अस्थमा से हैं परेशान तो जाने क्या है इसकी वजह

0
44

परहेज़ से होगा अस्थमा का बचाव


अक्सर देखा जाता है की कई लोगो को अचानक सास लेने में तकलीफ होने लग जाती है.लोग इस बात को आम समझ कर नज़र अंदाज़ कर देते हैं. मगर अब सतर्क हो जाइये क्यूंकि बढ़ते प्रदूषण और मौसम के बदलाव से ये कुछ और नहीं बल्कि अस्थमा हो सकता है.

जाने अस्थमा के कुछ प्रकार

  1. एलर्जिक अस्थमा.
  2. नॉनएलर्जिक अस्थमा.
  3. मिक्सड अस्थमा.
  4. एक्सरसाइज इनड्यूस अस्थमा.
  5. कफ वेरिएंट अस्थमा.
  6. ऑक्यूपेशनल अस्थमा.
  7. नॉक्टेर्नल यानी नाइटटाइम अस्थमा.
  8. मिमिक अस्थमा.
  9. चाइल्ड ऑनसेट अस्थमा.
  10. एडल्ट ऑनसेट अस्थमा.

यहाँ भी पढ़े:ख़जूर रखेगा आपकी सेहत का ख़ास ख्याल 

क्या हैं अस्थमा होने के मुख्य लक्षण

  1. यदि आपको अचानक सास लेने में तकलीफ महसूस होने लगे.
  2. काम करते वक़्त या दौड़ते वक़्त सास का तेज़ी से फूलना.
  3. बार बार मौसम बदलने पर नाक बंद हो जाना.
  4. सीने में जकड़न जैसा महसूस होना.
  5. ठंडी हवा में सास लेने में दिक्कत होना.
  6. ज़ोर-ज़ोर से सास लेना जिससे थकान महसूस हो.
कभी भी आ सकता है अटैक

यदि आपको इनमे से कोई भी लक्षण सास लेते वक़्त नज़र आते हैं तो बिना देर करते हुए अपने डॉक्टर के पास जाएं. अपना पूर्ण रूप से इलाज करवाए. आम तौर पर चिकित्सक इसके लिए चंद दवाइयों के साथ एक इन्हेलर भी देते हैं. इन्हेलर के द्वारा दवाई को आपके शरीर में तेज़ी से डाला जाता है. तो यदि आप भी अस्थमा के मरीज़ हैं तो अपना इनहेलर अपने साथ हमेशा रखे.

अस्थमा के प्रारंभिक बचाव

सर्दियों के मौसम में तेज़ सर्दी से बचना बहुत जरूरी है.

अधिक उचाई में जाने से बचें.

धुल ,मिटटी,कोहरे और प्रदूषण में जाने से बचे.

ज्यादा एक्सरसाइज न करें.

अंडा,दूध,मांस,मछली खाना नज़र अंदाज़ करें.

कफ या बलगम जमने की स्थति में बिना देर करते हुए तुरंत इसका इलाज शुरू कर दें.

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in