मनोरंजन

Sushant Singh Rajput: SSR के ‘Evergreen’डायलॉग, जिसे सुनकर हो जायेंगे आप इमोशनल!

Sushant Singh Rajput : सुशांत की फिल्मों के वो बेहतरीन डायलॉग जो जिंदगी जीने का एक अलग नज़रिया देते हैं


Highlights –

  • 14 जून 2020 को सुशांत ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया।
  • वह मुंबई के बांद्रा स्थित अपने फ्लैट पर मृत पाये गये।
  • सुशांत प्रतिभा के धनी थे।
  • उन्होंने अपने करियर की शुरुआत टेलीविजन धारावाहिकों से की। फिल्मी दुनिया में उन्होंने 2013 में कदम रखा

Sushant Singh Rajput : 14 जून 2020 को सुशांत ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। वह मुंबई के बांद्रा स्थित अपने फ्लैट पर मृत पाये गये।

सुशांत प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत टेलीविजन धारावाहिकों से की। फिल्मी दुनिया में उन्होंने 2013 में कदम रखा। उन्होंने काय पो छे, शुद्ध देसी रोमांस, पीके, डिटेक्टिव ब्योमकेश बक्शी, एम एस धोनी, सोनचिरैया, छिछोरे, ड्रायव और दिल बेचारा जैसे फिल्मों में काम किया है।

सुशांत की फिल्में इतनी बेहतरीन थीं कि आज भी दर्शकों के दिलों में उनकी फिल्में राज करती हैं। फिल्मों को साथ – साथ उनकी फिल्मों के गाने और डायलॉग दर्शकों के चहीते हैं।

Read More- Happy Birthday Sushant Singh Rajput: मां के बेहद करीब थे सुशांत सिंह राजपूत, मां की याद में बनवाया पांच तत्व का टैटू

आज हम आपके लिए सुशांत सिंह राजपूत के फिल्मों के उन चुनिंदा डायलॉग्स लेकर आयें हैं जिन्हें सुन आपकी आँखे नम हो जाएंगी। आइये सुशांत की फिल्मों के इन डॉयलॉग्स से उन्हें हम सब याद करते हैं।

1. सुशांत की पहली फिल्म थी काय – पो – छे। यह फिल्म आधारित है तीन दोस्तों के सपनों की। तीनों एक से हैं लेकिन ख्वाब तीनों के अलग हैं।

इस फिल्म का एक डायलॉग है जिसे सुनने के बाद आपको अपने सपनों की कीमत पता चलती है।

तेरे सिक्कों की छनछन से मेरी हवा की कीमत कम हो रही है।

2. सुशांत सिंह राजपूत ने शुद्ध देसी रोमांस जैसी अलग फिल्म की। इस फिल्म में प्रेम को एक अलग रूप से दिखाया गया है। सुशांत ने इस फिल्म में बेफिक्र इंसान का किरदार निभाया है जिसने प्रेम को एक अलग परिभाषा दिखाया।

प्रेम को अलग अंदाज़ से परोसता यह डायलॉग आपको भी प्रेम की परिभाषा समझाता है।

प्यार में हिसाब नहीं होता बस राजधानी एक्सप्रेस चलती है, जिसकी किस्मत में होती है उसे तो बर्थ मिल ही जाती है।

3. पीके फिल्म में सुशांत ने एक ऐसे शख्स का किरदार निभाया था जो समझदारी के हर गुण जानता है। ज़िंदगी जीने के नज़रिये को एक अलग तरह से परोसने वाला सुशांत का यह किरदार अपने आप में अलग है।

इस डायलॉग को तो आप भी कई बार सुनना पसंद करेंगे।

जिस महफिल ने ठुकराया हमको, क्यों उस महफ़िल को याद करें ? आगे लम्हें बुला रहे हैं आओ उनके साथ चलें।

4. दोस्ती और दोस्त इसका सही मतलब बताया सुशांत की फिल्म छिछोरे ने। जितनी पसंद दर्शकों को इस फिल्म की कहानी आई उतनी ही अच्छी लगी लोगों को इस फिल्म के गाने और डॉयलॉग्स। दोस्ती के ऊपर आधारित यह फिल्म सुशांत की बेस्ट फिल्मों में से एक है।

इस डायलॉग को सुनने के बाद तो आप भी एक बार अपने दोस्तों को जरूर याद करेंगे।

सच्चे दोस्त वही होते हैं जो अच्छे वक्त में आपकी टांग खींचते हैं और जब मुश्किल वक्त आता है, तो वही छिछोरे आपके दरवाजे पर नज़र आते हैं।

5. छिछोरे का एक और डायलॉग आपको सोचने पर मजबूर करता है।

सक्सेस के बाद का प्लान सबके पास है,लेकिन अगर गलती से फेल हो गए तो फेलियर से कैसे डील करना है, कोई बात ही नहीं करना चाहता।

6.सुशांत की आखिरी फिल्म दिल बेचारा ने सबको स्तब्ध कर दिया था। इस फिल्म की कहानी और इसके चरित्र ने सबको चौंका दिया था।

इस फिल्म का डायलॉग है जिसे आप सुनकर बहुत सुकून महसूस कर सकते हैं।

जन्म कब लेना है और मरना कब है, ये हम डिसाइड नहीं कर सकते, पर कैसे जीना है वो हम डिसाइड कर सकते हैं।

7. सुशांत की फिल्म थी डिटेक्टिव ब्योमकेश बक्शी। इस फिल्म का डायलॉग दर्शकों के दिलों पर खूब छाया।

दुनिया में ऐसे ही कुछ भी नहीं होता।

8. सुशांत की फिल्म एम एस धोनी ने उन्हें एक अलग पहचान दिलाई थी। इस फिल्म के बाद वो घर – घर में सबके चहीते हो गए थे। इस फिल्म में कई ऐसे डॉयलॉग्स हैं जो सालों – साल तक हम सबको याद रहेंगे।

फिल्म का यह डायलॉग जो दिल को छू जाता है।

कभी – कभी तो मन करता है कि सब कुछ छोड़ के वापस चले जाएं, लेकिन फिर पापा का चेहरा सामने आ जाता है। रोज रात को क्वॉटर लौटते हैं तो ऐसा लगता है कि आउट होकर पवेलियन लौट रहे हैं।

9. छिछोरे फिल्म सुशांत के बेहतरीन फिल्मों में से एक है। आज भी इस फिल्म को देख कर आँखों में आँसू आ जाते हैं। इस फिल्म की कहानी जितनी अच्छी थी उतने ही बेहतरीन थे फिल्म के डॉयलॉग्स।

यह डायलॉग आपको ज़िंदगी कि गहराई तक लेकर जाता है।

तुम्हारा रिजल्ट डिसाइड नहीं करता कि तुम लूजर हो की नहीं, तुम्हारी कोशिश डिसाइड करती है।

10. सुशांत की फिल्म राब्ता बॉलीवुड के अच्छे रॉम – कॉम फिल्मों में से एक है। इस फिल्म के गाने और फिल्म के डायलॉग लोगों के जुबान पर आज भी हैं।

यह डायलॉग लोगों को बहुत पसंद आया।

अगर रोजे नहीं रखे, तो ईद का क्या मजा

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button