LK ADVANI BIRTHDAY: बीजेपी को शुन्य से शिखर तक पहुंचने वाले लाल कृष्ण अडवाणी बना रह है अपना 92 वां जन्मदिन

0
LK Adwani birthday

आखिर क्यों बुलाते थे अडवाणी को आयरन मेन


LK Adwani birthday : देश के पूर्व ग़ृह मंत्री और भाजपा को शुन्य से शिखर पर पहुंचने वाले एल.के अडवाणी मना रहे है आज अपना 92वां जन्मदिन। अडवाणी जी ने अपने जीवन की शुरुआत सवयंसेवक कार्यकर्ता के रूप में की थी और इतना ही नहीं अडवाणी ही रामजन्म भूमि के आंदोलन का चेहरा भी बने थे।

आयरन मेन के नाम से भी जाने जाते हैं अडवाणी:

लाल कृष्ण अडवाणी का जन्म 8 नवंबर 1927 को कराची में हुआ था। उनके पिता का नाम केके अडवाणी था और बंटवारे के बाद उनका परिवार पाकिस्तान से भारत आ गया था। शुरआती शिक्षा अडवाणी की पाकिस्तान में ही हुई थी, लेकिन भारत आने के बाद उन्होंने मुंबई के गवर्नमेंट लॉ कॉलेज से कानून की शिक्षा हासिल की। इन सबके आलावा 1944 में अडवाणी जी ने कराची मॉडल हाई स्कूल में टीचर के तौर पर भी काम किया है। 1965 में अडवाणी जी ने कमला देवी से शादी की।

अडवाणी बीजेपी के तीन बार अध्यक्ष, चार बार राज्य सभा सदस्य और पांच बार लोक सभा सदस्य रह चुके हैं। अडवाणी को उनके कड़े फैसले और आक्रामक अंदाज़ की वहज से आयरन मेन भी कहा जाता है।

यथ यात्रा से बदली देश की राजनीति:

1989 में अयोधया में राम मंदिर के आंदोलन और बाबरी मस्जिद के खिलाफ कार सेवको को इक्कठा किया था और गुजरात के सोमनाथ मंदिर से ये रथ यात्रा शुरू हुई थी जिसने अडवाणी की लोकप्रियता को बड़ा दिया और वो हिंदुत्व के ‘न्यू पोस्टर बॉय’ के रूप में उभरे। अडवाणी की इस रथ यात्रा के ठीक 3 साल बाद ही, यानि 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद को गिरा दिया गया था।

और पढ़ें: रामजनम भूमि: वर्डिक्ट आने से पहले सख्त हुई लोगो की सुरक्षा, तैनात हुई RAF

इस रथ यात्रा ने राजनीति की दिशा ही बदल दी थी, क्यूंकि इस यात्रा के ठीक दो साल बाद यानि की 1991 में बीजेपी एक बार फिर से आम चुनाव में दूसरी बड़ी पार्टी बन कर सामने आई और महज़ 5 साल बाद ही सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सत्ता में आई।

अटल बिहारी वाजपेयी के समय अडवाणी दो बार ग़ृह मंत्री बने और उप-प्रधानमंत्री का पद भी संभाला। इससे पहले 1997 में मोरारजी देसाई की सरकार गज्ज नेता मनहोर और अटल भयहारी वाजपेयी के साथ मागदर्शन मंडल में शामिल हो गये। इन सबके आलावा अडवाणी जी ने ‘माई कंट्री, माई लाइफ’ नाम से आत्मकथा भी लिखी है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here