जानिए क्यों एकांत में रहना होता है अच्छा


एकांत में रहना: सही या गलत


इस व्यस्त सी जीवनशैली में हम अक्सर खुद के लिए समय नहीं निकाल पाते। और हर व्यक्ति के लिए एकांत में रहना और खुद को समय देना बहुत ज़रूरी है। एक व्यक्ति चाहे जितना भी खुला और बहिर्मुखी क्यों न हो, उसे भी ऐसे समय की ज़रूरत पड़ती है जहाँ वो कुछ समय खुद के लिए बिता सके। यहाँ अकेल या एकांत में रहने से हमारा मतलब ये नहीं है कि आप खुद को सबसे के अलग करके एकदम अकेले रहे। पर हमारा मतलब ये की आप अपने लिए समय निकले। इस भागदौड़ और इस व्यस्त समय में जानिए की क्यों जरूरी है अकेले समय निकालना।

जानिए क्यों एकांत में रहना होता है अच्छा
आप ज़्यादा खुश रहने लगेंगे

यहाँ पढ़ें : कैसे बढ़ायें शब्दों का ज्ञान

  1. एकांत में रह कर आप चीज़ो को बेहतर ढंग से समझते है और इसी वजह से आप बेहतर फैसले ले पाते है।
  2. आपकी रचनात्मकता बढ़ती है। आपकी काम करने की क्षमता बढ़ती है और आप ज़्यादा रचनात्मक ढंग से अपना काम करते है।
  3. आप एकांत में रह कर हर तरह की तकलीफ और तनाव से मुक्त हो सकते है। एकांत में परिस्तिथियों को बेहतर ढंग से समझा जा सकता है।
  4. आप खुद को बेहतर ढंग से समझ पाते है। और आपको खुद में ही एक दोस्त मिल जाता है जो आपको समझता है।
  5. अकेले समय बिताने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है और आप ज़िंदगी के नए अवसरों के बारे में सोच विचार कर सकते है।
  6. एकांत में समय बिताने से आप ज्यादा शाँत होते है और आप खुद की ज़िन्दगी की समीक्षा कर सकते है।

अकेले समय बिताना शायद थोड़ा बोरिंग लगे, पर इसके फ़ायदे बहुत होते है। आपको पूरे दिन में कम से कम एक घंटा अकेले एकांत में बिताना है। और ये एक घंटा सिर्फ आपका होगा। इसमें ना तो आप अपने फ़ोन का प्रयोग करेंगे और ना ही किसी और वस्तु का। इससे आपका सारा ध्यान आप पर होगा। कोशिश करे की आप ये एक घंटा सोने से पहले ले, इससे आपको नींद भी बेहतर आएगी और अगले दिन के लिए आप ज़्यादा सकारात्मक भी होंगे।

जब ये प्रक्रिया आपके नियमित कार्यक्रम का हिस्सा बन जाएगा तब आप संझेंगे की कैसे ये समय आपको बदल पाया है। खुद को समय देने से आपका ही फायदा होता है। आपको खुद के बारे में बेहतर महसूस होने लगेगा। इसलिए खुद के लिए समय निकाले और लोगो से हटकर, एकांत में रहना सीखे।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Story By : AvatarParnika Bhardwaj
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
%d bloggers like this: