Categories
हॉट टॉपिक्स

गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन में एक नन्हे बच्चे ने सभली बड़ी जिम्मेदारी

जानें सात साल की नीशू पिता के साथ किसान आंदोलन में कैसे हाथ बंटाती है


 

नए कृषि कानूनों के खिलाफ अभी किसानों का आंदोलन काफी तेज होता जा रहा है. किसानों को आंदोलन करते हुए एक महीने से ज्यादा हो गया है. किसान लम्बे समय से नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे है इसके लिए किसानों ने दिल्ली एनसीआर के सारे बॉर्डर ब्लॉक किये हुए है. इस आंदोलन में बड़े, बूढ़े, बच्चे और महिलाएं सभी शामिल है लेकिन आज हम आपको एक सात साल के बच्चे की कहानी बता रहे है जो रोज अपने पिता के साथ किसान आंदोलन में जाता है और वहां पर अपने पिता के साथ एक बड़ी जिम्मेदारी को संभालता है.

 

जानें सात साल की नीशू गाजीपुर बॉर्डर पर अपने पिता का हाथ कैसे बंटाती है

गाजीपुर बॉर्डर पर भी किसान आंदोलन चल रहा है. वहां पर अजय नाम का एक व्यक्ति पिछले तीन दिन से रोज जा रहा है. अजय वहां किसानों की हेयर कटिंग, शेविंग और मसाज करता है और इसके लिए वह किसानों से कोई पैसे भी नहीं लेता है. अजय के साथ वहां उनकी एलकेजी कक्षा में पढ़ने वाली सात साल की बेटी नीशू भी जाती है और किसान आंदोलन का हिस्सा बनती है इतना ही नहीं वहां जाकर नीशू अपने पिता का हाथ भी बंटाती है. नीशू सुबह ही अपने पिता के साथ कॉपी-पेन लेकर बैठ जाती है और हेयर कटिंग, शेविंग और मसाज करने वाले किसानों को क्रमबद्घ करने के लिए उनकी एंट्री करती है. वह अपनी कॉपी में किसानों के नाम और मोबाइल नंबर लिखती है. उसके बाद पिता कॉपी में दर्ज नाम के हिसाब से ही हेयर कटिंग, शेविंग और मसाज करते हैं.

 

और पढ़ें: किसान आंदोलन में स्लोगन और बॉयकॉट का नारा बना रहा है इसे और मजबूत

 

रोज कितने किसानों की होती है एंट्री

अजय बताते है कि वो रोज करीब 60 से 70 किसानों की कटिंग, शेविंग और मसाज करते है वह सुबह 9 बजे से शाम को 7 बजे तक किसानों के लिए अपनी सर्विस देते है. उनके साथ उनकी बेटी निशु भी सुबह 9 बजे से शुरू हुआ एंट्री के काम को शाम को 7 बजे तक करती है. इतना ही नहीं निशु की एंट्री के अनुसार जिन लोगों की सेवा 7 बजे तक नहीं हो पाती उन्हें अगले दिन कॉपी में से नाम और मोबाइल नंबर देखकर फोन कर के बुलाया जाता है. अजय के अनुसार वो पिछले तीन दिनों में 150 से ज्यादा किसानों की निःशुल्क कटिंग, शेविंग और मसाज की सेवा दे चुके है.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

आज किसान आंदोलन का 25वां दिन: आज भूख हड़ताल पर रहेंगे किसान

आज किसान आंदोलन का 25वां दिन, जाने सिंघु बॉर्डर का लाइव अपडेट


तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते किसान आज आंदोलन के 25वां दिन पर आ पहुंचा है. आज भी किसान दिल्ली एनसीआर के बॉर्डर पर डटे हुए है.  अभी दिल्ली एनसीआर में कड़ाके की ठंड में भी किसानों ने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आवाज बुलंद की हुई है. कल यानि की रविवार को किसानों ने अपने साथी किसानों को जिन्होंने आंदोलन के दौरान जान गंवाई  उन्हें याद करते हुए देश के सभी जिलों, तहसील व गांवों में श्रद्धांजलि सभाएं की थी.  किसानों ने गाजीपुर बॉर्डर और भाकियू कार्यालय समेत कई जगहों पर आंदोलन के दौरान अपनी जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि दी थी. और आज किसान भूख हड़ताल पर रहेंगे.

आज किसान भूख हड़ताल पर रहेंगे

कल किसानों ने आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि दी थी.  आज केंद्र के नए कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन को तेज करते हुए भूख हड़ताल करने की बात की थी.  साथ ही उन्होंने 23 दिसंबर तक एक वक्त का भोजन छोड़ने की अपील भी की है. इतना ही नहीं उन्होंने कहा है कि 25 से 27 दिसंबर तक हरियाणा में सभी राजमार्गों पर वो टोल वसूली नहीं करने देंगे. बीते करीब चार हफ्ते से दिल्ली एनसीआर के विभिन्न सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं और नए काले कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं.

और पढ़ें: जानें इस साल की 5 तारीख में ऐसा क्या है खास, जो हमें हमेशा याद रहेगा

3 घंटे बंद रहने के बाद शुरू हुआ किसान एकता मोर्चा का फेसबुक पेज

नए काले कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे  किसानों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे फेसबुक अकाउंट को लाइव प्रसारण के बाद ब्लॉक कर दिया गया  इतना ही नहीं इंस्टाग्राम अकाउंट पर कंटेंट डालने पर रोक लगा दी गई है, प्रदर्शनकारी किसानों का सरकार पर आरोप है कि सरकार के इस कदम ने ऑनलाइन सेंसरशिप के बारे में बहस को फिर से खड़ा कर दिया है. हालांकि 3 घंटे बंद रहने के बाद फेसबुक ने फिर से वो पेज दोबारा खोल दिया और इंस्टाग्राम कंटेंट पर लगाई गयी रोक को भी खत्म कर दिया गया.

जाने एमएसपी को लेकर क्या बोले मनोहर लाल खट्टर

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि किसानों को फसल पर मिलने वाला एमएसपी यानि की न्यूनतम समर्थन मूल्य हमेशा बना रहेगा.  क्योंकि ये हमारे किसानों के हित में है. इतना ही नहीं मनोहर लाल खट्टर ने कहा “अगर कोई न्यूनतम समर्थन मूल्य को खत्म करने की कोशिश करेगा, तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा. लेकिन एमएसपी खत्म नहीं होने दूंगा”.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Categories
हॉट टॉपिक्स

अनलॉक 4 में मेट्रो के खुलने के आसार, जानें क्या होगें प्रावधान

क्या सिनेमाघर, स्कूल, कॉलेज भी खुलेंगे


अनलॉक 4 में दिल्ली की आम आदमी पार्टी वहां सब कुछ खोलने को तैयार  है जिसे अनलॉक 3 में केंद्रीय सरकार ने खोलने की अनुमति नहीं दी थी. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में जिम, योग सेंटर, स्कूल-कॉलेज, सिनेमाघर और मेट्रो समेत कई सेवाएं फिलहाल  बंद हैं. ऐसे में अभी दिल्ली सरकार चाहती है कि अनलॉक-4 में एक सितंबर से सख्त नियमों के साथ इन्हें शुरू करने की छूट दी जाए. फिलहाल अभी इन सभी चीजों को केंद्र सरकार की तरफ से हरी झंडी मिलने का इंतजार है.  हाल ही में दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दिल्ली सरकार ने दिल्ली मेट्रो का संचालन शुरू करने के लिए एक बार फिर केंद्र से अनुरोध किया है. अगर कुछ समय बाद कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने बंद हो गए तो सरकार को सब कुछ खोलने की अपनी रणनीति के तहत फैसला लेना आसान हो जायेगा.

क्या अनलॉक 4 में खुलेंगे स्कूल-कॉलेज और सिनेमाघर

सोशल मीडिया और सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अनलॉक 4 में दिल्ली सरकार दिल्ली मेट्रो ट्रेन सेवा को फिर से शुरू कर सकती है. लेकिन अभी तक स्कूल-कॉलेज और सिनेमाघर, योग सेंटर को खोलने को लेकर किसी भी संभावना से इनकार किया गया है.  अनलॉक 4 में हो सकता है कि बार संचालकों को भी अपने काउंटर पर शराब बेचने की अनुमति मिल जाये. लेकिन यहां भी टेकअवे की ही अनुमति दी जाएगी. दिल्ली में मार्च के महीने में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए दिल्ली मेट्रो की सेवाएं निलंबित कर दी गई थीं. जिसके बाद भी इस महामारी की वजह से देश में अब तक 34 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं.

और पढ़ें: मानसून आने के बाद हुई बारिश ने तोड़ा 44 साल का रिकॉर्ड, 25 फीसदी हुई ज्यादा बारिश

दिल्ली मेट्रो को चालू करने की सबसे ज्यादा मांग

22 मार्च से ही लॉकडाउन के कारण दिल्ली मेट्रो का संचालन बंद पड़ा हुआ है. जिसके कारण दिल्ली मेट्रो रेल निगम को रोजाना 10 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है, वहीं दूसरी तरफ दिल्ली-एनसीआर के लाखों यात्री भी परेशान हैं. जिन लोगों को भी अभी अपने ऑफिस जाना होता है उन्हें इस समय या तो घटों बसों का इंतजार रहना पड़ रहा है या फिर ऑटो बुक कर के जाना पड़ रहा है जिसके लिए उन्हें सामान्य से ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ते है. इसलिए दिल्ली सरकार के साथ दिल्ली  और एनसीआर के लाखों लोग दिल्ली मेट्रो को खोलने की मांग कर रही है.

क्या होगा मेट्रो का नया नियम

अंग्रेजी न्यूजपेपर हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार अगर मेट्रो को खोलने की अनुमति दी जाती है तो उसके लिए कुछ नियम तय किए जाएंगे.

  • सबसे पहला नियम यही होगा कि मास्क के बिना आप यात्रा नही कर सकते हैं
  • टोकन का इस्तेमाल नहीं होगा. उसकी जगह पर स्मॉर्ट के लिए ऑटोमेटिक  टॉपऑप की सुविधा दी जाएगी
  • सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए सीटों के बीच गैप रखा जाएगा. 
  • मेट्रो स्टेशन में प्रतीक्षा के लिए कुछ जगहें सुनिश्चित की जाएगी. पहले की तरह आप कहीं भी अपनी मर्जी से खड़े नहीं हो सकते.
  • सबसे अहम बात नियमों को तोड़ने पर पहली बार 500 जुर्माना लिया जाएगा. अगर वही गलती बार –बार होती है तो जुर्माने का बढ़ाया जा सकता है.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com