सहर्ष कुमार शुक्ला से खास बातचीत – रोल को लेकर हमेशा मेहनत करते थे सुशांत

0
153
boycott bollywood

सुशांत की मौत के बाद क्या जनता बॉलीवुड के कुछ लोगों को बॉयकॉट कर सकती है?


एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लगभग एक सप्ताह से ज्यादा हो गया है। उनके चाहने वाले अब भी सदमे में है। इस बीच सोशल मीडिया पर उनकी मौत को लेकर बॉलीवुड पर तरह-तरह के आरोप प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं। फैंस के साथ-साथ सुशांत सिंह राजपूत के साथ काम करने वाले कलाकार भी इस घटना से दुःखी है। पिछले साल आई उनकी मूवी छिछोरे में उनके साथ कई एक्टर्स ने काम किया था। जिन्होंने उन्हें श्रद्धांजलि दी है। इसी बीच मूवी में बेवडे का रोल करने वाले सहर्ष कुमार शुक्ला से उनसे और फिल्म से संबंधित बातचीत की गई है।

बहुत जिंदा दिल इंसान

सहर्ष कुमार शुक्ला फिल्म छिछोरे की यादों को ताजा करते हुए कहते है कि इस फिल्म के पोस्टर रिलीज से लेकर स्क्रीनिंग तक लगभग 10 महीने तक हमलोग साथ रहे। बड़े जिंदादिल इंसान थे, शूटिंग के दौरान सबसे मिलजुल कर रहना, बातचीत करना, यह बहुत ही आमबात थी। वह अपने रोल को लेकर बहुत मेहनत करते थे। छिछोरे के बाद उनसे कभी बातचीत नहीं हो पाई। 14 जून को जब उनकी आत्महत्या की खबर मिली तो लगा कि गलत जानकारी है। सहर्ष बताते है कि मुझे किसी ने फोन करके आत्महत्या की जानकारी दी। मैंने उससे कहा उसकी मैनेजर की मृत्यु हुई है सुशांत की नहीं। लेकिन जैसे ही टीवी ऑन की सब पता चल गया।  सुनकर बहुत धक्का लगा। विश्वास करना थोड़ा मुश्किल था। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए सहर्ष कहते है कि डिप्रेशन की जानकारी तो अभी आत्महत्या के बाद पता चली है। वह बहुत ही मस्त मौला इंसान थे। आत्महत्या वाली बात पर विश्वास करना थोड़ा मुश्किल था.

और पढ़ें: बॉलीवुड और राजनीति के अलावा भी हर क्षेत्र में फैला है नेपोटिज्म

boycott bollywood

जनता बॉयकॉट कर सकती है

सुशांत की मौत के बाद, बॉयकॉट की बात पर सहर्ष का कहना है कि अगर आत्महत्या के पीछे वो सारे कारण है जो बताएं जा रहे है तो मुझे लगता है कि लोग बॉयकॉट कर सकते हैं।  सबसे पहले तो यह क्लियर होना चाहिए की वह किस कारण डिप्रेशन में थे। उसके बाद जो भी लोग सुशांत के डिप्रेशन के लिए जिम्मेवार है उनपर कारवाई होनी चाहिए। आपको बता दें 14 जून के एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने बांद्रा में अपने पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.

रोल में टैलेंट का पूरा इस्तेमाल किया जाए

एफटीआईआई से पढ़ाई करने वाले सहर्ष बताते है कि एक्टिंग मेरे लिए सबकुछ है। उससे आगे मैंने कभी कुछ नहीं सोचा है। मैं अपने अबतक के सफर से भी खुश हूं। छोटे बड़े हर तरह के रोल से खुश हूं क्योंकि मुझे सिर्फ फिल्मों में ही काम करना है। लेकिन, अगर मैं थोड़ा भी अपने काम के प्रति कमजोर होता हूं  तो लाजमी-सी बात है इंडस्ट्री से निकाल दिया जाऊंगा।  इसलिए मैं हमेशा आगे की ओर देखता हूं पिछली फिल्म में मैंने क्या किया इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। जो काम मुझे अभी मिला है उसमें मैं अपने टैलेंट का पूरा इस्तेमाल करता हूं इसलिए मैं चाहता हूं लगातार मेहनत करता रहूं।

अगर आपके पास भी हैं कुछ नई स्टोरीज या विचार, तो आप हमें इस ई-मेल पर भेज सकते हैं info@oneworldnews.com