भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिराह- देश आज भी गरीबी, कुपोषण, अशिक्षा की बेड़ियो में बंधा है

0
653
पीएम मोदी

सोनिया गांधी ने साधा आरएसएस पर निशाना


आज का दिन इतिहास का बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। आज यानि कि बुधवार को भारत छोड़ों आदोलन को 75वीं साल हो गए हैं। इस मौके पर संसद के दोनों सदनों में चर्चा हुई। इस मौके पर पीएम मोदी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को याद किया और अंग्रेजों के खिलाफ उनके जज्बे का जिक्र किया।

पीएम मोदी
पीएम मोदी

आपको बता दें 9 अगस्त 1947 को महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत की थी। उन्होंने इसकी सिर्फ शुरुआत की ब्लकि अंग्रेजों को देश से बाहर निकाल फेंका।

युवा पीढ़ी को ऐतिहासिक घटनाओं के बारे में जानना चाहिए

संसद में चर्चा के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन ने नए तरह के नेतृत्व की शुरुआत की। लोगों ने इस आंदोलन में महात्मा गांधी का जिक्र किया और कहा कि आज की युवा पीढ़ी को इस आंदोलन जैसे ऐतिहासिक घटनाओं के बारे में जानना काफी अहम है।

पीएम मोदी ने कहा कि इस आंदोलन के जरिए महात्मा गांधी ने अंग्रेजों को साफ कर दिया था कि हम आजादी से कम किसी भी बात पर संतुष्ट नहीं होगें ‘करेंगे या मरेंगे’। पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि आंदोलन के समय महात्मा गांधी ने करेंगे या मरेंगे का जो नारा दिया था वह सभी के लिए एक जज्बे से कम नहीं था।

आजादी में योगदान नहीं दिया, लेकिन आज आजादी की बात करते हैं

पीएम ने कहा कि आज हम भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं सालगिराह मना रहे हैं। लेकिन अब भी हम गरीबी कुपोषण, अशिक्षा जैसी बेड़ियों से बंधे हुए हैं।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने संसद में चर्चा के दौरान आरएसएस का बिना नाम लिए ही उस पर निशाना साधा।

सोनिया ने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उस दौर में ऐसे संगठन और ऐसे व्यक्ति भी थे, जिन्होंने आजादी के आंदोलन में कोई योगदान नहीं दिया। ऐसे संगठन आजादी के आंदोलन का विरोध करते थे, लेकिन आज आजादी की बात करते हैं।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in