विदेश

समलैंगिकता को अवैध मानने वाले देश में ‘गे एनल टेस्ट’ को कोर्ट में दी गई चुनौती

हाल ही में कीनिया से एक ऐसा मामला सामने आया है जहां दो लोगों ने कोर्ट में पुलिस की ओर से जबरन ‘गे एनल टेस्ट’ करने को चुनौती देते हुए इसे अंसवैधानिक घोषित करने की मांग की है।

उनका आरोप है कि पुलिस ने फरवरी 2015 में उनकी गिरफ्तारी के बाद समलैंगिक गतिविधियों में शामिल होने के संदेह में उनका यह टेस्ट करवाया था।

gay

कीनिया में समलैंगिकता अवैध

गौरतलब है कि कीनिया में समलैंगिकता अवैध है। यहां अधिकतर धार्मिक समूह और अन्य अफ्रीकी देश समलैंगिकता का कड़े से विरोध करते हैं और इसे गैर-अफ्रीकी मानते हैं। यदि कोई समलैंगिक संबंधो में पाया जाता है तो उन्हें 14 साल की साल सुनाई जाती है।

इस मामाले पर सरकारी वकीलों को अपना पक्ष रखने के लिए मोम्बासा हाईकोर्ट ने उन्हें 1 हफ्ते का समय दिया है।

Have a news story, an interesting write-up or simply a suggestion? Write to us at
info@oneworldnews.in
Back to top button