लाइफस्टाइल

Pet Therapy: डिप्रेशन और मिर्गी जैसी स्वास्थ्य समस्याओं में यह थेरेपी है बेहद कारगर! जानिए इस थेरेपी से जुड़ी खास बातें

 Pet Therapy: कौन से जानवर इस थेरेपी को देने में होते है सक्षम? थेरेपी लेने से पहले किन जोखिमों से रहना पड़ता है सावधान?


Highlights:

Pet Therapy: क्या होती है पशु चिकित्सा?

मानसिक रोगियों के लिए है बेहद कारगर!

चिकित्सा शुरू करने से पहले रखें इन बातों का ध्यान!

Pet Therapy: क्या आपने कभी सोचा है की जानवरों की मदद से आप अपने स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याओं से मुक्ति पा सकते है? आज का हमारा यह लेख “पालतू चिकित्सा” यानी “पेट्स थेरेपी” पर आधारित है, यह क्या होती है, लाभ किसे और कैसे मिल सकता है, इत्यादि।

आइए सबसे पहले जानते है की पालतू चिकित्सा आखिर होता क्या है?

Pet Therapy

पालतू चिकित्सा एक व्यक्ति और एक जानवर के बीच एक निर्देशित बातचीत होती है। इस चिकित्सा का उद्देश्य किसी को स्वास्थ्य समस्या या मानसिक विकार से उबरने या उससे निपटने में मदद करने का होता है।

पालतू चिकित्सा में कुत्तों और बिल्लियों का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। हालांकि, मछली, सूअर, घोड़े और अन्य जानवर जो स्क्रीनिंग मानदंडों को पूरा करते हैं, उनका भी उपयोग किया जा सकता है। चुने गए जानवर का प्रकार, व्यक्ति की उपचार योजना के चिकित्सीय लक्ष्यों पर निर्भर करता है।

पशु चिकित्सा जानवरों के उपयोग से लोगों को शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों से निपटने और ठीक करने में मदद करने के एक तरीके के रूप में संदर्भित करती है।

Read More – Home remedies for winter flu: घरेलू नुस्खों से कैसे ठीक कर सकते है आप सर्दी -जुकाम ?

ज्यादातर स्वास्थ्य मामलों में एनिमल असिस्टेंट थेरेपी ही एकमात्र चिकित्सीय विकल्प नहीं होता है, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है।
यह विशिष्ट शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोगों की सहायता के लिए निर्धारित किया जाता है। यह चिकित्सा आराम प्रदान करने में मददगार तो है लेकिन इसके चलते अन्य उपचारों को प्रतिस्थापित नहीं करना चाहिए। पशुओं के संग एक दोस्त जैसा व्यवहार बनाना और बातचीत करना व्यक्ति के मन में एक शांत स्थिति पैदा कर सकता है।

अब हम जानेंगे की आख़िर यह चिकित्सा काम कैसे करती है?

Pet Therapy

पशु चिकित्सा के कई लक्ष्य हो सकते हैं, और यह लक्ष्य ही उनके काम करने के तरीके को निर्धारित  करते है। इस चिकित्सा के लिए चिकित्सा का प्रकार और लक्ष्य स्थिति और व्यक्ति को जिस प्रकार की सहायता की आवश्यकता होती है, उसके आधार पर समय -समय पर बदला जा सकता है।

चिकित्सा की शुरुआत से पहले जानवर को भी कुछ जांच से गुजरना पड़ता है। इसमें टीकाकरण रिकॉर्ड की जांच करना और यह सुनिश्चित करने के लिए शारीरिक परीक्षण करना शामिल होता है की जानवर स्वस्थ और बीमारी से मुक्त है। उन्हें यह सुनिश्चित करने के लिए स्वभाव परीक्षण से भी गुजरना होगा कि वे हैंडलर और अन्य लोगों दोनों के साथ ठीक से व्यवहार करते हैं

Read More – How Much Water Is Sufficient? 2 लीटर या 4 लीटर कितना पीना चाहिए पानी? आइये जानते है क्या कहते है Experts!

इस थेरेपी से किसे और कैसे फायदे हो सकते है?

Pet Therapy

पशु चिकित्सा कई स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों की मदद कर सकता है। यह शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य दोनों मामलों में कारगर होता है।

फायदे:

चिंता और तनाव में कमी

दर्द की घटती धारणा

भय या चिंता की भावनाओं को कम करना

उत्तेजना और फोकस प्रदान करना

आत्म-सम्मान बढ़ाना

मौखिक संचार बढ़ाना

सामाजिक कौशल विकसित करना

बोरियत कम करना

चलने और खेलने के माध्यम से शारीरिक गतिविधियों में बढ़ोतरी का होना

अकेलेपन और खालीपन के एहसास में कमी का महसूस करना

साथ में, यह चिकित्सा निम्नलिखित स्थितियों को भी सुधारने में मददगार साबित होती है:

डिप्रेशन

चिंता

ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिस्ऑर्डर

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर

मिरगी

कैंसर के इलाज से दर्द में राहत

अब हम इस लेख के अंतिम पड़ाव  में पहुंच गए है जहां हम इस चिकित्सा से जुड़े कुछ अनुमानित जोखिमो की चर्चा करेंगे।

जहां एक तरफ पशु चिकित्सा कुछ स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों के लिए सहायक हो सकती है वही दूसरी तरफ यह कुछ व्यक्तियों के लिए लाभदायक नहीं होती है। कुछ लोगों को जानवरों से एलर्जी हो सकती है जो चिकित्सा के दौरान परेशानी का कारण बन सकता है। कई लोगों  को बस जानवरों से असहज या डर सा लगता है। हो सकता है कि वह इस प्रकार की चिकित्सा का चयन न करें क्योंकि इससे उनके तनाव में और बढ़ोतरी होगी।

इसके अतिरिक्त, चिकित्सा जानवर जो अस्पतालों और अन्य दीर्घकालिक सुविधाओं का दौरा करते हैं, वह कुछ संक्रमणों या बीमारियों के वाहक भी हो सकते हैं। उनके इन संक्रमणों को अन्य लोगों में फैलाने की संभावना हो सकती है।

Conclusion

पशु चिकित्सा में पेशेवर रूप से प्रशिक्षित जानवरों और उनके संचालकों के साथ नियमित सत्र शामिल होते हैं। इसका उद्देश्य लोगों को शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य विकारों से निपटने में मदद करने का होता है। डॉक्टर या मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए, विभिन्न स्थितियों के लिए पशु चिकित्सा की सिफारिश और प्रशासन कर सकते हैं। इसलिए उनकी सलाह को ही मद्दे नज़र रखते हुए कोई कदम उठाए या ठोस फैसला  ले।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Himanshu Jain

Enthusiastic and inquisitive with a passion in Journalism,Likes to gather news, corroborate inform and entertain viewers. Good in communication and storytelling skills with addition to writing scripts
Back to top button