Rakhi Special: जाने रक्षाबंधन पर भाई को राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, साथ ही जाने क्या कुछ होना चाहिए पूजा की थाली में

0
147
rakhi bandhne ka muhurat 2020

कब और क्यों मनाया जाता है रक्षाबंधन?


भारत में रक्षाबंधन का त्योहार श्रवण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार श्रवण मास की पूर्णिमा 3 अगस्त को आ रही है इसी दिन पुरे भारत में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जायेगा। रक्षाबंधन भाई-बहन का पवित्र त्योहार है। इस दिन सभी बहने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है साथ ही अपने भाई की दीर्घायु, समृद्धि, सुख और सौभाग्य की भगवान से प्रार्थना करती है। दूसरी तरफ भाई बहन की रक्षा करने का वचन देता है साथ ही वो अपनी बहन को कुछ चीजें उपहार में देता है। क्या आपको पता है इस बार रक्षाबंधन पर श्रावण पूर्णिमा को सावन का पांचवां सोमवार भी आ रहा है? जिससे काफी शुभ और अच्छा समझा जा रहा है।

(Image source: Freepik)

क्या है भाई को राखी बांधने का शुभ मुहूर्त?

सोमवार को सुबह 6 बजकर 37 मिनट के बाद अट्ठाइस योगों में सर्वश्रेष्ठ आयुष्मान योग विद्यमान रहेगा। जिसके बाद सुबह 7 बजकर 18 मिनट के बाद पश्चात श्रवण नक्षत्र आ जाएगा। जो की रक्षाबंधन के लिए सिद्धि योग का निर्माण करेगा। साथ ही सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर भद्रा समाप्त हो जाएगी। जिसके बाद सिद्धि और आयुष्मान योग बन जायेगा और आप अपने भाई को राखी बांध पाएंगे। अगर हम विशिष्ट मुहूर्त की बात करे तो सुबह 11 बजकर 26 मिनट से दोपहर 1 बजकर 45 मिनट तक शुभ मुहूर्त है उसके बाद दोपहर 1 बजकर 45 मिनट से 4 बजकर 03 मिनट तक शुभ मुहूर्त है इस बीच आप अपने भाई को कभी भी राखी बांध सकते है।

(Image source: Freepik)

राखी बांधने की पूजा विधि और सामग्री

रक्षाबंधन भाई-बहन का पवित्र त्योहार है। इस दिन सारी बहनें अपने भाई को राखी बांधने के लिए पूजा की थाली तैयार करती है। वैसे तो आपको मार्किट में रेडीमेड तैयार पूजा की थाली मिल जाती है लेकिन इस बार पुरे देश में फैले कोरोना वायरस के चले बाहर की चीजें कम से कम इस्तेमाल करने की सलाह दी जा रही है। इस लिए इस बार आप अपने घर पर ही पूजा की थाली तैयार करें। आपको करना क्या है आपको बस एक थाली में रोली, कुमकुम, अक्षत, पीली सरसों के बीज, दीपक और राखी रखनी है। इसके बाद अपने भाई को तिलक लगाकर उसके दाहिने हाथ में राखी बांधें। राखी बांधने के बाद भाई की पूजा करे और उससे मिठाई खिलाएं। अगर आप अपने भाई से छोटे है तो उसके पैर छुए और आशीर्वाद लें। अगर भाई छोटा होगा तो वो आपके पैर छू कर आशीर्वाद लेगा।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com