Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

जेनेवा संधि क्या है और यह किन पर लागू होता है ?

जाने जेनेवा संधि से जुड़ी यह कुछ ख़ास बातें ?


इस बात से सभी वाकिफ है कि भारत और पाकिस्तान के बीच में कितना तनाव का माहौल बना हुआ. हाल ही में हुए पुलवामा अटैक के बाद भारत ने आतंकवाद को खत्म करने के लिए कड़ी कूट निति अपनाई है . जिसमे हमारी भारतीय वायुसेना ने पाक के आतंकी कैंपो पर हमला किया और उनके 300 आतंकियों को मार गिराया.उसके बाद से पाकिस्तान में बौखलाहट मच गई है .

वहीं भारत की और से किए गए एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने एयर स्ट्राइक के जरिए भारत के जवान के कैंपो को अपना निशाना बनाया जिसमे वह नाकाम रहे लेकिन पाक का एक जेट F- 16 क्रैश हो गया जो कि  भारत में गिरा , वही भारत का भी एक जेट MIG – 21 क्रैश हुआ जो कि पाक्सितान में गिरा लेकिन उसमे बैठे पायलट अभिनन्दन पाक की आर्मी के गिरफ्त में आ गये. लेकिन जेनेवा संधि के मुताबिक पाकिस्तान की आर्मी पायलट अभिनन्दन के साथ ही नहीं बल्कि किसी भी युद्धबंदियों के साथ किसी भी तरह का दुर्व्यवहार नहीं कर सकती. तो क्या है जेनेवा संधि एक बार जान ले ?

जाने जेनेवा संधि से जुडी यह कुछ ख़ास बातें ?

जेनेवा संधि जो है वो युद्धबंदियों के अधिकारों की रक्षा करता है. साथ ही इस संधि का उद्देश्य है युद्ध के वक्त मानवीय मूल्यों को बनाए रखने के लिए कानून तैयार करना. आपको बता दे की जेनेवा कन्वेंशन में मानवता को बरकरार रखने के लिए चार संधिया शामिल की गयी थी. पहली संधि 1864 में हुई थी. इसके बाद दूसरी संधि 1906 और तीसरी संधि 1929 में हुई. द्वितीय विश्व युद्ध के बाद 1949 में 194 देशों ने मिलकर चौथी संधि की थी.

यहाँ भी पढ़े : भारत ने पाक पर की बमबारी , लिया पुलवामा अटैक का बदला

साथ ही इंटरनेशनल कमेटी ऑफ रेड क्रास के मुताबिक जेनेवा संधि में युद्ध के दौरान गिरफ्तार सैनिकों और घायल लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना है इसको लेकर दिशा निर्देश दिए गए हैं. इसमें साफ तौर पर ये बताया गया है कि युद्धबंदियों के क्या अधिकार हैं.

यहाँ जाने की जिनेवा संधि के तहत युद्धबंदियों के क्या अधिकार है ?

1 . इस संधि के तहत जो युद्धबंदि है उनका अच्छे से ध्यान दिया जाना चाहिए, यानी कि उनको खाना पीना और जरूरत की सभी चीजें दी जाए.

2. साथ ही उनके साथ किसी भी तरह का अमानवीय बर्ताव न किया जाए.

3. चाहे वो सैनिक पुरुष हो या स्त्री दोनों पर ही यह जेनेवा संधि लागू होती है.

4. इसमें आप युद्धबंदियों से उनकी जाति, धर्म या किसी भी बारे में नहीं पूछ सकते.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in