मनोरंजन

क्यों संजीव कुमार जिंदगी भर रहे कुंवारे, जाने उनसे जुडी कुछ ऐसी ही महत्वपूर्ण बाते

जाने संजीव कुमार की रियल लाइफ से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें


बॉलीवुड एक्टर संजीव कुमार का जन्म 9 जुलाई 1938 को गुजरात के सूरत में हुआ था। संजीव कुमार का असली नाम जेठालाल जरीवाला था। संजीव कुमार मूल रूप से गुजराती थे। संजीव उन गिने चुने बॉलीवुड एक्टर्स में से है जिनके बेमिसाल काम की जितनी तारीफ की जाए उतनी ही कम है। संजीव कुमार आज हम सबके बीच नहीं हैं। उनकी मृत्यु 6 नवम्बर 1985 को हुई थी। परन्तु लोग आज भी उनके काम के लिए उन्हें याद करते हैं। संजीव कुमार एक गजब के एक्टर होने के साथ-साथ वो एक शालीन इंसान भी थे। अगर हम उनके फ़िल्मी करियर की बात करे तो उन्होंने फिल्म ‘नया दिन नयी रात’ में 9 रोल किए थे। उसके बाद उन्होंने फिल्म ‘कोशिश’ में एक गूंगे बहरे व्यक्ति की शानदार एक्टिंग की थी। फिल्म ‘शोले’ में किए ठाकुर के रोल ने उन्हें हमेश के लिए अमर कर दिया।

संजीव कुमार को बॉलीवुड का पहला रियल लाइफ बेचलर कहा जाता था

संजीव कुमार का असली नाम जेठालाल जरीवाला था। परन्तु ज्यादातर लोग उनको स्क्रीन नाम संजीव कुमार से ही जानते है। संजीव को बॉलीवुड का पहला रियल लाइफ बेचलर कहा जाता था। उनके बाद अब सलमान खान को ये तमगा मिला है। संजीव ने अपनी लाइफ में प्यार तो बहुत बार किया परन्तु उन्होंने शादी कभी नहीं की। वो पूरी जिंदगी भर रहे कुंवारे।

और पढ़ें: 5 बॉलीवुड सेलेब्स जिन्होंने अपनी पहली फिल्म से ही कर लिया था लोगों के दिलों पर राज

क्यों नहीं कि संजीव कुमार ने कभी शादी

संजीव रियल लाइफ में कुछ अंधविश्वास वाली चीजों पर भरोसा करने लगे थे। वो एक अजीब से अंधविश्वास के शिकार हो गए थे। उनका कहना था कि, उनके परिवार में बेटे के 10 साल पुरे होते ही पिता की मृत्यु हो जाती है। ये चीज संजीव कुमार के दादा, पापा और भाई सभी लोगों के साथ हो चुकी थी इसलिए संजीव कुमार ने अपनी लाइफ में कभी भी शादी नहीं की। उन्होंने अपने भाई के बेटे को गोद लिया था और जब वो बच्चा 10 साल का हुआ तो संजीव कुमार की मृत्यु हो गई थी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।