Categories
बिना श्रेणी

शिव की नगरी बनारस की वो पांच जगहें जहाँ मिलता है लज़ीज़ खाना!

बनारस  जा रहे है तो  बिल्कुल miss न करे ये पांच जगहें


बनारस जिस शहर के नाम में ही इतना रस हो उसके खानो में किताना रस होगा, जरा सोचिये?  संस्कृतियों वाला ये शहर इतिहास के साथ-साथ लजीज व्यंजनों के लिए भी जाना जाता है । बनारस यानी वारणसी का स्ट्रीट फ़ूड इस शहर की परंपरा को दर्शाता है । अगर आप भी बनारस जाने का मन बना रहे है तो यहाँ का स्ट्रीट फ़ूड  ट्रई  करना बिल्कुल न भूले ।

1. कचौड़ी सब्जी –  ये एक फ़ूड नहीं बल्कि इमोशन है

इस शहर की कचौड़ी  सब्जी लोगों के इमोशंस से जुडी  है। सुबह-सुबह अगर किसी बनारसी को खुश करना है तो, उसका सही विक्लप है कचौड़ी  सब्जी। मगर यहां कचौड़ी में भी दो तरह की वैरायटी होती है, छोटी कचौड़ी और बड़ी कचौड़ी। बड़ी कचौड़ी को आलू की सब्जी के साथ परोसा जाता है और  लोगो को बड़ी वाली कचौड़ी जयादा पसंद आती है। वही, छोटी कचौड़ी में स्टफिंग आलू के मसालेदार मिश्रण के साथ की जाती है। इन दोनों कचौड़ीयों के दाम सिर्फ तीस रूपये है। यदि आपको बनारस में सबसे टेस्टी कचौड़ी खानी है तो गोदौलिया चौक के पास आप स्वादिष्ट कचौड़ी का लुफ्त उठा सकते है।

2. मसाले वाली मूंगफली:

जहां मसाले वाली मूंगफली दूसरे  शहरो में  लोग चाय के साथ खाना पंसद करते है वही  इस शहर में आपको मसाले वाली मूंगफली सुबह-सुबह से ही  दुकानो में मिलने लग जाती है। ख़ासतौर  से ये मूंगफली ठंड़ के मौसम  में लोग ज्यादा खाना पसंद करते है। प्याज और हरी मिर्च और मसाले वाली धनिये की चटनी के साथ इससे गर्म कुल्हड़ में चाय के साथ परोसा जाता है। अगर कीमत  की बात करे तो इसकी एक प्लेट की कीमत  10 से 30 रूपये तक होती है।

3. फ्राइड इडली:  

वैसे अगर देखा जाऐ तो इडली हमेशा से ही साउथ की सबसे लोकप्रिय  डिश रही  है। मगर इडली का फ्राइड वर्जन आपको बस इसी शहर में मिलेगा। फ्राइड इडली बाहर से कड़ी दिखती है और अंदर से नरम होती है। कॉफी के साथ तो आपको ये फ्राइड इडली और भी स्वादिष्ट लगेगी और खास बात तो ये है कि इसका लुफ्त उठाने के लिऐ आपको खर्च करने होंगे 15 रूपये ।

4. ठंड़ाई या लस्सी:

बनारस आऐ और यहा की लस्सी नही  पी तो खाक बनारस आऐ। ठंड़ाई या लस्सी, कुछ भी बोलो ये यहां के लोगो के लिऐ सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। यहां स्ट्रॉबेरी, आम, चॉकलेट जैसे कई लस्सी के फ्लेवर है  लेकिन लोग यहा की सबसे ज्यादा साधारण लस्सी ही चुनते है। अब चलिऐ अब  आपको बता देते है सबसे ख़ास  बात की इस शहर में भांग वैध है तो यहा आप भांग वाली लस्सी का भी मज़ा उठा सकते है। फ्लेवर के आधार पर हर गिलास की  कीमत 50 से 150 रूपये तक होती है |

5. कचौड़ी गली:

जगह-जगह पर बड़ी-बड़ी काली कड़ाहियों में खौलता तेल, घाट के नजदीक वारणसी की ये कचौड़ी वाली गली एक लैंडमार्क बन गई है। प्रसिद्ध विश्वनाथ मंदिर को पार करते ही विश्वनाथ गली आती है जो आगे कचौड़ी वाली में बदल जाती है। यह वो जगह है जहां ताजा कचौड़ी  इमली की चटनी के साथ परोसी जाती है। यदि आपको भीड़ से बचना चाहते है और गर्म-गर्म और कचौडियों खाना चाहते है तो सुबह  सात बजे ही यहां पहुंचना पड़ेगा क्योंकि नाश्ते का समय खत्म होने के बाद यहां सन्नाटा पसर जाता है।

तो ये थी वो पॉच जगह जहां आपको मिल सकता है वाराणसी का सबसे स्वादिष्ट खाना। यदि आप कभी वाराणसी गये तो इन जगहों के खाने का लुफ्त जरूर उठाऐ। अगर आप खाने के शैकिन है तो  बनारस से बेहतर जगह आपको नहीं मिलेगी। यहां आपको अच्छे खाने के साथ- साथ घाट पर बैठ कर एक मन को शांत करने वाला मौहल भी मिलेगा। तो अगर आप छुट्टी  का प्लान कर रहे है तो वाराणसी आपके लिऐ सही डेस्टिनेशन है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं               info@oneworldnews.com

Categories
पॉलिटिक्स

बीजेपी कर रही है पीएम मोदी के वाराणसी दौरे की खास तैयारी

ऐतिहासिक होगा वाराणसी का नामांकन


जहाँ एक तरफ लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान खत्म हो चुके है वही दूसरी और अब बीजेपी वाराणसी में चुनाव से पहले पीएम मोदी के  चुनाव नामांकन भरने को लेकरतैयारियां पूरे जोरों शोरो से कर रही है. इस बार बीजेपी पीएम मोदी के इस वाराणसी नामांकन को ऐतिहासिक बनाना चाहती है. इसी के साथ पीएम मोदी नामांकन से पहले बनारसमें गंगा की पूजा भी करेंगे.

ऐसा होगा पीएम मोदी का वाराणसी दौरा

आपको बात दे कि पीएम मोदी का नामांकन 26 अप्रैल को होगा. इससे एक दिन पहले 25 अप्रैल को नरेंद्र मोदी बनारस में रोड शो भी करेंगे. मोदी बनारस के लंका में स्थित मालवीयप्रतिमा को माला चढ़ाएंगे जिसके बाद रोड शो शुरू करेंगे और ये रोड शो गोदौलिया पर जाकर खत्म होगा. इसके बाद पीएम मोदी काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन करने के बाद  गंगाआरती में भी शामिल होंगे.

यहाँ भी पढ़े: चुनावी मौसम में इस नेता के बिगड़े बोल

साथ ही इस नामांकन को ऐतिहासिक बनाने के लिए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह शुक्रवार यानी 12 अप्रैल की शाम को वाराणसी पहुंचे. जहाँ उन्होंने देर रात हरहुआ स्थितगोकुल धाम में पीएम मोदी के नामांकन को ऐतिहासिक बनाने के लिए संगठन के साथ मंथन किया. इस बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा के अलावाप्रदेश और  काशी के संगठन पदाधिकारी शामिल थे.

वही दूसरी और पीएम  मोदी के नामांकन को लेकर वाराणसी में कड़ी सुरक्षा का इंतज़ाम भी रखा जा रहा है.  पीएम मोदी के वाराणसी के दौरे  वाले दिन इलाके के सुरक्षा में पुलिसफोर्स को तैनात किया जायेगा  और उससे पहले पूरी सुरक्षा व्यवस्था का परीक्षण भी किया जाएगा.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

Categories
बिना श्रेणी

वाराणसी पुल हादसे का जिम्मेदार कौन?

जहाँ कर्नाटक इलेक्शन में बीजेपी की इतनी बड़ी जीत हुई , वही वाराणसी में हुआ भयंकर पुल हादसा


एक तरफ भाजपा ने कर्नाटक इलेक्शन में इतनी बड़ी जीत हासिल की और कांग्रेस का हार से सामना कराया तो वही दूसरी तरफ अचानक से एक वाराणसी में दुर्घटना हो गई. वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन के पास अचानक पुल का एक हिस्सा ढह जाने से मंगलवार 15 मई को मलबे में दबकर कम से कम 15 लोगों की मौत हो गयी.

वाराणसी पूल हादसा

इस पुल हादसे में  काफी लोगो की जान गयी है हादसे की चपेट में एक मिनी बस, कार और मोटरसाइकिलें आ गईं. यह हादसा शाम चार बजे के करीब हुआ. सीएम योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है और प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने भी इस दुर्घटना पर दुःख जताया. सरकार अब इस पूरी जांच कमेटी से इस घटना की 48 घंटे के अंदर रिपोर्ट मांगी है.

इस पुल का निर्माण निगम 2261 मीटर लंबे फ्लाईओवर का निर्माण 129 करोड़ की लागत से कर रहा था. फ्लाईओवर का जो हिस्सा गिरा है, उसे तीन महीने पहले ही बनाया गया था और हल्का हिल भी रहा था. लेकिन सवाल यहाँ पर आकार ख़त्म होता है इस घटना का जिम्मेदार कौन है? जब सरकार से इस पुल के हिलने की शिकायत दर्ज की गयी थी लेकिन सकार ने इस पर कोई कार्यवाही क्यों नहीं की ?

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

 

Categories
लाइफस्टाइल

5 बेस्ट टूरिस्‍ट प्लेस घूमें इस नवम्बर

सदियों के इस सुहाने मौसम में मजे ले इन प्लेसेस के


सर्दियाें ने दस्तक दे दी है और आजकल मौसम भी सुबह और शाम के समय ठंडा हाे जाता है। एेसे में अगर अाप घूमने-फिरने के शाैकीन हैं और इस बार ठंड की शुरुआत यानि इस नंवबर कहीं घूमने जाने का प्लान बना रहे हैं, ताे अाप इन 5 जगहाें का चुनाव कर सकते हैं। ये प्लेस भारत में ही है और यहां जाना भी बेहद अासान है।

अाईए जानते हैं काैन सी हैं ऐसी 5 जगहेंः-

1. गोवा

वैसे तो अाप पूरे साल भर में कभी भी गोवा घूमने जा सकते हैं, लेकिन यदि इस बार अाप नवंबर में गाेवा घूमने की प्‍लानिंग कर रहे है तो आप ओल्‍ड गोवा में सावंतवाड़ी से लेकर कुछ बेहतरीन खूबसूरत बीचेज का अानंद ले सकते हैं।

2. कच्‍छ

अगर आप इस नवंबर गुजरात घूमने का प्लान बना रहे हैं, ताे उत्तरी गुजरात के कच्छ जिले में टूरिस्टों को देखने के लिए बहुत कुछ है। यहां के रेगिस्‍तान में ऊंट की सवारी का आंनद भी इस महीने में ही ज्यादा आएगा।

3. जैसलमेर

राजस्‍थान में नवंबर महीने में घूमना एक बहुत ही शानदार अनुभव हाे सकता है। जैसलमेर में ऊंट पर सवारी करते हुए रेगिस्‍तान घूमना इसका एक अलग ही मजा है। इसके अलावा यहां किला, डेजर्ट कल्चर सैंटर व म्यूजियम, सलीम सिंह की हवेली, पटवा हवेली जैसे कई दर्शनीय स्‍थल भी देख सकते हैं।

4. सुंदरबन

कोलकाता में स्थित सुंदरबन नेशनल पार्क में अापको प्रकृति काे करीब से देखने का मौका मिलेगा। यह पार्क बंगाल टाइगर के लिए फेमस है। करीब 1330 स्क्वायर किलोमीटर में फैले इस पार्क में मानव द्वारा विकसित यह विश्व का सबसे बड़ा जंगल है।

5. वाराणसी

नवंबर के महीने में वाराणसी घूमना भी एक बेस्‍ट ऑप्‍शन है। यहां गंगा किनारे घाट पर घूमकर या खाते-पीते, मस्ती करते हुए अाप अपने ट्रिप काे और भी मजेदार बना सकते हैं। इसके अलावा अाप यहां संगीत से लेकर कई तरह के सांस्‍कृतिक और सामाजिक कार्यक्रम का अानंद उठा सकते हैं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com