Categories
भारत

सार्क सम्मेलन पर मंडरा रहे हैं खतरे के बादल

 

इस साल भी नहीं हो सकता है सार्क सम्मेलन


 

पिछली साल की तरह इस साल भी सार्क सम्मेलन नहीं  होने की आशंका जताई जा रही है। क्योंकि सभी सार्क सदस्य देशों ने आतंकवाद को लेकर एकजुटता दिखाई है। शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सलाना बैठक के इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सार्क देशो को प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात की।

इससे पहले यूएन के भाषण के दौरान भारतीय विदेश मंत्री आतंकवाद का मुद्दा उठाया। इसके साथ ही सार्क सम्मेलन को लेकर भारत की उदासीनता स्पष्ट की थी। ऐसे मे इस सम्मेनल का महत्व कम हो रहा है। क्योंकि भारत इसमें अहम रोल निभाता है।

विदेशमंत्री सुषमा स्वराज

सार्क सम्मेलन में अनिश्चता

भारत और पाकिस्तान के द्विपक्षीय संबंधों का असर पूरे दक्षिण एशिया पर पड़ रहा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सार्क सम्मेलन की अनिश्चितताओं का जिक्र नहीं किया। लेकिन आतंकवाद को खत्म करने की प्राथमिकता पर बल दिया।

अपने भाषण के दौरान सुषमा स्वराज ने कहा था क्षेत्रीय समृद्धि, संपर्क और सहयोग केवल शांति और सुरक्षा के वातावरण में ही हो सकता है।  हालांकि दक्षिण एशिया में शांति को जोखिम में डालने वाले खतरे बढ़ रहे हैं। हम सबके लिए यह बेहद जरुरी है कि आतंक के सभी रुपों का खात्मा किया जाए और इसमें कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए।

पिछले साल नहीं हुई था सार्क सम्मेलन

आपको बता दें इससे पहले पिछले साल पाकिस्तान द्वारा आतंक का समर्थन किया था। जिसके बाद सभी सार्क के देशों ने इसका बहिष्कार किया। और किसी ने इसमें हिस्सा नहीं लिया।

हिस्सा न लेने का दूसरी सबसे बड़ी वजह यह थी कि सम्मेलन पाकिस्तान के इस्लामाबाद में होने वाला था। सम्मेलन हर साल की तरह नवंबर में होने वाला था। और उम्मीद की जा रही है इस साल भी इस पर न होने के बादल मंडरा रहे हैं।

Categories
विदेश

अमेरिका दौरे पर पहली बार पीएम ने किया सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र

दिया अपनी संस्कृति का परिचय, देश की रक्षा के लिए कुछ भी करेंगे


अपनी तीन देश की यात्रा के दौरान पीएम मोदी अमेरिका में पुहंचे। अमेरिका पहुंच कर पीएम ने भारतीयों को संबोधित किया और साथ ही आंतकवाद का मुद्दा जोरों-शोरों से उठाया।

भारतीय अमेरिकियों को किया संबोधित

वर्जीनिया में एक समारोह के दौरान भारतीय-अमेरिकियों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि भारत विश्व को आतंकवाद के उस चेहरे के बारे मे समझाने में सफल रहा है, जो देश में शांति और सामान्य जीवन को तबाह कर रहा है।

अमेरिका में पाकिस्तान पर निशाना साधते  हुए प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने कहा कि नियंत्रण रेखा के पार भारत द्वारा किए गए सर्जिकल हमले यह  साबित करते हैं कि भारत अपनी रक्षा के लिए कड़े से कड़े कदम उठाने से पीछे नहीं हटेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया के किसी भी देश ने इन हमलों पर सवाल नहीं उठाए।

सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि सामान्य तौर पर भारत हमेशा से संयम और धैर्य के साथ काम लेता है। लेकिन आतंकवाद से निपटने के और खुद की सुरक्षा करने के दौरान जरुरत पड़ने पर भारत अपनी शक्ति एवं पराक्रम भी दिखा सकता है।

दक्षिण चीन  पर साधा निशाना

मोदी ने पाकिस्तान पर तंज कसते हुए कहा- हां उन लोगों की बात और है जो सर्जिकल हमलों का शिकार बने। उनकी यह बात सुनकर वहां बैठे श्रोता ठहाके लगाने लगे। दक्षिण चीन की आक्रमकता पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि  भारत अपने लक्ष्यों की पूर्ति के लिए वैश्विक व्यवस्था को भंग करने मे यकीन नहीं रखता।

अपनी संस्कृति का परिचय देते हुए मोदी ने कहा कि भारत अपनी संप्रभुता, सुरक्षा, शांति के लिए, अपने लोगों और प्रगति के लिए कड़े से कड़े कदम उठाने में सक्षम हैं।

आपको बता दें डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद आज पहली बार पीएन मोदी उनसे मुलाकात करेंगे। लेकिन इसस पहले कई बार उनकी ट्रंप के साथ फोन पर बातचीत हो चुकी है। साथ ही उनके साथ डिनर भी करेंगे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Categories
विदेश

अमेरिका कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद का सफाया करेगा- डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिका कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद का सफाया करेगा- डोनाल्ड ट्रंप


डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को 45वें अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली। ट्रंप ने शपथ खुले आसमान में सर्द मौसम के बीच ली। इस मौके पर लगभग आठ लाख लोग मौजूद थे। जो शपथ लेते डोनाल्ड ट्रंप देखने पहुचे।

कट्टरपंथ आतंकवाद का सफाया

शपथ ग्रहण करने के बाद अपने भाषण में ट्रंप ने ‘अमेरिका फस्ट’ का नारा दिया। जोकि उनके चुनाव प्रचार का मुख्य हिस्सा था।
अपने भाषण में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनका प्रशासन दुनिया से कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद का सफाया करेगा। साथ ही उन्होंने अमेरिकियों की नौकरियां बहाल करने का वादा किया।

अमेरिका फस्ट सरकार का मूलमंत्र

ट्रंप ने कहा कि हम पुराने गठजोड़ों को नयी ताकत देंगे। लोगों की उम्मीदों को ध्यान में रखते हुए ट्रंप ने कहा कि अमेरिका फस्ट(सबसे पहले अमेरिका)उनकी सरकार का मूलमंत्र होगा और सत्ता वाशिंगटन से जनता को हस्तांतरित की जाएग।
नवंबर में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ने अपनी प्रतिद्वंदी हिलेरी क्लिंटन को हराकर सत्ता हासिल की थी। कल ट्रंप ने अब्राहम लिंकन की बाइबल पर बायां हाथ रखकर शपथ ली और इसके साथ ही वह उस कुर्सी पर आसीन हो गए जो दुनिया में सबसे शक्तिशाली कही जाती है।

शपथ लेते डोनाल्ड ट्रंप

और पढ़े : आज डोनाल्ड ट्रंप लेगें शपथ

चुनौतियों को सामना करने को तैयार

कल दिए अपने पहले भाषण में ट्रंप ने कहा कि धरती से कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद का सफाया करने का संकल्प लिया और दुनिया को विश्वास दिलाया है कि उनकी सरकार दूसरे देशों पर अपना शासन नहीं थोपेगी। उन्होंने अपने 16 मिनट के संबोधन में कहा हम साथ मिलकर अमेरिका और दुनिया की कार्यप्रणाली तय करेंगे जो आने वाली कई सालों के लिए होगी। हम चुनौतियों का सामना करेंगे। हम कठिनाईयों का सामना करेंगे लेकिन अपना पूरा करेंगे।

पिछले कुछ समय से अमेरिका में आई नौकरियों को कमी को देखते हुए ट्रंप ने कहा कि यहां नेता समृद्ध हुए है लेकिन लोगों को नौकरियां चली गई है फैक्टियां बंद हो गई है। प्रशासनिक प्रतिष्ठान ने खुद की रक्षा की, लेकिन हमारे देश के नागरिकों की रक्षा नहीं की। उनकी जीत आपकी नहीं।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

आतंकी कैंपों के खिलाफ पीओके में स्थानीय निवासियों का विरोध प्रदर्शन

आतंकी कैंपों के खिलाफ पीओके में स्थानीय निवासियों का विरोध प्रदर्शन


आतंकी कैंपों के खिलाफ पीओके में स्थानीय निवासियों का विरोध प्रदर्शन:- पाकिस्तान द्वारा बार-बार आतंकियों को पनाह देने की बात से मुकरने के बीच गुरुवार को पीओके के स्थानीय निवासियों ने आतंकवाद के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है।

यह विरोध प्रदर्शन तब हुआ है जब पाकिस्तान बार-बार सर्जिकल ऑपरेशन होने से इंकार कर रही है।

पीओके के लोगों के जिदंगी नकर हो गई है

गुरुवार को पीओके के लोगों  का गुस्सा फुट गया। जिस दौरान पीओके के निवासी और कई नेताओं ने आतंकियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। यह विरोध प्रदर्शन पीओके के मुजफ्फराबाद, कोटली, चिनारी, मीरपुर, गिलगित, डायमर व नीलम घाटी के इलाकों किया गया।

पीओके में प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना है कि आतंकी धीरे-धीरे अपने कैंपों को बढ़ते जा रहे है जिसके कारण उनकी जिदंगी नरक होती जा रही है। आतंकियों द्वारा चलाए जा रहे ट्रेनिंग कैंप और आतंकियों शिविरों को जड़ से खत्म करने की जरुरत है।

साथ ही कहा है कि अगर सरकार इनको लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाती है वह स्वयं ही इसके खिलाफ कोई एक्शन लेगें।

पीओके की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन करते लोग

आतंकियों को खाने और राशन की सुविधा दी जा रही है

पीओके ने नेता ने आरोप लगाया है कि इन आतंकियों को खाने और राशन तक की सुविधा दी जा रही है।

सूत्रों के मानें तो एलओसी में सर्जिकल ऑपरेशन के बाद से जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैय्यबा और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों ने अपने कैंपों का ठिकाना बदल दिया है। वह कहीं और शिफ्ट हो गए है।

लोगों का फूट गुस्सा

इस बारे में गिलगित के एक निवासी ने कहा कि अगर सरकार डायमर, गिलगित, बसीन और दूसरी जगहों से तालिबान के इन आतंकी कैप को नहीं हटा सकती है तो हमें खुद ही कोई एक्शन लेना होगा।

कोटली के एक निवासी ने कहा आतंकवाद का जड़ से सफाया होना चाहिए, आतंकियों को पनाह देने से स्थिति और बिगड़ जाएगी।

आपको बता दें जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों द्वारा उरी हमले में 18 भारतीय जवान शहीद हो गए थे।

जिसके  बदले में आतंकियों को सबक सिखने के लिए सर्जिकल ऑपरेशन किया था. जिसमें 38 आतंकी मारे गए थे।

कल ही भारतीय सेना ने सरकार से छह महीने तक अभियान चलने की अपील की है ताकि पीओके में आतंकवाद को जड़ से खत्म कर सके।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

c

Categories
भारत

लीबिया में बंधंक दो भारतीयों को छुड़ा लिया गया

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गुरुवार यानि आज कहा है, कि लीबिया में एक साल से भी ज्‍यादा समय से बंधक बनाकर रखे गए दो भारतीयों को छुड़ा लिया गया है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज

सुषमा स्‍वराज ने एक ट्वीट करके कहा है, कि मुझे आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि टी गोपालकृष्णा जो आंध्र प्रदेश से है और सी बलरामकिशन जो तेलंगाना से है, जिन्हें 29 जुलाई, 2015 से लीबिया में बंधक बनाकर रखा गया था, उन दोनों को छुड़ा लिया गया है।

आप को बता दें, लीबिया की सिर्ते यूनिवर्सिटी में शिक्षण कार्य कर रहे थे, इन दोनों भारतीयों का इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने पिछले साल जुलाई में अपहरण कर लिया था।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

अफगान राष्ट्रपति और पीएम की मुलाकात के दौरान आतंकवाद रहा मुख्य मुद्दा

दो दिन की यात्रा पर आए अफगनिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की। यह मुलाकात के साथ ही पीएम मोदी ने अफगनिस्तान को एक बिलियन डॉलर की मदद करनी की घोषणा की।

यह मदद अफगनिस्तान की शिक्षा कौशल और इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की लिए दी गई है।

दोनों देशों ने पाकिस्तान की तरफ से उनके क्षेत्र में फैलाएं जा रहे हैं आतंकवाद पर मिलकर निपटने का फैसला लिया है।

गनी ने कहा  है कि राजनीति फायदे के लिए आतंकवाद के इस्तेमाल पर पाकिस्तान को नसीहत भी दी।

अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी और पीएम मोदी

साथ ही कहा है कि आंतकियों के लिए किसी भी किस्म का समर्थन, प्रयोजन और सुरक्षित पनाहगार को नेस्तनाबूद किया जाना जरुरी है। अच्छा और बुरा आतंकवाद के बीच फर्क करने का नजरिया दूरदर्शित नहीं है। आतंकवाद सांप की तरह डंसता है, यह टलने वाला खतरा नहीं है।

हैदराबाद हाउस में हुई इस  बैठक में हुई चर्चा के बाद दोनों पक्षों ने तीन समझौते प्रत्यर्पण समझौता, नागरिक और वाणिज्यिक मामलों में सहयोग और बाह्या जगत के शांतिपूर्ण इस्तेमाल में सहयोग देने के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए।

इसके साथ ही अफगनिस्तान में चल रही गेहूं की किल्लत को देखते हुए भारत उसे 1.73 टन गेहूं आपूर्ति करने की भारत की पेशकश की है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

जी-20 के बाद आसियान सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान पर का किया तीखा प्रहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लाओस में आसियाना बैठक के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात की। पिछले दो साल में दोनों नेताओं की 8वीं मुलाकात हैं।

बराक ओबामा ने मोदी के जीएसटी समेत आर्थिक सुधारों की सराहना की है। वहीं पीएम मोदी ने बराक ओबामा को भारत आने के न्यौता दिया है साथ ही कहा है वह और मिशेल अब तक ताजमहल नहीं देख पाए है।

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 की तरह यहां भी आंतकवाद का मुद्दा उठाया। पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए ‘आतंकवाद के बढ़ते निर्यात’ पर गहरी चिंता जताई है। साथ ही कहा है कि ‘यह क्षेत्र की सुरक्षा पर मंडराने वाला एक साझा खतरा है।‘ उन्होंने  आतंकवाद से निपटने के लिए आसियान के सदस्य देशों से साझा रिएक्शन देने की अपील की।

पाकिस्तान पर तीखा प्रहार करते हुए मोदी ने कहा  “दक्षिण एशिया में एक देश ऐसा है जो आतंक फैलाने वालों को बढ़ावा दे रहा है।“

मोदी ने कहा है कि आतंकवाद फैलाने वालों पर लगाए जाने और उन्हें अलग-थलग किए जाने की न कि पुरस्कार दिए जाने की मांग की थी।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
भारत

आतंकवाद को बढावा देने के मामले में जाकिर नाईक पर हो सकता है केस दर्ज

विवादास्पद मुस्लिम धर्म प्रचारक जाकिर नाईक पर युवाओं को भड़काऊ भाषणों द्वारा आंतकवाद के लिए उकसाने को लेकर सरकार मुकद्दमा दर्ज करने के आदेश देने वाली है।

नाईक पर 50 से ज्यादा लोगों को आंतक से जुड़ने के लिए उकसाने का आरोप है।

सूत्रों की मानें तो गृह मंत्रालय केंद्रीय सरकार और महाराष्ट्र सरकार कानूनी एक्शन लेने की तैयारी कर रही है।

गृह मंत्रालय ने जाकिर नाईक द्वारा दिए धर्म प्रचार की वीडियो के आधार पर यह निर्णय लिया है।

जाकिर नाईक

आपको बता दें जाकिर नाईक पर गैरकानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम(UAPA) के तहत युवाओं को अपने भाषण द्वारा भड़काने का आरोप लगाने का फैसला लिया गया है।

इसके साथ ही इंटेलिजेंस ब्यूरो नाईक की मनी सोर्सज का भी पता लगा रही है। नाईक के एनजीओ पर भी बैन लगाया जा सकता है।

नाईक पर आंतक का चार्ज इसलिए लगाया जा रहा है क्योंक पिछले कुछ समय पहले बांग्लादेश में हुए आतंकी हमले में शामिल युवाओं ने माना है कि वह नाईक के भाषणों से प्रेरित थे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at

info@oneworldnews.in

Categories
पॉलिटिक्स

गृहमंत्री ने राज्यसभा में सार्क सम्मेलन का किया जिक्र

पाकिस्तान में सार्क सम्मेलन के बाद आज गृहमंत्री ने राज्यसभा को संबोधित किया। सार्क सम्मेलन की जानकारी देते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने पाकिस्तान को उसकी जमीन पर आंतकवाद को लेकर खरी खोटी सुनाई है।

राज्यसभा में राजनाथ सिंह ने कहा कि उन्होंने इस्लामाबाद में सम्मेलन के दौरान आंतकवाद का कड़ा विरोध किया। अपने भाषण में उन्होनें कहा कि आंतकवाद को सम्मानित या महिमामडित नहीं किया जाना चाहिए और न ही इसे संरक्षण दिया जाना चाहिए। बुरहान वानी का बिना जिक्र किए ही गृहमंत्री ने पाकिस्तान को कहा कि किसी देश का आंतकी दूसरे देश में शहीद नहीं हो सकता है।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह राज्यसभा में भाषण देते हुए

इसके साथ ही कहा है कि सार्क देश आंतकवाद को लेकर एक सुर में है। सार्क देश के सभी गृहमंत्री आंतकवाद में शामिल देशों और संगठनों पर कारवाई करने की बात कर रहे है। आंतकवाद से निजात पाने के लिए इसके लिए कड़े नियम बनाने की भी बात कही है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
विदेश

पाकिस्तान हमें मूर्ख समझता है : अमेरिका

अमेरिकी कांग्रेस में पाकिस्तान को खूब खरी-खोटी सुनाई गई है। अमेरिकी सांसदों और विशेषज्ञों का कहना है कि पाकिस्तान उन्हें मुर्ख समझ रहा है। वहीं उन्होंने पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद में कटौती करने और पाकिस्तान को आतंकवाद प्रायोजित करने वाले देश के तौर पर सूचीबद्ध करने की अपील की।

अमेरिकी विशेषज्ञों का कहना है कि आंतकवादी तत्वों को समर्थन देने वाला और चीजों को जोड़-तोड़ कर पेश करने वाला यह देश अमेरीका को मूर्ख समझता है।

सदन की विदेश मामलों की समिति की एशिया और प्रशांत उपसमिति के अध्यक्ष मैट सैल्मन ने कहा, “वह हमें मूर्ख बना रहे हैं। वे हमें मूर्ख समझते हैं। उन्हें मदद करना माफिया को धन देने की तरह है।”