लाइफस्टाइल

सबसे छोटे, सबसे प्यारे

सबसे छोटे, सबसे प्यारे


घर में हर बच्चा सबको प्यारा होता है। फिर चाहे वो सबसे बड़ा हो या सबसे छोटा या उन दोनों के बीच का। माना ये जाता है कि सबसे बड़ा बच्चा अक्सर सबसे ज़िम्मेदार होता है और सबसे छोटा बच्चा सबसे ज़्यादा शरारती होता है।

तो जानिए की घर का सबसे छोटा बच्चा क्यों ख़ास होता है:-

    1. वो बच्चा सबसे ज़्यादा लाड प्यार से पाला गया होता है। ना सिर्फ माता पिता और बाकी घरवालो से पर बड़े भाई/ बहन से भी उन्हें सबसे ज़्यादा प्यार मिलता है।
    2. उन्हें समझाने और सिखाने के लिए परिवार में बहुत लोग होते है। यही नहीं उनके बड़े भाई बहन उन्हें समझते है।
घर का छोटा बच्चा होता है सब का प्यारा बच्चा
छोटे बच्चो को खेलने में साथ देने के लिए उनके भाई बहन हमेशा होते है।

यहाँ पढ़ें : जानिए क्यों माँ बाप की सहमति एक बच्चे के लिए होती है ज़रूरी

  1. उनकी हर माँग को पूरा करने के लिए उनका पूरा परिवार तैयार रहता है।
  2. ये बच्चे एक पीढ़ी का आखिरी अंश होते है! इसिलए उनको ज़्यादा लाड और प्यार मिलता है।
  3. सबसे छोटे होने के कारण हमारी हर बात सुनी जाती है। हमारी वजह से कई बार हमारे बड़े भाई/बहन को डांट भी पड़ती है।
  4. छोटे बच्चे बहुत ज़िद्दी होते है तो इसलिए उनकी हर माँग पूरी की जाती है।

परिवार सभी को प्यारा होता है। अब बात चाहे छोटे बच्चे की हो या बड़े बच्चे की माता पिता के लिए सभी एक बराबर प्यारे होते है। छोटे होने के जितने फायदे है उतने ही नुक्सान भी। गंभीर हालातों में अक्सर छोटे बच्चो की सुनी नहीं जाती और ना ही उन्हें ऐसे मामलो में शामिल नहीं किया जाता। और तो और छोटे वाले जितने भी ज़िद्दी हो ज़्यादातर मामलो में सुननी पड़ती है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button