Categories
सामाजिक

ब्रा खरीदने से पहले इन बातों का रखें ख्याल

क्या आपकी ब्रा आपको रिलैक्स्ड और फ्रेंडली फील कराती है ….?


महिलाओं को सिर्फ बाहरी वस्त्रों पर ही नहीं बल्कि अपने अंतर्वस्त्र का भी ध्यान रखना चाहिए। जो की उनकी सेहत के लिए बेहद जरुरी होता है। बहुत सारी महिलाएं ऐसी भी हैं जो अपने अंतर्वस्त्र का ध्यान नहीं रखती जिसकी वजह से उन्हें कमर दर्द और कन्धों में दर्द होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इन चीजों से वे काफी परेशान रहने लगती हैं। इसीलिए महिलाओं को क्या पहनना चाहिए और क्या नहीं जैसी बातों का अच्छे से ख्याल रखना चाहिए।

गलत साइज़ की ब्रा पहनने से महिलाओं में अक्सर कमर दर्द की शिकायत देखने को मिलती है। इसलिए उन्हें अपने ब्रेस्ट के अनुसार ब्रा खरीदनी चाहिए। जो महिलाएं एक्सरसाइज करती है, उन्हें स्पोर्ट्स ब्रा पहननी चाहिए। गलत नंबर की ब्रा पहनने से भी महिलाओं को कंधो में दर्द और पाचन शक्ति जैसी समस्याएं होने लग जाती है।

ब्रा

कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखें-

किसी भी स्त्री का शरीर एक जैसा नहीं होता। इसी तरह से हर किसी का साइज़ और हाइट अलग-अलग होते हैं। वैसे तो बाज़ार में कई तरह के ब्रा मिलते हैं, लेकिन आपको कौन सी ब्रा फिट होगी और किस्मे आरामदायक महसूस करेंगी, इसका फैसला तो आपको ही करना है।

स्पोर्ट्स ब्रा

ब्रा खरीदने से पहले एक बार ट्रायल रूम में ब्रा पहनकर जरुर चेक करें। ब्रा को कुछ समय के लिए पहने रखें क्योंकि एक बार ब्रा पहन कर, तुरंत उतारने से उसकी फिटिंग का पता नहीं चल पाता। इसीलिए ब्रा को थोड़े समय तक पहने रखें ताकि उसकी फिटिंग और टाइटनेस का आपको अच्छे से पता चल सके।

आपके द्वारा खरीदी गयी ब्रा के कप्स आपकी ब्रेस्ट को पूरी तरह से कवर करने चाहिए। ब्रा का फैबरिक अच्छा होना चाहिए, क्योंकि खराब क्वालिटी के फैबरिक की वजह से आपको एलर्जिज हो सकते हैं। जिससे आपके शरीर की त्वचा को भी नुकसान पहुच सकता है। ब्रा की सही साइज़ को चेक करने के लिए ब्रा को पहनने के बाद थोड़ा भाग-दौड़ करना चाहिए। ताकि उसकी सही फिटिंग का भी पता लग सके। अगर साइज़ सही होगी तो ब्रा पहनने के बाद ब्रेस्ट ज्यादा बाउंस नहीं करेंगे और आप भी रिलैक्स्ड महसूस करेंगी।

इन बातों को ध्यान में रख कर अपने अंतर्वस्त्रों के सही साइज़ का चयन कर उसका उपयोग करें और उससे होने वाली प्रोब्लेम्स को बाय-बाय कहें।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in

Categories
लाइफस्टाइल

जानें रात को ब्रा पहननी चाहिए या नहीं

स्पोर्टस ब्रा पहन सकती है


कपड़ों को लेकर हमेशा लड़कियां बहुत ज्यादा असमंजस में रहती है। क्या पहने क्या नहीं? इसी तरह सभी लड़कियां को ब्रा को लेकर भी कई तरह के असमंजस है। जिसमें सबसे प्रमुख है रात को ब्रा पहनाकर सोए या नहीं। कई लड़कियां तो ऐसी है जो कि रात को पहनकर ही सोती है। और कई  अपने स्तनों का ध्यान रखते हुए रात नहीं पहनना ही जरुरी समझती है। उन्हें लगता है रात को ब्रा पहनने से कहीं उन्हें ब्रेड कैंसर जैसी बीमारी न हो जाएं।

लेकिन आपको  बताते है रात को ब्रा पहनने से कई प्रॉब्लम नहीं होती है। ब्लकि अगर आपके स्तनों का साइज बड़ा है तो रात को ब्रा पहनने से यह साइज में रहते हैं। साथ ही यह ढीले भी नहीं पड़ते हैं।

रात को कैसे ब्रा पहनने

लाइट वेट ब्रा का प्रयोग करें

अगर आप रात को ब्रा पहन कर सोना चाहती है तो लाइट वेट या थोड़ी ढीली  ब्रा पहनकर सोएं। जिससे की रात को सोते वक्त असहज महसूस न करें। आपको सांस लेने में परेशानी न हो।

स्पोर्टस ब्रा का प्रयोग करें

अगर आप रात को ब्रा पहनकर सोना चाहती है तो स्पोर्टस ब्रा का प्रयोग करें। स्पोर्टस ब्रा में इलास्टिक नहीं होती है। साथ ही स्पोर्टस ब्रा टाइड नहीं होती है जिसके कारण इसे पहनकर सोने में परेशानी नहीं होती है। इससे अपने स्तन भी नियंत्रित रहते हैं।

रक्त परिसंचरण में रुकावट आती है

सोते समय ब्रा पहनने से रक्त के परिसंचरण में रुकावट आती है। यदि आप इस्लास्टिक वाली टाइट फिट ब्रा पहनती है तो ऐसा होने की संभावना होती है। वैसे रात को ब्रा उतार कर ही सोना चाहिये क्योंकि दिनभर और रातभर ब्रा पहनने से उस स्थान पर पिगमेंटेशन बढ़ जाता है। जहां कि इस्लास्टिक टाइट होती है। सोते वक्त यह चीज काफी बढ़ जाती है। इसलिये अगर आप ब्रा पहन रही हैं तो ढीली पहनें।

 

Categories
एजुकेशन

नीट इग्जाम के दौरान छात्राओं को ब्रा और जींस खोलने का कहा गया

जींस और ब्रा दोनों में धातु है जिसके कारण बीप की आवाज होती है


 

मेडिकल की प्रवेश परीक्षा के दौरान स्टूडेंस किसी तरह की चोरी न कर सकें। इसके लिए सीबीएससी ने कड़े प्रावधान बनाएं है। क्योंकि नए नियम बनाएं जाने से पहले स्टूडेंस द्वारा कई बार चोरी की खबरें आती रही है।

नियम बनाना तो सही है। लेकिन नियम ऐसे की किसी को कपड़े उतरवाने के लिए मजबूर कर दें तो? इस साल मेडिकल की प्रवेश परीक्षा नीट(नेशनल एलजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्ट) के दौरान ऐसी ही घटना क्रम में आई है।

केरल के कन्नूर की है घटना

घटना केरल राज्य के कन्नूर जिले की है। जहां छात्राओं द्वारा आरोप लगाया है कि उन्हें जींस और ब्रा खोलने को कहा गया। क्योकि दोनों में धातु होने के कारण चेकिंग के दौरान बीप की आवाज होती है। छात्राओं से कहा गया कि वह जिंस को बदलकर आएं। वह वैसे कपड़े पहने जैसे सीबीएसई के निर्देश में दिए गए है।

एग्जाम से पहले ही चेकिंग


 

रेणुका नाम की एक महिला ने बताया कि मेरी बेटी से कहा गया कि वह अपनी इनर को खोलकर अंदर इग्जान देने जाएं। मेरी बेटी के पास और कोई विकल्प नहीं था और उसने वैसा ही किया जैसा उससे कहा गया था। यह सब उसके लिए बहुत ही बुरा समय था।

रेणुका ने साथ ही कहा कि वह एक टीचर है। टीनऐज के बच्चों पर यह सब बहुत ज्यादा प्रभाव डालता है। मुझे मालूम है मेरी बेटी ने इन सबके बीच पूरी तरह से अपना आत्मविश्वास खो दिया था।

चार किलोमीटर जाकर बेटी के लिए लाएं दूसरे कपड़े

राजेश, एक स्टूडेंस के पिता ने बताया कि उनकी बेटी जींस पहनकर गई थी। पहले तो उसे टॉप ऊपर करके जींस का बटन दिखाने को कहा गया और बाद में जिंस का बटन तोड़ने को कहा गया। इसके बाद चेकर का कहना था कि जींस की पॉकेट में धातु के बटन लगा है जिसके कारण बीप की आवाज आ रही है। आखिरकार राजेश चार किलोमीटर दूर जाकर बेटी के लिए लैगिंस लेकर आएं।

इस घटना को लेकर लोगों में उबाल है। कई माता-पिता का कहना है कि शिकायत करने के लिए कोई बेव साइट न पता नहीं लग पा रही है। तो कईयों का कहना था वह किसी पचड़े में नहीं पड़ना चाहते इसलिए वह कोई कंप्लेन नहीं करना चाहते हैं।