“Lumbini festival 2018”

0
768

यहाँ जाने लुम्बिनी फेस्टिवल के महत्व के बारे में ?


लुम्बिनी फेस्टिवल हर साल दिसम्बर के मिड में आंध्र प्रदेश के हैदराबाद नागराजुनगर में मनाते है। यह त्यौहार बौद्ध धर्म की परम्परा को जिन्दा रखने के लिए मनाया जाता है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो को बौद्ध  धर्म  के बारे में पता रहे. साथ ही यह महोत्स्व 3  दिन तक मनाया जाता है.

आपको बता दे की लुम्बिनी एक जगह का नाम है जो की नेपाल में स्थित है और यही पर गौतम बुद्ध का जन्म भी हुआ था. शायद आपको यह बात नहीं मालूम लेकिन लुम्बिनी बौद्ध तीर्थ स्थल में से एक है।यह लुम्बिनी त्यौहार राज्य के बौद्ध प्रभाव को उजागर करने के लिए हर साल आंध्र प्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित किया जाता है।

अब जानते है की हर साल यह त्यौहार क्यों मानते है और इसका महत्व क्या है?

इस  त्यौहार को हर साल बौद्ध धर्म के महत्व को बनाये रखने और धर्म का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है। लुम्बिनी फेस्टिवल का महत्व यह भी  है की इसमें बाहर से आए  पर्यटकों को  बौद्ध विरासत के निशान और उनके द्वारा दिए गए मार्ग दर्शन के बारे में बताया  जाता है । लुंबिनी गौतम बुद्ध के जन्मस्थान के साथ भारत में बौद्ध तीर्थयात्रा की सबसे सम्मानित स्थलों में से एक माना  जाता है।

यहाँ भी पढ़े :जाने कैसा रहा पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुख़र्जी जी का 5 साल का कार्यकाल

इसके साथ ही लुम्बिनी फेस्टिवल जो की तीन दिवस तक चलता है और यह त्यौहार दिसम्बर के दूसरे शुक्रवार से शुरू हो जाता है.  इन तीन दिनों में नाच, गाना  और  गौतम बुद्ध की शिक्षाओं को भी याद किया जाता हैं.इस त्यौहार में सिर्फ भारत के अलग- अलग  राज्यों से ही नहीं बल्कि बाहरी देशो से भी लोग इस त्यौहार में भाग लेते है. यह त्यौहार इस साल तेलंगाना के नागार्जुनसागर में मनाया जायेगा वो भी 15 दिसम्बर  से लेकर 17 दिसम्बर  तक.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in