भारत के ऐसे प्रधानमंत्री जिन्होंने पलट दी देश की काया

0
53
india's pm

प्रधानमंत्री और उनके द्वारा लिए गए बड़े फैसले


15 अगस्त 1947 में भारत के आज़ाद होने के बाद पहली बार भारत को अपना प्रधानमंत्री मिला. किसी भी देश का प्रधानमंत्री उस देश का प्रमुख होता है. भारत में अब तक 15 प्रधानमंत्रीयों ने पद ग्रहण किया है. अब तक प्रधानमंत्रियों का 20 बार चुनाव किया जा चुका है जिनमे से कई लोगो को दोबारा चुना गया है. लेकिन इनमे से कुछ ऐसे पीएम भी रहे हैं जिन्होंने अपने कार्यकाल में ऐसे बड़े फैसले लिए जिन्हे देश हमेशा याद रखेगा , तो आइये जानते हैं भारत के कुछ यादगार प्रधानमंत्री और उनके लिए हुए फैसलों को –

1.जवाहरलाल नेहरू –

भारत के अज़ाब होने के बाद 15 अगस्त 1947 को जवाहरलाल नेहरू देश के पहले प्रधानमंत्री बने. इन्होने 1964 तक प्रधानमंत्री पद पर बने रहकर देश की सेवा की थी. इन्होने अपने कार्यकाल में कई अहम फैसले लिए. आपको बता दें की भारत का संविधान 1950 में अधिनियमित हुआ, जिसके बाद उन्होंने आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक सुधारों के एक महत्त्वाकांक्षी योजना की शुरुआत की. मुख्यत , एक बहुवचनी, बहु-दलीय लोकतन्त्र को पोषित करते हुएँ, उन्होंने भारत के एक उपनिवेश से गणराज्य में परिवर्तन होने का पर्यवेक्षण किया. विदेश नीति में, भारत को दक्षिण एशिया में एक क्षेत्रीय नायक के रूप में प्रदर्शित करते हुएँ, उन्होंने गुट-निरपेक्ष आन्दोलन में एक अग्रणी भूमिका निभाई.

JawaharlalNehru

यहाँ भी पढ़ें: मांसाहारी कौन ,शाकाहारी कौन ,जानिए नेताओं की ये बात

2 . लाल बहादुर शास्त्री –

शास्त्री जी का कार्यकाल काफी कठिन रहा है. देश काफी समस्याओं से घिरा हुआ था. दुश्मन देश हम पर आक्रमण करने की फिराक में बैठे हुए थे. 1965 में अचानक पाकिस्तान ने भारत पर सायं 7.30 बजे हवाई हमला कर दिया. राष्ट्रपति ने आपात बैठक बुला ली थी.प्रधानमंत्री के आते ही विचार-विमर्श प्रारम्भ हुआ. तीनों प्रमुखों ने उनसे सारी वस्तुस्थिति समझाते हुए पूछा: “सर! क्या हुक्म है?” शास्त्रीजी ने एक वाक्य में तत्काल उत्तर दिया: “आप देश की रक्षा कीजिये और मुझे बताइये कि हमें क्या करना है?” और हम जंग जीत गए. ये लालबहादुर शास्त्री ही थे जिन्होंने ‘जय जवान जय किसान’ दिया.

laal bahadur shahtri
3 . इंदिरा गाँधी –

इंदिरा गाँधी भारत की पहली प्रधानमंत्री थी इन्होने तीन बार प्रधानमंत्री का पद हासिल किया.पहली बार 24 जनवरी 1966 से 24 मार्च 1977 तक कार्यकाल चला फिर दूसरी बार 14 जनवरी 1980 से 31 अक्टूबर 1984 तक आभार संभाला. इंदिरा गाँधी ने अपने कार्यकाल मेंकई अहम् फैसले लिए जिनमे विदेश तथा घरेलू नीति एवं राष्ट्रिय सुरक्षा,परमाणु कार्यक्रम,हरित क्रांति,एकछ्त्रवाद की ओर झुकाव,भ्रष्टाचार आरोप और चुनावी कदाचार का फैसला,आपातकालीन स्थिति (1975-1977),डिक्री द्वारा शासन / आदेश आधारित शासन,ओपरेशन ब्लू स्टार और हत्या शामिल है.

indira gandhi

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in