हॉट टॉपिक्स

देशव्यापी हड़ताल के बीच बिल के विरोध में  पंजाब के किसान उतरे पटरियों पर, 20 ट्रेनें हुई रद्द 

26 सितंबर तक चलेगा किसान आंदोलन


किसानों से संबंधित तीन कृषि विधेयकों को संसद से पारित किये जाने के विरोध में किसान संगठनों ने कल से ही आंदोलन की राह पकड़ ली हैं. हालांकि किसान आंदोलन का सबसे ज्यादा असर पंजाब और हरियाणा में देखने को मिल रहा है. यह आंदोलन 26 सितंबर यानि कल तक चलाएंगे. किसान पिछले कुछ दिनों से सड़क पर प्रदर्शन कर रहे थे. लेकिन आज से पंजाब के किसान रेल ट्रैक पर बैठ गए. किसानों द्वारा चलाया जा रहा रेल रोको आंदोलन को देखते हुए रेलवे ने 26 सितंबर तक 20 विशेष ट्रेनें आंशिक रूप से रद्द और 5 को गंतव्य से पहले रोक दिया गया है. दूसरी तरफ हरियाणा में किसानों ने भी आढ़तियों ने राजमार्ग जाम करने की चेतावनी दी है. जबकि यूपी की किसानों ने कर्फ्यू और जाम का आह्वान किया है.

और पढ़ें: ईपीएस-95 पेंशनधारकों के समर्थन में सांसद हेमा मालिनी ने श्रम मंत्री संतोष गंगवार को लिखा पत्र

Image source – Patrika

जानें किन विधेयकों का हो रहा विरोध

हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा कृषि सुधारों से जुड़े तीन बिल संसद से पास किये गए है. ये बिल है कृषि उपज व्यापार एवं वाणिज्य बिल-2020, कृषक कीमत आश्वासन समझौता बिल-2020 और तीसरा है कृषि सेवा विधेयक-2020. इस बिल के पास होने के बाद किसानों को आशंका है कि संसद से पारित बिल के जरिये अब सरकार का न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म करने का रास्ता खुल गया हे. जिसके कारण उन्हें अब बड़े कॉरपोरेट के आसरे रहना पड़ेगा.

हरियाणा में बंद रहेंगी मंडियां-बाजार

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर प्रस्तावित भारत बंद के दौरान शुक्रवार को हरियाणा में बाजार और मंडियां बंद रहेंगी. किसानों ने प्रमुख रास्तों और रेल ट्रैक पर जाम की चेतावनी दी  है. साथ ही  यूपी के सभी जिलों में भी धरना-प्रदर्शन किया जायेगा. और 28 सितंबर को भारतीय कांग्रेस विधानभवन का घेराव करेगी और आज से 31 अक्तूबर तक किसान जागरूकता महाभियान चलाएगी.

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।