पॉलिटिक्स

इस बार ऐतिहासिक बजट पेश हो रहा है : प्रणव मुखर्जी

इस बार ऐतिहासिक बजट पेश हो रहा है


आज से साल 2017 के आम बजट का आगाज हो गया। बजट का आगाज देश के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने किया। इससे पहले आज राष्ट्रपति मुखर्जी संसद पहुंचे। जहां स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका स्वागत किया।

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने अभिभाषण के साथ बजट सत्र का आगाज किया। संसद में भाषण देते हुए राष्ट्रपति ने सरकार की उपलब्धियां गिनाई। साथ ही नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक की सराहना की जिस पर पीएम समेत सांसदों ने भी तालियां बजाई।

भाषण देते हुए प्रणव मुखर्जी ने कहा कि इस साल का बजट ऐतिहासिक बजट है। पहली बार इस बजट में रेल बजट को आम बजट में शामिल कर लिया है। आपको बता दें 93 सालों से चला रहा रेल बजट इस बार से अलग से संसद में पेश नहीं किया जा रहा है।

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी
संसद में अभिभाषण देते हुए राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी

और पढ़े : राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का चीन दौरा, जानिए क्या कहा…

आईये चलिए जाने अभिभाषण की कुछ अहम बातें

  • कालेधन-बेनामी संपति के खिलाफ कड़े कानून।
  • आतंक के सामने देश बिल्कुल नहीं झुकेगा।
  • राष्ट्रपति ने कहा कि 8 नवंबर को नोटबंदी को लेकर लिया गया फैसला साहसिक था लंबे समय से चल रहे कालेधन के मुद्दे और जाली करेंसी ने लिए यह एक बड़ा फैसला था।
  • वरिष्ठ नागरिकों को पहली बार पेंशन पर मिलेगा 8 फीसदी रिटर्न।
  • पहली बार तीन महिला पायलट बनी।
  • सरकार ने नारी शक्ति को बढाया और सेना में दिया बराबरी का मौका
  • वहीं प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व के तहत गर्भवती महिलाओं की उचित देखरेख और उनकी सुविधाओं को लेकर विशेष ध्यान दिया गया है।
  • पीएम मृदा योजना के तहत 2 लाख करोड़ का लोन दिया गया। 5.6 करोड़ का लोन के आवेदन प्राप्त हुए थे।
  • गरीब किसानों की भी सरकार ने मदद की। अच्छे मानसून और किसान योजनाओं से फायदा, किसानों को सॉयल हेल्थ कार्ड दिया गया। खरीफ की फसल में 6 फीसदी की वृद्धि।
  • इंद्रधनुष योजना को तहत देश को पोलियो मुक्त बनाया। इस योजना को तहत हर बच्चे को टीका लगा। लगभग 55 लाख बच्चों को टीका लगाने का लक्ष्य।
    महिलाओं के लिए उज्जवला योजना लाई गई जिसके तहत 5 करोड़ लोगों को गैस कनेक्शन मिलें।

और पढ़े : जीएसटी बिल पर राष्ट्रपति ने किया हस्ताक्षर

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button