एजुकेशन

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू


भारतीय छात्रों के लिए नयी छात्रवृत्ति की घोषणा

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू पूरे विश्व में प्रसिद्ध संस्थान ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने कानून की पढ़ाई करने वाले सभी भारतीय छात्रों के लिए एक नयी छात्रवृत्ति शुरू करने की घोषणा आज की है।

दरअसल, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के सोमरविल कॉलेज में यह नयी छात्रवृत्ति कोर्नेलिया सोराबजी की याद में शुरू की गयी है। बता दें, कोर्नेलिया सोमरविल में कानून की शिक्षा लेने वाली वाली पहली महिला छात्रा थी। साथ ही कोर्नेलिया सोराबजी ब्रिटेन के किसी भी विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने वाली पहली भारतीय महिला भी थीं। कोर्नेलिया सोराबजी ने वर्ष 1889 में यहां दाखिला लिया था। साथ ही कोर्निलिया सोराबजी भारत और ब्रिटेन देश में कानून की प्रैक्टिस करने वाली पहली महिला थीं।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने भारतीय छात्रों के लिए की नयी छात्रवृत्ति शुरू
ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय लोगो

यहाँ पढ़ें : एनआईआरएफ ने इंडिया रैंकिंग 2017 की घोषणा की

छात्रवृत्ति के तहत 50 प्रतिशत तक का वहन

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के द्वारा की गई, छात्रवृत्ति की घोषण के तहत पूरी डिग्री के खर्च का 50 प्रतिशत तक का वहन किया जाएगा। इस डिग्री का शिक्षण शुल्क 36,000 पाउंड है, जिसमें पढ़ाई के साथ ही रहन-सहन का खर्च भी शामिल है।

दिव्या शर्मा ने हासिल की पहली कोर्नेलिया सोराबजी छात्रवृत्ति

इस साल ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय अपनी 150वीं सालगिरह मना रहा है। दिव्या शर्मा जो की चंडीगढ़ की रहने वाली है, दिव्‍या कानून में कोर्नेलिया सोराबजी छात्रवृत्ति हासिल करने वाली पहली छात्रा बन गई हैं। दिव्‍या शर्मा इस हफ्ते से वहां बैचलर ऑफ सिविल लॉ की पढ़ाई शुरू करने वाली है।

कोर्नेलिया ने इंदिरा गांधी के सहित एक रास्ता खोला

सोमरविल कॉलेज की प्रोफेसर एलिस प्रोचास्का ने कहती है, कि कोर्नेलिया सोराबजी जबरदस्त भावना और साहस वाली महिला थी। कोर्नेलिया सोराबजी ने पूर्व भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साथ मिलकर बहुत सारे भारतीय छात्रों के लिए सोमरविल में एक रास्ता खोला था। साथ ही य‍ह भी कहा, कि भारत देश हमारे कॉलेज के लिए काफी महत्व रखता है। इस कोर्नेलिया सोराबजी छात्रवृत्ति से और स्नातक छात्रों के उनके पदचिन्हों का अनुसरण करने का रास्ता खुलेगा।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button