RISAT-2BR1 भारत की सुरक्षा का भार इसके कन्धों पर, जानिए इसकी खासियत

0
21
RISAT-2BR1
RISAT-2BR1

RISAT-2BR1 on mission of India’s security


हमारे देश के विकास और सुरक्षा का जिम्मा इसरो (ISRO) के कन्धों पर है और इसी लक्ष्य को पूरा करने के लिए
इसरो आये दिन कुछ न कुछ ऐसा करता है जिससे हमारे देश का नाम वैश्विक स्तर पर ऊँचा हो रहा हैं। हाल ही
में रीसैट-2बीआरा1 (RiSAT-2BR1) को लॉंच करके इसरो ने देश को एक ऐसे प्लेटफार्म पर लाकर खड़ा कर दिया है
जहाँ भारत देश बहुत ही ख़ास श्रेणी में आ गया है। 11 दिसंबर को 3 बजकर 25 मिनट पर राडार इमेजिंग
सैटेलाइट रीसैट-2बीआर1 (Imaging Satellite RiSAT-2BR1) की सफल लॉन्चिंग ने देश की सुरक्षा को बढ़ा दिया हैं।

खुफिया उपग्रह की जानकारी

रीसैट-2बीआरा1 (RiSAT-2BR1) को लोग एक खुफिया उपग्रह के नाम से बुला रहे हैं। इसका कारण इस उपग्रह की
खुबियों और कई नयी खासियत है। सूत्रों के अनुसार, इसके सफल लॉंच के बाद रीसैट-2बीआरा सैटेलाइट पृथ्वी की
कक्षा में स्थापित हो जाएगी और ऐसा होने के बाद भारत की राडार इमेजिंग ताकत में कई गुना इज़ाफ़ा होगा। इस
उपग्रह का वजन लगभग 628 किलोग्राम है जो पृथ्वी की कक्षा से 576 किलोमीटर ऊपर स्थापित होगा। इस उपग्रह
के सफल होने से भारतीय सीमाओं की निगरानी करना और उनकी सुरक्षा की प्लानिंग करना बेहद आसान हो
जायेगा।

और पढ़ें: UK election 2019 – क्या होंगे ब्रिटिश चुनाव परिणाम

रीसैट-2बीआरा1 (RiSAT-2BR1) के फीचर्स

 इस उपग्रह की सफलता के बाद भारत की राडार इमेजिंग ताकत में कई गुना बढ़ावा होगा।
 इस उपग्रह में एक्स बैंड एसएआर कैपेबिलिटी होने से किसी भी मौसम यानि बरसात के मौसम में भी
साफ़ तस्वीरें ली जा सकती हैं।
 इस उपग्रह के द्वारा हमारे सूत्रों को दुश्मनो की गतिविधियों के बारे में नजर रखी जा सकेगी।

 इस सैटेलाइट से कृषि, जंगल और असामयिक आपदाओं के बारें में हमें पहले से जानकारी उपलब्ध हो
पायेगी।
 इस सैटेलाइट से देश की समुद्री सीमाओं पर नजर रखने में और उनकी फास्ट ट्रैक मॉनिटरिंग करने में
काफी मदद मिलेगी।
 इस सैटेलाइट से लगभग सौ किमी क्षेत्र की तस्वीर लेना संभव होगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments