हॉट टॉपिक्स

Protests in India: 2019-2020 के शुरुआत में हुए विरोध प्रदर्शन कैसे कर रहे हैं देश को प्रभावित?

Protests in India: ये देश मे क्या हो रहा है? आखिर क्या होगा सरकार का फैसला?


Protests in India: नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार हिंसक घटनाएं बढ़  रही हैं। इसी का नतीजा है बीते रविवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हिंसा का प्रकोप। जब नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ, तो किसी ने नहीं सोचा था कि ये इतना हिंसात्मक रूप ले लेगा। बिल के राज्यसभा द्वारा पारित होने के बाद और यह एक अधिनियम बनने के बाद इन विरोधों की तीव्रता कई गुना बढ़ गई है।

लड़ाई की शुरुआत –

हम में से अधिकांश ने इन विरोधों को शुरू में बहुत गंभीरता से नहीं लिया क्योंकि हम यह भी नहीं समझ पाए कि इस अधिनियम में ऐसा क्या गलत था जिसने इस तरह के प्रतिरोध की मांग की। इस अधिनियम ने केवल एक स्वाभाविक दायित्व को पूरा किया जो भारत ने पड़ोस में इस्लामिक राज्यों के हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों, ईसाइयों और सिखों के प्रति था। ऐसे में मुसलमानों का पक्ष ना होने के कारण वे भड़के उठे। जबकि सरकार का कहना था कि इस्लामिक देश बहुत हैं लेकिन हिंदुओं, जैनियों, बौद्धों, ईसाइयों और सिखों के लिए अलग कंट्री कोई नहीं है। इसीलिए इस फेहरिस्त में मुसलमानों को शामिल नहीं किया गया।

लेकिन कोई भी इस अधिनियम को स्वाभाविक रूप से स्वीकार नहीं कर पाया, नतीजन हिंसा और दंगे शुरू हो गए। इसमें राजनीतिक पार्टियां अपना स्वार्थ भुनाने लगीं। देखते ही देखते ये विरोध पूरे देश में फैल गया। ये बहुत जल्द ही स्पष्ट हो गया कि ‘विरोध’ बहुत बदसूरत होने वाला है। ममता बनर्जी के पश्चिम बंगाल में मुस्लिम भीड़ ने दंगा किया और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। 15 दिसंबर को मुस्लिम  भीड़  ने दिल्ली की सड़कों पर सार्वजनिक संपत्ति में आग लगा दी। जिस तरह से पुलिस ने इन दंगों को रोकने की कोशिश की उससे हिंसा देशभर में फैल गई।

दिल्ली में पुलिस ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के ‘प्रदर्शनकारियों’ पर सख्त कार्रवाई करने का जवाब दिया। यहां यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सीलमपुर में हिंसा के बड़े पैमाने पर फैलने के बाद जामिया में पुलिस की कार्रवाई के बाद दिल्ली में हिंसा में कमी आई।

उसी रात, एक और प्रमुख संस्थान में दंगे हुए। उत्तर प्रदेश पुलिस ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के परिसर में प्रवेश किया और दंगाइयों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। योगी के राज्य में, एएमयू में हिंसा बढ़ गई लेकिन मुख्यमंत्री ने कई बार आगे बढ़कर जवाब दिया। अंततः दंगाइयों ने हिंसा कम की। कर्नाटक में इसी तरह की घटनाओं को देखा गया।

और पढ़ें: साल 2019 में स्वास्थ्य से जुड़ें वो टॉपिक्स जो चर्चा का विषय बने रहें

क्या हुआ 5 जनवरी 2020 को?

5 जनवरी को जेएनयू में हुई हिंसा के बारे में कुछ भी स्पष्ट नहीं है लेकिन सोशल मीडिया पर इसकी खूब आलोचना हो रही है। जेएनयू प्रशासन ने हिंसा के बाद इस मामले पर एक बयान जारी किया। बयान में कहा गया है कि रविवार को शाम 4:30 बजे, आंदोलनकारी छात्र पंजीकरण प्रक्रिया का समर्थन करने वाले छात्रों पर हमला करने हॉस्टल के कमरों में एडमिन ब्लॉक से चले गए थे। हालांकि पुलिस को सूचित किया गया था, जब तक पुलिस पहुंची, तब तक हिंसक प्रदर्शनकारियों द्वारा किए गए हमले में हॉस्टल के कई छात्र और सुरक्षा कर्मचारी बुरी तरह घायल हो गए। बयान में कहा गया है कि नकाबपोश बदमाशों ने पेरियार छात्रावास में प्रवेश किया था और छात्रों और सुरक्षा कर्मचारियों पर लाठी और डंडों से हमला किया था। छात्रों के कुछ समूहों ने बर्बरता दिखाई और पिछले कुछ हफ्तों में वीसी के कार्यालय में तोड़फोड़ की। यूनिवर्सिटी ने घटनाओं के बाद पुलिस शिकायतें दर्ज की हैं। अभी नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन थमा नहीं है। देखना होगा कि आगे ये और क्या रूप लेता है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button