Categories
पॉलिटिक्स

हवाला मामले में फंसे स्वास्थ्य मंत्री सत्‍येंद्र जैन

हवाला मामले में फंसे स्वास्थ्य मंत्री सत्‍येंद्र जैन


हवाला मामले में घिरे आप के मंत्री

हवाला मामले में फंसे स्वास्थ्य मंत्री सत्‍येंद्र जैन :- दिल्‍ली सरकार की मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहीं है। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन हवाला के एक मामले में घि‍र गए है। दरअसल, इनकम टैक्स विभाग ने हवाला के जरिए 17 करोड़ रुपये ट्रांसफर करने के एक मामले में सत्येंद्र जैन को एक नोटिस भेजा है। मगर सत्‍येंद्र जैन ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है और दिल्‍ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी उनके बचाव में उतर आए हैं।

इनकम टैक्स विभाग ने आम आदमी पार्टी के मंत्री सत्येंद्र जैन को समन जारी करके हवाला मामले में चार अक्‍टूबर को पेश होने के लिए कहा है। ख़बरों के अनुसार, इनकम टैक्स विभाग के पास इस बात के पूरे सबूत हैं कि सत्‍येंद्र जैन ने पिछले पांच सालों में अपनी चार कंपनियों हवाला के तहत पैसे भजिवाए है। साथ ही अपनी कंपनियों के नाम से चेक लिए है।

सत्‍येन्‍द्र जैन

आरोप पर सत्‍येन्‍द्र जैन ने कहा

इन सभी आरोपों पर सत्‍येन्‍द्र जैन कहना है, कि मुझे गवाह की तरह बुलाया गया है। कोई हवाला नहीं हुआ। बस कुछ कंपनियों का रिअसेस्मेंट हो रहा है और उन कपंनियों में चार से पांच साल पहले मेरी इन्वेस्टमेंट थी। जो इनकम टैक्स वि‍भाग वाले पूछना चाहते हैं।

वहीं अपने मंत्री सत्‍येन्‍द्र जैन के बचाव में अरिवंद केजरीवाल का कहना है, कि इस शुक्रवार को विधानसभा में बड़ा खुलासा करूंगा। सत्येंद्र जैन के लिए ये बड़ी राहत की बात है, कि केजरीवाल पूरी तरह से उनका सपोर्ट कर रहे हैं।

केजरीवाल आए अपने मंत्री के बचाव

अरिवंद केजरीवाल ने एक ट्वीट कर के कहा है, कि मैंने सुबह सत्येंद्र को तलब किया था। सारे कागजात देखे है। वो बेकसूर हैं। अगर सत्‍येन्‍द्र दोषी पाए जाते हैं तो हम उन्हें बाहर कर देंगे। हम उनके साथ खड़े हैं। अरिवंद केजरीवाल ने एक और ट्वीट कर के कहा है, कि आप विधायकों और मंत्र‍ियों के खिलाफ फर्जी केस बनाए गए है। मेरे खिलाफ एफआईआर हुई, सीबीआई ने छापेमारी क्यों की ? ये बड़ी साजिश है। इस हफ्ते शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा में खुलासा करूंगा।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments