगले साल 2017 में पंजाब में विधानसभा चुनाव होने वाले है। जब सोहा अली खान से यह पूछा गया, कि क्या इस फिल्म का पंजाब के चुनाव पर असर पड़ेगा, तो जवाब में सोहा ने कहा, कि यह फिल्म किसी भी राजनीतिक पार्टी का विरोध नहीं करती है और फिल्म में सिर्फ सच्चाई को उजागर किया गया है। मगर फिर भी इसका थोड़ा बहुत असर पंजाब चुनाव पर पड़ेगा ही।

सोहा अली खान
यहाँ देखें : सिख दंगों पर आधारिक फिल्म 31 अक्टूबर का पहला गाना रिलीज

फिल्म भाईचारे के बारे में है

सोहा अली खान ने फिल्म की कहानी बताते हुए कहा, कि इस फिल्‍म में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद मचे कत्लेआम में एक परिवार की खुद को बचाने की जद्दोजहद दिखाई गई है। यह देखना काफी मार्मिक होगा। सिख दंगों के दौरान गैर समुदाय के काफी लोगों ने अपनी जान खतरे में डालकर सिखों को बचाया था। यहां तक कि दो-तीन दिनों तक सिखों को अपने घरों में छिपाकर भी रखा था। यह फिल्म राजनीति के बारे में नहीं है, बल्कि भाईचारे के बारे में है।

फिल्‍म पर सेंसर बोर्ड की कैंची

फिल्म ’31 अक्टूबर’ की रिलीज होने की तारीख जैसे-जैसे पास आ रही है, विवाद उतना ही बढ़ता जा रहा है। फिल्म का विषय विवादास्पद होने के कारण सेंसर बोर्ड की कैंची की धार फिल्म पर कुछ ज्यादा ही तेज चल रही है। सोहा कहती है,कि सेंसर बोर्ड बस प्रमाणन बोर्ड है। वह सिर्फ फिल्मों को प्रमाणपत्र दे, बाकी दर्शकों पर छोड़ दे। आम दर्शक खुद तय करेगा, कि उसे क्या देखना है और क्या नहीं देखना है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
एजुकेशन

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू


भारतीय छात्रों के लिए नयी छात्रवृत्ति की घोषणा

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू पूरे विश्व में प्रसिद्ध संस्थान ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने कानून की पढ़ाई करने वाले सभी भारतीय छात्रों के लिए एक नयी छात्रवृत्ति शुरू करने की घोषणा आज की है।

दरअसल, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के सोमरविल कॉलेज में यह नयी छात्रवृत्ति कोर्नेलिया सोराबजी की याद में शुरू की गयी है। बता दें, कोर्नेलिया सोमरविल में कानून की शिक्षा लेने वाली वाली पहली महिला छात्रा थी। साथ ही कोर्नेलिया सोराबजी ब्रिटेन के किसी भी विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने वाली पहली भारतीय महिला भी थीं। कोर्नेलिया सोराबजी ने वर्ष 1889 में यहां दाखिला लिया था। साथ ही कोर्निलिया सोराबजी भारत और ब्रिटेन देश में कानून की प्रैक्टिस करने वाली पहली महिला थीं।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय लोगो

यहाँ पढ़ें : एनआईआरएफ ने इंडिया रैंकिंग 2017 की घोषणा की

छात्रवृत्ति के तहत 50 प्रतिशत तक का वहन

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के द्वारा की गई, छात्रवृत्ति की घोषण के तहत पूरी डिग्री के खर्च का 50 प्रतिशत तक का वहन किया जाएगा। इस डिग्री का शिक्षण शुल्क 36,000 पाउंड है, जिसमें पढ़ाई के साथ ही रहन-सहन का खर्च भी शामिल है।

दिव्या शर्मा ने हासिल की पहली कोर्नेलिया सोराबजी छात्रवृत्ति

इस साल ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय अपनी 150वीं सालगिरह मना रहा है। दिव्या शर्मा जो की चंडीगढ़ की रहने वाली है, दिव्‍या कानून में कोर्नेलिया सोराबजी छात्रवृत्ति हासिल करने वाली पहली छात्रा बन गई हैं। दिव्‍या शर्मा इस हफ्ते से वहां बैचलर ऑफ सिविल लॉ की पढ़ाई शुरू करने वाली है।

कोर्नेलिया ने इंदिरा गांधी के सहित एक रास्ता खोला

सोमरविल कॉलेज की प्रोफेसर एलिस प्रोचास्का ने कहती है, कि कोर्नेलिया सोराबजी जबरदस्त भावना और साहस वाली महिला थी। कोर्नेलिया सोराबजी ने पूर्व भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साथ मिलकर बहुत सारे भारतीय छात्रों के लिए सोमरविल में एक रास्ता खोला था। साथ ही य‍ह भी कहा, कि भारत देश हमारे कॉलेज के लिए काफी महत्व रखता है। इस कोर्नेलिया सोराबजी छात्रवृत्ति से और स्नातक छात्रों के उनके पदचिन्हों का अनुसरण करने का रास्ता खुलेगा।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
एजुकेशन

1500 रूपये में करें योग साइंस में फाउंडेशन कोर्स

भारतीय खेल प्राधिकरण और मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान के सहयोग से योग साइंस में एक महीने का फाउंडेशन कोर्स चलाया जाएगा और 10वीं पास युवा इस कोर्स के लिए आप्‍लाई कर सकते हैं।

योग कोर्स चार स्टेडियमों में चलाया जाएगाः-

  • डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्वीमिंग पूल कॉम्पलेक्स
  • मेजर ध्यान चंद नेशनल स्टेडियम
  • योग साइंस में फाउंडेशन कोर्स

  • इंदिरा गांधी स्टेडियम कॉम्पलेक्स
  • जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम

इस कोर्स की फीस कुल 1000 रुपये + 500 रुपये है। इच्‍छुक युवा एप्लीकेशन फॉर्म को 25 रुपये में मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान से प्राप्त कर सकते है।

आप को बता दें, इस कोर्स में आवेदन की अंतिम तारीख 31 अगस्त है। अधिक जानकारी के लिए उम्‍मीदवार यहां http://yogamdniy.nic.in/ क्लिक करें।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

राजीव गांधी जी की जयंती पर देश उन्‍हें याद कर रहा है- नरेन्‍द्र मोदी

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार यानि आज भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 72वीं जयंती पर श्रद्धांजलि दी है। नरेन्‍द्र मोदी ने ट्वीट किया है कि, पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी जी की जयंती पर देश उन्‍हें याद कर रहा है।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बेटे और कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी अपने पिता को याद करते हुए ट्वीटर पर लिखा है, राजीव जी को याद करते हुए, उनकी दूरदर्शिता, उनके मूल्य तथा लोगों के प्रति समर्पण हमारी प्रेरणा है।

आप को बता दें, राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था और वर्ष 1984 से 1989 के बीच देश के प्रधानमंत्री रहे। राजीव गांधी ने वर्ष 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद पद्भार संभाला था। 21 मई 1991 को तमिलनाडू में आत्मघाती हमले में राजीव गांधी की हत्या कर दी गई थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

जानें, 70 सालों में देश की महिलाओं का योगदान

देश को आजाद हुए आज 70 साल हो गए है। इन 70 सालों में देश में कई बदलाव हुए हैं। आईटी मूवमेंट से लेकर देश में बुलेट ट्रेन लाने तक कई तरह के बदलाव आए हैं।

देश में इतने बड़े बदलाव में महिलाओं का भी उतना ही योगदान है जितना की पुरुषों का है। घर के चौके से लेकर ऑफिस और खेत से लेकर संसद तक हर जगह महिलाओं का ही दबदबा है।

भारतीय महिलाएं

देश में पहला आम चुनाव 1951-52 में हुआ था। पहले आम चुनाव में 22 महिलाएं सांसद देश से मनोनीत होकर लोकसभा में आई थी। 70 सालों में अब लोकसभा में 66 महिला सांसद है।

देश में महिलाओं की शक्ति बढ़ती जा रही है। अब महिलाएं सिर्फ घर की चारदीवारी तक ही सीमित ही नहीं रह गई है। आज भारतीय महिलाएं स्पेस तक पहुंच गई है।

चलिए आज आपको बताते है कहां-कहां महिलाओं ने अपनी पहली मौजूदगी दर्ज कराई है।

इंदिरा गांधी

सबसे पहले बात राजनीति की करते है। राज घराने से संबंध रखने वाली इंदिरा गांधी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी वहीं विश्व की तीसरी महिला प्रधानमंत्री रही। इंदिरा गांधी द्वारा लगाई इंमरजेंसी को कैसे भूल सकते है जिसने पूरे देश को हिला कर रखा दिया था। सुमित्रा महाजन देश की पहली स्पीकर बनी और प्रतिभा पाटिल देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनी।

शिल्पा सेठी

अब बात करते है मनोरंजन जगत की साल 2007 में एक्टर शिल्पा सेठी ने ब्रिटिश टीवी सीरियल ‘बिग ब्रदर्स’ का खिताब जीतकर गोरों के देश में अपने देश नाम ऊंचा किया। वहीं प्रियंका चोपडा और दीपिका पादुकोण ने अमेरिका की टीवी सीरियल में काम करने वाली देश की पहली महिला बनी है।

अंजू जॉर्ज बॉबी

अब बात करते है खेल है कि अंजू बॉबी जार्ज देश की पहली एथलीट है जिसने ब्रांज मेडल जीतकर वर्ल्ड चैपिंयनशिप जीतकर देश का नाम ऊंचा किया और अभी तक उसका किसी ने रिकॉर्ड नहीं तोड़ा है। सानिया मिर्जा ने टेनिस के द्वारा देश में क्रांति ला दी। सानिया देश की पहली महिला टेनिस प्लेयर बनी है। उसने सिंगल और डब्ल में खिताब जीते है। मैरी कॉम देश की पहली महिला बॉक्सर है जिसने लगातार छह वर्ल्ड चैंपियन खिताब बॉक्सिंग में जीते हैं। अब बात करते है दीपा करमाकर जो भारत की पहली जिनमॉस्ट बनी है और उम्मीद की जा रही है कि वह इस साल ओलंपिक से खिताब जीतकर ले आए।

कल्पना चावला

अब बात सांइस की, कल्पना चावला देश की पहली महिला है जो स्पेस पर गई थी। लेकिन दुर्भाग्य वह वहां से जिंदा वापस नहीं आ पाई।

अरुधंति भट्टाचार्य

अब बात करते है आर्थिक जगत की अरुंधति भट्टाचार्य की जो देश की पहली महिला है जो देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक की चैयरपर्सन बनी।

फतिमा बीबी

अब बातें की न्याय की फातिमा बीबी देश की पहली महिला है जो सुप्रीम कोर्ट पहली न्यायधीश बनी थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at

info@oneworldnews.in

Categories
मूवी-मस्ती

आखिरकार इंदिरा गांधी हत्याकांड पर बनी फिल्म को सेंसर बोर्ड से मिली मंजूरी

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या और उसके बाद होने वाली घटनाओं पर आधारित फिल्म ‘31 अक्टूबर’ को आखिरकार सेंसर बोर्ड द्धारा पास कर दिया गया है।

सेंसर बोर्ड की समीक्षा समिति ने कई सीन्स की काटछांट और चार महीने की देरी के बाद इस फिल्म को हरी झंडी दी है।

13 अक्टूबर

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्माता शिवाजी लोटन पाटिल के निर्देशन में बनी ‘31 अक्टूबर’ फिल्म में सोहा अली खान और वीर दास मुख्य किरदार में नजर आएंगे।

आपको बता दें, इंदिरा गांधी की हत्या उनके दो सिख बॉडीगार्डो ने 31 अक्टूबर, 1984 को कर दी थी। इस कांड के बाद के हालातों को इस फिल्म में दर्शाया गया है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

दिन में छा गया अधेंरा, जिससे मिली दिल्लीवालों को राहत

दिल्ली में आज दोपहर अचानक मौसम बदल गया, जिससे दिल्लीवालों को बडी राहत मिली है। दिल्ली के कई इलाकों में धूल भरी आंधी और तेज हवाएं चली हैं। जिसके बाद आसमान में बादल भी छाए हुए हैं और बारिश हो रही है।

दिन में छा गया अधेंरा

पिछले दिनों दिल्ली का पार 50 डिग्री को भी छू गया था, जिससे दिल्लीवाले गर्मी के कहर से बेहद ही परेशान थे। आज बारिश होने से लोगों को थोडी राहत मिली।

कहीं बदलते मौसम ने राहत दी है, तो वहीं इसी मौसम के चलते कुछ लोगों के लिए परेशानी खडी हो गई है। दिन में अंधेरा छा जाने के कारण विमानों की उड़ान में दिक्कतें आ रही हैं। दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उड़ानों की टेकऑफ और लैंडिंग प्रभावित हुई है ।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in