काम की बात करोना

ओलंपिक के फाइनल में पहुंची इन भारतीयों में कौन है कमलप्रीत कौर Discus Throw

जाने कौन है कमलप्रीत कौर?


डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर ने भारत की तरफ से टोक्यो ओलंपिक में बहतरीन प्रदर्शन किया है। हालांकि क्वालीफाइंग दौर में कमलप्रीत कौर ने शनिवार को दूसरे स्थान पर रहते हुए टोक्यो ओलंपिक खेलों के फाइनल में जगह बनाई। अब उन्होंने टोक्यो ओलंपिक के फाइनल राउंड के लिए क्वालीफाई कर लिया है। जो की उनके और पूरे भारत के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। अपने क्वालीफाइंग दौर में उसने 62 मीटर, 63.97 मीटर, 64 मीटर किया।

आपको बता दें कि कमलप्रीत कौर टोक्यो ओलंपिक खेलों में सुर्खियों में आने वाली भारतीय डिस्कस थ्रोअर हैं। टोक्यो ओलंपिक में कमलप्रीत कौर को 65.06 मीटर के प्रयास के साथ डिस्कस थ्रो में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने के लिए जाना जाता है। ओलंपिक में गोल्ड मैडल जीतने की चाहत रखने वाले 25 वर्षीय कमलप्रीत कौर का यह शानदार प्रदर्शन है। आपको बता दें कि कमलप्रीत कौर युनाइटेड स्टेट्स वेलेरिया ऑलमैन के एथलीट के साथ टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में प्रवेश पाने वाली दो खिलाड़ियों में शामिल हुई थी। इस दौरान कमलप्रीत कौर का मुकाबला ऑलमैन से होगा था। तो चलिए विस्तार से जानते है इनके बारे में।

और पढ़ें: जाने वैक्सीन लगवाने के बाद एक्सरसाइज आपके लिए कितना फायदेमंद हो सकता है…

कमलप्रीत कौर 2014 से खेल को लेकर हुईं गंभीर

आज के समय पर टोक्यो ओलंपिक में बहतरीन प्रदर्शन कर के अपना और देश का नाम रोशन करने वाली कमलप्रीत कौर ने साल 2014 से खेल के प्रति दिलचस्पी दिखाई और गंभीर हुईं थी। उनकी यह शुरुआती ट्रेनिंग भारतीय खेल प्राधिकरण केंद्र में उनके गांव में शुरू हुई थी। आपको बता दें कि कमलप्रीत कौर की कड़ी मेहनत और जुनून ने रंग लाना शुरू किया। जिसके बाद वह 2016 में अंडर 18 और अंडर 20 राष्ट्रीय चैम्पियन बनीं।

कमलप्रीत के नाम दर्ज है ये रिकॉर्ड

आपको बता दें कि साल 2019 में दोहा में हुए एशियाइ एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में कमलप्रीत कौर पांचवें स्थान पर रहीं थीं। कमलप्रीत कौर डिस्कस थ्रो में 65 मीटर बाधा पार की और आपको बता दें कि कमलप्रीत ऐसा करने वाली पहली महिला बनीं। उन्होंने साल 2019 संस्करण में 60.25 मीटर डिस्कस थ्रो कर गोल्ड मेडल जीता था।

https://twitter.com/Tokyo2020hi/status/1421319728442744834?s=20
आपको बात दें कि कमलप्रीत कौर ने शनिवार को क्वॉलिफिकेशन ग्रुप बी में अपने तीसरे प्रयास में 64 मीटर का ऑटोमैटिक क्वॉलिफाइंग मार्क हासिल कर इतिहास रचा और फाइनल का टिकट हासिल किया। लेकिन सीमा क्वॉलिफिकेशन ग्रुप ए में तमाम प्रयासों के बावजूद 60.57 मीटर के साथ छठा स्थान हासिल कर सकीं। आपको बात दें कि कमलप्रीत कौर क्वॉलिफाइंग के ग्रुप-ए में 15 और बी में 16 एथलीट शामिल हुई थीं। इन दोनों ग्रुपों से कुल 12 टॉप एथलीट फाइनल में पहुंचीं। जिन्होंने ऑटोमेटिक क्वालीफाई किया है, इसके अलावा श्रेष्ठ दूरी तय करने वाली एथलीट वरीयता क्रम में आ जाएंगी।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com

Back to top button
Hey, wait!

अगर आप भी चाहते हैं कुछ हटके वीडियो, महिलाओ पर आधारित प्रेरणादायक स्टोरी, और निष्पक्ष खबरें तो ऐसी खबरों के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें और पाए बेकार की न्यूज़अलर्ट से छुटकारा।