#GharAyaGoldMedal: मानसी जोशी और पीवी सिंधु बनी युवाओं के लिए एक मिसाल

0
36

भारत की बेटियों ने किया पूरे विश्व में भारत का नाम रोशन


एक समय था जब बेटे और बेटियों में फर्क किया जाता था। माता-पिता अपनी बेटियों को
पढ़ने के लिए बाहर नहीं भेजते थे। लेकिन समय बदला और उसके  साथ बेटे और बेटियों में
हो रहा फर्क भी खत्म हुआ। आज बेटियां घर से बाहर निकल कर देश को गोल्ड मैडल दिला
रही है।  और हर क्षेत्र में बेटों से आगे निकल रही है चाहे वो बात तकनीकी  की जाए या फिर
खेल की। जी हाँ, हैदराबाद की पीवी सिंधु और मुंबई की मानसी जोशी ने खेल क्षेत्र में रच दिया है
इतिहास। हाल ही में हुए स्विट्जरलैंड में बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप 2019 के फाइनल में
पीवी सिंधु ने जीत दर्ज करते हुए गोल्ड मेडल जीता है।  वही दूसरी ओर मुंबई की मानसी
जोशी ने पैरा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में जीत दर्ज करते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम कर
लिया  है।

पैरा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत ने जीते 12 पदक

आपको बता दें कि पैरा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत ने जीत दर्ज कर 12 पदक
हासिल किए है।  जिसके साथ पैरा बैडमिंटन खिलाड़ियों को पहली बार नकद धनराशि दी गई
और इसके लिए नियम भी बदले गए। साथ ही इन सभी 12 खिलाड़ियों को खेलमंत्री किरन
रिजिजू द्वारा सम्मानित किया गया। इन 12 खिलाड़ियों में से एक खिलाड़ी मानसी जोशी भी
थी जिन्होंने गोल्ड मैडल हासिल किया और खेल के क्षेत्र में अलग पहचान बना ली हैं।

और पढ़ें: भारत का पहला ऐसा रेस्टोरेंट जहां रोबोट परोसेंगे खाना

मानसी और पीवी सिंधु बनी सभी के लिए मिसाल

बात करें पैरा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में गोल्ड मैडल जीतने वाली मानसी की तो
मानसी को बचपन से ही बैडमिंटन में रूचि थी। बैडमिंटन को लेकर  मानसी ने बचपन से ही
बारीकियां सीखनी शुरू कर दी थी। वक़्त  के साथ मानसी के खेल में निखार आने लगा और
उन्होंने स्कूल और जिला स्तर पर खिताब जीतने शुरू कर दिए। लेकिन 2011 में उनकी
जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई। एक सड़क दुर्घटना के चलते उनके एक पैर में चोट आ
गयी थी। वह करीब दो महीने तक अस्पताल में रहीं। फिर भी मानसी ने हार नहीं मानी
और कड़ी मेहनत के बाद दौबारा वापसी की।

जीत के बाद मानसी ने अपने फेसबुक पेज पर खुशी जाहिर की

उन्होंने लिखा-मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की है और मैं बहुत खुश हूं कि इसके लिए बहाया गया पसीना और मेहनत रंग लाई है। यह वर्ल्ड चैंपियनशिप में पहला गोल्ड मेडल है पीवी सिंधु ने मानसी के स्वर्ण पदक जीतने के कुछ घंटे बाद ही वर्ल्ड चैंपियनशिप बैडमिंटन में स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया था और इसी के साथ सिंधु वर्ल्ड चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई। बता दें कि इससे पहले बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप में भारत के लिए महिला और पुरुष वर्गों में से अब तक किसी ने गोल्ड मेडल नहीं जीता है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.com