आ गया है वैशाख माह जानें क्या है इसका ख़ास महत्व 

0
vaisakh_

जानें वैशाख माह से जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में


हिन्दू कैलेंडर का दूसरा माह 

हिंदी कैलेंडर का ये दूसरा महीना अंग्रेजी कैलेंडर  के अनुसार  अप्रैल और मई मे आता है  . धार्मिक और सांस्कृतिक तौर  पर वैशाख के महीने का बहुत अधिक महत्व माना जाता है  . वैशाख माह मे तीर्थ स्थलों पर स्नान का काफी महत्व माना गया है  . वैशाख मास का महत्व इसलिए भी माना जाता है क्योकि भगवान् विष्णु के अवतार जिनमे – नारायण , भगवान परशुराम  अवतार मे  प्रकट हुए थे  .

दान पुण्य करें

वैशाख को पुण्य प्राप्ति का माह  माना  जाता है इसलिए इस महीने मे  दान करना काफी अच्छा माना जाता है ऐसा कहा जाता है की इस महीने मे दान करने से गरीबी से मुक्ति मिलती है   वैशाख के महीने मे पूजा आराधना करने से जीवन की समस्याओ से छुटकारा पाया  जा सकता  है  . पुराणों मे कहा गया है की वैशाख  के सामान कोई महीना नहीं है ,सतयुग के सामान कोई युग नहीं है, वेद के सामान कोई शास्त्र नहीं है और गंगा जी के सामान कोई तीर्थ नहीं है  . पुण्य और फल की प्राप्ति वैशाख मास ,मे केवल जलदान से हो जाती है इसलिए इस माह मे प्याऊ खुलवाना सर्वोत्तम माना गया है  .

वैशाख मास के व्रत एवं त्यौहार

ईस्टर

ईसा मसीह के पुनःजीवित हो उठने की ख़ुशी मे ईस्टर का त्यौहार गुड़ फ्राइडे के आने वाले रविवार के दिन मनाया जाता है  .

वरुथिनी एकादशी  

वैशाख मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को वरुथिनी एकादशी कहा जाता है  . वरुथिनी एकादशी का व्रत 30 अप्रैल को मंगलवार के दिन है  .

वैसाख अमावस्या

अमावस्या के दिन को स्नान व  दान बहुत ही शुभ माना जाता है , वैशाख अमावस्या 4 मई  को है  . इस दिन शनिवार होने से शनि अमावस्या है जिसके कारण इसका  महत्व काफी बढ़ गया है  .

अक्षय तृतीया 

वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की तृत्य को अक्षय तृतीया कहा जाता है .   मान्यता है की इस दिन भगवान् विष्णु का अवतार नर नारायण ने लिए था  . परशुराम की जयंती भी इसी दिन मनाई जाती  है  . इस दिन किसी भी शुभ कार्य को करने के लिए उसका फल बहुत ही फलदायी माना जाता है  . अक्षय तृतीया अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 7 मई को है  .

सीता नवमी 

वैशाख पक्ष के शुक्ल पक्ष की नवमी को सीता नवमी कहा जाता है   .इस दिन सीता माता धरती माँ की कोख से प्रकट हुई थी    . सीता नवमीं अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 13 मई को मनाई जा रही है  .

यहाँ भी पढ़े:जानिये  ईस्टर फेस्टिवल यानी गुड फ्राइडे से जुड़ी ये ख़ास बातें

मोहिनी एकादशी 

वैशाख शुक्ल एकादशी को मोहिनी एकादशी कहा जाता है  . मोहिनी एकादशी का उपवास भी काफी शुभ कहा गया है  . इस दिन भगवान विष्णु की पूजा अर्चना एवं उपवास रखा जाता है  . मोहिनी एकादशी 15 मई को है  .

वैशाख पूर्णिमा

पूर्ण चंद्रमास का अंतिम दिन माना जाता है वैशाख पुर्निमा को बुद्ध पूर्णिमा के रूप मे भी मनाया जाता है , वैशाख मास की पूर्णिमा 18 मई को है  .

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here