Kartik puja 2019 : कार्तिक के महीने में क्यों की जाती है तुलसी की पूजा

0
38
tulsi puja
tulsi puja

जाने क्या है हिन्दू धर्म में कार्तिक के महीने का महत्व


Kartik puja 2019: हर साल शरद पूर्णिमा के बाद से शुरू हो जाता है कार्तिक का महीना और इस साल कार्तिक का महीना 14 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। कार्तिक के महीने को हिन्दू धर्म में सबसे पावन माना जाता है। इस महीने में लोग तुलसी की पूजा करते है और उनका विवाह भगवान विष्णु से कराते है। पारिवारिक और वैवाहिक जीवन के लिए तुलसी की पूजा सबसे उत्तम मानी जाती है और तुलसी के पौधे की  प्लांटिंग तथा पूजन के लिए सबसे अच्छा महीना कार्तिक का ही होता है।

इस माह कि एक और ख़ास बात है की इस  महीने में भगवान विष्णु योग नींद से जागते है। वही माँ लक्ष्मी धरती पर भ्रमण करती हैं और भक्तों को अपना आशीर्वाद बरसाती है। यह महीना  काफी पावन माना जाता है , कहते है इस महीने में दान ,व्रत और गंगा स्नान करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है।

हिन्दू धर्म में कार्तिक के महीने का होता है ख़ास महत्व

कार्तिक महीने का हिंदू धर्म में खास महत्व होता है। इस महीने में कई हिंदू व्रत और त्योहार आते हैं। कार्तिक महीने की शुरुआत से लेकर पूर्णिमा तक लोग कई तरह की पूजा अर्चना करते हैं। कार्तिक मास में करवा चौथ, धनतेरस, दिवाली, भाईदूज, कार्तिक पूर्णिमा जैसे कई व्रत त्योहार आते हैं। आपको बता दें की कार्तिक महीना 14 अक्टूबर से शुरू होगा और 12 नवंबर 2019 तक चलेगा।

और पढ़ें: KarwaChauth 2019: दीपवीर से लेकर प्रियंका निक तक, जानिए कैसी चल रही है करवाचौथ की तैयारी?

इसके अलावा बात करे अगर हिन्दू कैलेंडर की तो यह महीना काफी पवित्र है। इसमें आप तुलसी की पूजा करते है तो आपके घर में सुख शान्ति बनी रहती है और मनवांछित फल भी मिलता है।

इस महीने  को क्यों कहा जाता है कार्तिक का महीना ?  

यह महीना इस लिए भी पवित्र माना जाता है क्योंकि इस महीने में भगवान शिव के बड़े बेटे कार्तिक ने राक्षस तारकासुर का वध किया था। तभी से इस महीने का नाम कार्तिक पड़ा इसलिए इस महीने कार्तिक और तुलसी की पूजा की जाती है।कार्तिक का महीना जैसे ही शुरू होता है उसके चौथे दिन करवाचौथ पड़ता  है। इस साल करवा चौथ 17 अक्टूबर को है जिस दिन सभी पत्नियाँ अपने पति की लम्बी उम्र के लिए व्रत रखती है।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments