Categories
बिना श्रेणी

मानसून में दस्तक देने वाली है बीमारिया, बचने के लिए अपनाएं ये आदतें

बारिश के दिनों में बीमारियों को रखें घर से दूर

भारत में मानसून जल्द ही दस्तक देने वाला है. मानसून आना बेहद सुखद अहसास होता है और ये काफी जरूरी भी हैलेकिन इस मौसम में संक्रमण के चलते कई बीमारियों का खतरा पैदा हो जाता है. भारत जैसे देशों में डेंगूमलेरिया और चिकनगुनिया जैसे रोग कई मरीजों के लिए मौत का पैगाम बनकर सामने आता है. बारिश जहाँ अपने साथ ठंडक और राहत लेकर आती है वहीँ कुछ कीटाणु और बीमारियों को भी अपने साथ लाती है.  ऐसे में जरुरत है की हम अपने घर और बच्चो को बीमारी से बचाने की पूरी कोशिश कर सकते हैं.

मानसून में इन बिमारियों से बचना है जरुरी

बारिश के मौसम में सर्दी और खांसीमलेरियाडेंगूपेट का संक्रमणदस्तबुखारटाइफाइड और निमोनिया कुछ ऐसी बीमारियां हैं जो इस सूची में सबसे ऊपर आती हैं. इसके अलावा इस मौसम में मच्छरों के पनपने से डेंगूमलेरिया और चिकनगुनिया का सबसे ज्यादा खतरा होता है जिससे देश में हर साल सैकड़ों लोगों के मौत होती है. इन इन बीमारियों से बचने के लिए आपको किसी भी हाल में नीचे दिए गए उपायों पर काम करना चाहिए.

मानसून में स्वस्थ रहने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

बारिश में ज़रुरी है कि आप अधिक से अधिक पानी पियें.खासकर उबला हुआ पानी पियें क्योंकि बारिश से होने वाली बीमारियों को रोकने के लिए स्वच्छ पानी पीना महत्वपूर्ण है

हमेशा अपने साथ अपना छाता और रेनकोट ले जाना न भूलें.

बारिश में भीगने से बचें.

सोते समय फुल स्लीव शर्टपैंट और मोजे पहनें.

शरीर पर मच्छरों से बचाने वाली क्रीम का प्रयोग करें.

मानसून के दौरान कच्चे खाद्य पदार्थ खाने से बचें.

बारिश में क्या करें क्या नहीं

खाने से पहले सब्जियों और फलों को साफ पानी से अच्छी तरह धो लें.

हर बार बारिश में भीगने या घर वापस आने के बाद स्नान करना याद रखें क्योंकि स्नान करने से शरीर के तापमान को सामान्य करने में मदद मिलती है.

गर्म पानी या हर्बल चाय लें. सर्दी और खांसी से बचने के लिए अपने शरीर को सूखा और मध्यम गर्म रखें.

गीले बालों और नम कपड़ों के साथ एसी वाले कमरों में प्रवेश न करें.

जब भी आपका पैर भीगें तोसुखाना न भूलें. इससे फंगल इन्फेक्शन का खतरा कम रहता है.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com

Categories
सामाजिक

सिरदर्द के बारे मे कितना जानते है आप?

सिरदर्द के बारे मे आप क्या- क्या जानते है?


सिरदर्द के बारे मे आप क्या- क्या जानते है? सिरदर्द से तात्पर्य है सिर के एक या उससे अधिक हिस्सो मे साथ ही गर्दन के पिछले भाग मे हल्के से लेकर तेज पीङा का अनुभव होना । सिर दर्द के कई पैटर्न और कई कारण होते है। हालांकि, ज्यादातर सिरदर्द किसी गंभीर बीमारी की वजह से नही होता है।

सिरदर्द

Related : 6 कारण जो बनाते हैं अकेले समय बिताने वाले लोगों को अन्य लोगों से बेहतर

शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जिसने सिरदर्द अनुभव न किया हो। आज की भाग दौङ की जिदंगी मे सिरदर्द होना आम बात है। कभी अधूरी नींद के कारण, तनाव, दांत से दर्द, आखों की समस्या या वातावरण के कारण भी सिरदर्द हो सकता है।

सिर मे दर्द क्यो होता है?

सिर दर्द का कोई एक कारण नही होता ये बहुत तरीकें से होता है जैसे-

तनाव से होने वाला सिरदर्द- जीवन मे 90 प्रतिशत सिरदर्द के मामले तनाव से होता है। दिमाग की ओर खून का प्रवाह कम हो जाता है। इसलिए सिर के चारो ओर दर्द होता है।

सिर मे दर्द क्यो होता है?

Related : शरीर में पानी की कमी होने क्या होती है जानिए……

माइग्रेन- माइग्रेन सिर्फ दुखदायी दर्द नही है। कुछ लोगो को बिना सिरदर्द के भी माइग्रेन होता है। माइग्रेन क्यो होता है यह अभी तक पता नही चला। अब तक हुई खोज यह कहती है कि, यह किसी आनुवाशिक असामान्यता से उपजी तात्रिंका तंत्र की बीमारी है।

साइनस सिरदर्द- कई बार माइग्रेन को गलती से साइनस सिरदर्द समझ लिया जाता है। साइनस सिरदर्द तब होता है जब आपके साइनस मे संक्रमण हो जाता है उससे जलन होने लगती है।

सिरदर्द को ऐसे दे मात-

  • तनाव कम करे तनावरहित जीवन के लिए योग और ध्यान करें।
  • तनाव, चिंता या क्रोध जैसी भावनाओं को दबाने से सिरदर्द हो सकती है।
  • संतुलित आहार लेना चाहिए। ज्यादा समय तक भूखा ना रहे।
  • पानी की कमी भी सिरदर्द की एक वजह है। इसकलिए दिनभर मे कम से कम 7 से 8 गिलास पानी अवश्य पीये
  • रोजाना एक समय पर सोने और उठने की आदत डाले कम से कम 6 घंटे की अच्छी नींद ले।
  • ज्यादा समय तक कंप्यूटर या मोबाइल पर काम करने या गेम्स न खेले।
  • हमेशा अच्छा सोचे और अच्छे लोगो के साथ रहे। कोई नशा न करें।

सिर दर्द यह एक आम समस्या है पर यह किसी रोग का संकेत भी हो सकता है। अगर आपको बार -बार सिरदर्द होता है तो घर पर कोई दवा लेने से बेहतर है कि आप एक बार डाक्टर को दिखाए। बार सिरदर्द किसी बङी बीमारी का प्रथम लक्षण हो सकता है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in