Categories
धार्मिक

4 दिन तक मनाया जायेगा छठ पूजा का महापर्व, यह है पूजा का सही मुहूर्त

जाने क्यों दिया जाता है डूबते सूर्य को अर्ध्य और क्या है इसका महत्व?


हर साल दिवाली के बाद कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से ही देवी छठ माता की पूजा अर्चना शुरू हो जाती है और सप्तमी तिथि की सुबह तक चलती है। शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को लोग नहा कर भोजन ग्रहण करते है। इसमें व्रती यानी जो लोग व्रत रखते है उनका मन और तन दोनों ही शुद्ध होते हैं। इस दिन व्रती शुद्ध सात्विक भोजन करते हैं।

आपको बता दें की शुक्ल पक्ष की पंचमी पर जो लोग व्रत रखते है वो सारा दिन निराहार रहते हैं। उसके बाद शाम के समय गुड़ वाली खीर का विशेष प्रसाद बनाकर छठ माता और सूर्य देव की पूजा करके खाते हैं।षष्टि तिथि के पूरे दिन निर्जल रहकर शाम के समय अस्त होते सूर्य को नदी या तालाब में खड़े होकर अर्घ्य देते हैं और सूर्यदेव से अपने मन की कामना कहते हैं।फिर सप्तमी तिथि के दिन सुबह के समय उगते सूर्य को भी नदी या तालाब में खड़े होकर जल देते हैं और अपनी मनोकामनाओं के पूर्ण  होने  के लिए प्रार्थना करते हैं।

जाने क्यों दिया जाता है डूबते सूर्य को अर्ध्य

डूबते सूर्य को अर्ध्य देने के पीछे एक बहुत बड़ी मान्यता है कि सूर्य की एक पत्नी का नाम प्रत्यूषा है और यह जो डूबते सूर्य को अर्ध्य दिया जाता है यह उन्हें ही दिया जाता है। संध्या के समय में अर्ध्य देने से कई तरह से लाभ होते है। ऐसा कहते है की इसे से आँखों की रौशनी बढ़ जाती है। लम्बी आयु  मिलती है। इस अर्ध्य माता या पिता ही नहीं बल्कि विद्यार्थी भी रख सकते  है जिस से उनको शिक्षा में भी लाभ मिल सकती है।

4 दिन मना जायेगा छठ पूजा का महा पर्व

छठ पूजा नहाय-खाए – 31 अक्टूबर

खरना का दिन – 1 नवम्बर

छठ पूजा संध्या अर्घ्य का दिन – 2 नवम्बर

उषा अर्घ्य का दिन – 3 नवम्बर

और पढ़े: गोवर्धन पूजा के  पीछे  छुपी है यह पौराणिक कथा

अब जाने क्या है छठ पूजा का सही मुहूर्त?

इस बार  छठ पूजा का सही मुहूर्त है  2 नवंबर,को  सूर्योदय का शुभ मुहूर्त- 06:33

छठ पूजा के दिन सूर्यास्त का शुभ मुहूर्त- 17:35

षष्ठी तिथि आरंभ- 00:51 2 नवंबर 2019

षष्ठी तिथि समाप्त- 01:31 3 नवंबर 2019

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

धनतेरस पर पूजा में इन सामग्री को करे शामिल, होगी धन की प्राप्ति

पाना चाहते है धन की प्राप्ति यह सब करे जरूर


आज पूरे देश भर में धनतेरस का त्योहार जोरो शोरो से मनाया जा रहा है। लोग आज धनतेरस के लिए अपने घरो में सोना और वाहन जैसी चीजों को खरीदकर उनकी पूजा कर रहे है। अगर आप चाहते है की हमेशा आप पर धन की प्राप्ति हो तो धनतेरस  की पूजा में आप इन सामग्री को जरूर करे शामिल।

पाना चाहते है धन की प्राप्ति यह सब करे जरूर :

पान: धनतेरस पर पूजा की सामग्री के लिए पान का इस्तेमाल जरूर करें। ऐसा माना जाता है की पान के पत्ते में देवी-देवताओं का वास होता है। इसलिए धनतेरस और दिवाली की पूजा में इसका इस्तेमाल शुभ माना जाता है।

सुपारी: धनतेरस की पूजा में सुपारी का इस्तेमाल के बिना पूजा शुरू ही नहीं होती है। सुपारी को ब्रह्मदेव, यमदेव, वरूण देव और इंद्रदेव का प्रतीक माना जाता है। धनतेरस के दिन पूजा में प्रयोग की गई सुपारी को तिजोरी में रखना लाभदायक होता है।

साबुत धनिया: धनतेरस के दिन आप साबुत धनिया खरीदकर लेकर आएं और इसे मां लक्ष्मी के सामने अर्पित करें। इससे आपकी सारी आर्थिक परेशानी दूर हो जाएगी।

Read more: दिवाली पर माँ लक्ष्मी को करे इस प्रकार प्रसन्न

बताशा और खील: बताशा माता लक्ष्मी का सबसे प्रिय भोग है। माता लक्ष्मी की पूजा में बताशे का प्रयोग करने से हर समस्या का समाधान होता है।

कपूर: मां लक्ष्मी, कुबेर और भगवान धनवंतरी की पूजा में कपूर जरूर जलाएं। कपूर जलाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा बाहर जाती है और सकारात्मक ऊर्जा घर में आती है।

धनतेरस पर इन चीज़ो की न करे खरीदारी

धनतेरस के दिन लोहा, कांच और एल्मुनियम के बर्तन नहीं खरीदना चाहिए। इससे आपके ग्रहो पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जब भी कोई बर्तन ख़रीदे कर लाये तो उसमे कोई अन्न रख कर लेकर आये। यह बात  हमेशा ध्यान दे की घर में कभी खली बर्तन नहीं लाना चाहिए। साथ  ही आपको इस दिन काले रंग से बचना चाहिए। यह अशुभ माना जाता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

दिवाली के अगले दिन क्यों की जाती है गोवर्धन पूजा? यहाँ जाने

क्या है हिन्दुओ  में इस दिन का महत्व?


अक्टूबर का महीना खत्म होने वाला है और दिवाली भी नजदीक आ गयी है। दिवाली के अगले दिन ही गोवर्धन की पूजा की जाती है और इस साल गोवेर्धन की पूजा 28 अक्टूबर को पड़ रही है। आपको बता दें की गोवर्धन पूजा को कई लोग अन्नकूट की पूजा से भी जानते है। इस दिन विभिन्न प्रकार के अन्न को समर्पित और वितरित करने के कारण ही इस उत्सव या पर्व का नाम अन्नकूट पड़ा है। इस दिन अनेक प्रकार के पकवान, मिठाई से भगवान कृष्ण को भोग लगाया जाता है।

क्यों की जाती है दिवाली के अगले दिन गोवेर्धन की पूजा?

गोवर्धन की पूजा करने के पीछे एक कहानी है ऐसा माना जाता है की भगवान श्रीकृष्ण इंद्र का अभिमान तोड़ना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी अंगुली पर उठाकर गोकुल वासियों की इंद्र से रक्षा की थी। इसके बाद भगवान कृष्ण ने स्वंय कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन 56 भोग बनाकर गोवर्धन पर्वत की पूजा करने का आदेश दिया था, तभी से गोवर्धन पूजा की प्रथा आज भी कायम है और हर साल गोवर्धन पूजा की जाती है और अन्नकूट का त्योहार मनाया जाता है।

इसके अलावा इस दिन लोग घरो में गाय के गोबर से गोवर्धन की छवि बनाकर उनको पूजते है और अन्नकूट का भोग भी लगाया जाता है। इस दिन मंदिरो में भी अन्न दान किया जाता है। साथ ही धन-दौलत, गाड़ी, अच्छे मकान के लिए कृष्ण जी और मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जाता है ताकि नौकरी या व्यापार में खूब तरक्की मिल सके। इस बार गोवेर्धन की पूजा आप दोपहर 3 बजकर 2 मिनट से लेकर शाम के 5 बजकर 15 मिनट तक कर  सकते है।

और पढ़े: जाने अपनी राशि के हिसाब से क्या खरीदे इस धनतेरस

दोस्तो को यह मैसेज भेज कर दें गोवर्धन की शुभकामनाएं

1. कृष्ण की शरण में आकर

भक्त नए जीवन पाते  है

इसलिए गोवर्धन पूजा के दिन

हम सच्चे मन से मनाते है

हैप्पी गोवर्धन पूजा

2. बंसी के धुन पर सभी के दुःख हरता है

वो कान्हा ही है जो सारे चमत्कार करता है

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

दिवाली पर इन स्मार्टफोन्स पर मिल रही है खुली छूट

इस दिवाली सैमसंग दें रहा है अपने फ़ोन्स पर छूट


फेस्टिवल का सीजन है ऐसे में कपड़ो से लेकर सभी इलेक्ट्रॉनिक चीजों पर ऑफर्स न निकले ऐसे कैसे हो सकते हैं। सैमसंग गैलेक्सी नोट 9 और गैलेक्सी M10s पर एक दिवाली सेल के दौरान डिस्काउंट दिया जा रहा है। ये सेल कंपनी के ऑनलाइन स्टोर पर लाइव है। इसके अलावा सैमसंग कई स्मार्ट टीवी मॉडलों पर भी कैशबैक और डील्स दे रहा है। इसी तरह सेल में सैमसंग गैलेक्सी वॉच 46mm को भी स्पेशल प्राइस पर सेल किया जा रहा है।

आपको बता दें की ये दिवाली सेल 25 अक्टूबर तक जारी रहेगी। ऑनलाइन स्टोर पर सेल के अलावा सैमसंग ने गैलेक्सी नोट 10 और गैलेक्सी एस 10 पर भी फेस्टिव डील्स की घोषणा की है, जिसका लाभ कई ऑनलाइन और ऑफलाइन स्टोर्स के जरिए लिया जा सकता है।

सैमसंग अपने फ़ोन पर दे रहा है इतने की छूट

सैमसंग दिवाली सेल में सैमसंग गैलेक्सी एम 10s 8,999 रुपये की जगह 7,999 रुपये में उपलब्ध है। इसी तरह गैलेक्सी नोट 9 का 128जीबी वेरिएंट सैमसंग ऑनलाइन स्टोर पर डिस्काउंट के बाद 42,999 रुपये में लिस्टेड है। इस स्मार्टफोन की बिक्री आमतौर पर 51,990 रुपये में होती है। अगर आप यह फ़ोन जल्द लेना चाहते है तो आप इन कार्ड्स पर इन्हे खरीद सकते है। एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक और आईसीआईसीआई बैंक क्रेडिट कार्ड्स पर 10 प्रतिशत तक कैशबैक का लाभ ले सकते हैं।वहीं ऑनलाइन स्टोर पर एक्सचेंज ऑफर का भी फायदा दिया जा रहा है।

और पढ़ें:क्यों करते है दिवाली पर माँ लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा

दिवाली सेल के अलावा सैमसंग ने गैलेक्सी नोट 10 और सैमसंग गैलेक्सी एक्स 10 सीरीज पर भी फेस्टिव डील्स की घोषणा की है। गैलेक्सी एस 10 मॉडलों पर 5,000 रुपये का इंस्टैंट कैशबैक दिया जा रहा है। साथ ही एसबीआई क्रेडिट कार्ड पर 5 प्रतिशत तक कैशबैक भी ग्राहकों को मिलेगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
बिना श्रेणी

इन एयरिंग्स के साथ अपने लुक को बनाये और भी बेहतर

चांदबाली को पहन कर पाए दीपिका जैसा लुक


फेस्टिव सीजन शुरू हो चुका है ऐसे में खूबसूरत देखने के लिए आप अपने कपड़ों से लेकर  हेयर स्टाइल पर भी ख़ास ध्यान देते है। लेकिन आपको खूबसूरत  दिखने में सबसे बड़ा हाथ होता है एक्सेसरीज़ का। आप कितने भी महंगे कपड़े क्यों ना पहन लें और कितना ही अच्छा मेकअप क्यों ना कर लें लेकिन जब तक आप एक्सेसरीज़ नहीं पहनते आप लुक फीका ही लगता है।

बी-टाउन में एक्ट्रेस के द्वारा बड़े  एयरिंग्स ट्रेंड चल चुका है जो आज कल लड़कियों को एक्सेसरीज़ में ज्यादातर पसंद आ रहा है।  ऑउटफिट चाहे वेस्टर्न हो   या इंडियन दोनों में आज कल बड़े एयरिंग्स का ट्रेंड चल चुका है। इंडियनवेयर के साथ तो खासकर लोग बड़े इयररिंग्स पहनना ही पसंद करते हैं क्योंकि ये इंस्टेंटली उनके लुक को ग्लैम-अप कर देते हैं।वही जब आप ट्रेंड में चल रही एयरिंग्स को फॉलो कर  रही हो तो आपको हर तरीके के एयरिंग्स  के बारे में पता होना चाहिए। इसलिए आज हम आपको इन 5  बेहतरीन एयरिंग्स के बारे में बताएँगे जो आपके लुक को बना देगा बेहतर

1.  बेसिक स्टड्स  

बेसिक स्टड्स ऐसे एयरिंग है जिन्हे आप रोजमर्रा में पहन सकते है जिन्हे ज्यादातर लोग टॉप्स के नाम से जानते हैं। इस तरह के इयररिंग्स आमतौर पर छोटे और एक स्टोन या मेटल से बने होते हैं।

2. झुमके

अगर आप इस दिवाली इंडियन ऑउटफिट में रहेंगी तो आप अपने लुक को बेहतर बनाने के लिए इस पर झुमका वियरअप कर सकते है। डेलीवेयर और खास मौकों के हिसाब से इनके साइज़ और डीटेलिंग में आपको काफी वरायटी मिल जाएगी।

Read more: दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण से कैसे रखे आँखों ,फेफड़ो और स्किन को सुरक्षित

 3. चांदबाली

चांदबाली यानी जो एयरिंग चाँदके के आकार के होते है।जो आधे चांद के आकार जैसा होता है। झुमकों की तरह इनमें भी आपको काफी वरायटी मिल जाएगी। कुंदन से लेकर पोल्की और सिल्वर ऑक्सिडाइज़्ड तक, आपको अपने इंडियनवेयर के साथ मैच करने के लिए इसमें काफी ऑप्शन्स मिल जाएंगे

4. डैंगलर्स

डैंगलर्स का मतलब है लटकना जो की आप किसी सेंटरपीस से एक या कई छोटे-छोटे एलिमेंट्स लटकते रहते हैं। ये आमतौर पर साइज़ में बड़े ही होते हैं, इसलिए पार्टीवेयर आउटफिट्स के साथ बेहद अच्छे लगते हैं।

5. हूप्स

हूप्स एयरिंग्स काफी सिंपल होते है। यह काफी सिंपल और गोल रिंग्स में होते हैं जिन्हें ज़्यादातर वेस्टर्न आउटफिट्स के साथ ही पेयर किया जाता है। इसे आप किसी भी सिंपल कैसुअल ऑउटफिट पर डाल सकते है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
लाइफस्टाइल

क्या बिना शादी के कुंवारी लड़कियाँ रख सकती है करवाचौथ का व्रत ?

कुंवारी लड़कियाँ का करवा चौथ का फ़ास्ट रखना सही है?


हर सुहागन के लिए करवा चौथ का व्रत बेहद ख़ास होता है क्योंकि इस दिन सभी सुहागने व्रत रख कर अपने पति की लम्बी आयु की मनोकामना करती है। इस साल करवा चौथ 17 अक्टूबर को मनाया जायेगा। इस दिन व्रत में सुबह सरगी खाई जाती है और शाम को चाँद देख कर व्रत खोला जाता है। इस बार उपवास का समय 13 घंटे 56 मिनट का है। सुबह 6:21 से रात 8:18 तक। इसलिए सरगी सुबह 6:21 से पहले ही खा लें।

क्या बिना शादी के कुंवारी लड़की रख सकती है करवाचौथ का व्रत ?

करवाचौथ का व्रत सिर्फ सुहागिन महिलाएं ही नहीं बल्कि कुंवारी लड़कियां भी रखती हैं। ज्योतिषी की माने तो कुंवारी लड़कियां भी करवाचौथ का व्रत रख सकती हैं। इससे उन्हें करवामाता का आशीर्वाद ही मिलेगा।

आज कल तो ज्यादातर कुँवारी लड़कियाँ करवाचौथ का व्रत या तो प्रेमी के लिए रखती है या फिर अपने होने वाले मंगेतर के लिए। अगर आपका अभी किसी से कोई रिश्ता नहीं बना है तो भी आप अपने भावी पति का ख्याल कर व्रत रख सकती हैं। इस व्रत को रखने के लिए जो नियम सुहागनों  के लिए बनाये गए है वही यह नियम कुंवारी लड़कियों के लिए भी रखा गया है। लेकिन एक नियम है जो कुंवारी लड़कियों के लिए अलग है अगर आप अपने प्रेमी या मंगेतर के लिए व्रत नहीं रख रहीं हैं तो निर्जल व्रत रखने की बजाय निराहार व्रत रहें।

और पढ़ें: शादी के बाद पहला करवाचौथ क्यों होता है हर लड़की के लिए खास

1. इसके अलावा कुंवारी लड़कियां करवा चौथ माता, भगवान शिव और माता गौरी की पूजा करे साथ ही उनकी कथा सुने।

2. कुंवारी लड़कीयां चाँद देख कर नहीं बल्कि तारे को देख कर अपना फ़ास्ट तोड़े।

3. कुंवारी लड़कियां बिना  छन्नी के  तारो को  जल से अर्घ्य देकर पूजा करें और व्रत खोलें।

तो यह है कुछ नियम जो हर लड़की करवा चैयत पर फॉलो कर सकती है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

जानिए किन राशियों पर बरसेगी माँ दुर्गा की कृपा,घर में होगा सुख – समृद्धि का वास


माँ दुर्गा करेगी आपकी सभी इच्छाएं पूरी : यहाँ जाने अपनी राशि का हाल


29 सितंबर से नवरात्र  शुरू हो चुकी है। सभी भक्त नौ दिनों का व्रत रख कर माँ दुर्गा से आशीर्वाद पाना चाहते है.ऐसे में आपकी राशि क्या कुछ कहती  वो भी जानना जरुरी है।  इस बार माँ दुर्गा किन राशियों पर है मेहरबान  और किसे होगा कितना लाभ होगा । क्योंकि ज्योतिषशास्त्र के अनुसार माता का धरती पर  आगमन होने से उसका असर हर राशि पर पड़ता है।तो यहाँ जाने किस राशि के लिए कैसे  रहेंगे नवरात्रों के यह नौ दिन।

 यहाँ जाने नवरात्रि पर अपने राशियों का हाल:

मेष

इस राशि के लिए यह नौ दिन बेहद खास रहने वाले हैं। इस राशि के लोगों को इन नौ दिनों में व्यापार में लाभ मिलेगा ।वही सेहत से जुड़ी समस्याओ का सामना करना पड़ सकता है जैसे पेट में दर्द ।

वृषभ

इस राशि के व्यक्तियों को करियर में सफलता मिलेगी। लेकिन दुश्मन आपके रास्ते में आने की कोशिश करेंगे। अपने दुश्मनो से निपटने के लिए आपको नवरात्रों में सफेद चंदन की माला से देवी के मंत्रों का जाप करना चाहिए।

मिथुन

इस राशि के लोगों को जल्द मिल सकती है नौकरी। सफलता प्राप्त करने के लिए तुलसी की माला से गायत्री मंत्र का जाप करें।

कर्क

इस राशि के लोगो को थोड़ा सतर्क रहने की जरुरत है। व्यवसाय कर रहे लोगों को अपने पार्टनर से धोखा मिल सकता है। जिसकी वजह से आपको तनाव भी हो सकता है।

सिंह

लंबे समय बाद इस राशि के लोगो  को कोई अच्छी खबर सुनने को मिल सकती है। अपनी किसी लंबी बीमारी से छुटकारा मिल सकता है।

कन्या

इस राशि के लोगो को सेहत को लेकर थोड़ा सतर्क रहना होगा। इन लोगों को बाहर का खाना खाने से बचना चाहिए।

तुला

इस राशि के लोगों पर धन लाभ  के संयोग बन रहे हैं।

Read more: जानिए!! माँ दुर्गा का चंद्रघंटा रूप सबसे लोकप्रिय क्यों है?

वृश्चिक

इस राशि के लोगों  को जल्द ही कोई खुशखबरी सुनने को मिलेगी। आप जल्द ही अपना कोई करोबार शुरु कर सकते हैं। इस राशि के लोगों को नवरात्र में गरीबों की सहायता करने से लाभ होगा।  

धनु

इस राशि के लोग  नया वाहन और घर खरीद सकते हैं। लाभ  पाने के लिए माता को पीली मिठाई का भोग लगाएं।

मकर

इस राशि के लोगों  के खर्च बढ़ सकते  है। आर्थिक नुकसान भी हो सकता है। परेशानियों से बचने के लिए मां को भोग में हलवे का प्रसाद चढ़ाएं।

कुंभ

इस राशि के लिए यह नौ दिन अच्छे रहने वाले हैं। आर्थिक तरक्की में आने वाली सभी बाधाएं जल्द दूर हो जाएंगी।

मीन

इस राशि के लोगो को व्यापार में तरक्की मिल सकती है , यात्रा करते समय सावधानी बरतें। मां को प्रसन्न् करने के लिए पीली मिठाई और केले का भोग लगाएं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
धार्मिक

माँ दुर्गा का हर हथियार कुछ कहता : जाने क्या करते है ये signify

माँ दुर्गा के 8 हथियार जो आपको सिखाते है सभी हालातो से लड़ना


29 सितंबर से माँ दुर्गा का महापर्व नवरात्रि शुरू हो चुकी है। इस समय हर घर में माँ दुर्गा की पूजा  की जाती है और नौ दिनों तक व्रत रख कर लोग उनकी उपासना करते है ताकि माँ दुर्गा उनकी मनोकामना पूरी कर सके।  माँ दुर्गा जितनी राक्षसों के लिए क्रूर हैं उतनी ही अपने भक्तों के लिए दयालु भी हैं।जी हाँ, माँ दुर्गा की 8 भुजाएँ इस बात का प्रतीक हैं कि वह अपने भक्तों की रक्षा आठों कोनों से करती है।

माँ दुर्गा के 8 हथियार जो सिखाते है आपकी सभी  हालातो  से लड़ना

1. शंख

शंख ” एयूएम ” नामक ध्वनि का प्रतीक है जिसमें से संपूर्ण सृष्टि का उदय हुआ था। देवी दुर्गा वास्तव में ब्रह्मांड की निर्माता हैं।

2. चक्र

दुर्गा के हाथों पर चक्र की परिक्रमा जिस से यह पता चलता है कि दुर्गा सृष्टि का केंद्र है और सारा ब्रह्मांड उनके  चारों ओर घूमता है। वह बुराई को नष्ट कर धर्म का विकास करेगा।

3. कमल

माता के हाथों में कमल का फूल हमें बताता है कि विपरीत परिस्थितियों में भी धैर्य रखना जरूरी है  और कर्म करने से सफलता अवश्य मिलती है। जिस प्रकार कमल कीचड़ में रहता है पर फिर भी कीचड़  उसे गन्दा  नहीं कर पाता, उसी प्रकार मनुष्य को भी सांसारिक कीचड़, लालच से दूर होकर सफलता को प्राप्त करना चाहिए।

4.तलवार

मां दुर्गा के हाथ में  तलवार की तेज धार और चमक ज्ञान का प्रतीक है।  इसकी चमक यह बताती है कि ज्ञान के मार्ग पर कोई संदेह नहीं होता है।

5. त्रिशूल

त्रिशूल तीन गुणों का प्रतीक है। संसार में तीन तरह की ट्रेंड्स होती हैं- सत यानी सत्यगुण, रज यानी सांसारिक और तम मतलब तामसी । त्रिशूल के तीन नुकीले सिरे इन तीनों का  प्रतिनिधित्व करते हैं। इन गुणों पर हमारा पूर्ण नियंत्रण हो। त्रिशूल का यही संदेश है।

6. गदा

गदा मां दुर्गा के प्रति निष्ठा, प्रेम और भक्ति का प्रदर्शन करने के लिए मनुष्यों में शामिल होता है।

7. वज्र

यह  हथियार आत्मा की दृढ़ता का प्रतीक है जो जीवन में आने वाली समस्याओं को दूर करने में मदद करती है । वह अपने भक्त को आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति के साथ सशक्त बनाती है। वज्र को भगवान इंद्र ने उपहार में दिया था।

8. कुल्हाड़ी

माँ दुर्गा ने भगवान विश्वकर्मा से एक कुल्हाड़ी और एक कवच प्राप्त किया था । यह बुराई से लड़ने के दौरान परिणामों से कोई डर नहीं होने का संकेत देता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com
Categories
धार्मिक

सावन के महीने में कैसे करे भगवान शिव को प्रसन्न, पढ़े पूजा की विधि

सही समय पर पूजा करने से होगी आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी

15 जुलाई से सावन का महीना शुरू होने वाला है. सावन के महीने मे सभी औरतो भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सोलह सोमवार व्रत रखती है. कहते है ऐसा करने से कन्याओ  को मनचाहा वर प्राप्त होता है. सिर्फ औरतो को ही नहीं बल्कि पुरुषो को भी सावन का व्रत रखने से लाभ मिलता हैं. ऐसा कहा जाता है कि  माता पार्वती  ने सावन के महीने में निराहार व्रत करके महादेव को प्रसन्न करके उनसे विवाह किया था.

 1.सावन के सभी सोमवार को व्रत रखने के साथ सुबह सूर्योदय से पहले उठ जाए और नहा धोकर सफ़ेद रंग के कपड़े पहन ले
2.भगवान शिव की पूजा करने से पहले उस स्थान को साफ करके गंगाजल छिड़क कर उनकी मूर्ति को शुद्ध कर ले

3.पूजा करते समय आपका मुंह पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए.

4.हर रोज शिवलिंग पर केसर मिला दूध चढ़ाएं ऐसा करने से विवाह में अड़चन नहीं आती और विवाह के योग जल्दी बनते हैं.

5.व्रत के साथ उन दिनों भगवान शिव का जाप ‘ऊं नम: शिवाय’ जरूर करे.ऐसा करने से मन को शांति मिलती है

6. सावन में रोज 21 बेलपत्र  पर चंदन से ‘ऊं नम: शिवाय’ लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं इसे करने से आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी.

पूजा  के दौरान इन गलतियों को करने से बचे :

1. पूजा के दौरान शिवलिंग पर सिन्दूर , हल्दी , लाल रंग के फूल , केतकी और केवड़े के फूल बिलकुल न चढ़ाए

2.  शिव जी की परिक्रमा आधी करे क्योंकि उनकी परिक्रमा कभी पूरी नहीं करते.

अगर आप इन सभी बातो  का ख़ास ध्यान रखते है तो भगवान शिव प्रसन्न होकर  देंगे आपको वरदान

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com