पॉलिटिक्स

जम्मू-कश्मीर के नौजवान भटके हैं, हुर्रियत नेता भी इस देश के नागरिक है- दिनेश्वर शर्मा

दिनेश्वर शर्मा जम्मू और कश्मीर का प्रतिनिधित्व करेंगे


जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को सुलभाने के लिए केंद्र सरकार ने आईबी के पूर्व डॉयरेकटर दिनेश्वर शर्मा को भारत का प्रतिनिधित्व के तौर पर नियुक्त किया है। दिनेश्वर शर्मा भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर में लोगों के साथ बातचीत करेंगे।

राजनाथ सिंह और दिनेश्वर शर्मा
राजनाथ सिंह और दिनेश्वर शर्मा

महबूबा मुफ्ती ने इस फैसले का स्वागत किया है

इसे पहले पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले के प्राचीर से जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को सुलझाने के बात कही थी। मात्र दो महीने में ही पीएम ने इसे सुचारू रुप से काम लेने की प्रक्रिया भी शुरु कर दिया है।

पीएम ने कहा कि था कि जम्मू-कश्मीर का मुद्दा ‘गाली और गोली’ से नहीं सुलझाया जा सकता है। ब्लकि यह तो ‘गले मिलने’ से दूर हो सकता है।

केंद्र सरकार द्वारा लिए गए इसे फैसले का जम्मू-कश्मीर की सीएम ने स्वागत किया है। सीएम महबूबा मुफ्ती ने ट्विटर पर लिखा है यह जम्मू और कश्मीर के लिए एक सकरात्मक कदम है।

वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम और नेशनल कांफ्रेस पार्टी के अध्यक्ष उमर अब्दुला ने कहा कि इस तरह की पहल उन लोगों की हार जो हमेशा से यही कहते आएं है कि यहां बंदूक के दम पर ही सबकुछ किया जा सकता है।

वही दूसरी ओर एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए दिनेश्वर शर्मा ने कहा है कि हुर्रियत के नेता भी इस देश के नागरिक हैं। जम्मू कश्मीर के नागरिक हैं इसलिए वह सभी स्टेकहोल्डर से बात करेंगे।

नौजवान पाकिस्तान की फंडिंग को न लें

जम्मू-कश्मीर क नौजवानो के बारे में बातचीत करते हुए नौजवान भटके हुए हैं। पाकिस्तान की जो फंडिग आती है। उनको समझाया जाएगा कि वह फंडिंग से उनका कोई भला होने वाला नहीं है। उससे कोई विकास होने वाला नहीं है। भटके युवाओं को समझाया जाएगा और जो वहां की समस्या है वहां की प्रॉब्लम चल रही है सालो से उसको कैसे निपट जाए। इस पर काम किया जाएगा।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at info@oneworldnews.in

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button