सरकार ने रोहिंग्या मुसलमानो को लेकर उठाया यह सख्त कदम


जाने की आखिर कौन है रोहिंग्या  मुसलमान 


पिछले  साल से रोहिंग्या मुसलमानों के विवाद को लेकर भारत सरकार ने आज जाकर कोई सख्त कदम उठाया  है जिसमे  कुछ रोहिंग्या मुसलमानो को वापस म्यांमार बॉर्डर भेजा जा रहा है.  बता दे की यह कुछ रोहिंग्या मुस्लमान  2012 से ही असम के सिलचर जिले के कचार सेंट्रल जेल में बंद थे.जिन्हे आज वापस  भेजा जा रहा है.

वही पिछले  साल यह पता लगाया गया था की 14,000 से अधिक रोहिंग्या भारत में रहते हैं. हालांकि मदद प्रदान करने वाली एजेंसियों ने देश में रहने वाले रोहिंग्या लोगों की संख्या करीब 38 ,000 बताई थी. जिसमे से ज्यादातर रोहिंग्या जम्मू कश्मीर, हैदराबाद, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली-एनसीआर और राजस्थान में रहते हैं.

रोहिंग्या
रोहिंग्या

यहाँ जाने आखिर कौन है रोहिंग्या मुस्लमान ?

सन 1826  में एंग्लो-बर्मा जब  युद्ध खत्म हुए  उसके बाद अराकान पर ब्रिटिश राज कायम हो गया. इस दौरान ब्रिटिश  शासकों ने बांग्लादेश से मजदूरों को अराकान भेजना  शुरू कर दिया था . इस तरह म्यांमार के राखिन में पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश से आने वालों की संख्या लगातार बढ़ती गई. जिन्हे आज रोहिंगिया मुसलमनो से भी जाना जाता है साथ ही इनकी बढ़ती संख्या से बौद्ध के लोगो और मुसलमानो  में विवाद भी हुए जिसमे कई मुस्लमान और बौद्ध के लोग मारे गए. और इस ववाद से बचने के लिए कुछ मुस्लमान बच कर भारत में घुस गए थे.

यहाँ भी पढ़े : म्यांमार में रोहिंग्या जाति पर चिंता व्यक्त की पीएम मोदी ने…

म्यांमार सरकार ने 1982 में राष्ट्रीयता कानून बनाया था जिसमें रोहिंग्या मुसलमानों का नागरिक दर्जा समाप्त कर दिया गया था .जिसके बाद से ही म्यांमार सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को देश छोड़ने के लिए मजबूर करती आई  है. लेकिन अब सराकर ने इनकी बढ़ती को संख्या  को देखने के बाद यह सख्त कदम उठाया है इन्हे वापस भेजने का निर्णय  लिया है.
Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at

info@oneworldnews.in
Story By : AvatarNeha Singh
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
%d bloggers like this: