दुशमनों के घर में घुसकर दिया अपनी वीरता का परिचय

0
abhinandan

जाने देश के वीर सपुत्र अभिनंदन  से जुड़ी  यह कुछ अहम बातें  


आखिरकार देश का बेटा 54  घंटे के बाद वापस घर लौट आया  हैं. होली का त्यौहार आने में थोड़ा समय है लेकिन जांबाज़ वीर अभिनंदन के घर वापस लौटने के बाद से पूरे देश में दिवाली और होली एक साथ मनाई  जा रही है.आज अभिनंदन की वीरता  पर पूरे देश का सर फक्र से ऊँचा  हो गया है. अभिनंदन  ने दुश्मनो के घर में घुसकर उनकी आँखों  में आँखे  डालकर अपनी साहस , जूनून और वीरता दिखाई है  . लेकिन सबसे  पहले जानते है विंग कमांडर अभिनंदन  से जुड़ी  यह कुछ अहम बातें .

abhinandan

जाने देश के वीर सपुत्र विंग कमांडर अभिनंदन के बारे में ?

1.विंग कमांडर अभिनंदन भारतीय वायु सेना के ऑफिसर  है और तमिलनाडु से है.

2.कमांडर अभिनंदन ने नेशनल डिफेंस एकेडमी  से ग्रेजुएशन करने के बाद 2004  में 19  जून को इंडियन आर्मी  फाॅर्स ज्वाइन कर ली

3. कमांडर अभिनंदन की दोनों पीढ़ी इंडियन आर्मी से बेलोंग करती है. अभिनंदन, जाने माने पूर्व पायलट एयर मार्शल सिम्हाकुट्टी वर्धमान के बेटे हैं.

4. अभिनंदन अपने 15 सालों के कॅरियर में दो बार प्रमोट किए जा चुके हैं.पहले उन्हें सुखोई 30 फाइटर पायलट का खिताब मिला. बाद में उनके युद्ध कौशल को देखते हुए विंग कमांडर के तौर पर प्रमोट किया गया. इसके बाद उन्‍हें मिग- 21 बिसन सौंपा गया .

अब जाने कैसे विंग कमांडर अभिनंदन  ने पाकिस्तान में अपनी वीरता  का परचम लहराया ?

देश का वीर बेटा घर तो वापस लौट आया है लेकिन अभी भी भारत और पाकिस्तान के बीच आतंक को खत्म करने की जंग जारी है.आज पाकिस्तान हमारे  देश  के सेना की वीरता और साहस  को देख कर सहमा सा हुआ  है लेकिन अभी भी वो अपनी नापाक हरकतों  को अंजाम दिए जा रहा है.

14  फरवरी को हुए पुलवामा अटैक जिसमे  हमारे 42 से भी ज़्यादा जवान शहीद हुए उसके बाद भारतीय  सेना ने पाक की इस न पाक हरकतों का जवाब बड़ी ही वीरता के साथ दिया और एयर स्ट्राइक के जरिये आतंकी कैंपो पर हमला किया और उनके 300 आतंकियों को मार गिराया.उसके बाद से पाकिस्तान में बौखलाहट मच गई है  और उन्होंने दोबारा फिर पीछे  से वार किया. जी हाँ, भारत के जवाब  के बाद  पाकिस्तान ने एयर स्ट्राइक के जरिए भारत के जवान के कैंपो को अपना निशाना बनाया जिसमे वह नाकाम रहे लेकिन पाक का एक जेट F- 16 क्रैश हो गया जो कि  भारत में गिरा , वही भारत का भी एक जेट MIG– 21 क्रैश हुआ जो कि पाक्सितान में गिरा.

यहाँ भी पढ़े :जेनेवा संधि क्या है और यह किन पर लागू होता है ?

लेकिन  जेट MIG–21 मे बैठे पायलट अभिनंदन पाक की आर्मी के गिरफ्त में आ गये. लेकिन जेनेवा संधि के मुताबिक पाकिस्तान की आर्मी पायलट अभिनंदन के साथ दुर्व्यवहार नहीं कर पाई. भारतीय वायुसेना के जांबाज पायलट अभिनंदन को रोकने के लिए पाकिस्तान में पूरी कोशिश हुई, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली और दबाव में आखिरकर पाक  को 54 घंटे  के बाद  अभिनंदन  को रिहा करना पड़ा .

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here