Categories
भारत

नव वर्ष की झलक इस बार संसद में भी

नए साल शुरूआत में डूबा देश


इस साल जब पूरा देश ‘भारतीय नव वर्ष’ के जश्‍न में डूबा होगा तो हमारे देश की संसद भी इससे अछूती नहीं रहपाएगी. इस साल गुड़ी पड़वा, वर्ष प्रतिपदा, उगाड़ी और चेटी-चंड जैसे नामों से मनाए जाने वाले नव वर्ष की झलक सांसद में नजर आएगी.

संसद में नव वर्ष के मौके पर ‘नूतन संवत्सर समारोह’ का आयोजन

इस साल संसदीय इतिहास में पहली बार हिंदू पंचांग के नव वर्ष के मौके पर ‘नूतन संवत्सर समारोह’ का आयोजन हो रहाहै. इस कार्यक्रम में सांसदों के लिए खास भोज होगा साथ ही गुड़ी पड़वा की प्रतीक गुड़ी भी टांगी जाएगी. ‘नूतन संवत्सर समारोह’ के आयोजन की मेज़बानी लोकसभा की अध्यक्ष‘सुमित्रा महाजन’ कर रही हैं. लोकसभा और राज्‍यसभा केसांसद और संसद का पूरा स्टाफ को कार्यक्रम का शामिल होने का न्यौता दिया गया है.

सचिवालय के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आयोजन के लिए संसद में एक तरफ महाराष्ट्र शैली में जहां गुड़ी टांगी जाएगी, तो वहीं दूसरी तरफ खास दक्षिण भारतीय रंगोली की सज्जा भी होगी. इस कार्यक्रम के लिए संसद के कोर्टयार्ड 9के पास एक विशेष प्रांगण को कलशों से भी सजाया जा रहा है. मगर यह कार्यक्रम एक कामकाजी आयोजन होगा. इसलिए उत्सव भोज का वक्‍त संसद के किसी रोजमर्रा दिन की तरह दोपहर के भोजनावकाश के समय रखा गया है.

ख़बरों के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कार्यक्रम में शामिल होंगे. वर्ष प्रतिपदा के साथ ही शुरू हो रही चैत्र नवरात्रि पर पीएम नरेन्‍द्र मोदी उपवास रखते हैं, इसलिएउनके और अन्य उपवासी सांसदों के लिए सात्विक भोज, नींबू पानी और फलाहार की भी खास व्यवस्था की गई है.

पीएम मोदी और सीएम योगी रखते हैं पूरे नवरात्रों में व्रत

मंगलवार यानी आज से चैत्र नवरात्रि‍ की शुरूआत हो रही हैं. भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के सीएमयोगी आदित्यनाथ दोनों पूरे नवरात्रों में व्रत रखते हैं, साथ हीविधि विधान से पूजा करते हैं. पीएम नरेंद्र मोदी साल के दोनों नवरात्रों में व्रत रखते हैं. पीएम मोदी नौ दिन कुछ भी नहीं खाते, सिर्फ नौ दिन नींबू पानी या सादा पानी पीते हैं. नौ दिनों तक दुर्गा सप्‍तशती का पाठ करते हैं. पीएम मोदी ने पिछले40 साल में अपना व्रत कभी नहीं तोड़ा है.

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी नवरात्रि मेंखूब पूजा-अर्चना करते हैं. खबरों के माने तो इस दौरान वे दिन में दो बार फल खाते हैं. योगी आदित्यनाथ सुबह उठकर मांकी पूजन करते हैं. उनके बारे में ये प्रख्‍यात है, कि वे सुबह जल्‍दी उठते हैं, मगर नवरात्रि के दौरान वे सुबह तीन बजे उठ जाते हैं और फिर मां की पूजा-अर्चना आरंभ करते हैं.

ऐसे कहते हैं, कि आदित्‍यनाथ, चैत्र नवरात्रि से अधिक शारदीय नवरात्रि में तप करते हैं. शारदीय नवरात्रि को वे नाथ परंपरा के मुताबिक मनाते हैं. वही गोरखनाथ मठ के लोग कहते हैं, कि वह उस दौरान अपने कमरे में ही रहते हैं. पूरेविधान के साथ मां की पूजा करते हैं. फिर वह अष्‍टमी को अपने कक्ष से बाहर निकलते हैं. चूंकि वे इस दौरान नाथ संप्रदाय के अनुसार पूजन करते हैं, इसलिए अपने गुरु जैसी एक टोपी पहने रहते हैं. अष्‍टमी को कन्‍या पूजन भी करते हैं,फिर दक्षिणा देकर हवन करते हैं.

पीएम मोदी के व्रत से बराक ओबामा हो गए थे हैरान

आप को बात दें, कि साल 2014 में अमेरिका यात्रा में भी पीएम मोदी ने अपना व्रत नहीं तोड़ा था. तत्कानलीनराष्‍ट्रपति बराक ओबामा के साथ डिनर पर सिर्फ सादा पानी ही पीया था. सिर्फ पानी पीकर और एक समय फल खाकरपीएम नरेन्‍द्र मोदी को इतनी एनर्जी में देखकर बराक ओबामा परेशान हो गए थे और उस व‍क्‍त मोदी ने इसे योग का कमाल बताया था.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

पूरा उत्‍तर प्रदेश रंगा केसरिया रंग से, चला मोदी का जादू

के‍सरिया रंग में रंगा भारत देश


उत्‍तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों के रुझान आज आ चुके हैं. रुझानों के अनुसार, उत्‍तर प्रदेश में बीजेपी बहुमत के साथ अपनी सरकार बना रही है. समाजवादी पार्टी – कांग्रेस पार्टी गठबंधन और मायावती की पार्टी बसपा काफी पीछे नजर आ रहे है. एक बार फिर यूपी में पीएम नरेन्‍द्र मोदी की लहर दौड़ी गई है और उस लहर ने विपक्ष को धराशायी कर दिया है.

आइए जानें यूपी में किस को कितनी सीटें मिली.

उत्‍तर प्रदेशः 403 सीटें
बीजेपी – 309 सीटें
सपा-कांग्रेस गठबंधन – 62 सीटें
बीएसपी – 18 सीटें
अन्‍य – 14 सीटें

यूपी में बीजेपी की ऐतिहासिक जीत

इस बार यूपी के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 300 सीटों का आंकड़ा पार कर लिया है. इस जीत के बाद यूपी के लखनऊ बीजेपी दफ्तर में बीजेपी के समर्थकों में जश्न का माहौल बना हुआ है. केसरिया रंग से होली खेली जा रही है. अगर बीजेपी का यूपी में इतिहास देखा जाए तो साल 1991 बाद बीजेपी की ये बड़ी जीत है. 1991 में 221 सीटों से बीजेपी ने जीत दर्ज की थी.

बीजेपी नेताओं की जीत पर प्रतिक्रिया

  • बीजेपी की मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, कि यह पीएम मोदी के नेतृत्व और अमित शाह की कड़ी मेहनत की जीत है.
  • योगी आदित्‍यनाथ ने कहा, कि लोगों ने सपा-कांग्रेस के गठबंधन को नकार दिया है. जनता ने विकास के लिए वोट किया है.
  • अमित शाह ने ट्वीट करके भाजपा के सभी कार्यकर्ताओं और प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को बधाई दी है.

आइए जानते हैं साल 1980 से साल 2012 तक का यूपी में बीजेपी का सीटों का इतिहास.

साल 1980 – 11 सीटें
साल 1985 – 16 सीटें
साल 1989 – 57 सीटें
साल 1991 – 221 सीटें
साल 1993 – 177 सीटें
साल 1996 – 174 सीटें
साल 2002 – 88 सीटें
साल 2007 – 51 सीटें
साल 2012 – 47 सीटें

जनता को पसंद नहीं आया यूपी के लड़कों का साथ

दरअसल, उत्‍तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस पार्टी के उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने एक साथ मिलकर चुनाव लड़ा और कई नारे लिखे गए, कि यूपी को ये साथ पसंद है. दोनों ने अपने आप को यूपी के लड़के बताया. चुनावी रैलियों में पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने दोनों के गठबंधन को दो कुनबों का गठबंधन कहा, मगर अखिलेश ने इस बात पर जोर दिया, कि ये गठबंधन दो कुनबों का नहीं, दो युवाओं का है.

यूपी में नहीं चली भैय्या-भाई की जोड़ी

चुनावी रैलियों में अखिलेश यादव की पत्‍नी डिंपल यादव का जादू भी बहुत देखने को मिला. मगर चुनाव परिणाम में वो जादू नहीं दिखा. दरअसल, ऐसा माना जा रहा था, कि अखिलेश भैय्या और डिंपल भाभी की जोड़ी यूपी में युवाओं और महिलाओं के सपनों को साकार करेगी और यूपी की जनता इस जोड़ी पर विश्‍वास करेगी. मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ.

मायावती के वोटबैंक पर सवाल

बसपा ने इस चुनाव में मुस्लिम वोटरों को लुभान की जमकर कोशिश की और पार्टी ने अबतक के अपने विधानसभा चुनावों के इतिहास में सबसे ज्यादा 97 मुसलमान उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था. साल 2017 के चुनावों में मायावती की सीटें कुछ इतना नीचे पहुंच गई हैं, कि उन्‍हें देखते हुए सवाल उनके वोटबैंक पर उठना तय हो गया है. सवाल ये है, कि क्या लोकसभा चुनावों 2014 के बाद, एक बार फिर उत्‍तर प्रदेश के दलित वोटरों ने किसी का वोटबैंक बनने से साफ इंकार कर दिया है.

आप को बता दें, यूपी में सात चरणों में चुनाव हुए थे. पहले चरण के लिए 1 फरवरी को वोट डाले गए थे. दूसरे चरण के लिए 15 फरवरी को, तीसरे चरण के लिए 19 फरवरी को, चौथे चरण में 53 सीटों पर 23 फरवरी को वोटिंग हुई. पांचवें चरण के लिए 27 फरवरी को, छठे चरण के लिए 4 मार्च को, सातवें चरण में 40 सीटों पर 8 मार्च को वोट डाले गए थे.

Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

सपा- कांग्रेस गठबंधन ने जारी किया, साझा घोषणा पत्र

सपा- कांग्रेस गठबंधन ने जारी किया, साझा घोषणा पत्र


यूपी के विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और कांग्रेस पार्टी ने गठबंधन की साझा न्यूनतम प्रतिबध्ताएं घोषित कर दी है. शनिवार को लखनऊ के ताज होटल में उत्‍तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मीडिया संवादादाताओं के सामने यूपी में सरकार बनने पर अपनी दस बड़े वादे पेश किए हैं.

आइए जानें साझा घोषण पत्र में किए गए वादेः-

  • किसानों को कर्ज से राहत, सस्‍ती बिजली और फसलों के उचित दाम दिए जाएंगे
  • युवाओं को फ्री स्मार्टफोन और 20 लाख युवाओं को कौशल प्रशिक्षण से रोजगार की गारंटी दी है
  • महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 33% और पंचायत व स्‍थानीय चुनावों में 50% आरक्षण दिया जाएगा
  • कक्षा 9वीं से 12वीं के सभी छात्राओं और मेधावी छात्रों को मुफ्त साइकिल मिलेगी
  • 1 करोड़ गरीब परिवारों को 1000 रुपये मासिक पेंशन और शहरी गरीबों को 10 रूपये में दिन का भोजन दिया जाएगा
  • 10 लाख से ज्‍यादा दलितों व पिछड़े वर्ग के परिवारों को मुफ्त घर देंगे
  • 5 साल में हर गांव को बिजली पानी और सड़क देने का वादा किया है
  • तेज और असरदार कार्यवाई के लिए पुलिस का आधुनिकीकरण और डायल 100 योजना का विस्तार होगा
  • प्रदेश के सभी जिलों को 4 लेन रोड से और 6 प्रमुख शहरों को मेट्रो जोड़ेगे
  • लाभकारी योजनाओं में अल्‍पसंख्‍यक व पिछड़ों को जनसंख्‍या के अनुपात में हिस्‍सेदारी

राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, कि उत्‍तर प्रदेश में विजन की सरकार आएगी, भाईचारे और मोहब्बत की सरकार होगी. ये दस प्वाइंस विकास की नींव बनेंगे. हम किसानों की मदद करेंगे और युवाओं को रोजगार देंगे.

लखनऊ के ताज होटल में घोषणा पत्र जारी करने के बाद दोनों ने मीडिया से बातचीत भी की. बातचीत के दौरन राहुल और अखिलेश ने जमकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने मोदी के मनमोहन सिंह और कांग्रेस पर हमले का तीखा जवाब देते हुए कहा, कि मोदी जी को गूगल सर्च करना, लोगों के बाथरूम में झांकना, जन्‍मपत्री पढ़ना अच्‍छा लगता है, यह सब वो करें मगर अपने फ्री टाइम में करें.

दरअसल, पीएम मोदी ने संसद में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर कटाक्ष किया था, कि बाथरूम में भी रेनकोट पहनकर नहाना डॉक्टर साहब से सीखें. साथ ही शुक्रवार को उत्तराखंड की सभा में पीएम मोदी ने कहा था, कि गूगल पर चेक करो तो सबसे ज्यादा चुटकुले कांग्रेस नेता यानी राहुल गांधी पर ही मिलते हैं.
साथ ही राहुल ने कहा, कि मोदी जी अपने वादे पूरे करें, जो उन्‍होंने नहीं किए हैं, मोदी जी हर साल दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन सिर्फ एक लाख लोगों को ही रोजगार दे पाए हैं. राहुल गांधी ने कहा, कि अगर प्रधानमंत्री का काम होता है, रोज़गार देना, security देना और किसानों को उनका हक़ देना तो इन सब में हमारे प्रधानमंत्री 100% फेल हो गए हैं. सीटों पर विवाद को लेकर सवाल पूछने पर राहुल गांधी ने कहा, कि उत्‍तर प्रदेश की 99 फीसदी सीट पर कोई समस्‍या नहीं है, सिर्फ 6-7 सीट को लेकर थोड़ा विवाद है.

वहीं सीएम अखिलेश यादव ने भी विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, कि कुछ लोग गठबंधन से डर गए है, साथ ही कहा, कि बहुत गुस्सा होना अच्छी बात नहीं है, इससे यह पता चलता है, कि पैरों के नीचे से ज़मीन सरक रही है. अखिलेश ने पीएम मोदी को जवाब देते हुए कहा, कि यह गठबंधन दो कुनबों का नहीं दो युवाओं का है.
दरअसल, उत्‍तरप्रदेश के बिजनौर में विजय शंखनाद रैली को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने कहा था, कि ये गठबंधन दो पार्टी का नहीं दो कुनबों का है.
आप को बता दें, आज यूपी में 73 विधानसभा सीटों के लिए पहले चरण का मतदान हो रहा है. उत्तर प्रदेश के पश्चिमी हिस्से के 15 जिलों की 73 विधानसभा सीटों पर मतदान होना है. इस पहले चरण में 2,60,17,128 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करने वाले हैं, जिसमें 1,42,76,128 पुरुष और 1,17,76,308 महिलाएं हैं.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Categories
पॉलिटिक्स भारतीये पॉलिटिक्स

पीएम मोदी बोले,’ अखिलेश मेरे भाषण की नकल करते है, मेरी तरह सवाल पूछते हैं’

पीएम मोदी बोले,’ अखिलेश मेरे भाषण की नकल करते है, मेरी तरह सवाल पूछते हैं’


शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बदायूं में एक जनसभा को संबोधित किया. इस जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, मुलायम सिंह, मायावती, अखिलेश यादव और राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा.

अखिलेश मेरे भाषण की नकल करते हैं

पीएम मोदी ने कहा, कि ‘अखिलेश यादव मेरे भाषण की नकल करते हैं. वो मेरे तरह सवाल-जवाब पूछने लगे हैं. अखिलेश पूछते है, कि क्या अच्छे दिन आ गए? ‘ मोदी ने कहा, कि ‘मैं कहता हूं कि उत्‍तर प्रदेश के अच्छे दिनों की जिम्मेदारी अखिलेश यादव की है. 5 साल से अखिलेश सरकार में हैं.’ पीएम मोदी ने कहा, कि ‘जहां भी ये नेता जाते हैं वहां जा कर सिर्फ नरेन्‍द्र मोदी की बात करते हैं, कहते हैं मोदी जी ने ये किया, मोदी जी ये करते है, लेकिन कोई अपने काम का हिसाब नहीं देते है.’

पीएम मोदी ने कहा, बदायूं तो वीआईपी जिला है, फिर विकास क्‍यों नहीं

पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने बदायूं के लोग से कहा, कि ‘साल 2014 में मैं नहीं आ पाया था, उसके लिए क्षमा याचना, लेकिन इस बार आया हूं तो ब्याज समेत लौटा देना मुझे’. साथ ही कहा, कि बदायूं इतना बड़ा जिले होने के बाद भी क्या कारण है, कि हिन्दुस्तान में सबसे बुरे जिलों में से एक बदायूं है, सबसे बुरे 100 जिलों में बदायूं का नाम आता है. बदायूं तो वीआईपी जिला है, क्योंकि यह तो मुलायम सिंह यादव और मायावती का कार्य क्षेत्र रहा है, फिर भी बदायूं का विकास नहीं हुआ है. बदायूं के लोगों ने जिसे अपना आशीर्वाद दिया, उसी ने इस जिले का क्या हाल बना दिया है.

अखिलेश का काम नहीं कारनामें बोलते हैं

पीएम मोदी ने जनसभा में कहा, कि साल 2014 में बदायूं से मेरा सांसद नहीं जीता था, मगर बदायूं के लोग मेरे ही थे. मायावती और मुलायम सिंह को जहां पहुंचना था वह पहुंच गए, मगर आजादी के बाद इतने सालों भी यहां बिजली नहीं पहुंच पाई है. अखिलेश यादव बोलते हैं, कि काम बोलता है, जबकि यूपी का बच्चा-बच्चा जानता है, कि अखिलेश का काम नहीं कारनामें बोलते हैं.

18 हजार गांव में बिजली नहीं थी

आजादी के 70 सालों के बाद 18 हजार गांव ऐसे थे, जहां पर बिजली नहीं थी और ये आजाद भारत में ये सबसे बड़ा कलंक था. तो मैंने कहा, कि 1000 दिनों के भीतर बिजली पहुंचानी है, ये काम पूरा हो गया है. अकेले यूपी में 1500 गांव ऐसे थे, जहां बिजली नहीं थी, लेकिन बिजली पहुंच गई है.
मेरी लड़ाई में एक दिन इनको भी फेरे में लेगी

पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने कहा, कि सपा और बसपा जानती है, कि मेरी भ्रष्टाचार के खिलाफ की लड़ाई में एक दिन इनको भी फेरे में लेगी. पीएम ने कहा, कि जिन्होंने गरीबों का लुटा है, मैं उन गरीबों को लौटा के रहूँगा. अगर यूपी की जनता कहती है, कि उनके हाल ठीक नहीं है, तो उसके लिए पांच साल समाजवादी पार्टी, पांच साल बहुजन समाजवादी पार्टी और 50 साल कांग्रेस के कारनामे इसके जिम्मेदार है.

मेरी सरकार जो भी करेगी , देश के लिए करेगी

पीएम मोदी अपनी सरकार के बारे बताते हुए कहा, कि मेरी सरकार जो भी करेगी, इस देश के गरीब लोगों के लिए, दलित के लिए , किसान, पीड़ित, शोषित और वंचित वर्ग के लोगों के लिए ही करेगी. मायावती और अखिलेश पर निशाना साधते हुए कहा, कि मायावती –अखिलेश मिले हुए हैं और अखिलेश सरकार ने भ्रष्ट अधिकारियों को मायावती सरकार से भी बेहतर सीटों पर बिठाया है

विपक्ष सबूत मांगता है

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा, कि मैं आप सब को एक खुशखबरी देना चाहता हूं, हमारे देश के वैज्ञानिकों ने एक बड़ा ही पराक्रम कर दिखाया है. अगर कोई मिसाइल देश के आसमान में आती है तो हम उसे सफलता पूर्वक खत्म कर सकते हैं. मगर ये लोग सबूत मांगते हैं, अगर सबूत चाहिए तो ढेढ़ सौ किलोमीटर ऊपर जाओ. मोदी ने चुटकी लेते हुए कहा, कि अभी नहीं जाएंगे, एक महीने बाद जाएंगे क्‍योंकि जब कुछ करने को नहीं होगा.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in