Categories
लाइफस्टाइल

जाने आर्ट थेरेपी के बारे में, साथ ही जाने मेंटल हेल्थ से जुड़ी परेशानियों में कैसे फायदेमंद होती है ये थेरेपी…

जाने क्या होती है आर्ट थेरेपी


आज के समय पर जिसे देखो वही स्ट्रेस की बात करता है। लोगों की जिंदगी इतनी काम्पलैक्स हो चुकी है कि हर कोई स्ट्रेस से बाहर आने के तरीके ढूंढता रहता है। कई बार तो कई लोगों को काउंसलिंग की जरूरत भी पड़ जाती है। ऐसे में लोगों अवसाद और डिप्रेशन से बाहर निकलने की कोशिश  करते रहते है। कई बार लोग किसी ऐसी समस्या या फिर ये कहे किसी ऐसी पीड़ा में पड़ जाते है कि वो शब्दों के माध्यम से अपनी फीलिंग बयां नहीं कर पाते। फिर चाहे आप उन पर कितना भी प्रेशर क्यों न डाल लें। लेकिन वो अपनी पीड़ा और भावनाओं को अपने अंदर ही दबा लेते है। ऐसे में आज कल लोग आर्ट थेरेपी की सहायता ले रहे हैं। आर्ट थेरेपी के माध्यम से आप अपने अंदर के भावों को बाहर निकाल कर  और उन्हें दूसरों को समझने की कोशिश कर सकते है। ये जान कर आपको भी थोड़ा आश्चर्य हो सकता है कि कैसे आर्ट थेरेपी आपके मेंटल हेल्थ से जुड़ी परेशानियों को दूर करती है।

Image Source- Pixabay

क्या है आर्ट थेरेपी

आर्ट थेरेपी एक रचनात्मक प्रक्रिया होती है। इस थेरेपी में मनोचिकित्सक तकनीकों से मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से किसी भी पेशेंट की मदद की जाती है। आप इस थेरेपी को ड्राइंग, पेंटिंग, मूर्तिकला और कोलाज बनाने जैसी रचनात्मक तरीकों से कर सकते है। ये बिलकुल भी जरुरी नहीं कि आर्ट थेरेपी लेने वाले पेशेंट में कोई आर्टिस्टिक क्वालिटी होना जरूरी है। हर उम्र के लोग चाहे वो बच्चे हों या बड़े इस थेरेपी से मदद ले सकते हैं। कई सारी रिसर्च से ये पता चला है कि मानसिक दबाव महसूस कर रहे लोगों को आर्ट थेरेपी से आराम मिलता है।

और पढ़ें:  जाने कोरोना वायरस के कारण कैसे बदल रही है हमारी आदतें, कैसे प्रभावित हो रही है हमारी जीवनशैली

Image Source- Pixabay

आर्ट थेरेपी की कौन ले सकता है मदद

आर्ट थेरेपी की मदद वो सभी लोग ले सकते है जो अंदर से बहुत ज्यादा परेशान हो या फिर खुद को एक्सप्रेस नहीं कर पाते है। वो सभी लोग आर्ट थेरेपी की मदद ले सकते हैं। या फिर जिन बच्चों को व्यवहार संबंधी दिक्कत होती है। वो भी इस थेरेपी की मदद ले सकते है। या फिर घरों में या रिश्तों में आई दरार या अगर किसी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी से जूझ रहे हैं तो उसके स्ट्रेस को इस थेरेपी की मदद से कम किया जा सकता है।

आर्ट थेरेपी को आपको एक नार्मल आर्ट क्लास की तरह नहीं समझना चाहिए। आर्ट थेरेपी की क्लास में पैन्टिन्ग के जरिये बारीकियों को समझाया जाता है। आर्ट थेरेपी की क्लास में पेशेंट को उसकी फीलिंग्स, और उसकी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आर्ट थेरेपी से स्ट्रेस और मानसिक समस्याओं को ठीक करने में कितनी सफलता मिलती है इससे लेकर अभी कुछ कहा नहीं जा सकता। लेकिन अभी हमारे देश में इस थेरेपी का चलन बहुत ज्यादा बढ़ रहा है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com