Kapil Dev: जन्मदिन विशेष – कपिल देव से जुड़ी 10 रोचक बातें

0
111
Kapil Dev:

Kapil Dev: आज है कपिल देव का 61 वा जन्मदिन: यहाँ जाने उनसे जुड़ी कुछ ख़ास बातें


Kapil Dev: भारतीय क्रिकेट टीम दुनिया के सामने छवि बदलने में जिस शख्स का हाथ है वो है कपिल देव  यानि 6 जनवरी 61 वा जन्मदिन मना रहे हैं। 1983 के बाद दुनिया ने भारत क्रिकेट पंडितों के भ्रम को 1983 में तोड़ दिया जब भारत ने तीसरे विश्व कप में सफलता हासिल की। भारतीय टीम ने इतिहास रचा। भारतीय टीम 1983 के विश्व कप फाइनल (World Cup Final) में कपिल देव की कप्तानी में भारतीय टीम ने फाइनल मुकाबले में एक छोटे से लक्ष्य का बचाव करते हुए यह र्कितिमान स्थापित किया।आइए जानते हैं कपिल देव के जीवन से जुड़ी 10 रोचक बातें।

आइए जानते हैं कपिल देव के जीवन से जुड़ी 10 रोचक बातें

1. कपिल देव का जन्म 6 जनवरी 1959 को पंजाब (Punjab) के चंडीगढ़ में हुआ था।

2. कपिल के पिता राम लाल निखंड बिल्डिंग और टिंबर कॉन्ट्रेक्टर थे। कपिल की माता का नाम राज कुमारी थी। विभाजन के समय उनका परिवार (Family) रावलपिंडी से पंजाब पहुंचा था।

3. 1975 में कपिल देव ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट (First Class Cricket) खेलना शुरू किया। पहले ही मैच में वो दुनिया को हुनर दिखाने में कामयाब रहें और डेब्यू क्रिकेट में ही 6 विकेट लेकर विरोधी टीम परास्त कर दिया।

4. कपिल ने 1 अक्तूबर 1978 को पाकिस्तान (Pakistan) के ही खिलाफ वनडे में डेब्यू किया था। टेस्ट मैच में कपिल देव ने 16 अक्तूबर 1978 को पाकिस्तान के खिलाफ पहला मुकाबला खेला था। हालांकि उनका डेब्यू मैच खास नहीं रहा और उन्होंने मात्र एक विकेट हासिल चटकाए।

5. कपिल टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में 8 सालों तक राज करते रहे। 8 फरवरी 1994 को श्रीलंका के हसन तिकलरत्ने को आउट करके कपिल ने रिचर्ड हैडली के 431 विकेट के रिकॉर्ड को तोड़ा था। वेस्ट इंडीज के कर्टली वाल्श ने 2000 में उनका यह रिकॉर्ड तोड़ा।

6. टेस्ट में कपिल के नाम अनोखा रिकॉर्ड (Record) दर्ज है। उन्होंने 184 पारियों में एक बार भी रन आउट नहीं हुए।

7. 1983 वर्ल्ड कप में कपिल देव ने बल्ले और गेंद से शानदार प्रर्दशन किया था। उन्होंने कुल 8 मैच में 303 रन और 12 विकेट लिये। साथ ही 8 कैच भी लपके।

और पढ़ें: Miss teen India 2020 में 10 राज्य की 13 सुंदरियों ने बिखेरा जलवा

8. कपिल को 2002 में क्रिकेट ऑफ दी सेंचुरी चुना गया। इस साल उन्होंने सचिन और गावस्कर को भी पीछे छोड़ दिया था।

9. कपिल ने 1994 में क्रिकेट से संन्यास लिया। उन्होंरने 131 टेस्ट में 5248 रन और 434 विकेट लिये। इसके अलावा 225 वनडे में उन्होंने 3783 रन और 253 विकेट लिये। वनडे में कपिल के खाते में एक और टेस्ट में 8 शतक दर्ज हैं। संन्यास के बाद कपिल देव गोल्फ खेलना शुरू किया।

10. कपिल देव का क्रिकेट कैरियर (Career) काफी लंबा रहा। उन्हों8ने 16 सालों तक टीम इंडिया (Team India) के लिए खेला। कपिल कप्तांनी के साथ-साथ टीम इंडिया को 10 महीनों तक कोचिंग भी दी। कपिल 1999 से 2000 के बीच भरतीय क्रिकेट टीम के कोच रहे।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com