Categories
हॉट टॉपिक्स

Death anniversary: लाल बहादुर शास्त्री की पुण्यतिथि पर जानें कैसे एक गरीब परिवार का बच्चा बना ‘भारत रत्न’

जानें लाल बहादुर शास्त्री के 54वीं पुण्यतिथि पर उनके बारे में कुछ अनसुनी बाते


भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की आज यानि की 11 जनवरी को 54वीं पुण्यतिथि है. उनका  जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को वाराणसी के शारदा प्रसाद और रामदुलारी देवी के घर हुआ था.  सादगीपूर्ण अपना जीवन जीने वाले लाल बहादुर शास्त्री एक शांत स्वभाव वाले व्यक्ति थे.  वह अपने घर पर सबसे छोटे थे जिसके कारण उन्हें प्यार से नन्हें बुलाया जाता था. लाल बहादुर शास्त्री ने अपनी अंतिम सांस 11 जनवरी, 1966 को उज़्बेकिस्तान के ताशकंद में ली थी. 11 जनवरी, 1966 को ही लाल बहादुर शास्त्री ने ताशकंद घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किया था.  वह भारत के पहले व्यक्ति थे जिन्हे मरणोपरांत भारत रत्न से नवाजा गया था. तो चलिए आज लाल बहादुर शास्त्री के 54वीं पुण्यतिथि पर उनके बारे में कुछ ऐसी बाते जानते है जो बहुत कम लोग जानते है।

 

1. भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म  2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के वाराणसी में हुआ था. उनके पिता एक स्कूल टीचर थे. लेकिन क्या आपको पता है लाल बहादुर शास्त्री जब डेढ़ वर्ष के थे तभी उनके पिता का निधन हो गया था.

 

और पढ़ें: विश्व हिंदी दिवस  पर जानें हम लोगों द्वारा की जानें वाली हिंदी की सामान्य गलतियां

 

2. लाल बहादुर शास्त्री ने अपने जन्म से ही काफी मुश्किलों का सामना किया था. कई जगह इस बात का भी जिक्र किया गया है कि बचपन में पैसे न होने के कारण लाल बहादुर शास्त्री तैरकर नदी पार किया करते थे. लेकिन कुछ पुख्ता तथ्यों में दूसरी  तरह का भी दावा किया गया है.

 

3. बचपन में एक बार लाल बहादुर शास्त्री अपने दोस्तों के साथ गंगा नदी के पार मेला देखने गए थे. लेकिन वापस आते हुए उनके पास नाववाले को देने के लिए पैसे नहीं थे और उन्होंने दोस्तों से पैसे मांगना सही नहीं समझा। इस लिए उन्होंने अपने दोस्तों को नाव से जाने के लिए कह दिया और खुद बाद में नदी तैरकर आये थे.

 

4. लाल बहादुर शास्त्री ने अपनी शादी में दहेज में एक चरखा और कुछ कपड़े लिए थे।

 

5. लाल बहादुर शास्त्री बचपन से ही जात-पांत का विरोध करते थे.  यहां तक कि लाल बहादुर शास्त्री ने अपने जीवन में कभी अपने नाम के आगे भी अपनी जाति का उल्लेख नहीं किया था. शास्त्री की उपाधि लाल बहादुर शास्त्री को काशी विश्वविद्यालय से मिली थी.

 

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com